सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यूँ है?...


user
0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य के पद कठोर होते हैं सत्य के पद कठोर होते हैं इनके लिए गीता रामायण इतिहास अधिक उल्टा कर देखें अतः सत्य की विजय होती है यह भी विश्वव्यापी सकते

satya ke pad kathor hote hain satya ke pad kathor hote hain inke liye geeta ramayana itihas adhik ulta kar dekhen atah satya ki vijay hoti hai yah bhi vishvavyapi sakte

सत्य के पद कठोर होते हैं सत्य के पद कठोर होते हैं इनके लिए गीता रामायण इतिहास अधिक उल्टा

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Bhim Singh Kasnia

Acupunctrist,Motivational Speaker

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है कि सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों है तो देखिए सच्चाई के रास्ते पर बहुत सारे चैलेंज जाते हैं क्योंकि जब हम व्यवहारिकता और यथार्थ में जिंदगी जी रहे होते हैं तो हमें बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है लेकिन जीत आखिर सच की होती है सच का रास्ता कठिन तो जरूर है लेकिन वह सच्चाई से भरा होने के कारण विजय की ओर ले जाता है नमस्कार धन्यवाद

namaskar aapka sawaal hai ki sacchai ka rasta itna kathin kyon hai toh dekhiye sacchai ke raste par bahut saare challenge jaate hain kyonki jab hum vyavaharikta aur yatharth me zindagi ji rahe hote hain toh hamein bahut saari mushkilon ka samana karna padta hai lekin jeet aakhir sach ki hoti hai sach ka rasta kathin toh zaroor hai lekin vaah sacchai se bhara hone ke karan vijay ki aur le jata hai namaskar dhanyavad

नमस्कार आपका सवाल है कि सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों है तो देखिए सच्चाई के रास्ते पर ब

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  467
WhatsApp_icon
user

DR SUNIL K. VAIDIK

Psychologist, Spritualist, Doctor, Philosopher

5:12
Play

Likes  15  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

Engineer

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तेरी फ्रेंड सबसे बड़ी बात यह कि सच्चाई का रास्ता कठिन इसलिए होता है कि पूरी दुनिया जो है छोटे लोगों से भरी है और जहां भी आप सच बोलते हैं अगर जहां गलत काम हो रहा कर वहां सच बोल दिया तो आप समझ लो कि आपकी ठहरने तो यही एक्रीशंस है कि हर हर सेक्टर और हर फील्ड में आप देखेंगे तो दो-चार लोग झूठे मिलेंगे तो वहां पर सच्चाई का सामना करना बहुत मुश्किल हो जाता है वहीं पर ओके थे ना कि सच्चाई वही पेश करिए जो सच्चाई के लायक हो और उनका जो न समझे सच्चाई का तो कहीं गई रीजेंसी की सच्चाई जो हमेशा कठिन होती है उसके रास्ते पर चलना बहुत कम लोग चलते हैं और मैं यह भी नहीं कहूंगा कि सच्चाई के रास्ते पर आज तक अभी जो जितने भी लोग हैं वह भी बंद कर दी चलना ऐसा भी नहीं आऊंगा लेकिन हां जो भी सच्चाई का रास्ता है बहुत ही कठिन है और अपने जो आज की वर्तमान युग में आप देखेंगे तो ऐसा शो मी से कम से कम नहीं तो 78% लोग जो है झूठ तो बोलते मैं तो यह कहता हूं कि 90% लोग झूठ का सहारा लेते हैं और यह नहीं जो सच आदमी है वह भी कहीं न कहीं ऐसी सिचुएशन में फंस जाता है कभी भी उसे झूठ बोलना पड़ता है अपने आप को बचाने के लिए तो कहीं भी यह बिजनेस है कि सच्चाई के रास्ते पर बहुत कठिन है और बहुत कम लोग ही चल पाते शायद ही मेरी सबसे तू 5 परसेंट या 10 परसेंट चलते होंगे और आज की आज की जनरेशन है वह तो मैं तो उनको बोली नहीं सकता कि कि वह तो टोटली झूठ के ऊपर डिपेंड करती है क्योंकि उनका जो भी काम है जो भी काम बनाना है या बिगाड़ना है वह झूठ के सहारे करते हैं तो इसीलिए कहने कहीं सच्चाई को सबके लिए बहुत कठिन है

teri friend sabse badi baat yah ki sacchai ka rasta kathin isliye hota hai ki puri duniya jo hai chote logo se bhari hai aur jaha bhi aap sach bolte hain agar jaha galat kaam ho raha kar wahan sach bol diya toh aap samajh lo ki aapki thaharane toh yahi ekrishans hai ki har har sector aur har field me aap dekhenge toh do char log jhuthe milenge toh wahan par sacchai ka samana karna bahut mushkil ho jata hai wahi par ok the na ki sacchai wahi pesh kariye jo sacchai ke layak ho aur unka jo na samjhe sacchai ka toh kahin gayi regency ki sacchai jo hamesha kathin hoti hai uske raste par chalna bahut kam log chalte hain aur main yah bhi nahi kahunga ki sacchai ke raste par aaj tak abhi jo jitne bhi log hain vaah bhi band kar di chalna aisa bhi nahi aaunga lekin haan jo bhi sacchai ka rasta hai bahut hi kathin hai aur apne jo aaj ki vartaman yug me aap dekhenge toh aisa show me se kam se kam nahi toh 78 log jo hai jhuth toh bolte main toh yah kahata hoon ki 90 log jhuth ka sahara lete hain aur yah nahi jo sach aadmi hai vaah bhi kahin na kahin aisi situation me fans jata hai kabhi bhi use jhuth bolna padta hai apne aap ko bachane ke liye toh kahin bhi yah business hai ki sacchai ke raste par bahut kathin hai aur bahut kam log hi chal paate shayad hi meri sabse tu 5 percent ya 10 percent chalte honge aur aaj ki aaj ki generation hai vaah toh main toh unko boli nahi sakta ki ki vaah toh totally jhuth ke upar depend karti hai kyonki unka jo bhi kaam hai jo bhi kaam banana hai ya bigadana hai vaah jhuth ke sahare karte hain toh isliye kehne kahin sacchai ko sabke liye bahut kathin hai

तेरी फ्रेंड सबसे बड़ी बात यह कि सच्चाई का रास्ता कठिन इसलिए होता है कि पूरी दुनिया जो है छ

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  581
WhatsApp_icon
user
0:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि सच्चाई पर चल रहा बड़ा मुश्किल होता है

kyonki sacchai par chal raha bada mushkil hota hai

क्योंकि सच्चाई पर चल रहा बड़ा मुश्किल होता है

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1592
WhatsApp_icon
user

Greeshma Nataraj

Psychology Counseling, Life Coach, NLP, Cognitive Behavioral Therapist, Motivational Speaker, Handwriting Signature Analyst.

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई का रास्ता हमेशा कठिन इसलिए होता है कि सच्चाई कोई सुनना नहीं चाहता है कोई अपने आप को अमीर आदमी अपनी सच्चाई या देखना नहीं चाहता है लोग आजकल के जमाने की दूसरों का कचरा हम क्या करें दूसरों में क्या गलतियां है यह दिखाने का आज का जमाना हो चुका है बस खुद के अंदर क्या गलतियां है वह ढूंढने में किसी को भी इंटरेस्ट नहीं है सबको ऊंचा बनना है सबको ऊपर उठना है बट एंड कॉस्ट ऑफ एनी सच्चाई की राह भूलकर गलत रास्ते पकड़कर आजकल लोग इतना चाहते हैं अगर आप सच्चाई सुनते हो आपकी फेस एंड व्हाट इज द फॉलो द ट्रुथ यू बिलीव इन योरसेल्फ गो अहेड एंड व्हाट इज डूइंग फॉर यू थैंक यू

sacchai ka rasta hamesha kathin isliye hota hai ki sacchai koi sunana nahi chahta hai koi apne aap ko amir aadmi apni sacchai ya dekhna nahi chahta hai log aajkal ke jamane ki dusro ka kachda hum kya karein dusro mein kya galtiya hai yeh dikhane ka aaj ka jamana ho chuka hai bus khud ke andar kya galtiya hai wah dhundhane mein kisi ko bhi interest nahi hai sabko uncha banana hai sabko upar uthna hai but end cost of any sacchai ki raah bhulkar galat raste pakadkar aajkal log itna chahte hai agar aap sacchai sunte ho aapki face end what is the follow the truth you believe in yourself go ahead end what is doing for you thank you

सच्चाई का रास्ता हमेशा कठिन इसलिए होता है कि सच्चाई कोई सुनना नहीं चाहता है कोई अपने आप को

Romanized Version
Likes  198  Dislikes    views  2817
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

200 आप दिख जाए तो रास्ता तो एक ही था हमेशा से गिरा है वह क्या बहुत सहज सरल सच्चाई का रास्ता लेकिन हुआ क्या है कि लोगों ने अपने फायदे के लिए जल्दी मंजिल तक पहुंचने के लिए ज्यादा एकत्रित करने के लिए उन्होंने शॉर्टकट अपनाना शुरू कर दिया किसी को दबाकर ऊपर चले गए किसी को धक्का मार कर ऊपर चले गए साइड से चले गए हैं से चले गए वैसे चले गए किसी भी तरीके से जीत चाहिए थी लोगों को चाहे वो रास्ता कोई भी हो किसी ने भी रास्ते पर ध्यान नहीं दिया या अधिकतर लोग आज की तारीख में रास्तों पर ध्यान नहीं देते हैं वह खाली किसी भी तरीके से मुझे मंजिल मिल जाए फ्रॉम यहां पर आ जाती है आप सीधा जा रहे हैं लेकिन कोई आपको गलत साइड से ओवरटेक कर के ऊपर आके चला जाए या आपको ऐसे कर्नल सर के आगे चले जाएं कि आपको लगेगा यह क्या हो गया भाई वह तो मेरे से आगे चला गया लेकिन क्या वह सही था वह बिल्कुल सही नहीं था आपको ऐसा करने की जरूरत नहीं है आपको तो वह करना है जो सही भले ही आपको हो सकता है उनके मुकाबले थोड़ा टाइम ज्यादा लग जाए इस गर्मी में लेकिन घबराने की यज्ञ वर्क करने की कोई जरूरत नहीं क्योंकि आप का रास्ता साफ है जब आप मंजिल पर पहुंच जाएंगे तो आपको गर्व होगा फक्र होगा कि मैं मैंने ऐसे अपना रास्ता का वकिया आशा दूसरा वह लोग जो लोग कोई भी नाश्ता लेकर चले जाते हैं उनका क्या होगा आगे सोच के आगे जाकर सोचिए उनको एक अरे ग्रेट वाली लाइफ मिलेगी दुख मिलेगा परेशानी मिलेगी तकलीफ होगा उसके बारे में वह उनको पछतावा हो सकता है शायद वह उसके बारे में कभी इतना जिक्र ना कर सके जब बुढ़ापा आएगा तब उन्हें लगी है यह मैंने क्या किया जब लाइफ को पीछे मुड़कर देखेंगे उन्होंने अफसोस होगा कि मैंने यह रास्ता क्यों अपनाया और देखिए आप जैसा कर्म करेंगे उत्तर कौन सीक्वेंस या रिजल्ट तो मिलना ही है नीचे बड़ा क्लियर है कि किसको कब क्या मिलना है उसके कर्म के हिसाब से उसे मिल जाएगा तो आप वही कीजिए जो सही है

200 aap dikh jaye toh rasta toh ek hi tha hamesha se gira hai wah kya bahut sehaz saral sacchai ka rasta lekin hua kya hai ki logo ne apne fayde ke liye jaldi manjil tak pahuchne ke liye zyada ekatrit karne ke liye unhone shortcut apnana shuru kar diya kisi ko dabakar upar chale gaye kisi ko dhakka maar kar upar chale gaye side se chale gaye hain se chale gaye waise chale gaye kisi bhi tarike se jeet chahiye thi logo ko chahe vo rasta koi bhi ho kisi ne bhi raste par dhyan nahi diya ya adhiktar log aaj ki tarikh mein raston par dhyan nahi dete hain wah khaali kisi bhi tarike se mujhe manjil mil jaye from yahan par aa jati hai aap seedha ja rahe hain lekin koi aapko galat side se overtake kar ke upar aake chala jaye ya aapko aise colonel sar ke aage chale jayen ki aapko lagega yeh kya ho gaya bhai wah toh mere se aage chala gaya lekin kya wah sahi tha wah bilkul sahi nahi tha aapko aisa karne ki zarurat nahi hai aapko toh wah karna hai jo sahi bhale hi aapko ho sakta hai unke muqable thoda time zyada lag jaye is garmi mein lekin ghabrane ki yagya work karne ki koi zarurat nahi kyonki aap ka rasta saaf hai jab aap manjil par pohch jaenge toh aapko garv hoga fuckra hoga ki main maine aise apna rasta ka vakia asha doosra wah log jo log koi bhi nashta lekar chale jaate hain unka kya hoga aage soch ke aage jaakar sochie unko ek are great wali life milegi dukh milega pareshani milegi takleef hoga uske bare mein wah unko pachtava ho sakta hai shayad wah uske bare mein kabhi itna jikarr na kar sake jab budhapa aaega tab unhein lagi hai yeh maine kya kiya jab life ko peeche mudkar dekhenge unhone afasos hoga ki maine yeh rasta kyon apnaya aur dekhie aap jaisa karm karenge uttar kaun sequence ya result toh milna hi hai niche bada clear hai ki kisko kab kya milna hai uske karm ke hisab se use mil jayega toh aap wahi kijiye jo sahi hai

200 आप दिख जाए तो रास्ता तो एक ही था हमेशा से गिरा है वह क्या बहुत सहज सरल सच्चाई का रास्त

Romanized Version
Likes  575  Dislikes    views  7194
WhatsApp_icon
user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दीक्षित सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों है सच्चाई का रास्ता इतना कठिन इसीलिए है क्योंकि आज का मानव सच सुनना ही नहीं चाहता कदम कदम पर बहुत बार आपको ऐसा महसूस होगा कि अगर आप सच बोलेंगे पहली बात तो यह कि बहुत बार ऐसा होता है कि हम सामने वाला सामने वाले को सच बोलना चाहते हैं लेकिन फिर हमें लगता है कि कहीं उसे बुरा ना लग जाए तो फिर हम जो है वह बोल थोड़ा आधा सच या झूठ बोलकर आगे बढ़ जाते हैं क्योंकि किसी को दुख पहुंचा कर वैसे भी आपको कुछ भी अच्छा नहीं लगेगा तो यह बात आ जाती है कि जॉब में बिज़नस में हमें ऐसा लगता है कि अगर हम सच बोलते हैं तो कहीं हमारा नुकसान ना हो जाए तो इसीलिए जो है बहुत बार हम झूठ बोल देते हैं मैं मैं बुरी नहीं होती कहने वाली हमें सच बोलना चाहिए आपको सच बोलना लिखिए आपका निर्णय है आपके ऊपर मैं बिल्कुल निर्भर करता है लेकिन हां यह बात सच है कि आज के ज़माने में बहुत कठिन हो गया है सच बोलना क्योंकि परिस्थितियां बार बार बार बार हमारे सामने ऐसी आकर खड़ी हो जाती है जिसमें जिसमें हमें चूस करना होता है कि हमें सच बोलना है या झूठ बोलना है हमें बस यह ध्यान रखना चाहिए कि हमारे झूठ से कहीं किसी और का नुकसान ना हो कहीं किसी और को दुख ना पहुंचे

dixit sacchai ka rasta itna kathin kyon hai sacchai ka rasta itna kathin isliye hai kyonki aaj ka manav sach sunana hi nahi chahta kadam kadam par bahut baar aapko aisa mehsus hoga ki agar aap sach bolenge pehli baat toh yeh ki bahut baar aisa hota hai ki hum saamne vala saamne wale ko sach bolna chahte hain lekin phir humein lagta hai ki kahin use bura na lag jaye toh phir hum jo hai wah bol thoda aadha sach ya jhuth bolkar aage badh jaate hain kyonki kisi ko dukh pohcha kar waise bhi aapko kuch bhi accha nahi lagega toh yeh baat aa jati hai ki job mein business mein humein aisa lagta hai ki agar hum sach bolte hain toh kahin hamara nuksan na ho jaye toh isliye jo hai bahut baar hum jhuth bol dete hain main main buri nahi hoti kehne wali humein sach bolna chahiye aapko sach bolna likhiye aapka nirnay hai aapke upar main bilkul nirbhar karta hai lekin haan yeh baat sach hai ki aaj ke jamaane mein bahut kathin ho gaya hai sach bolna kyonki paristhiyaann baar baar baar baar hamare saamne aisi aakar khadi ho jati hai jisme jisme humein chus karna hota hai ki humein sach bolna hai ya jhuth bolna hai humein bus yeh dhyan rakhna chahiye ki hamare jhuth se kahin kisi aur ka nuksan na ho kahin kisi aur ko dukh na pahuche

दीक्षित सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों है सच्चाई का रास्ता इतना कठिन इसीलिए है क्योंकि आ

Romanized Version
Likes  133  Dislikes    views  8353
WhatsApp_icon
user

Dr. Priya Shatanjib Jha

Psychologist|Counselor|Dentist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं सच्चाई का रास्ता कठिन इसीलिए है क्योंकि लोग अक्सर उसके परिणाम से डरते हैं और यूसली ऐसा होता है ना कि आप अगर सच बोल दे तो आपको लगता है कि सामने से रिएक्शन क्या है क्या मेरा कुछ नुकसान ही क्यों ना मेरा नुकसान शायद हो जाएगा और या तो दूसरे को बुरा लग जाएगा यह सब टाइप के थॉट आने लगते हैं इसलिए देखा गया है कि झूठ जो इंसान बोल रहा है वह अपनी कन्वीनियंस के लिए बोल रहा है यानी कि उसका जो काम है वह सेट हो जाए और दूसरों को ना उसकी बातें अच्छी लग जाए यानी कि किसी का वह दिल ना तोड़े तो वह प्लीजिंग बातें यानी कि वह मन को जीत लेने वाली ऐसी टाइप की बातें करते हैं ऐसे लोग लेकिन एक बात है इंग्लिश में प्रोवर्ब है कि लायंस हैव मनी आईज या माउथ ऐसा करके पूछा है या नहीं कि जो झूठ है उसके बहुत सारे पैर या हाथ या आंखें यह सब होती है मतलब यह है कि आप आज नहीं तो कल पकड़े जाओगे और आपका जो जो आप जिसको छुपा रहे हो ना वह कभी ना कभी बाहर आने ही वाला है तो मोसली लोग सच बोलने से कतराते इसलिए हैं क्योंकि वह थोड़ा अंदर से नरम होते हैं और उन्हें उनको दूसरों के रिएक्शन से काफी फर्क पड़ता है डर लगता है वहीं पर अगर आप उन लोगों को देखोगे तो हमेशा सच बोलते हैं अंधे को एक बात ना को बोल दूं मुझे ही देख लीजिए 99% - 1% आई एम आल्सो डिशऑनेस्ट यानी कि कहीं ना कहीं मुझे भी ट्विस्ट करके बातें बोलनी पड़ती है क्योंकि ऐसा कोई इंसान नहीं होगा जो हंड्रेड परसेंट ऑनेस्टी में आपको डेफिनटली बोल सकती हूं और जो बोल रहा है हां बहुत व्यस्त हूं झूठ बोल रहा है तो ऐसा नहीं है लेकिन सच बोलने का हिम्मत बहुत बहुत ही आवश्यक है तभी या बाकी काम में फोकस कर पाओगे

namaste doston meri yani doctor priya jha ke taraf se aap sab ko din ki bahut saree subhkamnaayain sacchai ka rasta kathin isliye hai kyonki log aksar uske parinam se darte hai aur yusli aisa hota hai na ki aap agar sach bol de toh aapko lagta hai ki saamne se reaction kya hai kya mera kuch nuksan hi kyon na mera nuksan shayad ho jayega aur ya toh dusre ko bura lag jayega yeh sab type ke thought aane lagte hai isliye dekha gaya hai ki jhuth jo insaan bol raha hai wah apni convenience ke liye bol raha hai yani ki uska jo kaam hai wah set ho jaye aur dusro ko na uski batein acchi lag jaye yani ki kisi ka wah dil na tode toh wah pleasing batein yani ki wah man ko jeet lene wali aisi type ki batein karte hai aise log lekin ek baat hai english mein proverb hai ki lions have money eyes ya mouth aisa karke puchha hai ya nahi ki jo jhuth hai uske bahut saare pair ya hath ya aankhen yeh sab hoti hai matlab yeh hai ki aap aaj nahi toh kal pakde jaoge aur aapka jo jo aap jisko chupa rahe ho na wah kabhi na kabhi bahar aane hi vala hai toh mosli log sach bolne se katrate isliye hai kyonki wah thoda andar se naram hote hai aur unhein unko dusro ke reaction se kaafi fark padta hai dar lagta hai wahi par agar aap un logo ko dekhoge toh hamesha sach bolte hai andhe ko ek baat na ko bol doon mujhe hi dekh lijiye 99% - 1% I m aalso dishaanest yani ki kahin na kahin mujhe bhi twist karke batein bolani padti hai kyonki aisa koi insaan nahi hoga jo hundred percent honesty mein aapko definatali bol sakti hoon aur jo bol raha hai haan bahut vyast hoon jhuth bol raha hai toh aisa nahi hai lekin sach bolne ka himmat bahut bahut hi aavashyak hai tabhi ya baki kaam mein focus kar paoge

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं स

Romanized Version
Likes  174  Dislikes    views  2269
WhatsApp_icon
play
user

Anshuman Sharma

Fitness Guide & Health coach

1:56

Likes  40  Dislikes    views  547
WhatsApp_icon
user

आचार्य प्रशांत

IIT-IIM Alumnus, Ex Civil Services Officer, Mystic

9:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी फोटो भेज दिए जा रहे हो तुम किसी सार्थक लक्ष्य की ओर रास्ते में पैसा मिल रहा है जो दिखता नहीं जा रहे हो सुंदर सुंदर चोटी की ओर सुंदर ज्यादा सोना हो गई हो लेकिन रास्ते में क्या मिलता है गाड़ी मिलती है मिलती भी मिलते हैं तुम्हारे सामने कोई चट्टान गिरी तुम का संबंध किस करके बताना मुश्किल पड़ता है तो मन सवाल करेगा कि मैं क्यों चल रहा हूं इस रास्ते पर तुम्हें याद रखना है कि मतलब मुझे इस चट्टान से नहीं है मतलब मुझे चोटी से चोटी तक ध्यान तुम्हें जा सकती प्रेरणा देगा इतना आगे बढ़ रहे हो इतना तुमको चाहा धूल गर्द की रक्षा दल दुर्गंध यही मिल रहा होगा हिमशिखर की कुछ भी बर्दाश्त किया जा सकता है क्रश करना बर्दाश्त करें जैसा लगता ही नहीं करना पड़ता चट्टान में भी दिखाई पड़ती है दिखाई पड़ता है वहां से तुमको भी जा नहीं रहे जीवन की भूल भुलैया में यूं ही भटक रहे हो इस भटकन का भटकाव का अंत नहीं है गांव इसलिए नहीं है कि आज है और कल नहीं होगा यह इसलिए है कि आज है और कल भी रहेगा बल्कि मंदिर की ओर जाते हुए रास्ते में कांटे मच्छर लेता है उसके बाद तुमसे कहा जाएगी कांटे बिछे लो फिर भी खाओ कितने निकाल कर दो जो लक्ष्य तुम्हारा जितना है तो रास्ते में खड़ी चुनर जाओगे क्योंकि आवश्यक है उस्मान तक पहुंचने के लिए अपनी जान दे रहे हो इतनी प्रक्रिया में कभी-कभी बोरियत से भरा और नीरज लग सकता है लेकिन अगर नहीं रखता है तुम्हारे काम का काम नीरसता बसी हुई है तो एक पल ना करो उसका तुरंत क्यों कर रहा हूं रंगो भला जो स्वास्थ्य से उठे और स्वास्थ्य की खातिर किया जाए जो विश्राम से उठे और विश्राम की खातिर किया जाए और उसके बाद बड़ा आराम मिलता है नींद आती है तुम तो बहुत है पर उससे कोई आराम विश्राम स्वास्थ्य नहीं मिलना उपजाऊ रही है उसने जाना है उसे तुरंत छूटंकी श्रम श्रम श्रम श्रम प्यार से लाता है लेकिन दुनिया अधिकांशत विश्राम करती है कि तुम दशकों तक शताब्दियों तक श्रम करे जाओ श्रम का अंत नहीं आना शर्म से विश्राम नहीं आना दुनिया में 99 लोग ऐसा ही शर्म कर रहे हैं कैसा करते जाओ करते जाओ मेहनत का वादा है जो कभी पूरा नहीं बनाया जाएगा जाएगा तो बताया जाएगा मेहनत कर लो उसके बाद आराम से पढ़ना लिखना गीत गाना आखिरी सेवानिवृत्ति पूछो मैं आपसे मैं तो शर्म कर रहा हूं वह कैसा है कक्षा की धर्म आता है एक आदमी चल रहा है दरवाजे की ओर सभी तौर पर करोगे तो दोनों चल रहे हैं दोनों चल रहे हैं पर कैसे चल रहा है कुछ देर तक तो चलेगा कमरे के भीतर शीघ्र ही कमरे से बाहर हो जाएगा और दूसरा हमारी गंदी कल क्या है और क्या है आरंभिक कमरे के भीतर ही करना कि गद्य तुमको ले जाए कमरे के बाहर और बाकी पूरी दुनिया क्या करती है कमरे में ही चक्र की बनी हुई है वर्तमान उम्मीदवार निकल जाएंगी में सावधानी

apni photo bhej diye ja rahe ho tum kisi sarthak lakshya ki aur raste mein paisa mil raha hai jo dikhta nahi ja rahe ho sundar sundar choti ki aur sundar zyada sona ho gayi ho lekin raste mein kya milta hai gaadi milti hai milti bhi milte hain tumhare saamne koi chattan giri tum ka sambandh kis karke bataana mushkil padta hai toh man sawaal karega ki main kyon chal raha hoon is raste par tumhe yaad rakhna hai ki matlab mujhe is chattan se nahi hai matlab mujhe choti se choti tak dhyan tumhe ja sakti prerna dega itna aage badh rahe ho itna tumko chaha dhul garda ki raksha dal durgandh yahi mil raha hoga himshikhar ki kuch bhi bardaasht kiya ja sakta hai crush karna bardaasht kare jaisa lagta hi nahi karna padta chattan mein bhi dikhai padti hai dikhai padta hai wahan se tumko bhi ja nahi rahe jeevan ki bhool bhulaiyya mein yun hi bhatak rahe ho is bhatakan ka bhatkaav ka ant nahi hai gaon isliye nahi hai ki aaj hai aur kal nahi hoga yah isliye hai ki aaj hai aur kal bhi rahega balki mandir ki aur jaate hue raste mein kante macchar leta hai uske baad tumse kaha jayegi kante biche lo phir bhi khao kitne nikaal kar do jo lakshya tumhara jitna hai toh raste mein khadi chunar jaoge kyonki aavashyak hai usman tak pahuchne ke liye apni jaan de rahe ho itni prakriya mein kabhi kabhi boriyat se bhara aur Neeraj lag sakta hai lekin agar nahi rakhta hai tumhare kaam ka kaam nirasata basi hui hai toh ek pal na karo uska turant kyon kar raha hoon rango bhala jo swasthya se uthe aur swasthya ki khatir kiya jaaye jo vishram se uthe aur vishram ki khatir kiya jaaye aur uske baad bada aaram milta hai neend aati hai tum toh bahut hai par usse koi aaram vishram swasthya nahi milna upajau rahi hai usne jana hai use turant chutanki shram shram shram shram pyar se lata hai lekin duniya adhikanshat vishram karti hai ki tum dashakon tak shatabdiyon tak shram kare jao shram ka ant nahi aana sharm se vishram nahi aana duniya mein 99 log aisa hi sharm kar rahe hain kaisa karte jao karte jao mehnat ka vada hai jo kabhi pura nahi banaya jaega jaega toh bataya jaega mehnat kar lo uske baad aaram se padhna likhna geet gaana aakhiri seva nivriti pucho main aapse main toh sharm kar raha hoon vaah kaisa hai kaksha ki dharm aata hai ek aadmi chal raha hai darwaze ki aur sabhi taur par karoge toh dono chal rahe hain dono chal rahe hain par kaise chal raha hai kuch der tak toh chalega kamre ke bheetar shighra hi kamre se bahar ho jaega aur doosra hamari gandi kal kya hai aur kya hai aarambhik kamre ke bheetar hi karna ki gadya tumko le jaaye kamre ke bahar aur baki puri duniya kya karti hai kamre mein hi chakra ki bani hui hai vartaman ummidvar nikal jayegi mein savadhani

अपनी फोटो भेज दिए जा रहे हो तुम किसी सार्थक लक्ष्य की ओर रास्ते में पैसा मिल रहा है जो दिख

Romanized Version
Likes  348  Dislikes    views  4817
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे मित्र बचपन में मैंने कव्वाली सुनी थी पेंटर बाबू कव्वाल से बहुत अच्छी कव्वाली गई थी बहुत कठिन है डगर पनघट की बहुत कठिन है डगर पनघट की कैसे में भरना पनघट से मटकी बहुत कठिन है डगर पनघट की सच्चाई का जो रास्ता होता है वो बात कांटों से भरा होता है जितनी आप इसमें चलने का प्रयास करेंगे तो उतनी कांटों से भी संघर्ष करना होगा लेकिन एक बात जरूर इसका इसका विरोध हमेशा चाहता है सूर्य है उसको बादल कुछ समय के लिए रख सकते हैं कुछ समय के लिए अंधकार हो सकता है लेकिन हमेशा के लिए सूर्य के प्रकाश को रोक सके बादलों में क्षमता नहीं होती है कोई सच्चाई का रास्ता सच्चा रास्ता हमको लगता कि कांटों से भरा लगता है लेकिन इसको पढ़ना सत्यमेव जयते ना ना तुम सत्य की हमेशा ही जीत होती है झूठ की कमी नहीं हां मैं मानता हूं कि पल दो पल का तो ख्याल घंटे 2 घंटे झूठ की रीत दिखाई देती है बुचावास होता है किंतु एक गलती यह है अंत में जाकर सत्य की जीत होती है सत्य के प्रणाम हम सभी के होते हैं मधुर होते हैं यह बात दूसरी है कि सत्य बोलने में थोड़ा कड़वा लगता है बहुत से लोगों को सत्य पथ नहीं पाता है लेकिन अंत में जब भी कभी उनको हो जाता है जब भी कभी उनका ध्यान आता है तो वे लोग मानते हैं कि सच्चाई का रास्ता बहुत अच्छा है

mere mitra bachpan mein maine qawwali suni thi painter babu kavval se bahut acchi qawwali gayi thi bahut kathin hai Dagar panghat ki bahut kathin hai Dagar panghat ki kaise mein bharna panghat se mataki bahut kathin hai Dagar panghat ki sacchai ka jo rasta hota hai vo baat kanton se bhara hota hai jitni aap ismein chalne ka prayas karenge toh utani kanton se bhi sangharsh karna hoga lekin ek baat zaroor iska iska virodh hamesha chahta hai surya hai usko badal kuch samay ke liye rakh sakte hain kuch samay ke liye andhakar ho sakta hai lekin hamesha ke liye surya ke prakash ko rok sake badalon mein kshamta nahi hoti hai koi sacchai ka rasta saccha rasta hamko lagta ki kanton se bhara lagta hai lekin isko padhna satyamev jayate na na tum satya ki hamesha hi jeet hoti hai jhuth ki kami nahi haan main manata hoon ki pal do pal ka toh khayal ghante 2 ghante jhuth ki reet dikhai deti hai buchavas hota hai kintu ek galti yeh hai ant mein jaakar satya ki jeet hoti hai satya ke pranam hum sabhi ke hote hain madhur hote hain yeh baat dusri hai ki satya bolne mein thoda kadwa lagta hai bahut se logo ko satya path nahi pata hai lekin ant mein jab bhi kabhi unko ho jata hai jab bhi kabhi unka dhyan aata hai toh ve log maante hain ki sacchai ka rasta bahut accha hai

मेरे मित्र बचपन में मैंने कव्वाली सुनी थी पेंटर बाबू कव्वाल से बहुत अच्छी कव्वाली गई थी बह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  368
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक रास्ता है वह निश्चित रूप से कभी करती नहीं है या नहीं होता है क्योंकि आपके लिए शुभ संकेत का खा लेता उसमें क्या होता है कोई समय झूठ बोलकर उसे बन जाता है आपके दोस्तों को धोखे में रखा जाएगा उसके मन में हमेशा जो भी आपके अंदर जो कौन-कौन से बड़ा होगा और आप स्पष्ट सैया सामने वाले व्यक्ति के सामने हम नजर से मिला कर बात कर पाएंगे और आपकी जो नहीं है मॉल अच्छा है थोड़ी सी बातें हमेशा शुरू में आएगी क्योंकि उसको मार गई है और अच्छे सूट ते दाग

ek rasta hai vaah nishchit roop se kabhi karti nahi hai ya nahi hota hai kyonki aapke liye shubha sanket ka kha leta usme kya hota hai koi samay jhuth bolkar use ban jata hai aapke doston ko dhokhe mein rakha jaega uske man mein hamesha jo bhi aapke andar jo kaun kaunsi bada hoga aur aap spasht saiya saamne waale vyakti ke saamne hum nazar se mila kar baat kar payenge aur aapki jo nahi hai mall accha hai thodi si batein hamesha shuru mein aayegi kyonki usko maar gayi hai aur acche suit te daag

एक रास्ता है वह निश्चित रूप से कभी करती नहीं है या नहीं होता है क्योंकि आपके लिए शुभ संकेत

Romanized Version
Likes  231  Dislikes    views  2307
WhatsApp_icon
user

Deepak Deshwal

Stock Market Researcher

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई का रास्ता कठिन इसलिए काफी है सीधा साधा है और लोगों का सीधे-साधे रास्ते पर चलना पसंद नहीं करते वह ज्यादातर हर चीज में चटपटा खोजने की कोशिश करते हैं अंग्रेजी से

sacchai ka rasta kathin isliye kaafi hai seedha saadha hai aur logo ka sidhe saadhe raste par chalna pasand nahi karte vaah jyadatar har cheez me chatpata khojne ki koshish karte hain angrezi se

सच्चाई का रास्ता कठिन इसलिए काफी है सीधा साधा है और लोगों का सीधे-साधे रास्ते पर चलना पसंद

Romanized Version
Likes  78  Dislikes    views  746
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे सच्चाई का रास्ता कठिन खाल नाइका नहीं चल रहा है इसमें कोई कठिनाई नहीं है एक झूठ बोलने के लिए उसके साथ सो झूठ बोलने पड़ते हैं और सच्चाई में एक बार सच्चाई बोलने के बाद सच्चाई सच्चाई रहती है आप जिस से आने वाली आता को अपने वाले कष्टों को कठिन वाले हैं एकदम सरल और सीधे हैं क्योंकि सच्चाई का रास्ता परमात्मा से मिलाता है तो आप सामाजिक बुराइयों से सामाजिक लड़ाई उसे घबराएं नहीं और सच्चाई के रास्ते पर चलते रहे तो आप का रास्ता शुभम और अति सुंदर होगा

dekhe sacchai ka rasta kathin khaal naika nahi chal raha hai isme koi kathinai nahi hai ek jhuth bolne ke liye uske saath so jhuth bolne padate hain aur sacchai me ek baar sacchai bolne ke baad sacchai sacchai rehti hai aap jis se aane wali aata ko apne waale kaston ko kathin waale hain ekdam saral aur sidhe hain kyonki sacchai ka rasta paramatma se milata hai toh aap samajik buraiyon se samajik ladai use ghabraen nahi aur sacchai ke raste par chalte rahe toh aap ka rasta subham aur ati sundar hoga

देखे सच्चाई का रास्ता कठिन खाल नाइका नहीं चल रहा है इसमें कोई कठिनाई नहीं है एक झूठ बोलने

Romanized Version
Likes  208  Dislikes    views  2577
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत सीधी सी बात है क्योंकि आजकल मन से जीवन में झूठ लालच ईर्ष्या के रास्ते इतने अधिक हो गए हैं इतनी उनकी बहुत आयता हो गई है कि सच्चाई का रास्ता कहीं नजर ही नहीं आता अगर कोई इंसान चलने की कोशिश

bahut seedhi si baat hai kyonki aajkal man se jeevan me jhuth lalach irshya ke raste itne adhik ho gaye hain itni unki bahut ayata ho gayi hai ki sacchai ka rasta kahin nazar hi nahi aata agar koi insaan chalne ki koshish

बहुत सीधी सी बात है क्योंकि आजकल मन से जीवन में झूठ लालच ईर्ष्या के रास्ते इतने अधिक हो गए

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  41
WhatsApp_icon
user

UPSC

Aspirant

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपना की सच्चाई का रास्ता कठिन होता है क्योंकि इस समाज में सबसे ज्यादा सफाई तो और लोगों को आपका यह रास्ता पसंद नहीं आता क्योंकि उससे उन्हें झूठ का रास्ता अच्छा लगता है तो यही एक बड़ा कारण है कि आप सभी को अच्छे नहीं सकता इसीलिए कठिन होता है आप हर जगह जाओगे आपको झूठे ही लोग मिलेंगे बहुत ही कम सच्चे लोग हैं इसलिए आप उनसे अलग हो आप उनसे अगर हो इसीलिए सच्चाई का रास्ता कठिन होता है वह आप जैसे नहीं है झूठ का रास्ता आसान इसलिए होता है क्योंकि झूठ के रास्ते पर लगभग छूट के रास्ते पर लोग बहुत सारे मिल सकते हैं मिल जाते हैं कठिन होता है

apna ki sacchai ka rasta kathin hota hai kyonki is samaj me sabse zyada safaai toh aur logo ko aapka yah rasta pasand nahi aata kyonki usse unhe jhuth ka rasta accha lagta hai toh yahi ek bada karan hai ki aap sabhi ko acche nahi sakta isliye kathin hota hai aap har jagah jaoge aapko jhuthe hi log milenge bahut hi kam sacche log hain isliye aap unse alag ho aap unse agar ho isliye sacchai ka rasta kathin hota hai vaah aap jaise nahi hai jhuth ka rasta aasaan isliye hota hai kyonki jhuth ke raste par lagbhag chhut ke raste par log bahut saare mil sakte hain mil jaate hain kathin hota hai

अपना की सच्चाई का रास्ता कठिन होता है क्योंकि इस समाज में सबसे ज्यादा सफाई तो और लोगों को

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  168
WhatsApp_icon
user
4:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई का रास्ता बहुत ही ज्यादा कठिन है बहुत याद में चलने जैसा राजा हरिश्चंद्र हमेशा सच बोलते थे बड़ा कष्ट सहना पड़ा महाभारत के युद्ध को हमेशा सच बोलते थे बड़ा कष्ट सहना पड़े मैं आपको एक बात कहता हूं मैंने प्रयोग करके देखा है आप सिर्फ 1 हफ्ते के लिए सच बोलना सिर्फ 1 हफ्ते के लिए संकल्प लें कि आप सिर्फ 1 हफ्ते के लिए हमेशा सच बोलेंगे देखिए आपके साथ क्या-क्या होता है आप देखना आप से लोग कटने लगेंगे आपसे लोग नफरत करने लगेंगे आपसे लोग दूर होने लगेंगे कोई आपसे बात नहीं करेगा सिर्फ 1 हफ्ते के लिए सिर्फ 1 हफ्ते के लिए आप प्रण करें कि मैं सिर्फ सच बोलूंगा मैं सिर्फ सच्चाई कहूंगा मैं सत्य के रास्ते पर चलूंगा से मैं सिर्फ एक हफ्ते की बात कर रहा हूं आपको देखना खुद महसूस करना कि आपके साथ क्या-क्या होता है मैंने किया है मैंने किया था मैंने राणा लिया खुद से कहा कि मैं 1 हफ्ते के लिए बस सच बोलूंगा सिर्फ सच सच ही बोलूंगा और कुछ बड़ी मुसीबतों का सामना करना पड़ा मुझे मैं स्कूल पढ़ाने प्रिंसिपल ने पूछा आप देर से क्यों आए मैंने तो प्रण ले रखा था कि मैं सिर्फ सत्य बोलूंगा सच्चाई के रास्ते पर चलूंगा तो मैंने कहा मैं मेरा मन ही नहीं था आने का तो नाराज हो गई है ना मेरी एक फ्रेंड थी मुझे पसंद करती थी उसने मुझसे पूछा कि तुम क्यों नहीं करते हो तो मैंने तो पढ़ने रखा था कि मैं सच सच बोलूंगा जो मैंने उससे सच सच कह दिया कि मेरा मन करता है इसलिए मैंने खाना बनाया नहीं लगा मैंने फोन ले रखा था कि मैं सच्चाई के रास्ते चलूंगा मैंने कह दिया कि बहुत खराब बना मैंने कहा जब मैंने सच बोलना शुरू किया लोग मुझसे खफा हो गए इतने लोग मुझसे दूर हो गए मुझे बहुत कष्ट सहने पड़े जब मैं सच्चाई के रास्ते पर निकला जब मैं सत्य के रास्ते पर बहुत मुसीबतें जेली मैंने उस प्रण कुछ भी है जो सच्चाई का रास्ता है यह बहुत कट मैं आपसे कहता हूं मैं कह रहा हूं मैं आप से कहता हूं कि सिर्फ 1 हफ्ते के लिए 1 हफ्ते के लिए सच बोलूं जैसे हैं वैसे कहिए सिर्फ 1 हफ्ते के लिए आप सच्चाई के रास्ते पर चले आपको खुद ही सब कुछ पता चल जाएगा आपको खुद ही सब कुछ अनुभव होने लगेगा यह दुनिया झूठ पर टिकी है झूठ का बोलबाला है ठीक है सच्चाई का रास्ता बड़ा कठिन है बड़ा मुश्किल है दुनिया में बहुत ही कम लोग हुए हैं जो सच्चाई के रास्ते पर चलते हैं और उनके नाम हम हाथ से खेल सकते हैं जैसे कि राजा हरिश्चंद्र जैसे कि महाभारत में युधिष्ठिर जैसे कि भगवान महावीर सच्चाई के रास्ते पर चल रहे थे जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर बड़ा कष्ट सहना पड़ा होने लोगों ने उनके कान में कि लेट हो जैसे कि जीसस जीसस सच्चाई के रास्ते पर चले थे सूली पर चढ़ा दिए गए सुकरात सुकरात हमेशा सच बोलते थे एच आई के रास्ते पर चलते थे उन्हें जहर का प्याला दे दिया गया मंसूर हल्लाज एक सूफी संत था हमेशा सच बोलता था सच्चाई के रास्ते पर चलता था लोगों ने उसे मार डाला है उसके हाथ-पैर काट दिए उसे उसके आंखों को अंदर दिया बड़ी बुरी मौत हुई सच्चाई का रास्ता बहुत कठिन है उस पर चलना किसी के बस की बात है ही नहीं बहुत कम लोग होते हैं जो चल पाते और अगर आप इस रास्ते पर चल कर देखें आप 1 हफ्ते के लिए चल कर देखिए ना मैं तो कह रहा हूं आप पढ़ लीजिए कल सुबह से मैं सिर्फ सच बोलूंगा सच्चाई के रास्ते पर चलूंगा जो जैसा है वैसा कहूंगा झूठ नहीं बोलूंगा सिर्फ 1 हफ्ते के लिए करके देखिए आपको खुद मालूम हो जाएगा आपको खुद पता चल जाएगा आप खुद समझ जाएंगे हर चीज को करके देखिए 1 हफ्ते के लिए मना किया था मुझे बहुत अनुभव मिले बड़ा कठिन है बड़ा दुष्कर है यह रास्ता धन्यवाद

sacchai ka rasta bahut hi zyada kathin hai bahut yaad me chalne jaisa raja harishchandra hamesha sach bolte the bada kasht sahna pada mahabharat ke yudh ko hamesha sach bolte the bada kasht sahna pade main aapko ek baat kahata hoon maine prayog karke dekha hai aap sirf 1 hafte ke liye sach bolna sirf 1 hafte ke liye sankalp le ki aap sirf 1 hafte ke liye hamesha sach bolenge dekhiye aapke saath kya kya hota hai aap dekhna aap se log katane lagenge aapse log nafrat karne lagenge aapse log dur hone lagenge koi aapse baat nahi karega sirf 1 hafte ke liye sirf 1 hafte ke liye aap pran kare ki main sirf sach boloonga main sirf sacchai kahunga main satya ke raste par chalunga se main sirf ek hafte ki baat kar raha hoon aapko dekhna khud mehsus karna ki aapke saath kya kya hota hai maine kiya hai maine kiya tha maine rana liya khud se kaha ki main 1 hafte ke liye bus sach boloonga sirf sach sach hi boloonga aur kuch badi musibaton ka samana karna pada mujhe main school padhane principal ne poocha aap der se kyon aaye maine toh pran le rakha tha ki main sirf satya boloonga sacchai ke raste par chalunga toh maine kaha main mera man hi nahi tha aane ka toh naaraj ho gayi hai na meri ek friend thi mujhe pasand karti thi usne mujhse poocha ki tum kyon nahi karte ho toh maine toh padhne rakha tha ki main sach sach boloonga jo maine usse sach sach keh diya ki mera man karta hai isliye maine khana banaya nahi laga maine phone le rakha tha ki main sacchai ke raste chalunga maine keh diya ki bahut kharab bana maine kaha jab maine sach bolna shuru kiya log mujhse khafa ho gaye itne log mujhse dur ho gaye mujhe bahut kasht sahane pade jab main sacchai ke raste par nikala jab main satya ke raste par bahut musibatein jelly maine us pran kuch bhi hai jo sacchai ka rasta hai yah bahut cut main aapse kahata hoon main keh raha hoon main aap se kahata hoon ki sirf 1 hafte ke liye 1 hafte ke liye sach bolu jaise hain waise kahiye sirf 1 hafte ke liye aap sacchai ke raste par chale aapko khud hi sab kuch pata chal jaega aapko khud hi sab kuch anubhav hone lagega yah duniya jhuth par tiki hai jhuth ka bolbala hai theek hai sacchai ka rasta bada kathin hai bada mushkil hai duniya me bahut hi kam log hue hain jo sacchai ke raste par chalte hain aur unke naam hum hath se khel sakte hain jaise ki raja harishchandra jaise ki mahabharat me yudhishthir jaise ki bhagwan mahavir sacchai ke raste par chal rahe the jain dharm ke ve tirthankar bada kasht sahna pada hone logo ne unke kaan me ki late ho jaise ki jesus jesus sacchai ke raste par chale the suli par chadha diye gaye sukarat sukarat hamesha sach bolte the h I ke raste par chalte the unhe zehar ka pyaala de diya gaya mansur hallaj ek sufi sant tha hamesha sach bolta tha sacchai ke raste par chalta tha logo ne use maar dala hai uske hath pair kaat diye use uske aakhon ko andar diya badi buri maut hui sacchai ka rasta bahut kathin hai us par chalna kisi ke bus ki baat hai hi nahi bahut kam log hote hain jo chal paate aur agar aap is raste par chal kar dekhen aap 1 hafte ke liye chal kar dekhiye na main toh keh raha hoon aap padh lijiye kal subah se main sirf sach boloonga sacchai ke raste par chalunga jo jaisa hai waisa kahunga jhuth nahi boloonga sirf 1 hafte ke liye karke dekhiye aapko khud maloom ho jaega aapko khud pata chal jaega aap khud samajh jaenge har cheez ko karke dekhiye 1 hafte ke liye mana kiya tha mujhe bahut anubhav mile bada kathin hai bada dushkar hai yah rasta dhanyavad

सच्चाई का रास्ता बहुत ही ज्यादा कठिन है बहुत याद में चलने जैसा राजा हरिश्चंद्र हमेशा सच बो

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

mahadeva (mukesh k)

MAHADEVA YOG.https://youtu.be/vN6ns7rL0_8

2:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों है नहीं सच्चाई का रास्ता बिल्कुल भी कठिन नहीं है क्योंकि जिस दिन हम सच्चाई को समझ जाएंगे उस दिन इससे बड़ा सरल रास्ता कोई नहीं है सच्चाई का रास्ता इसीलिए हमें कठिन लगता है क्योंकि सच को पकड़ने से हमें डर लगता है जीवन में अनेक प्रकार के भाई जिस दिन हमारे अंदर अभय ता आ जाएगी उस दिन हम सच्चाई को पकड़ लेंगे और अभय ता को प्राप्त करने के लिए जिस दिन हम उस परम तत्व के स्वरूप को पहचान जाएंगे उस दिन हमारे अंदर अभय ता आ जाएगी क्योंकि हम सब में वह है तो यदि हम अभय ताको ग्रहण करते हैं तो सच्चाई से सरल रास्ता कोई ही नहीं है जो सच्चाई को नहीं समझते हैं वही सच के रास्ते को कठिन समझते हैं तो सच्चाई का रास्ता सबसे सरल को कठिन कौन कह सकता है झूठ का रास्ता कठिन कह सकते हैं क्योंकि उसमें स्कूल है जीते हैं अपने अंदर से हमें डर निकालना है और सच्चाई तो हमारे अंदर पहले से ही है पहले से ही हमारे हृदय में है क्योंकि उस परम का जो स्वरूप है उसकी है सच नहीं होता तो यह पूरा संसार जहां में दिख रहा है यह नहीं होता

sacchai ka rasta itna kathin kyon hai nahi sacchai ka rasta bilkul bhi kathin nahi hai kyonki jis din hum sacchai ko samajh jaenge us din isse bada saral rasta koi nahi hai sacchai ka rasta isliye hamein kathin lagta hai kyonki sach ko pakadane se hamein dar lagta hai jeevan me anek prakar ke bhai jis din hamare andar abhay ta aa jayegi us din hum sacchai ko pakad lenge aur abhay ta ko prapt karne ke liye jis din hum us param tatva ke swaroop ko pehchaan jaenge us din hamare andar abhay ta aa jayegi kyonki hum sab me vaah hai toh yadi hum abhay taako grahan karte hain toh sacchai se saral rasta koi hi nahi hai jo sacchai ko nahi samajhte hain wahi sach ke raste ko kathin samajhte hain toh sacchai ka rasta sabse saral ko kathin kaun keh sakta hai jhuth ka rasta kathin keh sakte hain kyonki usme school hai jeete hain apne andar se hamein dar nikalna hai aur sacchai toh hamare andar pehle se hi hai pehle se hi hamare hriday me hai kyonki us param ka jo swaroop hai uski hai sach nahi hota toh yah pura sansar jaha me dikh raha hai yah nahi hota

सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों है नहीं सच्चाई का रास्ता बिल्कुल भी कठिन नहीं है क्योंकि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

Rajinder Kumar

Business Owner

0:48
Play

Likes  8  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

MOHIT KUMAR

COMPANY WORKER

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भाई सच्चाई का रास्ता कठिन जरूर है लेकिन जो व्यक्ति सच्चाई के रास्ते पर चलता है उसे सफलता अवश्य मिलती है और हमें सदैव सच्चाई और अच्छाई के मार्ग पर ही चलना चाहिए धन्यवाद

dekhie bhai sacchai ka rasta kathin zaroor hai lekin jo vyakti sacchai ke raste par chalta hai use safalta avashya milti hai aur humein sadaiv sacchai aur acchai ke marg par hi chalna chahiye dhanyavad

देखिए भाई सच्चाई का रास्ता कठिन जरूर है लेकिन जो व्यक्ति सच्चाई के रास्ते पर चलता है उसे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  40
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका साल है कि सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों होता है कि आपका सवाल सही है कि सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों सच्चाई का रास्ता इतना कठिन इसलिए होता है कि कोई नहीं चाहता है कि सच्चाई की राह पर चले और आप जितना सच्चाई की राह पर चलेंगे उतना ही आपका पति को कि अगर वह बुराई की राह पर चल रहा है तो उसे जल्दी सफलता मिल जाएगी और आपका चेहरा बचाने है तो थोड़ी देर लगी लेकिन जीत आपकी ही होगी इसीलिए सच्चाई को अपना माना जाता है और सच्चाई को कभी नहीं छोड़ना

namaskar aapka saal hai ki sacchai ka rasta itna kathin kyon hota hai ki aapka sawaal sahi hai ki sacchai ka rasta itna kathin kyon sacchai ka rasta itna kathin isliye hota hai ki koi nahi chahta hai ki sacchai ki raah par chale aur aap jitna sacchai ki raah par chalenge utana hi aapka pati ko ki agar vaah burayi ki raah par chal raha hai toh use jaldi safalta mil jayegi aur aapka chehra bachane hai toh thodi der lagi lekin jeet aapki hi hogi isliye sacchai ko apna mana jata hai aur sacchai ko kabhi nahi chhodna

नमस्कार आपका साल है कि सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों होता है कि आपका सवाल सही है कि सच्

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user
2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सवाल बहुत ही इंटरेस्टिंग में सच्चाई का रास्ता कितना कठिन क्यों सच यह है कि सच्चाई का रास्ता कठिन नहीं होता है बल्कि बहुत सरल होता है यदि रास्ता किसी का कठिन है तो वह है झूठ का रास्ता सच्चाई का रास्ता कठिनाई का रास्ता नहीं है क्योंकि आज हमारे समाज या परिवेश में या जान नौकरी करते या आप जहां रहते हैं तो वहां सत्य बोलने वालों की संख्या कम है या यदि आप सच बोलते हैं तो सामने वाले उसको एक्सेप्ट करने से इंकार करती हैं इसकी वजह यह है कि लोग चाहते हैं कि वही बात को जो हमारे मन के मुताबिक तो उस समय मनुष्य को अगले सुनने वाले को यह लगता है यह जो बंदा बोल रहा है वह सच है लेकिन उससे बात को एक्सेप्ट नहीं करता है जिसकी वजह से लगता है कि सच्चाई का रास्ता कठिन है सबसे सरल और हां हो रहा है नाई का रखा है मैंने की गलती की है अगर एक विद्यार्थी एक बच्चा अपने पिता के लिए बोलता है कि हां मैंने नहीं किया है लेकिन अगर वही बच्चा अगर उस बात को झूठ बोलेगा कि वह स्कूल नहीं किया तो कुछ उपाय वह बोलेगा मैं स्कूल जा रहा था अचानक रास्ते में मेरा दोस्त गिर गया था फिर उसको पिक्चर लगे तुम हमको देखना है और यह करने में हमारा समय निकल गया जिसका एक लाइन एक वाक्य घंटे में सच्चाई का रास्ता कठिन नहीं सरल है अगर कठिनाई का रास्ता रूट का रेप का सच्चाई का रास्ता कठिन होता रहता है अलग बात है यदि कोई मानने से इनकार करता है उसकी सच्चाई आने में समय जरूर लगता है लेकिन सच बाहर आता है थैंक यू

yah sawaal bahut hi interesting me sacchai ka rasta kitna kathin kyon sach yah hai ki sacchai ka rasta kathin nahi hota hai balki bahut saral hota hai yadi rasta kisi ka kathin hai toh vaah hai jhuth ka rasta sacchai ka rasta kathinai ka rasta nahi hai kyonki aaj hamare samaj ya parivesh me ya jaan naukri karte ya aap jaha rehte hain toh wahan satya bolne walon ki sankhya kam hai ya yadi aap sach bolte hain toh saamne waale usko except karne se inkar karti hain iski wajah yah hai ki log chahte hain ki wahi baat ko jo hamare man ke mutabik toh us samay manushya ko agle sunne waale ko yah lagta hai yah jo banda bol raha hai vaah sach hai lekin usse baat ko except nahi karta hai jiski wajah se lagta hai ki sacchai ka rasta kathin hai sabse saral aur haan ho raha hai naay ka rakha hai maine ki galti ki hai agar ek vidyarthi ek baccha apne pita ke liye bolta hai ki haan maine nahi kiya hai lekin agar wahi baccha agar us baat ko jhuth bolega ki vaah school nahi kiya toh kuch upay vaah bolega main school ja raha tha achanak raste me mera dost gir gaya tha phir usko picture lage tum hamko dekhna hai aur yah karne me hamara samay nikal gaya jiska ek line ek vakya ghante me sacchai ka rasta kathin nahi saral hai agar kathinai ka rasta root ka rape ka sacchai ka rasta kathin hota rehta hai alag baat hai yadi koi manne se inkar karta hai uski sacchai aane me samay zaroor lagta hai lekin sach bahar aata hai thank you

यह सवाल बहुत ही इंटरेस्टिंग में सच्चाई का रास्ता कितना कठिन क्यों सच यह है कि सच्चाई का रा

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
user

Naeem Sayyed

टाईल्स कॉन्ट्रैक्टर

0:10
Play

Likes  3  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user

BOB

Teacher

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पक्का सवाल किस सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों होता है तो नहीं मेरे दोस्त सच्चाई का रास्ता तो हमेशा बहुत सरल होता है कठिन जो है वह झूठ का रास्ता होता है क्योंकि अगर झूठ का रास्ता रास्ता अपनाते हैं तो उसने आपको बहुत सारे और झूठ बोलना पड़ेंगे आपको बहुत सारी चालें चलना पड़ेगी अपने झूठ को सच बनाने के लिए लेकिन सच तो फिर सच है वह आसान है और हमेशा सच्चाई का रास्ता जो है वह आसान होता ना कि कठिन अगर आप इस तरह से सोचते हैं कि अगर आप सच बोलेंगे तो जो है आप परेशानी में पड़ जाएंगे पैसा नहीं है वक्ती तौर पर आपको शायद ही महसूस हो कि आपने जो सच बोला है उससे आपको फायदा नहीं पहुंचा नुकसान लेकिन यह कह कर आप दमबेल अगस्त को अगर और देखेंगे और आपको ही लगी है कि नहीं यह सच जो मैंने कहा था वह उस टाइम तो हमें जरूर जरा सी तकलीफ पहुंचाई थी लेकिन बात से बहुत ज्यादा स्कूल और नाम पहुंचाया है उसने क्योंकि सच है वह सच रहता है झूठ बहुत दिन झूठ नहीं रह पाता है सामने आता है तो सच का मांस आसान है कठिन नहीं है अगर आप उसे आसान समझेंगे तो आपके लिए बहुत आसान हो जाएगा रात को सबसे कठिन समझेंगे तो वह कठिन लगेगा

pakka sawaal kis sacchai ka rasta itna kathin kyon hota hai toh nahi mere dost sacchai ka rasta toh hamesha bahut saral hota hai kathin jo hai vaah jhuth ka rasta hota hai kyonki agar jhuth ka rasta rasta apanate hain toh usne aapko bahut saare aur jhuth bolna padenge aapko bahut saari chalen chalna padegi apne jhuth ko sach banane ke liye lekin sach toh phir sach hai vaah aasaan hai aur hamesha sacchai ka rasta jo hai vaah aasaan hota na ki kathin agar aap is tarah se sochte hain ki agar aap sach bolenge toh jo hai aap pareshani me pad jaenge paisa nahi hai vakti taur par aapko shayad hi mehsus ho ki aapne jo sach bola hai usse aapko fayda nahi pohcha nuksan lekin yah keh kar aap dambel august ko agar aur dekhenge aur aapko hi lagi hai ki nahi yah sach jo maine kaha tha vaah us time toh hamein zaroor zara si takleef pahunchai thi lekin baat se bahut zyada school aur naam pahunchaya hai usne kyonki sach hai vaah sach rehta hai jhuth bahut din jhuth nahi reh pata hai saamne aata hai toh sach ka maas aasaan hai kathin nahi hai agar aap use aasaan samjhenge toh aapke liye bahut aasaan ho jaega raat ko sabse kathin samjhenge toh vaah kathin lagega

पक्का सवाल किस सच्चाई का रास्ता इतना कठिन क्यों होता है तो नहीं मेरे दोस्त सच्चाई का रास्त

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच का रास्ता विकी बहुत ही मुश्किलों से भरा हुआ होता है और सच के रास्ते में कठिनाइयां बहुत आती है बहुत ही कम लोग ऐसे होते हैं कि जो मुश्किलों का सामना करते हुए अंत में अपनी मंजिल तक पहुंच पाते हैं और दूसरी सबसे बड़ी बात यह कि सच का सामना करने वाले भी लोग हमें आजकल के जमाने में बहुत ही कम दिखते हैं इसीलिए लोग सोचते हैं कि सच का रास्ता छोड़कर अपनी मंजिल पहुंचने के लिए कोई भी शॉर्टकट अपनाएं

sach ka rasta vicky bahut hi mushkilon se bhara hua hota hai aur sach ke raste me kathinaiyaan bahut aati hai bahut hi kam log aise hote hain ki jo mushkilon ka samana karte hue ant me apni manjil tak pohch paate hain aur dusri sabse badi baat yah ki sach ka samana karne waale bhi log hamein aajkal ke jamane me bahut hi kam dikhte hain isliye log sochte hain ki sach ka rasta chhodkar apni manjil pahuchne ke liye koi bhi shortcut apanaen

सच का रास्ता विकी बहुत ही मुश्किलों से भरा हुआ होता है और सच के रास्ते में कठिनाइयां बहुत

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तू चीज अच्छी और साफ होती है ना उस चीज का रास्ता हमेशा कठिन ही होता है और एक और कारण है आप सभी ने सुना होगा कि सच हमेशा कड़वा होता है तो कठिन नहीं कड़वा भी हो जाता है

tu cheez achi aur saaf hoti hai na us cheez ka rasta hamesha kathin hi hota hai aur ek aur karan hai aap sabhi ne suna hoga ki sach hamesha kadwa hota hai toh kathin nahi kadwa bhi ho jata hai

तू चीज अच्छी और साफ होती है ना उस चीज का रास्ता हमेशा कठिन ही होता है और एक और कारण है आप

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई हमेशा करती मोहब्बत सच्ची

sacchai hamesha karti mohabbat sachi

सच्चाई हमेशा करती मोहब्बत सच्ची

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  56
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई का रास्ता इसलिए कठिन होता है क्योंकि आजकल जो दुनिया है सच के पीछे नहीं ज्यादातर झूठ के पीछे और फ्रेडी के पीछे भाग गई है इसलिए सच्चाई को पीछे छोड़ चुकी है जैसे वह कठिनाई में पहुंच जाती है अगर सच्चाई कठिन नहीं होता तो लोग झूठे का सहारा नहीं देते इसलिए हमारी राय है कि लोग सच्चाई के रास्ते पर चले ताकि हमारा यह संसार सुखी और संपन्न रहें

sacchai ka rasta isliye kathin hota hai kyonki aajkal jo duniya hai sach ke peeche nahi jyadatar jhuth ke peeche aur fredi ke peeche bhag gayi hai isliye sacchai ko peeche chod chuki hai jaise vaah kathinai mein pohch jaati hai agar sacchai kathin nahi hota toh log jhuthe ka sahara nahi dete isliye hamari rai hai ki log sacchai ke raste par chale taki hamara yah sansar sukhi aur sampann rahein

सच्चाई का रास्ता इसलिए कठिन होता है क्योंकि आजकल जो दुनिया है सच के पीछे नहीं ज्यादातर झूठ

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

Raj

Student

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई का रास्ता कठिन होता है उस पर चलने का मजा कुछ और होता है एक कविता जयंती थी जॉन क्लास 7 7 माया वर्तमान पड़े थे कि सत्य थोड़ा गिरी थोड़ा देर के लिए दबाया जा सकता है बट पूरे जीवन के लिए नहीं और सत्य के रास्ते पर चलने वाले कठिनाइयों तो बहुत आती है बट वही कठिनाइयां जो कठिनाई को सहन कर रहा है वहीं कठिनाइयां बनते बनते एक मिसाल बनता है और इस मिसाल को सच्चाई का रास्ता बताया जाता है क्योंकि मेरे अनुसार मेरे जिंदगी मेरे अनुभव के अनुसार कठिनाई का ही अगर बोले तो सच्चाई कर अगर कठिनाई से गुजरते हैं तो सच्चाई का रास्ता जरूर मिलता है मंजिल उसी को मिलता है जो सच्चाई और कठिनाई का रास्ता चुनता है

sacchai ka rasta kathin hota hai us par chalne ka maza kuch aur hota hai ek kavita jayanti thi john class 7 7 maya vartaman pade the ki satya thoda giri thoda der ke liye dabaya ja sakta hai but poore jeevan ke liye nahi aur satya ke raste par chalne waale kathinaiyon toh bahut aati hai but wahi kathinaiyaan jo kathinai ko sahan kar raha hai wahi kathinaiyaan bante bante ek misal banta hai aur is misal ko sacchai ka rasta bataya jata hai kyonki mere anusaar mere zindagi mere anubhav ke anusaar kathinai ka hi agar bole toh sacchai kar agar kathinai se gujarate hain toh sacchai ka rasta zaroor milta hai manjil usi ko milta hai jo sacchai aur kathinai ka rasta chunta hai

सच्चाई का रास्ता कठिन होता है उस पर चलने का मजा कुछ और होता है एक कविता जयंती थी जॉन क्लास

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
sachai ka rasta ; सच्चाई का रास्ता ; rasta kitna bhi kathin ho ; डिशऑनेस्ट ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!