अक्सर मां की कही हुई बात को हम इग्नोर कर देते हैं मगर बीवी की कही हुई बात को इग्नोर नहीं कर पाते है, ऐसा क्यूँ?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की न्यूज़ नेशन का नैतिक स्तर मल्टी लेवल 5 डाउन हो चुका है यह बात आप बिल्कुल सही कह रहे हैं मैं आप से पूर्णता सहमत हूं पर एबी भी तो फिर भी व्यथा होती है बीवी के लिए तो चलो फिर भी मैं मान सकता हूं जैसा है लेकिन उन लड़कों के बारे में सोचो जो लड़की दिल गया था 2 दिन की गर्लफ्रेंड के लिए ही अपने मां बाप की कई बातों को नहीं मानते हैं मां-बाप की अवहेलना कर देते हैं उनकी लगाए हुए पैसे की ओर ध्यान नहीं देते हैं पढ़ाई पर ध्यान नहीं देते हैं और गर्लफ्रेंड के चक्कर में इधर से उधर भटकते हुए अपनी लाइफ को डिस्टर्ब कर लेते हैं अरे मां के बारे में सोचें तुम्हारे लिए अपने समर्थकों का क्या किया तुम्हारे सुखों का ध्यान रखा तुम्हारे लिए पिता से झूठ बोलती रही तुम्हारे सुख की सारी व्यवस्था करती रही उस मां को भी आप इग्नोर कर रहे हैं शिव भक्ति के लिए और मैं तो उस पत्नी को कितनी बड़ी दूर की मानता हूं जो इस बात को ध्यान नहीं रखती है अरे तू जितना पुत्र तेरे पति को चाहती है तो क्या किसी मां को तिरुपति की जुम्मा है उसका केयर करना तेरा फर्ज नहीं है तेरी नैतिक दायित्व नहीं है जिस पति की नौकरी पर तू 800000 दिन घूम रही है जिस पति की नौकरी पर तू आज एस करती हुई शायरियों में पत्र आती हुई अपनी शान दिखा ती घूम रही है अप्रैल लगा कर के परफ्यूम लगा कर के क्या तेरा मां की फर्ज नहीं बनता है क्योंकि तेरे पति को जन्म देने वाली मां मेरी पति का पालन पोषण करने वाली को मां है जिससे पति को क्वालिफाइड बना करके नौकरी लगाने वाली को मां के प्रति कर्तव्य बनता है कि तू पति सास की सेवा करो

aaj ki news nation ka naitik sthar multi level 5 down ho chuka hai yah baat aap bilkul sahi keh rahe hain main aap se purnata sahmat hoon par ab bhi toh phir bhi vyatha hoti hai biwi ke liye toh chalo phir bhi main maan sakta hoon jaisa hai lekin un ladko ke bare mein socho jo ladki dil gaya tha 2 din ki girlfriend ke liye hi apne maa baap ki kai baaton ko nahi maante hain maa baap ki avhelna kar dete hain unki lagaye hue paise ki aur dhyan nahi dete hain padhai par dhyan nahi dete hain aur girlfriend ke chakkar mein idhar se udhar bhatakte hue apni life ko disturb kar lete hain are maa ke bare mein sochen tumhare liye apne samarthakon ka kya kiya tumhare sukho ka dhyan rakha tumhare liye pita se jhuth bolti rahi tumhare sukh ki saree vyavastha karti rahi us maa ko bhi aap ignore kar rahe hain shiv bhakti ke liye aur main toh us patni ko kitni badi dur ki manata hoon jo is baat ko dhyan nahi rakhti hai are tu jitna putra tere pati ko chahti hai toh kya kisi maa ko tirupati ki jumma hai uska care karna tera farz nahi hai teri naitik dayitva nahi hai jis pati ki naukri par tu 800000 din ghum rahi hai jis pati ki naukri par tu aaj s karti hui shayriyon mein patra aati hui apni shan dikha ti ghum rahi hai april laga kar ke perfume laga kar ke kya tera maa ki farz nahi banta hai kyonki tere pati ko janam dene wali maa meri pati ka palan poshan karne wali ko maa hai jisse pati ko qualified bana karke naukri lagane wali ko maa ke prati kartavya banta hai ki tu pati saas ki seva karo

आज की न्यूज़ नेशन का नैतिक स्तर मल्टी लेवल 5 डाउन हो चुका है यह बात आप बिल्कुल सही कह रहे

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  364
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!