धरम क्या है?...


user

hemendra singh Chouhan

Founder Of Meditation Skills

5:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धर्म क्या है धर्म क्या है इससे ज्यादा इंपोर्टेंट है कि हमारे पास ऐसी आंखें होना जो धर्म की पहचान कर सकें सत्यता सच्चाई सफाई यह धर्म का ओरिजिनल मीनिंग है लेकिन यह उसके लिए है जो इनको पहचान सके कई बोलते हैं कि हम हिंदू धर्म से हैं हम मुस्लिम धर्म से हैं हम ईसाई धर्म से हैं हम सिख धर्म से हैं वह तो भौतिक स्वरूप है अगर मैं थोड़ा सा गहराई में उतर तो आपको कुछ एग्जांपल बताता हूं आप कहीं जाते हो और आपसे बोला जाता है आप चढ़ावा चढ़ा और उस नारियल को वापस से दुकान पर बेचा जाता ₹10 में फिर जितने भी भक्त आते हैं वापस उस नारियल को खरीदते हैं और वापस उसी नारियल को चढ़ाया जाता है एक तरह से यह बिजनेस का रोटेशन बिठाया जाता है तो क्या यह धर्म है लोग तो अपनी भावनाएं लेकर क्या है लेकिन हमने उन भावनाओं का बिजनेस बना दिया टीका लगाओ टीका लगाने के ₹10 दो और आजकल तो मुंह से मांग करके लेते हैं रसीद कटवा अभी दरगाह में जाते हैं तो वहां पर उक्त चद्दर उड़ा देते हैं और ₹10 कर देते हैं तो फेंक देते हैं कि देना है तो खुले दिल से दो बिना पैसों की कोई बात ही नहीं होती चाहिए धर्म है नहीं यह धर्म नहीं है यह हमारी श्रद्धा आस्था और विश्वास का बिजनेस है तो फिर धर्म क्या है कि आप जो जिंदगी जी रहे हो उसको तरीके से जियो आपका जो चरित्र है आपका व्यक्तित्व है आपका व्यवहार कैसा है आपका बोलचाल कैसी है आप अपने दैनिक जीवन में किस तरह से डिसीजन लेते हो क्या आप सत्यता पर टिकते हो या हार जाते हो क्या आप दूसरों का नुकसान करने करके अपना फायदा पहले सोच लेते हो तो यह धर्म है इसके लिए बहुत क्लियर बुद्धि चाहिए होती है धर्म की राहें बहुत मुश्किल है भाई क्या खाना है क्या पीना है अपने जीवन में कैसे चलना है क्या नियम है क्या कायदे हैं क्या उसूल है मेरे जीवन के तो यह है धर्म धर्म बाहर नहीं है धर्म भीतर और कोई भी इस बात का परीक्षण नहीं कर सकता परीक्षण केवल आप खुद कर सकते हो कि मैं धर्म पर चल रहा हूं या नहीं चल रहा हूं अब इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि बाहर से आप हिंदू हो या मुसलमान हो या सीख हो जेल हो बाहर से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला पर पड़ने वाला भी तरसे क्योंकि भीतर जैसा चरित्र होगा वैसे ही भावनाएं आपके अंदर उठेंगे और जो व्यक्ति जितना धर्म के अनुसार चलता जाएगा उसके जीवन में आंतरिक सुख आंतरिक सुख बढ़ता जाएगा भले ही उसके पास स्थूल धन कम होगा लेकिन आंतरिक सुख ज्यादा होगा उस सुख के लिए इधर-उधर भागेगा नहीं बहुत स्टेबल माइंड हो जाएगा कहते हैं ना कि धर्म के रास्ते पर चलने वाला ही चल सकता है अरे बाहर से तो धर्म का पालन कोई भी कर ले 4 नियम और ऊंचाई 4 कैदी तो फॉलो करने होते हैं बाहर के धर्म में लेकिन अंदर के जो धर्म होता है उसमें पग-पग पर समस्याएं सामने खड़ी हो जाती हैं यार आज तो मेरे को अपने ईश्वर को याद करने का यह समय था मेरा याद करने का इस समय में ध्यान में बैठता हूं और उस समय ही पंजेंसी आ गई ऐसे में धर्म का पालन कैसे करेंगे बहुत सारी बातें हैं जो धर्म भीतर बाहर नहीं है भीतर से आप जितना अपने आप को अच्छाई के रास्ते पर ले कर जा सकते हो वह धर्म का रास्ता है ठीक है

dharam kya hai dharm kya hai isse zyada important hai ki hamare paas aisi aankhen hona jo dharm ki pehchaan kar sake satyata sacchai safaai yah dharm ka original meaning hai lekin yah uske liye hai jo inko pehchaan sake kai bolte hain ki hum hindu dharm se hain hum muslim dharm se hain hum isai dharm se hain hum sikh dharm se hain vaah toh bhautik swaroop hai agar main thoda sa gehrai mein utar toh aapko kuch example batata hoon aap kahin jaate ho aur aapse bola jata hai aap chadhava chadha aur us nariyal ko wapas se dukaan par becha jata Rs mein phir jitne bhi bhakt aate hain wapas us nariyal ko kharidte hain aur wapas usi nariyal ko chadaya jata hai ek tarah se yah business ka rotation bithaya jata hai toh kya yah dharm hai log toh apni bhaavnaye lekar kya hai lekin humne un bhavnao ka business bana diya tika lagao tika lagane ke Rs do aur aajkal toh mooh se maang karke lete hain rasid katva abhi dargah mein jaate hain toh wahan par ukth chaddar uda dete hain aur Rs kar dete hain toh fenk dete hain ki dena hai toh khule dil se do bina paison ki koi baat hi nahi hoti chahiye dharm hai nahi yah dharm nahi hai yah hamari shraddha astha aur vishwas ka business hai toh phir dharm kya hai ki aap jo zindagi ji rahe ho usko tarike se jio aapka jo charitra hai aapka vyaktitva hai aapka vyavhar kaisa hai aapka bolchal kaisi hai aap apne dainik jeevan mein kis tarah se decision lete ho kya aap satyata par tikte ho ya haar jaate ho kya aap dusro ka nuksan karne karke apna fayda pehle soch lete ho toh yah dharm hai iske liye bahut clear buddhi chahiye hoti hai dharm ki rahen bahut mushkil hai bhai kya khana hai kya peena hai apne jeevan mein kaise chalna hai kya niyam hai kya kayade kya usul hai mere jeevan ke toh yah hai dharm dharam bahar nahi hai dharm bheetar aur koi bhi is baat ka parikshan nahi kar sakta parikshan keval aap khud kar sakte ho ki main dharm par chal raha hoon ya nahi chal raha hoon ab is baat se koi fark nahi padta hai ki bahar se aap hindu ho ya muslim ho ya seekh ho jail ho bahar se koi fark nahi padane vala par padane vala bhi tarse kyonki bheetar jaisa charitra hoga waise hi bhaavnaye aapke andar uthenge aur jo vyakti jitna dharm ke anusaar chalta jaega uske jeevan mein aantarik sukh aantarik sukh badhta jaega bhale hi uske paas sthool dhan kam hoga lekin aantarik sukh zyada hoga us sukh ke liye idhar udhar bhagega nahi bahut stable mind ho jaega kehte hain na ki dharm ke raste par chalne vala hi chal sakta hai are bahar se toh dharm ka palan koi bhi kar le 4 niyam aur uchai 4 kaidi toh follow karne hote hain bahar ke dharm mein lekin andar ke jo dharm hota hai usme pug pug par samasyaen saamne khadi ho jaati hain yaar aaj toh mere ko apne ishwar ko yaad karne ka yah samay tha mera yaad karne ka is samay mein dhyan mein baithta hoon aur us samay hi panjensi aa gayi aise mein dharm ka palan kaise karenge bahut saree batein hain jo dharm bheetar bahar nahi hai bheetar se aap jitna apne aap ko acchai ke raste par le kar ja sakte ho vaah dharm ka rasta hai theek hai

धर्म क्या है धर्म क्या है इससे ज्यादा इंपोर्टेंट है कि हमारे पास ऐसी आंखें होना जो धर्म क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Deepak Kumar

Life Advicer

0:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मेरा नाम दीपक जैसा कि आपका प्रश्न है कि धर्म क्या है तो बड़ी सामान्य बात है की भागवत गीता में भी दिया गया है कि जब संपूर्ण सृष्टि के मनुष्य एवं प्राणियों का ह्रदय करो ना वार से भर जाए एवं दूसरों के प्रति समर्पण दया इत्यादि भावों का जन्म हो तो वही धर्म क्या लाता है और धर्म कभी भी यह नहीं कहता कि धर्म किसी का पक्षपात करें अर्थात इस प्रकार की भावना को दारु कभी जन्म नहीं देता किंतु आजकल कलयुग में मनुष्य ही करते हैं कि अधिकांश मनुष्य धर्म के नाम पर पक्षपात करते हैं एवं अपनी संपत्ति एवं निजी संपदा को बढ़ाने का प्रयास करते हैं तो मेरा जवाब आपको कितना अच्छा लगे रिप्लाई दीजिएगा धन्यवाद

namaskar mera naam deepak jaisa ki aapka prashna hai ki dharm kya hai toh badi samanya baat hai ki bhagwat geeta mein bhi diya gaya hai ki jab sampurna shrishti ke manushya evam praniyo ka hriday karo na war se bhar jaaye evam dusro ke prati samarpan daya ityadi bhavon ka janam ho toh wahi dharm kya lata hai aur dharm kabhi bhi yah nahi kahata ki dharm kisi ka pakshapat kare arthat is prakar ki bhavna ko daaru kabhi janam nahi deta kintu aajkal kalyug mein manushya hi karte hain ki adhikaansh manushya dharm ke naam par pakshapat karte hain evam apni sampatti evam niji sampada ko badhane ka prayas karte hain toh mera jawab aapko kitna accha lage reply dijiyega dhanyavad

नमस्कार मेरा नाम दीपक जैसा कि आपका प्रश्न है कि धर्म क्या है तो बड़ी सामान्य बात है की भाग

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  361
WhatsApp_icon
user

shekhar11

Volunteer

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धर्म क्या है धर्म का अर्थ होता है धारण था जिसे धारण किया जा सके लेकिन धर्म कर्म प्रधान है गुणों का जो प्रदर्शित करें वही धर्म का नाता है धर्म को घुन भी कह सकते हैं यहां यह उल्लेखनीय है कि धर्म शब्द में गुण अर्थ केवल मानव से संबंधित नहीं पदार्थ के लिए भी धर्म शब्द प्रयुक्त होता है यह पानी का जो घर में वह बहना होता है अग्नि का जो धर्म है वह प्रकाश देना उष्मा देना या संपर्क में आने वाली वस्तु को जलाना जिस भी व्यक्ति चाहे वह कोई भी पदार्थ हो उसका जोक अपना मूल स्वभाव है जो मूल काम है वही उनका धर्म कहलाता है

dharam kya hai dharm ka arth hota hai dharan tha jise dharan kiya ja sake lekin dharm karm pradhan hai gunon ka jo pradarshit karein wahi dharm ka nataa hai dharm ko ghun bhi keh sakte hain yahan yeh ullekhaneeya hai ki dharm shabd mein gun arth keval manav se sambandhit nahi padarth ke liye bhi dharm shabd prayukt hota hai yeh pani ka jo ghar mein wah bahna hota hai agni ka jo dharm hai wah prakash dena usma dena ya sampark mein aane wali vastu ko jalana jis bhi vyakti chahe wah koi bhi padarth ho uska joke apna mul swabhav hai jo mul kaam hai wahi unka dharm kehlata hai

धर्म क्या है धर्म का अर्थ होता है धारण था जिसे धारण किया जा सके लेकिन धर्म कर्म प्रधान है

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  376
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!