रजनीकांत का कहना है कि राजनेता लोकतंत्र के नाम पर हमारी अपनी ज़मीन पर लूट र है हैं, क्या आप सहमत हैं? क्यों?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. [email protected]

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रजनीकांत का कहना है कि राजनेता राजतंत्र लोकतंत्र के नाम पर हमारी अपनी जमीन लूट रहे हैं क्या आप सहमत हैं बिल्कुल सहमत राजनेता क्यों हमारी धरती का टुकड़ा नहीं लूट रहे हैं बल्कि हमारी जिंदगी की जमीन लूट है हमारा जमीन लूट है वह जुमलेबाजी करके मीठी-मीठी प्रवचन देकर बहुत शोर-शराबे में नारे लगाकर अपनी बाजुओं की सच्ची का परिचय दिखाकर वह वास्तव में हमारी जमीन लूट रहे हमारी वह जमीन जिसमें सच्चाई ईमानदारी मैना हमारा अस्तित्व मालिक कर्म वालेकुम सब कुछ समय में ऐसी जमीन टूटने के बाद वह केवल अमित गन्ने का कबाड़ समझ कर फेंक देते हैं टाटा में चक्के की उस चीज का विकास कैसे होगा जिस देश के युवा और जिस देश के विद्वान चूची भी करने के समान सड़क पर दम तोड़ रही होंगी तो देश का विकास कैसे होगा रजनीकांत का कहना बिल्कुल सत्य है सिर्फ खाओ और विचारधारा में थोड़ा सा परिवर्तन है वह इस भौतिक जमीन की बात कर रहा हूं मैं जीवन की जमीन की बात कर रहा हूं और वह दोनों की दोनों दूर है इसमें कोई संदेह नहीं

rajnikant ka kehna hai ki raajneta rajtantra loktantra ke naam par hamari apni jameen loot rahe kya aap sahmat hain bilkul sahmat raajneta kyon hamari dharti ka tukda nahi loot rahe hain balki hamari zindagi ki jameen loot hai hamara jameen loot hai vaah jumlebaji karke mithi mithi pravachan dekar bahut shor sharabe mein nare lagakar apni bajuon ki sachi ka parichay dikhakar vaah vaastav mein hamari jameen loot rahe hamari vaah jameen jisme sacchai imaandaari maina hamara astitva malik karm walekum sab kuch samay mein aisi jameen tutne ke baad vaah keval amit ganne ka kabad samajh kar fenk dete hain tata mein chakke ki us cheez ka vikas kaise hoga jis desh ke yuva aur jis desh ke vidhwaan choochi bhi karne ke saman sadak par dum tod rahi hongi toh desh ka vikas kaise hoga rajnikant ka kehna bilkul satya hai sirf khao aur vichardhara mein thoda sa parivartan hai vaah is bhautik jameen ki baat kar raha hoon main jeevan ki jameen ki baat kar raha hoon aur vaah dono ki dono dur hai isme koi sandeh nahi

रजनीकांत का कहना है कि राजनेता राजतंत्र लोकतंत्र के नाम पर हमारी अपनी जमीन लूट रहे हैं क्

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  1222
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!