अपना स्वभाव कैसे बदले?...


user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

4:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी देखिए एक इंसान का व्यक्तित्व जिसने पर्सनालिटी कहते हैं वह बनता है उसके बर्ताव से उसकी बिहेवियर से पर्सनालिटी अगर हम देखते देखते देखते हैं चरित्र देखते हैं तो यह सब होता है यह एक मोटा मोटा है एक इंसान इस तरीके का उस तरीके का होता है लेकिन जब भी वीर की बात करते हैं तो बिहेवियर यहां पर ऐसा वहां पर ऐसा हो सकता है पर्सनैलिटी को इन टोटलिटी पूरी तरीके से आप बदल नहीं सकते हैं रातों-रात या अगले ही पल लेकिन अपने बर्ताव को अपने बीजेपी को अपने स्वभाव को अपने एक्स को अपनी रिएक्शन को अपनी कंपनी की सिम को आप किसी से कैसे बात करते हैं आपके तरीका क्या है आपके ऐसा सोचते हैं आपकी नियत कैसी है इसको आप जैसे निकली बदल सकते हैं एक बार नहीं कई बार अगर आप थोड़ा सा अपने ऊपर ध्यान दें थोड़ा सा अवेयरनेस के साथ जीने जीने का प्रयास करें हर घड़ी यह देखें सोचे समझे कि आप क्या सोचते हैं परिस्थिति में उस इंसान के बारे में अपने बारे में क्या कदम उठाते हैं कैसा बर्ताव करते हैं कैसा कलेजा होता है किस तरीके से आप बात करते हैं अगर थोड़ा सा ध्यान देंगे ना तो फिर आप समझ जाएंगे कि मुझे ऐसे नहीं करना मुझे ऐसे करना चाहिए था यह सही नहीं है यह सही तरीका है तो आप अगर कुछ इस तरीके से आगे बढ़ेंगे और थोड़ा सा अपने ऊपर ध्यान रखेंगे 16 की तरह की भाई आपको पता है कि यह क्या हो रहा है क्या नहीं और आपके भीतर क्या हो रहा है आज की परिस्थिति क्या है वगैरा वगैरा तो भैया अपने आप को या अपने आप पर ज्यादा कंट्रोल पाएंगे समझेंगे जानेंगे और फिर जो आप काम करेंगे कार्य करेंगे जो आप एक्शन लेंगे वह मोस्ट एप्रुपरिएट होगा मतलब उस समय उस परिस्थिति के हिसाब से सबसे अनुकूल हो तो हमें यही करने की जरूरत होती है हमें देखना होता है कि वह मेरी सोच से मेरे बातों से मेरे न्यूज़ से मेरे कर्म से कहीं किसी को कोई दिक्कत तो नहीं हो रही परेशानी नहीं हो रही किसी को कोई शिकायत तो नहीं है किसी को किसी तरीके की शादी तो नहीं पहुंच रही मैं किसी को किसी किसी भी तरीके से एडवर्सली इंपैक्ट्स तो नहीं कर रहा किसी का नुकसान तो नहीं कर रहा जाने अनजाने में आपको अपने हर करने का चाहे वह बोलकर हो लिखकर वह काम करके आओ से हो प्यार से जो भी आप करते हैं उसको थोड़ा सा देखना पड़ेगा अपने आप को संभालना पड़ेगा और आगे बढ़ना पड़ेगा क्योंकि जब आप बोलते हैं मैं अपना स्वभाव कैसे बदल सकता हूं तो यह किस लिए जाते हैं या फिर से जाते हैं कि आपका जो रिएक्शन में आकर जो तरीका है जीवन जीने का हार जैसा जीते हैं आप जैसा सोचते हैं जैसा कर्म करते हैं उसमें आप फेरबदल चाहते हैं ताकि वह आपकी जो इंडिविजुअलिटी है जो आपका चरित्र है तो आपका कैरेक्टर है जो आपका स्वभाव है वह थोड़ा और बेहतर हो सके किसके साथ अपने परिजनों के साथ जिनके साथ भी आप उठते बैठते हैं कोई यहां मिलता है कोई वहां रहता है कोई एल्बम पड़ोस में कोई हीरो का ट्रैफिक में तो कोई ऑफिस में ही स्कूल में कॉलेज में जहां पर तो उनके साथ आप का जो रवैया है वह आप चाहते हैं कि वह सुधर जाए आपकी छवि सुधर जाए आप ही शिक्षा तो इसीलिए यही बोलता है कि आप थोड़ा बैलेंस के साथ का जीने का प्रयास करें और मुश्किल है इस को काबू में किया जा सकता है

ji dekhiye ek insaan ka vyaktitva jisne personality kehte hain vaah banta hai uske bartaav se uski behaviour se personality agar hum dekhte dekhte dekhte hain charitra dekhte hain toh yah sab hota hai yah ek mota mota hai ek insaan is tarike ka us tarike ka hota hai lekin jab bhi veer ki baat karte hain toh behaviour yahan par aisa wahan par aisa ho sakta hai personality ko in totliti puri tarike se aap badal nahi sakte hain raatoon raat ya agle hi pal lekin apne bartaav ko apne bjp ko apne swabhav ko apne x ko apni reaction ko apni company ki sim ko aap kisi se kaise baat karte hain aapke tarika kya hai aapke aisa sochte hain aapki niyat kaisi hai isko aap jaise nikli badal sakte hain ek baar nahi kai baar agar aap thoda sa apne upar dhyan de thoda sa awareness ke saath jeene jeene ka prayas kare har ghadi yah dekhen soche samjhe ki aap kya sochte hain paristhiti me us insaan ke bare me apne bare me kya kadam uthate hain kaisa bartaav karte hain kaisa kaleja hota hai kis tarike se aap baat karte hain agar thoda sa dhyan denge na toh phir aap samajh jaenge ki mujhe aise nahi karna mujhe aise karna chahiye tha yah sahi nahi hai yah sahi tarika hai toh aap agar kuch is tarike se aage badhenge aur thoda sa apne upar dhyan rakhenge 16 ki tarah ki bhai aapko pata hai ki yah kya ho raha hai kya nahi aur aapke bheetar kya ho raha hai aaj ki paristhiti kya hai vagera vagera toh bhaiya apne aap ko ya apne aap par zyada control payenge samjhenge jaanege aur phir jo aap kaam karenge karya karenge jo aap action lenge vaah most eprupariet hoga matlab us samay us paristhiti ke hisab se sabse anukul ho toh hamein yahi karne ki zarurat hoti hai hamein dekhna hota hai ki vaah meri soch se mere baaton se mere news se mere karm se kahin kisi ko koi dikkat toh nahi ho rahi pareshani nahi ho rahi kisi ko koi shikayat toh nahi hai kisi ko kisi tarike ki shaadi toh nahi pohch rahi main kisi ko kisi kisi bhi tarike se edavarsali impaikts toh nahi kar raha kisi ka nuksan toh nahi kar raha jaane anjaane me aapko apne har karne ka chahen vaah bolkar ho likhkar vaah kaam karke aao se ho pyar se jo bhi aap karte hain usko thoda sa dekhna padega apne aap ko sambhaalna padega aur aage badhana padega kyonki jab aap bolte hain main apna swabhav kaise badal sakta hoon toh yah kis liye jaate hain ya phir se jaate hain ki aapka jo reaction me aakar jo tarika hai jeevan jeene ka haar jaisa jeete hain aap jaisa sochte hain jaisa karm karte hain usme aap ferabadal chahte hain taki vaah aapki jo individuality hai jo aapka charitra hai toh aapka character hai jo aapka swabhav hai vaah thoda aur behtar ho sake kiske saath apne parijanon ke saath jinke saath bhi aap uthte baithate hain koi yahan milta hai koi wahan rehta hai koi album pados me koi hero ka traffic me toh koi office me hi school me college me jaha par toh unke saath aap ka jo ravaiya hai vaah aap chahte hain ki vaah sudhar jaaye aapki chhavi sudhar jaaye aap hi shiksha toh isliye yahi bolta hai ki aap thoda balance ke saath ka jeene ka prayas kare aur mushkil hai is ko kabu me kiya ja sakta hai

जी देखिए एक इंसान का व्यक्तित्व जिसने पर्सनालिटी कहते हैं वह बनता है उसके बर्ताव से उसकी ब

Romanized Version
Likes  614  Dislikes    views  8767
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!