क्या मैक्स हॉस्पिटल का लाइसेंस रद्द करने का केजरीवाल का फैसला सही था?...


user

Vikas Singh Rajput

Political Analyst

2:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैक्स हॉस्पिटल का जो लाइसेंस अरविंद केजरीवाल जी ने रद्द किया यह बिल्कुल अच्छा फैसला था उनका लेकिन हमें आज तक यह बात समझ में नहीं आई कि सरकार कोई भी फैसला इतना देर से क्यों लेती है सरकार को पहले से पता होता है कि लगभग 90 पंचानवे परसेंट हॉस्पिटलों में नाइंसाफी हो रही है गरीब लोगों के साथ वहां पर दवा मांगे रेट में बेचा जा रहा है वहां पर गरीबों का इलाज नहीं हो रहा है लेकिन किसी हॉस्पिटल में जब कोई एक दुर्घटना होती है जब मीडिया वाले उसको दिखाते हैं जब सरकार के ऊपर दबाव बनता है तो फिर सरकार सख्त एक्शन लेती सख्त एक्शन आपको पहले लेना चाहिए था आपने पहले क्यों नहीं लिया इसका जवाब चाहिए तो जब इसका जवाब आप मांगोगे ना जवाब सरकार नहीं दे पाएगी सरकार खुलेआम भ्रष्टाचार करवाती है क्या सरकार को नहीं पता है कि हॉस्पिटलों में दिक्कत है चेकिंग करने के लिए लोग जाते होंगे पता लगाने के लिए लोग जाते होंगे बहुत सारे ऑफिसर के जब बनते जाते होंगे हॉस्पिटल में उनका इलाज पहले होता होगा तो क्या उन्हें नहीं पता है कि भ्रष्टाचार है जो पहले आए उसका इलाज होना चाहिए लेकिन एक अमीर आदमी जाता है तो सबसे पहले उसका इलाज होता है यह प्रकार का भ्रष्टाचार एयरपोर्ट पर जब एक अमीर आदमी जाता है बड़ा नेता जाता है तो उसे पहले जाने दिया जाता है और जो मीडियम फैमिली के लोगों में लाइन से लगे रहते हैं लाइन से जाते हैं आप चाय मुख्यमंत्री हो चाहे विधायक हो छह सांसदों आपको रूल्स रेगुलेशन को फॉलो करना चाहिए सब लोग लाइन में जा रहे हैं आपको भी लाइन में जाना होगा अगर एटीएम से पैसा निकालना है 10 लोग लाइन में लगे हैं और विधायकों सांसदों आप भी 11वें नंबर पर लाइन में लगो यह नहीं कि विधायक जी आ गए एटीएम से पैसा निकाल लेंगे तो भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए सब इंसान को अपनी नियत को अच्छी बनानी पड़ेगी दिल्ली सरकार ने जो फैसला किया अच्छा किया लेकिन दिल्ली सरकार से निवेदन करता हूं ऐसा फैसला सही समय पर होना चाहिए आपने गलत समय पर यह फैसला किया है जब एक बच्चे के साथ दुर्घटना होती है जब मीडिया में बवाल होता है सरकार के ऊपर दबाव बनती है तब आपने फैसला किया है इसके पहले आप कहां थे तो सही समय पर अगर आप फैसला करोगे तो आप मुख्यमंत्री मानव जाओगे अन्यथा आपको कोई अच्छा नहीं मानेगा धन्यवाद

dekhiye max hospital ka jo license arvind kejriwal ji ne radd kiya yah bilkul accha faisla tha unka lekin hamein aaj tak yah baat samajh me nahi I ki sarkar koi bhi faisla itna der se kyon leti hai sarkar ko pehle se pata hota hai ki lagbhag 90 panchanave percent haspitalon me nainsafi ho rahi hai garib logo ke saath wahan par dawa mange rate me becha ja raha hai wahan par garibon ka ilaj nahi ho raha hai lekin kisi hospital me jab koi ek durghatna hoti hai jab media waale usko dikhate hain jab sarkar ke upar dabaav banta hai toh phir sarkar sakht action leti sakht action aapko pehle lena chahiye tha aapne pehle kyon nahi liya iska jawab chahiye toh jab iska jawab aap mangoge na jawab sarkar nahi de payegi sarkar khuleaam bhrashtachar karwati hai kya sarkar ko nahi pata hai ki haspitalon me dikkat hai checking karne ke liye log jaate honge pata lagane ke liye log jaate honge bahut saare officer ke jab bante jaate honge hospital me unka ilaj pehle hota hoga toh kya unhe nahi pata hai ki bhrashtachar hai jo pehle aaye uska ilaj hona chahiye lekin ek amir aadmi jata hai toh sabse pehle uska ilaj hota hai yah prakar ka bhrashtachar airport par jab ek amir aadmi jata hai bada neta jata hai toh use pehle jaane diya jata hai aur jo medium family ke logo me line se lage rehte hain line se jaate hain aap chai mukhyamantri ho chahen vidhayak ho cheh sansadon aapko rules regulation ko follow karna chahiye sab log line me ja rahe hain aapko bhi line me jana hoga agar atm se paisa nikalna hai 10 log line me lage hain aur vidhayakon sansadon aap bhi ve number par line me lago yah nahi ki vidhayak ji aa gaye atm se paisa nikaal lenge toh bhrashtachar ko khatam karne ke liye sab insaan ko apni niyat ko achi banani padegi delhi sarkar ne jo faisla kiya accha kiya lekin delhi sarkar se nivedan karta hoon aisa faisla sahi samay par hona chahiye aapne galat samay par yah faisla kiya hai jab ek bacche ke saath durghatna hoti hai jab media me bawaal hota hai sarkar ke upar dabaav banti hai tab aapne faisla kiya hai iske pehle aap kaha the toh sahi samay par agar aap faisla karoge toh aap mukhyamantri manav jaoge anyatha aapko koi accha nahi manega dhanyavad

देखिए मैक्स हॉस्पिटल का जो लाइसेंस अरविंद केजरीवाल जी ने रद्द किया यह बिल्कुल अच्छा फैसला

Romanized Version
Likes  379  Dislikes    views  4699
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!