प्रधानमंत्री जी के विदेशी दौरों का खर्चा पब्लिक फंड से क्यों जाता है?...


play
user

Raj Shah

Aspiring engineer

0:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रधानमंत्री का विदेशी दौरा पब्लिक फोन से इसलिए किया था क्योंकि प्रधानमंत्री विदेशी दौरे में शिव घूमते नहीं वह देश का अलग देश से इंटर कम्युनिकेशन बढ़ाते जाते हैं अलग देश से इन्वेस्टमेंट लाते हैं फॉरेन इन्वेस्टमेंट लात एफडीआई लाते हैं और हमें आर्थिक और शान मिलिट्री डिफेंस के लिए जरूरी व्यक्ति और जरूरी डिफेंस रिक्रूटमेंट है वह सब लेकर आते हैं

pradhanmantri ka videshi daura public phone se isliye kiya tha kyonki pradhanmantri videshi daure mein shiv ghumte nahi vaah desh ka alag desh se inter communication badhate jaate hain alag desh se investment laate hain foreign investment laat IFDI laate hain aur hamein aarthik aur shan miltary defence ke liye zaroori vyakti aur zaroori defence recruitment hai vaah sab lekar aate hain

प्रधानमंत्री का विदेशी दौरा पब्लिक फोन से इसलिए किया था क्योंकि प्रधानमंत्री विदेशी दौरे म

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:53
Play

Likes  1  Dislikes    views  31
WhatsApp_icon
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज प्रधानमंत्री ने जो है वह पूरे देश के प्रधानमंत्री है जो औरत गवर्नमेंट की जो भी खर्चे होते हैं वह सारे जो है टैक्स कलेक्शन और वगैरह-वगैरह टैक्स कलेक्शन जो किया जाता है नागरिकों द्वारा उसी से चलते हैं बोर्ड गवर्नमेंट के अलग अलग करके इसे डिफेंस के ऊपर खर्चा इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट वगैरा ऐसा कैसे लगता है वह सब टैक्सी आता है आज तो इसलिए नरेंद्र मोदी जी प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री जब अलग अलग देश के दौरे करते हैं वह देश की भलाई के लिए ही करते हैं और अलग अलग देश से जो फॉरेन इन्वेस्टमेंट ट्रैक करने का जो कार्य है अलग अलग देश के नेताओं से बात करना उनसे दोस्ती करना यह सब देश के हित के कार्य के लिए ही है तो इसलिए जो है प्रधानमंत्री के विदेश दौरे के सारे खर्चे वह इस पब्लिक फंड से दिए जाते हैं

aaj pradhanmantri ne jo hai vaah poore desh ke pradhanmantri hai jo aurat government ki jo bhi kharche hote hain vaah saare jo hai tax collection aur vagairah vagairah tax collection jo kiya jata hai nagriko dwara usi se chalte hain board government ke alag alag karke ise defence ke upar kharcha infrastructure development vagera aisa kaise lagta hai vaah sab taxi aata hai aaj toh isliye narendra modi ji pradhanmantri pradhanmantri jab alag alag desh ke daure karte hain vaah desh ki bhalai ke liye hi karte hain aur alag alag desh se jo foreign investment track karne ka jo karya hai alag alag desh ke netaon se baat karna unse dosti karna yah sab desh ke hit ke karya ke liye hi hai toh isliye jo hai pradhanmantri ke videsh daure ke saare kharche vaah is public fund se diye jaate hain

आज प्रधानमंत्री ने जो है वह पूरे देश के प्रधानमंत्री है जो औरत गवर्नमेंट की जो भी खर्चे हो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  6
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रधानमंत्री की विदेशी दौरों का परिवार चाहते हैं तो उन का खर्चा पब्लिक फंड से इसलिए किया जाता है क्योंकि जब वह देश से बाहर जाते हैं दूसरे देश किसी भी प्राइम मिनिस्टर या प्रेसिडेंट से मिलने तो वह अपने देश के लिए नई नीति बनाने जाते हैं जो कि दो देशों को मिलाकर बहुत ही अच्छे से उन्नति की राह पर ले जा सकती है तो जैसे के प्रधानमंत्री जापान अमेरिका और बहुत सी जगह गए इस साल तो वह इसीलिए रहे थे कि हमारे देश में और फॉरेन इन्वेस्टमेंट लेकर आ सके और बहुत सी है मैसेज भी हमारे देश पर आकर सेट अप हुई है तो इसलिए वह पब्लिक के हित के लिए बाहर जाते तो इसलिए उनका जो खास होता पब्लिक फंड से किया जाता है

pradhanmantri ki videshi dauron ka parivar chahte hain toh un ka kharcha public fund se isliye kiya jata hai kyonki jab vaah desh se bahar jaate hain dusre desh kisi bhi prime minister ya president se milne toh vaah apne desh ke liye nayi niti banane jaate hain jo ki do deshon ko milakar bahut hi acche se unnati ki raah par le ja sakti hai toh jaise ke pradhanmantri japan america aur bahut si jagah gaye is saal toh vaah isliye rahe the ki hamare desh mein aur foreign investment lekar aa sake aur bahut si hai massage bhi hamare desh par aakar set up hui hai toh isliye vaah public ke hit ke liye bahar jaate toh isliye unka jo khaas hota public fund se kiya jata hai

प्रधानमंत्री की विदेशी दौरों का परिवार चाहते हैं तो उन का खर्चा पब्लिक फंड से इसलिए किया ज

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम तौर पर जब राज्य का प्रमुख किसी अन्य देश का दौरा करता है तो यह एक संदेश भेजता है कि वह देश उनके लिए महत्वपूर्ण है यह हम लोगों के जैसे ली गई एक नियमित छुट्टी की यात्रा नहीं होती अब हमारे एक्सटर्नल अफेयर्स मिनिस्ट्री यह फैसला करती है कि कौन सा देश भारत के लिए महत्वपूर्ण है लोकल जियो पॉलिटिक्स इंटरनेशनल पॉलिटिक्स रिसोर्सेज या फ्रेंड जो संकट के समय या अपनी विदेशी नीति के आधार पर उपयोगी हो सकते हैं इन रूपों में देश महत्वपूर्ण हो सकते हैं यह विदेशी संबंधों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और इसलिए हर भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा उठाए गए विदेशी यात्राओं की लागत जनता द्वारा वहन की जाती है

aam taur par jab rajya ka pramukh kisi anya desh ka daura karta hai toh yah ek sandesh bhejta hai ki vaah desh unke liye mahatvapurna hai yah hum logo ke jaise li gayi ek niyamit chhutti ki yatra nahi hoti ab hamare external affairs ministry yah faisla karti hai ki kaun sa desh bharat ke liye mahatvapurna hai local jio politics international politics resources ya friend jo sankat ke samay ya apni videshi niti ke aadhaar par upyogi ho sakte hain in roopon mein desh mahatvapurna ho sakte hain yah videshi sambandhon ka ek mahatvapurna hissa hai aur isliye har bharatiya pradhanmantri dwara uthye gaye videshi yatraon ki laagat janta dwara wahan ki jaati hai

आम तौर पर जब राज्य का प्रमुख किसी अन्य देश का दौरा करता है तो यह एक संदेश भेजता है कि वह द

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!