रजनीकांत का कहना है कि राजनेता लोकतंत्र के नाम पर हमारी अपनी ज़मीन पर लूट र है हैं, क्या आप सहमत हैं? क्यों?...


play
user

K.L.Salvi Advocate (Ret.D,C,Mp)

Seva Nivrt.Deeputy,Collector

1:20

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां देखिए रजनीकांत जी ने सही कहा है कि लोकतंत्र के नाम पर यहां के राजनेता जमीन पर लूट रहे हैं बिल्कुल सही बात है कि राजनेता दिन पर दिन राजनेताओं के आचरण बदलते जा रहे हैं आप देखेंगे कि देश आजादी के बाद प्रथम चुनाव 60 70 के दशक में जब चुनाव होते थे अब विधायक होती सामान्य व्यक्ति हुआ करते थे छोटे-मोटे साधारण कपड़े पहनते थे रिजर्व बस जो रोडवेज की रिजर्व होती थी उसमें उनके लिए सीट आरक्षित रहती थी और राजधानी में बैठकों के लिए जाया करते थे आज आप देखते हैं हम देखते हैं कि कोई भी विधायक स्कॉर्पियो जैसी गाड़ी से नीचे ही नहीं करता है और इस कार की ओर सूट-बूट और अपने घरों को ज्यादा अहमियत देते हैं बजाय पब्लिक के यह भी 80 90 90 के दशक के बाद और 2000 बात तो बहुत ही ज्यादा होने लग गया है कि राजनेता एक व्यवसाय टाइप और चुनाव जीतकर के यहां अपने काम में और अपने हितों को साधने में लग जाते हैं जो रजनीकांत जी ने बहुत सही कहा है और यदि स्टोरी के साथ और राजनीति में आना चाहते हैं तो उनका स्वागत है

haan dekhiye rajnikant ji ne sahi kaha hai ki loktantra ke naam par yahan ke raajneta jameen par loot rahe hain bilkul sahi baat hai ki raajneta din par din rajnetao ke aacharan badalte ja rahe hain aap dekhenge ki desh azadi ke baad pratham chunav 60 70 ke dashak mein jab chunav hote the ab vidhayak hoti samanya vyakti hua karte the chote mote sadhaaran kapde pehente the reserve bus jo roadways ki reserve hoti thi usme unke liye seat arakshit rehti thi aur rajdhani mein baithakon ke liye jaya karte the aaj aap dekhte hain hum dekhte hain ki koi bhi vidhayak scorpio jaisi gaadi se niche hi nahi karta hai aur is car ki aur suit boot aur apne gharon ko zyada ahamiyat dete hain bajay public ke yah bhi 80 90 90 ke dashak ke baad aur 2000 baat toh bahut hi zyada hone lag gaya hai ki raajneta ek vyavasaya type aur chunav jeetkar ke yahan apne kaam mein aur apne hiton ko sadhane mein lag jaate hain jo rajnikant ji ne bahut sahi kaha hai aur yadi story ke saath aur raajneeti mein aana chahte hain toh unka swaagat hai

हां देखिए रजनीकांत जी ने सही कहा है कि लोकतंत्र के नाम पर यहां के राजनेता जमीन पर लूट रहे

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  177
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!