प्यार किसी से क्यों होता है?...


user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्ण प्यार किसी से क्यों होता है तो बता देंगे अगर किसी से प्यार होता है तो यहां पर एक पुरानी कहावत आती है अपॉजिट अट्रैक्ट दर्शन एक जनरल का दूसरी जनरल के प्रति आकर्षण या उसके प्रति प्यार होना है स्वाभाविक सी बात है चुंबक में भी दूसरे होते हैं नॉट फॉलो साउथ फोटो वह भी एक दूसरे के दुख आकर्षित होते हैं तो इस तरह से जनरल भी एक दूसरे के से आकर्षित होते हैं और अट्रेक्ट होते हैं तो यहां पर अगर आपके मन में फीलिंग आ रही है प्यार आ रहा है तो यह बहुत सफा बेग से बात है आप उसको इंजॉय करना चाहिए मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

krishna pyar kisi se kyon hota hai toh bata denge agar kisi se pyar hota hai toh yahan par ek purani kahaavat aati hai apajit attract darshan ek general ka dusri general ke prati aakarshan ya uske prati pyar hona hai swabhavik si baat hai chumbak mein bhi dusre hote hain not follow south photo vaah bhi ek dusre ke dukh aakarshit hote hain toh is tarah se general bhi ek dusre ke se aakarshit hote hain aur atrekt hote hain toh yahan par agar aapke man mein feeling aa rahi hai pyar aa raha hai toh yah bahut safa beg se baat hai aap usko enjoy karna chahiye main subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

कृष्ण प्यार किसी से क्यों होता है तो बता देंगे अगर किसी से प्यार होता है तो यहां पर एक पुर

Romanized Version
Likes  396  Dislikes    views  5685
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्यार किसी से क्यों होता है प्यार जब कोई इंसान जवानी की दहलीज पर कदम रखता है तो जैसे चुंबक के दो उत्तर से दक्षिण ले सकते हैं नॉर्थ पोल साउथ पोल होता है एक दूसरे को आकर्षित करते हैं उस तरह से इस सृष्टि पर फीमेल जेंडर ऑफ मेल जेंडर फ्री होते हैं तो आकर्षण अनुभव करते हैं और वह कुदरती स्वरूप कुदरत के द्वारा निर्मित और आकर्षण होना चाहिए अगर आकर्षण ना हो तो समस्या होती है और जब आकर्षण होता है तो लोगों को एक दूसरे में कुछ न कुछ अच्छा ही नजर आती है सुंदर लगता है वह आउटलुक किसी को पसंद आता है तो आकर्षित होता ही है और फिर अच्छा लगने लगता है और उसकी वजह से वह आकर्षित होकर बातें करते हैं अपनी पसंद जाहिर करते हैं कि आप मुझे अच्छे लगते हैं और फिर प्यार होता है विश्वास होता है समर्पण भाव होता है एक दूसरे से फिर बाद में वायदे करते हैं एक दूसरे का सम्मान करते हैं एक दूसरे की फीलिंग सो है अंतर के जो भावनाएं हैं वह एक दूसरे को बताते हैं और फिर बाद में विवाह कर दो शरीर एक जान हो जाते हैं एक तरह हो जाते दोनों एक दूसरे के पूरक होते हैं इसलिए प्यार होता है तो इसमें सब चीज का समन्वय जो होता है वह क्या होता है इसमें विश्वास भी है सम्मान भी है सबसे पहला कसम ली है एक दूसरे के ऊपर डिपेंड नैंसी भी है एक दूसरे की जरूरत भी पूरी कर रहे हैं और सृष्टि का नियम है कि दो प्यार करने वाले जी विवाह बंधन में बनते हैं इन संभावनाओं से जुड़े होने के बाद आने वाली नेक्स्ट जनरेशन को भी वह जन्म देते हैं और उसमें जो अपना अपना विरोध कुदरत दिया है तो निभाते हैं और इसी तरह से सुस्ती का क्रम है आगे चलता है और मानव इसी तरह से विकसित होती है इसी तरह से विकसित होती है धन्यवाद

pyar kisi se kyon hota hai pyar jab koi insaan jawaani ki dahlij par kadam rakhta hai toh jaise chumbak ke do uttar se dakshin le sakte hain north pole south pole hota hai ek dusre ko aakarshit karte hain us tarah se is shrishti par female gender of male gender free hote hain toh aakarshan anubhav karte hain aur vaah kudarati swaroop kudrat ke dwara nirmit aur aakarshan hona chahiye agar aakarshan na ho toh samasya hoti hai aur jab aakarshan hota hai toh logo ko ek dusre mein kuch na kuch accha hi nazar aati hai sundar lagta hai vaah outlook kisi ko pasand aata hai toh aakarshit hota hi hai aur phir accha lagne lagta hai aur uski wajah se vaah aakarshit hokar batein karte hain apni pasand jaahir karte hain ki aap mujhe acche lagte hain aur phir pyar hota hai vishwas hota hai samarpan bhav hota hai ek dusre se phir baad mein vaade karte hain ek dusre ka sammaan karte hain ek dusre ki feeling so hai antar ke jo bhaavnaye hain vaah ek dusre ko batatey hain aur phir baad mein vivah kar do sharir ek jaan ho jaate hain ek tarah ho jaate dono ek dusre ke purak hote hain isliye pyar hota hai toh isme sab cheez ka samanvay jo hota hai vaah kya hota hai isme vishwas bhi hai sammaan bhi hai sabse pehla kasam li hai ek dusre ke upar depend nainsi bhi hai ek dusre ki zarurat bhi puri kar rahe hain aur shrishti ka niyam hai ki do pyar karne waale ji vivah bandhan mein bante hain in sambhavanaon se jude hone ke baad aane wali next generation ko bhi vaah janam dete hain aur usme jo apna apna virodh kudrat diya hai toh nibhate hain aur isi tarah se susti ka kram hai aage chalta hai aur manav isi tarah se viksit hoti hai isi tarah se viksit hoti hai dhanyavad

प्यार किसी से क्यों होता है प्यार जब कोई इंसान जवानी की दहलीज पर कदम रखता है तो जैसे चुंबक

Romanized Version
Likes  88  Dislikes    views  1734
WhatsApp_icon
user

Sagar

Teacher

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अगर वाकई में आप प्यार के बारे में पूछ रहे हैं एक अभी दो कैटेगरी चल रही है एक अट्रैक्शन होता है आकर्षण आकर्षण किसी भी वस्तु से हो सकता है उसमें इंसान भी आते हैं निर्जीव वस्तुओं भी आती है जिसे आपको फोन से प्यार है तो फोन से आकर्षण है प्यार थोड़ी होता है क्या आकर्षण लगाओ अगर आप प्यार की बात करते हैं तो प्यारे कलक वस्तु है अलग चीज है प्यार प्यार में निस्वार्थ भावना होती है जबकि आकर्षण में यदि मोबाइल न मिले तो आप दुखी होंगे आपको प्रॉब्लम होगी अब रोने लग जाएंगे हो सकता है क्या आप खाना पीना छोड़ दे मगर प्यार में लड़की या जो भी मन इंसान जब आपको ना मिले तो भी आप खुश होंगे आप सिर्फ यह देखेंगे कि वह खुश है या नहीं

dekhiye agar vaakai mein aap pyar ke bare mein puch rahe hain ek abhi do category chal rahi hai ek attraction hota hai aakarshan aakarshan kisi bhi vastu se ho sakta hai usme insaan bhi aate hain nirjeev vastuon bhi aati hai jise aapko phone se pyar hai toh phone se aakarshan hai pyar thodi hota hai kya aakarshan lagao agar aap pyar ki baat karte hain toh pyare kalak vastu hai alag cheez hai pyar pyar mein niswarth bhavna hoti hai jabki aakarshan mein yadi mobile na mile toh aap dukhi honge aapko problem hogi ab rone lag jaenge ho sakta hai kya aap khana peena chod de magar pyar mein ladki ya jo bhi man insaan jab aapko na mile toh bhi aap khush honge aap sirf yah dekhenge ki vaah khush hai ya nahi

देखिए अगर वाकई में आप प्यार के बारे में पूछ रहे हैं एक अभी दो कैटेगरी चल रही है एक अट्रैक्

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
play
user

Farha Hussain

Community Developer at Vokal

0:10

क्यों होता है इसका प्रोसीजर या फिर प्रोसेस नहीं है प्यार बस हो जाता है

Likes  6  Dislikes    views  319
WhatsApp_icon
play
user

Likes  3  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!