भारत के पहले कमांडर ऑफ चीफ आर्मी कौन थे? ...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

3:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत स्वतंत्र तो 15 अगस्त 1947 को हो गया था पर 15 जनवरी 1949 तक अंग्रेजी भारतीय सेना के कमांडर इन चीफ रहे 15 जनवरी 1949 को पहली बार एक भारतीय जनरल करियप्पा को भारतीय सेना का कमांडर आशिक बनाया गया तो जनरल करिअप्पा पहले commander-in-chief थे रियल सेंस में स्वतंत्र भारत के उसके पहले जो थे पोप फ्रांसिस रॉबर्ट राय गुजरते commander-in-chief जो 15 जनवरी 1949 को रिटायर हुए और उनसे जनरल करिअप्पा ने काट लिया जनरल करिअप्पा का जो जन्म था वह 18 से 99 को हुआ था और मृत्यु 1993 को हुई उन्होंने जो आर्मी में सर्विस की थी वह 1919 से लेकर 1953 तक कि 1949 में जब वह commander-in-chief बने तो अपने रिटायरमेंट तक 1953 तक वह commander-in-chief रहे परंतु उनके रिटायरमेंट के कई वर्षों के पश्चात 28 अप्रैल 1986 को उनको फील्ड मार्शल का रंग दिया गया फील्ड मार्शल का रंग पाने वाले में दूसरे भारतीय थे उसके पहले जो पेड़ मार्चल बने थे वह जनरल मानेक शॉ बने थे जिन्होंने 1971 के बीच युद्ध में भारत को विजय दिलाई थी उस उपलक्ष में उनको फील्ड मार्शल का रंग दिया गया था जो जो फील्ड मार्शल का बैंक होता है यह 5 स्टार वाला होता है और इसकी एक और खासियत यह होती है कि आदमी अपनी मृत्यु तक सर्विस से रिटायर नहीं होता है और इस रंग को होल्ड करता है तो 1953 में वह रिटायर हो गए थे आर्मी से पर वह इस रंग के कारण 28 अप्रैल 1986 से दिलवा आर्मी की सर्विस में हो गए और अपनी मृत्यु तक 1993 तक हो आर्मी की सर्विस में रहे फील्ड मार्शल के रंग के कारण उन्होंने 1941 42 के द्वितीय विश्व युद्ध में इराक ईरान और सीरिया में अपना कार्यभार संभाला था 1943 44 वर्मा में उन्होंने जापानियों से लोहा लिया था और 1945 में वह ब्रिगेडियर बन गए थे और उनके अंडर में पाकिस्तान के जो प्रेग्नेंट रहे आयोग का वह समय उनके अंडर में काम करते थे जब जनरल करियप्पा ब्रिगेडियर थे 1947 में उनको डिप्टी चीफ बनाया गया आर्मी का जो कश्मीर युद्ध था पाकिस्तान में उसमें उन्होंने काफी भाग लिया और अंततः 15 जनवरी 1949 को भारतीय सेना के कमांडर इन चीफ बने इसलिए जो आर्मी डे है आज भी वह इसी दिन को मनाया जाता है 15 जनवरी को क्योंकि कोई पहला भारतीय भारतीय सेना का कमांडर इन चीफ बना था 1953 में रिटायर होने के बाद वह न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के हाई कमिश्नर भी कहे यह कमान वर्ल्ड कंट्री में जो राजदूत होते हैं उनको हाई कमिश्नर कहा जाता है धन्यवाद

bharat swatantra toh 15 august 1947 ko ho gaya tha par 15 january 1949 tak angrezi bharatiya sena ke commander in chief rahe 15 january 1949 ko pehli baar ek bharatiya general kariyappa ko bharatiya sena ka commander aashik banaya gaya toh general kariappa pehle commander in chief the real sense me swatantra bharat ke uske pehle jo the pop francis robert rai gujarate commander in chief jo 15 january 1949 ko retire hue aur unse general kariappa ne kaat liya general kariappa ka jo janam tha vaah 18 se 99 ko hua tha aur mrityu 1993 ko hui unhone jo army me service ki thi vaah 1919 se lekar 1953 tak ki 1949 me jab vaah commander in chief bane toh apne retirement tak 1953 tak vaah commander in chief rahe parantu unke retirement ke kai varshon ke pashchat 28 april 1986 ko unko field marshall ka rang diya gaya field marshall ka rang paane waale me dusre bharatiya the uske pehle jo ped marchal bane the vaah general manek shaw bane the jinhone 1971 ke beech yudh me bharat ko vijay dilai thi us uplaksh me unko field marshall ka rang diya gaya tha jo jo field marshall ka bank hota hai yah 5 star vala hota hai aur iski ek aur khasiyat yah hoti hai ki aadmi apni mrityu tak service se retire nahi hota hai aur is rang ko hold karta hai toh 1953 me vaah retire ho gaye the army se par vaah is rang ke karan 28 april 1986 se dilwa army ki service me ho gaye aur apni mrityu tak 1993 tak ho army ki service me rahe field marshall ke rang ke karan unhone 1941 42 ke dwitiya vishwa yudh me iraq iran aur syria me apna karyabhar sambhala tha 1943 44 verma me unhone japaniyon se loha liya tha aur 1945 me vaah brigadier ban gaye the aur unke under me pakistan ke jo pregnant rahe aayog ka vaah samay unke under me kaam karte the jab general kariyappa brigadier the 1947 me unko deputy chief banaya gaya army ka jo kashmir yudh tha pakistan me usme unhone kaafi bhag liya aur antatah 15 january 1949 ko bharatiya sena ke commander in chief bane isliye jo army day hai aaj bhi vaah isi din ko manaya jata hai 15 january ko kyonki koi pehla bharatiya bharatiya sena ka commander in chief bana tha 1953 me retire hone ke baad vaah new zealand aur austrailia ke high commissioner bhi kahe yah kamaan world country me jo rajdut hote hain unko high commissioner kaha jata hai dhanyavad

भारत स्वतंत्र तो 15 अगस्त 1947 को हो गया था पर 15 जनवरी 1949 तक अंग्रेजी भारतीय सेना के कम

Romanized Version
Likes  128  Dislikes    views  1880
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!