भारतीय इतिहास जिसे हम स्कूल में सीखते हैं, कितना सच है? अपनी राय समझाइये?...


user

singh

Teacher

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय इतिहास से हम स्कूल में सबसे कितना साथिया अपनी राय समझाएं हाल में ही 2005 में राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा एनसीएफ ने एक व्यापक दृष्टिकोण प्रदान की जिसमें हम सभी बच्चों को गुणवत्तापूर्ण समावेशी शिक्षा प्रदान के तरीके शामिल किए गए प्रशासनिक और न्यायिक पर सीखने की प्रक्रिया प्रदान करना आज कोई शिक्षक छात्रों द्वारा अपने विद्यालय में लाई जा रही और संघ की मांगों की अपेक्षा समझ में उनका व्यवसाय के रूप में सफल नहीं हो सकता वर्ग जाति धर्म लिंग निष्ठा पर ध्यान दिए बिना सभी छात्रों का संगठन करने के लिए सार्थक अवसर प्रदान करने का सक्षम होना चाहिए शिक्षा का अधिकार कानून 2009 में आर्थिक और सामाजिक श्रेणी का ध्यान दिए बिना छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के निर्णय मजबूत और सैंडी 48 के लिए शारीरिक और सीखने के लिए आंखों के विकार नियम आधारित

bharatiya itihas se hum school me sabse kitna sathiya apni rai samjhaye haal me hi 2005 me rashtriya paathyacharya ki rooprekha NCF ne ek vyapak drishtikon pradan ki jisme hum sabhi baccho ko gunavattaapoorn samaveshi shiksha pradan ke tarike shaamil kiye gaye prashaasnik aur nyayik par sikhne ki prakriya pradan karna aaj koi shikshak chhatro dwara apne vidyalaya me lai ja rahi aur sangh ki maangon ki apeksha samajh me unka vyavasaya ke roop me safal nahi ho sakta varg jati dharm ling nishtha par dhyan diye bina sabhi chhatro ka sangathan karne ke liye sarthak avsar pradan karne ka saksham hona chahiye shiksha ka adhikaar kanoon 2009 me aarthik aur samajik shreni ka dhyan diye bina chhatro ko gunavattaapoorn shiksha uplabdh karane ke nirnay majboot aur sandy 48 ke liye sharirik aur sikhne ke liye aakhon ke vikar niyam aadharit

भारतीय इतिहास से हम स्कूल में सबसे कितना साथिया अपनी राय समझाएं हाल में ही 2005 में राष्ट

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  676
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!