अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी बुरा क्यों बताते हैं? क्या अरेंज मैरिज इतना बुरा है?...


play
user
0:16

Likes  242  Dislikes    views  1842
WhatsApp_icon
20 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अगर अरेंज मैरिज करना बुरी बात है तो मैं अपने युवा पीढ़ी से एक सवाल पूछना चाहता हूं कि आपके बड़ों ने जो किया है जो शादियां करते थे आपके बड़े या नहीं हम लोग मेरी उम्र प्यार है मुझसे भी पहले लोग जो शादियां करते थे अरेंज मैरिज क्या वह बुरी बात थी क्या वह बुरा मल था उनका नहीं वह मर्यादा अच्छा था अरेंज मैरिज का अरेंज मैरिज में मामला के बिगड़ने का बहुत कम खतरा होता है लव मैरिज में मामले ज्यादा बिगड़ते हैं तो सामाजिक लोगों को इकट्ठा करके अरेंज मैरिज करना ज्यादा बेहतर है मनीष मत लव मैरिज के थैंक यू

dekhiye agar arrange marriage karna buri baat hai toh main apne yuva peedhi se ek sawaal poochna chahta hoon ki aapke badon ne jo kiya hai jo shadiyan karte the aapke bade ya nahi hum log meri umar pyar hai mujhse bhi pehle log jo shadiyan karte the arrange marriage kya vaah buri baat thi kya vaah bura mal tha unka nahi vaah maryada accha tha arrange marriage ka arrange marriage me maamla ke bigadne ka bahut kam khatra hota hai love marriage me mamle zyada bigadte hain toh samajik logo ko ikattha karke arrange marriage karna zyada behtar hai manish mat love marriage ke thank you

देखिए अगर अरेंज मैरिज करना बुरी बात है तो मैं अपने युवा पीढ़ी से एक सवाल पूछना चाहता हूं क

Romanized Version
Likes  210  Dislikes    views  2362
WhatsApp_icon
user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी बुरा क्यों बताते हैं या अरेंज मैरिज इतना बुरा है देखिए इस संबंध में अरेंज मैरिज हुआ है वह युवा पीढ़ी अपने मन की नहीं कर पाया करती है इसलिए अरेंज मैरिज को बुरा बताया जाता है

arrange marriage ko yuva peedhi bura kyon batatey hain ya arrange marriage itna bura hai dekhiye is sambandh me arrange marriage hua hai vaah yuva peedhi apne man ki nahi kar paya karti hai isliye arrange marriage ko bura bataya jata hai

अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी बुरा क्यों बताते हैं या अरेंज मैरिज इतना बुरा है देखिए इस संबंध

Romanized Version
Likes  205  Dislikes    views  1609
WhatsApp_icon
user

Isu Vasava

PASTOR in CHURCH.

1:10
Play

Likes  213  Dislikes    views  1799
WhatsApp_icon
user

DR. I.P.SINGH

Doctorate in Literature

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी बुरा क्यों बताते क्या रे मैंने जितना बुरा नहीं किया ऐसा है कि अभी भी यह देश जो है ना बुरा है दूरस्थ क्षेत्रों में या पिछड़े हुए समाज में या कुछ संस्कार जहां बहुत ज्यादा है वहां लोग बच्चों को बिना सूचना दी उनकी शादी आदित्यन कर देते चलो कितना भी पढ़ा लिखा हो उसकी इच्छाओं का ध्यान नहीं किया जाता है जो आपने कहीं केवल दहेज के नाम पर पैसा लिया जाता है लड़के लड़की की घोड़ों को नहीं देखा जाता है ऐसे में अगर युवा पीढ़ी अरेंज मैरिज का विरोध करती है तो बिल्कुल सही लेकिन बिल्कुल जो लव मैरिज है वह भी सही हो यह भी नहीं कहा जा सकता उत्साह के अतिरेक में केवल वास कामवासना ऐश्वर्या अपना थोड़ा सा पैसा थोड़ा सा चमड़ी थोड़ा सा शारीरिक विन्यास और थोड़ा सोनू मुक्तता की जो लगाव का कारण बनता है नशा 15 दिन महीने भर में उतर जाता है ना कि जिंदगी बहुत बुरा तो नहीं है लेकिन मां-बाप को हटाने के बजाय केवल अपनी प्रतिष्ठा को बचाए रखते हुए लड़के लड़की की भावनाओं की कद्र करनी चाहिए उनकी सोच को समझना चाहिए कि उनका अपना क्या है और उन्हें विश्वास में लेकर ही शादी करना चाहिए अन्यथा अरेंज मैरिज नहीं है

arrange marriage ko yuva peedhi bura kyon batatey kya ray maine jitna bura nahi kiya aisa hai ki abhi bhi yah desh jo hai na bura hai durasth kshetro me ya pichade hue samaj me ya kuch sanskar jaha bahut zyada hai wahan log baccho ko bina soochna di unki shaadi adityan kar dete chalo kitna bhi padha likha ho uski ikchao ka dhyan nahi kiya jata hai jo aapne kahin keval dahej ke naam par paisa liya jata hai ladke ladki ki ghodon ko nahi dekha jata hai aise me agar yuva peedhi arrange marriage ka virodh karti hai toh bilkul sahi lekin bilkul jo love marriage hai vaah bhi sahi ho yah bhi nahi kaha ja sakta utsaah ke atirek me keval was kaamvasna aishwarya apna thoda sa paisa thoda sa chamadi thoda sa sharirik vinyas aur thoda sonu muktata ki jo lagav ka karan banta hai nasha 15 din mahine bhar me utar jata hai na ki zindagi bahut bura toh nahi hai lekin maa baap ko hatane ke bajay keval apni prathishtha ko bachaye rakhte hue ladke ladki ki bhavnao ki kadra karni chahiye unki soch ko samajhna chahiye ki unka apna kya hai aur unhe vishwas me lekar hi shaadi karna chahiye anyatha arrange marriage nahi hai

अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी बुरा क्यों बताते क्या रे मैंने जितना बुरा नहीं किया ऐसा है कि अभ

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  1360
WhatsApp_icon
user

Amar Gurubaxani

वकालत

8:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी बुरा क्यों बताते हैं क्या अरेंज मैरिज इतना बुरा है अभी की इस सवाल का जवाब यह हो सकता है अरेंज मैरिज को जो युवा पीढ़ी बुरा बोलती है तो कहीं ना कहीं दोनों में से किसी का कहीं अफेयर चल रहा हो और वह खुलकर अपने माता-पिता या गार्जियन या किसी से भी ना कब आते हो तो उनके लिए अरेंज मैरिज कहां से अच्छी होगी वह तो बुरा बोलेंगे ना अब इसमें प्रश्न ये उठता है करके कि क्या वास्तव में उन लोगों का अफेयर था या नहीं था याहू शादी करना चाहती हैं या नहीं करना चाहती हैं देखिए बहुत एक नाजुक रिश्ता होता है शादी कोई भी गार्जियन के सामने बच्चा जो है खुल के नहीं बोल सकता कि मैं शादी करना चाहता हूं या मेरी भी शादी करवा दो समय तेजी से बदल रहा है और आज के युवा जो है घरों से निकलकर जॉब की ओर आकर्षित उन्हें और वह काफी कुछ समझने लगे हैं कि जब तक अपने पैरों पर नहीं खड़े हो जाएं कुछ रनिंग ना करने तब तक शादी करना व्यर्थ हो चाहे वह लड़का हो या लड़की हो समझने लगे जीवन की कठिनाइयों को वह अपने घर परिवार में अभाव को देखते हुए यह जान गए हैं कि जब तक गुजरने नहीं होगी तब तक विवाह करना उचित नहीं होगा करके सब जान गए हैं और वह समझते भी हैं बहुत समझदार हैं आज के युवा जहां तक वे लोग अगर बुरा बोलते अरेंज मैरिज को तो माता-पिता बस देखे करके की लड़की की उम्र जो है 20 साल के आसपास है उसके लिए लड़का ढूंढना चालू कर देते हैं और लड़के की शादी करा लेते हैं लड़की की शादी करा लेते हैं और वह लड़का कुछ नहीं कमाता है यदि और लड़की वापस आ जाती है तो फिर वह उसकी देखा देखी कि उस लड़की क्यों वापस आई करके तो उसके माता-पिता ने जो शादी करा दी थी और वह सिर्फ लोक लाज वैसे यह समाज के डर से शादी की गई थी वह किन्हीं भी कारणों से यदि असफल हो जाती है तो फिर अरेंज मैरिज को बुरा कहने लगते हैं जबकि ऐसा कुछ भी नहीं सब्र करना होगा देखना होगा परखना होगा वक्त लगता है एक दूसरे को समझने में अरेंज मैरिज लव मैरिज में डूबता है दोनों यदि एजुकेटेड हैं पढ़े लिखे हैं और कहीं परदेस में पढ़ रहे हैं और वह जाकर एक दूसरे के दुख सुख में साथ देते हैं और एक दूसरे को समझने लगते हैं तो वह अपने लव मैरिज को अरेंज मैरिज में भी कन्वर्ट कर सकते हैं अरेंज मैरिज में भी उसको किया जा सकता है बेशक कि वह कोई भी तत्वों को अपने माता-पिता के नाच अरेंज मैरिज बहुत अच्छी होती है अरेंज मैरिज में स्टेटस देखा जाता है सामने वाले की हैसियत देखी जाती है बराबर का रिश्ता है या नहीं यह देखा जाता है खानदान देखा जाता है और बहुत सारी चीजें हैं जो लड़की के माता-पिता देखने जाते हैं और यदि वे पाते हैं कि मैं यह लड़का अपने बच्चे के लिए ठीक है तभी भी उनको अपना प्रस्ताव देते हैं और यह कहीं जरूरी नहीं है कि लड़के वाले भी आए और आपको हां जी बोले उनकी भी कुछ डिमांड होती है देखते हैं डिमांड से आंखें दहेज नहीं है बहुत सारी चीजें देखते हैं कि लड़की को वास्तव में खाना बनाना आता है कि नहीं लड़की सिलाई कढ़ाई करना जानती कि नहीं लड़की जो है घर का काम करने में सक्षम है कि नहीं लड़की जरूरी नहीं कि जब वाली हूं कई लोगों की यह महत्वाकांक्षी रहती है करके की लड़की घर पर आए और घर का काम करें और सांसद जेठ जेठानी और सब का मान सम्मान करें वैसी लड़की को भी वह कई लोग पसंद करते हैं और ऐसा कहीं पर भी नहीं है कि सर्वगुण संपन्न हो कहीं ना कहीं कुछ न कुछ खामियां रह जाती है और अरेंज मैरिज में उस खामियों को दूर किया जा सकता है और समय देकर जो भी कमी बेशी रहती है उसे दूर किया जा सकता यह बुरी नहीं है युवा पीढ़ी स्कोर यदि बुरा बताती है तो उसके कारण हो सकते हैं कि बुरा है करके पसंद नापसंद देखकर और आप अगर अपनी ओर से दबाव डालकर यदि करते हैं तो निश्चित तौर पर वह बुरी है लड़कियां जो है माता-पिता की इज्जत करती है मान सम्मान करती हैं और वह जानती हैं क्या क्योंकि माता-पिता ने 20 साल तक उनको पाल पोस कर पिंपल्स के में बड़ा पढ़ाया लिखाया बड़ा किया एक निर्णय शादी कब है उनके ऊपर छोड़ देती हैं और वह चाहते हुए भी खुलकर बात नहीं कर पाती इस कारण यदि वह अरेंज मैरिज में असफल हो जाते हैं तो फिर वह दोष देने लगती है तो इस विषय की गंभीरता यह है करके की युवा पीढ़ी आकर इसको बुरा बोलती है तो क्यों इस पर विचार करना होगा तो विचार करने के लिए सिर्फ अपने पास क्या बचाता है घर की की सबसे पहले तो यह देखा जाए कि वास्तव में जहां शादी हो रही है तू दोनों परिवार या लड़का या लड़की काबिल है या नहीं है शादी के योग्य है या नहीं है और क्यों को खुलकर सामने आना होगा या अपनी पसंद और नापसंद बतानी होगी दिखे लड़कों को तो क्या है उन्हें आप कोई भी लड़की दिखा दीजिए वह हम ही बोलेंगे क्योंकि कभी उन्होंने लड़की देखी नहीं तो ऐसी परिस्थितियों में जो है लड़कियों को भी महत्व देना चाहिए उनकी पसंद और नापसंद देना चाहिए और जहां पर भी अरेंज मैरिज हो तो लड़कियों लड़कियों को कम से कम कम से कम दो-तीन घंटे आपस में बात करने का समय देना चाहिए ताकि वे एक दूसरे को समझे और सोचे जल्दबाजी में कहीं पर भी रिश्ता करना आगे के लिए घातक हो सकता है और वह जो है दोनों को सोचने समझने के अवसर के बाद दोनों की राय जानने के बाद उसमें हां या नहीं बोलना चाहिए तब वह रिश्ता सफल हो सकता है और उन्हें एक और सर भी मिल सकता है कि वह अपनी बात खुलकर एक दूसरे से कह सकें कर सके शादी का बंधन जो है वह जिंदगी भर का होता है कि 1 दिन के लिए नहीं होता एक समय के लिए नहीं होता और जहां तक के लोगों की कई गाना रहती है कई मंशा रहती है कि लिव इन रिलेशनशिप अच्छा है लिव-इन रिलेशनशिप में टाइटल नहीं मिलते हो कि नहीं मिलते बहुत सारी चीजें जो है लिव-इन रिलेशन में महिला मित्र के साथ धोखा होता है तो लिव इन रिलेशन का मैं समर्थन नहीं करता और जो लिव इन रिलेशनशिप में रहना चाहते हैं मैं उनका विरोध भी नहीं करता लेकिन उन्हें आपके लिए देखना चाहिए कि कानून में उन्हें क्या अधिकार दिए गए क्या टाइटल है को आधा अधूरा जानकर रहना सर्वाधिक अनुचित है और उसके बारे में पूरा जानकर पढ़कर लीगल राइट देखकर उसमें हां या ना की जा सकती है ऐसे ही केवल रहना उचित नहीं होगा देखिए बुरी नहीं है जो युवा पीढ़ी के दिलो-दिमाग में भर गई है अरेंज मैरिज गोरी है वह पूरी देंगे उसे समझना होगा कि आपकी नीचे यहां आपके ऊपर आपके और भाई बहनों के ऊपर आपके द्वारा उठाए गए कदम यहां के द्वारा लव मैरिज की तरफ बढ़ने के कदम क्या नुकसान कर देते हैं कई ऐसे प्रखंड और ऐसे के जज देखने मिलते हैं जहां जाति बंधन है आप अपनी शादी के बिना यह भी नहीं करती है कानून के अलावा है उसके अलावा एक सामाजिक कानून भी चलता है तो आपको समाज से बहिष्कृत किया जाता है वह अपने बुजुर्गों को बहुत सारा जो है सामाजिक स्टेटस गिरता हुआ देखना नहीं पसंद होता है और वह घर से बेदखल कर देते हैं तो अनेक प्रकार की कट नहीं है फिर लव मैरिज में उत्पन्न हो जाती है आप देखिए सब को देखने आपको समाज को परिवार को भाई को बहनों को छोटे बड़े सब पर विचार करके और यदि अरेंज मैरिज में सब चीजें मिल जाती है तो इससे बेस्ट हो ही नहीं सकता आप चाहें तो अपने लोग मैरिज को अरेंज मैरिज में भी कन्वर्ट करके कर सकते हैं और आज तो जाति बंधन रहा नहीं और माता-पिता हमेशा बच्चों की खुशी देते हैं और बच्चों की खुशी में अपनी खुशी कुमारी माता पिता के लिए और बच्चों को 9:00 के लिए अच्छा है जय हिंद जय भारत

arrange marriage ko yuva peedhi bura kyon batatey hain kya arrange marriage itna bura hai abhi ki is sawaal ka jawab yah ho sakta hai arrange marriage ko jo yuva peedhi bura bolti hai toh kahin na kahin dono me se kisi ka kahin affair chal raha ho aur vaah khulkar apne mata pita ya guardian ya kisi se bhi na kab aate ho toh unke liye arrange marriage kaha se achi hogi vaah toh bura bolenge na ab isme prashna ye uthata hai karke ki kya vaastav me un logo ka affair tha ya nahi tha yahoo shaadi karna chahti hain ya nahi karna chahti hain dekhiye bahut ek naajuk rishta hota hai shaadi koi bhi guardian ke saamne baccha jo hai khul ke nahi bol sakta ki main shaadi karna chahta hoon ya meri bhi shaadi karva do samay teji se badal raha hai aur aaj ke yuva jo hai gharon se nikalkar job ki aur aakarshit unhe aur vaah kaafi kuch samjhne lage hain ki jab tak apne pairon par nahi khade ho jayen kuch running na karne tab tak shaadi karna vyarth ho chahen vaah ladka ho ya ladki ho samjhne lage jeevan ki kathinaiyon ko vaah apne ghar parivar me abhaav ko dekhte hue yah jaan gaye hain ki jab tak guzarne nahi hogi tab tak vivah karna uchit nahi hoga karke sab jaan gaye hain aur vaah samajhte bhi hain bahut samajhdar hain aaj ke yuva jaha tak ve log agar bura bolte arrange marriage ko toh mata pita bus dekhe karke ki ladki ki umar jo hai 20 saal ke aaspass hai uske liye ladka dhundhana chaalu kar dete hain aur ladke ki shaadi kara lete hain ladki ki shaadi kara lete hain aur vaah ladka kuch nahi kamata hai yadi aur ladki wapas aa jaati hai toh phir vaah uski dekha dekhi ki us ladki kyon wapas I karke toh uske mata pita ne jo shaadi kara di thi aur vaah sirf lok laj waise yah samaj ke dar se shaadi ki gayi thi vaah kinhi bhi karanon se yadi asafal ho jaati hai toh phir arrange marriage ko bura kehne lagte hain jabki aisa kuch bhi nahi sabra karna hoga dekhna hoga parakhana hoga waqt lagta hai ek dusre ko samjhne me arrange marriage love marriage me dubata hai dono yadi educated hain padhe likhe hain aur kahin pardes me padh rahe hain aur vaah jaakar ek dusre ke dukh sukh me saath dete hain aur ek dusre ko samjhne lagte hain toh vaah apne love marriage ko arrange marriage me bhi convert kar sakte hain arrange marriage me bhi usko kiya ja sakta hai beshak ki vaah koi bhi tatvon ko apne mata pita ke nach arrange marriage bahut achi hoti hai arrange marriage me status dekha jata hai saamne waale ki haisiyat dekhi jaati hai barabar ka rishta hai ya nahi yah dekha jata hai khandan dekha jata hai aur bahut saari cheezen hain jo ladki ke mata pita dekhne jaate hain aur yadi ve paate hain ki main yah ladka apne bacche ke liye theek hai tabhi bhi unko apna prastaav dete hain aur yah kahin zaroori nahi hai ki ladke waale bhi aaye aur aapko haan ji bole unki bhi kuch demand hoti hai dekhte hain demand se aankhen dahej nahi hai bahut saari cheezen dekhte hain ki ladki ko vaastav me khana banana aata hai ki nahi ladki silai kadhai karna jaanti ki nahi ladki jo hai ghar ka kaam karne me saksham hai ki nahi ladki zaroori nahi ki jab wali hoon kai logo ki yah mahatwakanshi rehti hai karke ki ladki ghar par aaye aur ghar ka kaam kare aur saansad jeth jethani aur sab ka maan sammaan kare vaisi ladki ko bhi vaah kai log pasand karte hain aur aisa kahin par bhi nahi hai ki sarvagun sampann ho kahin na kahin kuch na kuch khamiyan reh jaati hai aur arrange marriage me us khamiyon ko dur kiya ja sakta hai aur samay dekar jo bhi kami beshi rehti hai use dur kiya ja sakta yah buri nahi hai yuva peedhi score yadi bura batati hai toh uske karan ho sakte hain ki bura hai karke pasand napasand dekhkar aur aap agar apni aur se dabaav dalkar yadi karte hain toh nishchit taur par vaah buri hai ladkiya jo hai mata pita ki izzat karti hai maan sammaan karti hain aur vaah jaanti hain kya kyonki mata pita ne 20 saal tak unko pal pos kar pimples ke me bada padhaya likhaya bada kiya ek nirnay shaadi kab hai unke upar chhod deti hain aur vaah chahte hue bhi khulkar baat nahi kar pati is karan yadi vaah arrange marriage me asafal ho jaate hain toh phir vaah dosh dene lagti hai toh is vishay ki gambhirta yah hai karke ki yuva peedhi aakar isko bura bolti hai toh kyon is par vichar karna hoga toh vichar karne ke liye sirf apne paas kya bachata hai ghar ki ki sabse pehle toh yah dekha jaaye ki vaastav me jaha shaadi ho rahi hai tu dono parivar ya ladka ya ladki kaabil hai ya nahi hai shaadi ke yogya hai ya nahi hai aur kyon ko khulkar saamne aana hoga ya apni pasand aur napasand batani hogi dikhe ladko ko toh kya hai unhe aap koi bhi ladki dikha dijiye vaah hum hi bolenge kyonki kabhi unhone ladki dekhi nahi toh aisi paristhitiyon me jo hai ladkiyon ko bhi mahatva dena chahiye unki pasand aur napasand dena chahiye aur jaha par bhi arrange marriage ho toh ladkiyon ladkiyon ko kam se kam kam se kam do teen ghante aapas me baat karne ka samay dena chahiye taki ve ek dusre ko samjhe aur soche jaldabaji me kahin par bhi rishta karna aage ke liye ghatak ho sakta hai aur vaah jo hai dono ko sochne samjhne ke avsar ke baad dono ki rai jaanne ke baad usme haan ya nahi bolna chahiye tab vaah rishta safal ho sakta hai aur unhe ek aur sir bhi mil sakta hai ki vaah apni baat khulkar ek dusre se keh sake kar sake shaadi ka bandhan jo hai vaah zindagi bhar ka hota hai ki 1 din ke liye nahi hota ek samay ke liye nahi hota aur jaha tak ke logo ki kai gaana rehti hai kai mansha rehti hai ki live in Relationship accha hai live in Relationship me title nahi milte ho ki nahi milte bahut saari cheezen jo hai live in relation me mahila mitra ke saath dhokha hota hai toh live in relation ka main samarthan nahi karta aur jo live in Relationship me rehna chahte hain main unka virodh bhi nahi karta lekin unhe aapke liye dekhna chahiye ki kanoon me unhe kya adhikaar diye gaye kya title hai ko aadha adhura jaankar rehna sarvadhik anuchit hai aur uske bare me pura jaankar padhakar legal right dekhkar usme haan ya na ki ja sakti hai aise hi keval rehna uchit nahi hoga dekhiye buri nahi hai jo yuva peedhi ke dilo dimag me bhar gayi hai arrange marriage gori hai vaah puri denge use samajhna hoga ki aapki niche yahan aapke upar aapke aur bhai bahnon ke upar aapke dwara uthye gaye kadam yahan ke dwara love marriage ki taraf badhne ke kadam kya nuksan kar dete hain kai aise prakhand aur aise ke judge dekhne milte hain jaha jati bandhan hai aap apni shaadi ke bina yah bhi nahi karti hai kanoon ke alava hai uske alava ek samajik kanoon bhi chalta hai toh aapko samaj se bahishkrit kiya jata hai vaah apne bujurgon ko bahut saara jo hai samajik status girta hua dekhna nahi pasand hota hai aur vaah ghar se bedakhal kar dete hain toh anek prakar ki cut nahi hai phir love marriage me utpann ho jaati hai aap dekhiye sab ko dekhne aapko samaj ko parivar ko bhai ko bahnon ko chote bade sab par vichar karke aur yadi arrange marriage me sab cheezen mil jaati hai toh isse best ho hi nahi sakta aap chahain toh apne log marriage ko arrange marriage me bhi convert karke kar sakte hain aur aaj toh jati bandhan raha nahi aur mata pita hamesha baccho ki khushi dete hain aur baccho ki khushi me apni khushi kumari mata pita ke liye aur baccho ko 9 00 ke liye accha hai jai hind jai bharat

अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी बुरा क्यों बताते हैं क्या अरेंज मैरिज इतना बुरा है अभी की इस स

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  386
WhatsApp_icon
user

Santosh Singh indrwar

Business Consultant & Life Couch

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं सर जहां तक मेरा अनुभव कहता है अरेंज मैरिज लव मैरिज की अपेक्षा कई गुना बेहतर है लोग आज के जमाने में सब कुछ पहले ही जान लेना चाहते हैं सब कुछ पहले ही पढ़ लेना चाहते हैं शॉर्टकट में चलना चाहते हैं कई बार यह शॉर्टकट बड़ा वाला लॉस दे देता है ऐसा एक बड़ा प्रतिशत है आप किस कहीं भी सर्च कर लीजिए अरेंज मैरिज में 100 लोगों में 90 पर्सेंट लोग सुखी होंगे और लव मैरिज में 60 से 70 पर्सेंट लोग दुखी होंगे और यह एक बड़ा प्रतिशत है उसको समझने के लिए

nahi sir jaha tak mera anubhav kahata hai arrange marriage love marriage ki apeksha kai guna behtar hai log aaj ke jamane me sab kuch pehle hi jaan lena chahte hain sab kuch pehle hi padh lena chahte hain shortcut me chalna chahte hain kai baar yah shortcut bada vala loss de deta hai aisa ek bada pratishat hai aap kis kahin bhi search kar lijiye arrange marriage me 100 logo me 90 percent log sukhi honge aur love marriage me 60 se 70 percent log dukhi honge aur yah ek bada pratishat hai usko samjhne ke liye

नहीं सर जहां तक मेरा अनुभव कहता है अरेंज मैरिज लव मैरिज की अपेक्षा कई गुना बेहतर है लोग आ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  191
WhatsApp_icon
user

Somit Yoga Varanasi

Yoga Trainer and Astrologer

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं अरेंज मैरिज में युवा पीढ़ी बुरा मत बुरा मान देश में लड़कियां लड़की लड़का एक दूसरे को समझ नहीं पाते हैं और ना समझे बिना ताल में भावनाओं को जान लें और इसी कारण से जो है आनंद मारी जाती है

nahi arrange marriage me yuva peedhi bura mat bura maan desh me ladkiya ladki ladka ek dusre ko samajh nahi paate hain aur na samjhe bina taal me bhavnao ko jaan le aur isi karan se jo hai anand mari jaati hai

नहीं अरेंज मैरिज में युवा पीढ़ी बुरा मत बुरा मान देश में लड़कियां लड़की लड़का एक दूसरे को

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

गोपाल पांडेय

Journalist, Counselor, motivational speaker

0:59
Play

Likes  145  Dislikes    views  1267
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल की युवा पीढ़ी पर वह सोच गलत नहीं हुई वह संस्कार नहीं दिए गए हैं वह संस्कृति अपने भूल बैठे हैं इसलिए अरेंज मैरिज को बुरा मान लव मैरिज में जिंदगी भर उनको कला मिलती है प्लेस मिलता है धोखा खाते हैं अगर परेशान रहते हैं कि सुसाइड करते हैं कि तलाक होते हैं इन सब चीजों को फेस कर लेंगे लेकिन माता-पिता के द्वारा के रेंज में को दुत्कार कर के माता पिता का अपमान करते हैं इसी का फागुन ने भोगना पड़ता है

aajkal ki yuva peedhi par vaah soch galat nahi hui vaah sanskar nahi diye gaye hain vaah sanskriti apne bhool baithe hain isliye arrange marriage ko bura maan love marriage me zindagi bhar unko kala milti hai place milta hai dhokha khate hain agar pareshan rehte hain ki suicide karte hain ki talak hote hain in sab chijon ko face kar lenge lekin mata pita ke dwara ke range me ko dutkar kar ke mata pita ka apman karte hain isi ka phagun ne bhogna padta hai

आजकल की युवा पीढ़ी पर वह सोच गलत नहीं हुई वह संस्कार नहीं दिए गए हैं वह संस्कृति अपने भूल

Romanized Version
Likes  188  Dislikes    views  751
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिव्या की शादी हो रही है वह आपके लिए भी नहीं जानते हैं उसको जानने में काफी समय लग जाता है इसी के साथ बनाने में पहले से ही काफी अच्छी होती है इसलिए पाटनर एक दूसरे के साथ में था लाइन बनाना सीख जाते हैं जब आप दोनों एक दूसरे को देख देंगे की बात सुनेंगे एक दूसरे के साथ करेंगे एक दूसरे के लिए जीना सीखें लव मैरिज

divya ki shaadi ho rahi hai vaah aapke liye bhi nahi jante hain usko jaanne me kaafi samay lag jata hai isi ke saath banane me pehle se hi kaafi achi hoti hai isliye partner ek dusre ke saath me tha line banana seekh jaate hain jab aap dono ek dusre ko dekh denge ki baat sunenge ek dusre ke saath karenge ek dusre ke liye jeena sikhe love marriage

दिव्या की शादी हो रही है वह आपके लिए भी नहीं जानते हैं उसको जानने में काफी समय लग जाता है

Romanized Version
Likes  536  Dislikes    views  5964
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

युवा पीढ़ी के दिमाग में जो आजकल बातें चल रही है तो यह प्रेम विवाह को लेकर के ज्यादा पसंद करते हैं पर अरेंज मैरिज यह गलत नहीं है कि जिसको हम जानते हैं पहचानते नहीं जिस दिन हमारी उसके साथ में शादी होती है उसके बाद उसको जान ना पहचान ना चालू होता है ऐसे में दोपहर साल निकल जाते बच्चे हो जाते आते मैं वैसा नहीं रहता कि लगने के बाद हम एक दूसरे को जानते हैं पहचानते शादी होने के पहले मतलब शादी होने के बाद और बच्चे होने के पहले कभी कभी बात जो आज तक जाती है इसीलिए युवा पीढ़ी के दिमाग में यह बात नहीं आ रही है कि लव मैरिज अच्छा या बुरा है वह अरेंज मैरिज कोई बुरा कर कहते हैं पर असल में अरेंज मैरेज यह बुरा नहीं है

yuva peedhi ke dimag me jo aajkal batein chal rahi hai toh yah prem vivah ko lekar ke zyada pasand karte hain par arrange marriage yah galat nahi hai ki jisko hum jante hain pehchante nahi jis din hamari uske saath me shaadi hoti hai uske baad usko jaan na pehchaan na chaalu hota hai aise me dopahar saal nikal jaate bacche ho jaate aate main waisa nahi rehta ki lagne ke baad hum ek dusre ko jante hain pehchante shaadi hone ke pehle matlab shaadi hone ke baad aur bacche hone ke pehle kabhi kabhi baat jo aaj tak jaati hai isliye yuva peedhi ke dimag me yah baat nahi aa rahi hai ki love marriage accha ya bura hai vaah arrange marriage koi bura kar kehte hain par asal me arrange marriage yah bura nahi hai

युवा पीढ़ी के दिमाग में जो आजकल बातें चल रही है तो यह प्रेम विवाह को लेकर के ज्यादा पसंद क

Romanized Version
Likes  404  Dislikes    views  3580
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Priya Shatanjib Jha

Psychologist|Counselor|Dentist

1:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सबको दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं अरेंज मैरिज देखे हो क्या लगता है मालूम है कि थोड़ा सा बोरिंग है थोड़ा सा है और स्पेशली ये जो दहेज का प्रथा है इन चीजों में ना लोगों के मन में खटास भर दिए इस बारे में किना अरेंज मैरिज जो है वह एकदम सड़ी हुई चीज चीज है और सबके मन में लालच होता है पैसों के लिए फलाना ढिकाना इंसाफ आपके पैरंट्स जो आपके लिए ढूंढ रहे हैं और उन्होंने जो देखा है उसको कंसीडर जरूर करना चाहिए यानि कि एक बार उस पर ध्यान देखिए देकर देकर देखिए तभी मालूम पड़ेगा कि सामने वाला बंदा बंदा कैसा है और पता नहीं अगर आप थोड़े शातिर हो तो आप शायद ही सोचोगे कि मुझे तो सबकी कि मैं खुद ही सोचती थी कि यार ठीक है रेंज ठीक है क्योंकि अगर कुछ गड़बड़ हुआ तो मैं यह बोल दूंगी कि भैया पीने जूस किया था ओके यह तो फनी में में हो गया कहती हो दहेज प्रथा को हटाकर और बाकी चीजें जो है जो भी जो लालच और गंदी चीजें हैं वह हटा के अगर आप न्यूट्रेबे से देखिए तो अरेंज मैरिज में बुरी नहीं है क्यों क्योंकि आपके जो पेरेंट्स है या घर वाले हैं बोलो ना कुछ सोच कर ही बैकग्राउंड सब देखकर यह सब करके उन्होंने शादी कर आया है एंड सोच विचार यू श्री शाम 20 के मिलते हैं स्टैंडर्ड मिलता है स्टेटस मिलता है तो यह सब से क्या ना आप अभी थोड़े से जोन में आ जाते हो अगर आप लकी और अच्छे से अगर आपका नसीब अच्छा है अगर आपको सामने वाला सामली अच्छा मैथिली शादी से इतना बुरा नहीं होगा तो अरेंज मैरिज बुरा नहीं है मेरे नजर से अच्छा चीज है यह मेरा मानना है थैंक यू

namaste doston meri yani doctor priya jha ke taraf se aap sabko din ki bahut saree subhkamnaayain arrange marriage dekhe ho kya lagta hai maloom hai ki thoda sa boaring hai thoda sa hai aur speshli ye jo dahej ka pratha hai in chijon mein na logo ke man mein khatas bhar diye is bare mein kina arrange marriage jo hai wah ekdam sadee hui cheez cheez hai aur sabke man mein lalach hota hai paison ke liye falana dhikana insaaf aapke Parents jo aapke liye dhundh rahe hain aur unhone jo dekha hai usko Consider zaroor karna chahiye yani ki ek baar us par dhyan dekhie dekar dekar dekhie tabhi maloom padega ki saamne vala banda banda kaisa hai aur pata nahi agar aap thode shatir ho toh aap shayad hi sochoge ki mujhe toh sabaki ki main khud hi sochti thi ki yaar theek hai range theek hai kyonki agar kuch gadbad hua toh main yeh bol dungi ki bhaiya peene juice kiya tha ok yeh toh Funny mein mein ho gaya kehti ho dahej pratha ko hatakar aur baki cheezen jo hai jo bhi jo lalach aur gandi cheezen hain wah hata ke agar aap nyutrebe se dekhie toh arrange marriage mein buri nahi hai kyon kyonki aapke jo parents hai ya ghar wale hain bolo na kuch soch kar hi background sab dekhkar yeh sab karke unhone shadi kar aaya hai end soch vichar you shri shaam 20 ke milte hain standard milta hai status milta hai toh yeh sab se kya na aap abhi thode se zone mein aa jaate ho agar aap lucky aur acche se agar aapka nasib accha hai agar aapko saamne vala samli accha maithali shadi se itna bura nahi hoga toh arrange marriage bura nahi hai mere nazar se accha cheez hai yeh mera manana hai thank you

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सबको दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं अर

Romanized Version
Likes  193  Dislikes    views  2426
WhatsApp_icon
user

Vandana

Transformational Peace Coach

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरेंज मैरिज युवा पीढ़ी क्यों बुरा बनाती है मैं तो इस पर बिलीव नहीं करती हूं ना अरेंज मैरेज ना लव मैरिज एक जान की तरह एच आप की तरह है आपको इस तरह से बांध देती है सोसायटी की आपको बहुत मुश्किल होता है अपने और अपने कौन से चैनल जी को समझने में है ना तो मेरे हिसाब से अब टाइम गया इमारत का अब लिविंग वाला अकाउंट से वो धीरे धीरे हो रहा है उसको अच्छे से ग्रुप होना चाहिए कि साथ में प्रेमी दो प्रेमी मिलकर प्यार से रहे एक दूसरे से लड़ाई भी होती है तो फिर भी लड़ाई भी हो कुछ भी हो साथ रहे समझे कमिटमेंट रखे व्हाट्सएप जरूरी नहीं है कि एक कोई कोड चाहिए उनको बताने के लिए कि तुम उसके लिए बने हो या उसके लिए क्योंकि मैंने देखा कि मैरिज इसमें बहुत ही नानी पुलिस अन होता है हस्बैंड वाइफ करता है भाई को वाइफ एक्स वाइड करती है अपने हस्बैंड को स्टेशंस का ढेर ढेर अगर अगले दिन में रहते हो आप एक दूसरे को साथ में रहते हो और आप डिसाइड टो कि हम अपनी रेस्पॉन्सिविटी खुद लेंगे एक दूसरे को सपोर्ट करेंगे फिर देखो इतना खूबसूरत रिश्ता कितना आगे जाएगा फ्री रहेगा एक तरफ से एक एक्सपेक्टेशन

arrange marriage yuva peedhi kyon bura banati hai toh is par believe nahi karti hoon na arrange marriage na love marriage ek jaan ki tarah h aap ki tarah hai aapko is tarah se bandh deti hai sociaty ki aapko bahut mushkil hota hai apne aur apne kaun se channel ji ko samjhne mein hai na toh mere hisab se ab time gaya imarat ka ab living vala account se vo dhire dhire ho raha hai usko acche se group hona chahiye ki saath mein premi do premi milkar pyar se rahe ek dusre se ladai bhi hoti hai toh phir bhi ladai bhi ho kuch bhi ho saath rahe samjhe commitment rakhe whatsapp zaroori nahi hai ki ek koi code chahiye unko batane ke liye ki tum uske liye bane ho ya uske liye kyonki maine dekha ki marriage ismein bahut hi naani police an hota hai husband wife karta hai bhai ko wife x wide karti hai apne husband ko stations ka dher dher agar agle din mein rehte ho aap ek dusre ko saath mein rehte ho aur aap decide to ki hum apni respansiviti khud lenge ek dusre ko support karenge phir dekho itna khoobsurat rishta kitna aage jayega free rahega ek taraf se ek expectation

अरेंज मैरिज युवा पीढ़ी क्यों बुरा बनाती है मैं तो इस पर बिलीव नहीं करती हूं ना अरेंज मैरेज

Romanized Version
Likes  178  Dislikes    views  2048
WhatsApp_icon
user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के बाजू युवा है वह कहते हैं कि हम अरेंज मैरिज करना नहीं चाहते हैं हम लव मैरिज करना चाहते हैं तो एक ही कहीं ना कहीं सोचा जाती है कि लव मैरिज में हम उन्हें अच्छे से जानते होंगे हम हमें उनकी आदत है हमें उनकी उनके बातें उनके विचार पसंद होंगे हम दोनों के विचार मिलेंगे तो जिंदगी जो है जीना आसान हो जाएगा इस वजह से बीच जो आज का युवा है वह जहां पर यह कहते हैं कि हमें लव मैरिज करनी है इसके अलावा कई बार ऐसा देखा गया है कि जो जो बच्चे हैं उन्होंने अपने पेरेंट्स को देखा और उन्होंने पाया कि उनकी अरेंज मैरिज हुई थी और वह खुश नहीं है वह साथ हैं लेकिन खुश नहीं है इसलिए जो है उन्होंने डिसाइड करा कि हम लव मैरिज करेंगे क्योंकि पहले जो है 70% शादियां अरेंज मैरिज ही होती थी तो सक्सेसफुल कितनी रही हो तो बच्चे ही बताएंगे क्योंकि बहुत बार ऐसा होता कपल साथ है लेकिन प्यार नहीं है तो बच्चों को क्या पाया जी अरेंज मैरिज ज्यादा बैटर है क्योंकि अट लीस्ट प्यार तो होगा आपस में तो मैं यही कहना चाहूंगी यह कारण हो सकते हैं और मैं नहीं कहती कि अरेंज मैरिज बुरा है दोनों ही दोनों ही लव मैरिज अरेंज मैरिज के अपने नुकसान और फायदे बहुत लोगों के अरेंज मैरिज को बहुत अच्छी चलती है और बहुत लोगों की लव मैरिज कितनी अच्छी नहीं सकती

aaj ke baju yuva hai wah kehte hain ki hum arrange marriage karna nahi chahte hain hum love marriage karna chahte hain toh ek hi kahin na kahin socha jati hai ki love marriage mein hum unhein acche se jante honge hum humein unki aadat hai humein unki unke batein unke vichar pasand honge hum dono ke vichar milenge toh zindagi jo hai jeena aasaan ho jayega is wajah se beech jo aaj ka yuva hai wah jaha par yeh kehte hain ki humein love marriage karni hai iske alava kai baar aisa dekha gaya hai ki jo jo bacche hain unhone apne parents ko dekha aur unhone paya ki unki arrange marriage hui thi aur wah khush nahi hai wah saath hain lekin khush nahi hai isliye jo hai unhone decide kara ki hum love marriage karenge kyonki pehle jo hai 70% shadiyan arrange marriage hi hoti thi toh successful kitni rahi ho toh bacche hi batayenge kyonki bahut baar aisa hota couple saath hai lekin pyar nahi hai toh baccho ko kya paya ji arrange marriage zyada better hai kyonki attack list pyar toh hoga aapas mein toh main yahi kehna chahungi yeh kaaran ho sakte hain aur main nahi kehti ki arrange marriage bura hai dono hi dono hi love marriage arrange marriage ke apne nuksan aur fayde bahut logo ke arrange marriage ko bahut acchi chalti hai aur bahut logo ki love marriage kitni acchi nahi sakti

आज के बाजू युवा है वह कहते हैं कि हम अरेंज मैरिज करना नहीं चाहते हैं हम लव मैरिज करना चाहत

Romanized Version
Likes  160  Dislikes    views  10329
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरेंज मैरिज लव मैरिज हो रही बात इसको युवा पीढ़ी अगर बुरा मानते हैं तो ऐसा कुछ नहीं है जिसको जैसा समझ में आता है वह ऐसा करता है रही बात अरेंज मैरिज इसमें अपने कास्ट में शादी करनी होती है तो यह वाकई डिपेंड करता है कि वह करना चाहता है या फिर नहीं तो फिर यह डिसीजन युवा कोई खुद से डिसाइड करना चाहिए और इसमें बुरा मानने वाली कोई बात नहीं है

arrange marriage love marriage ho rahi baat isko yuva peedhi agar bura maante hain toh aisa kuch nahi hai jisko jaisa samajh me aata hai vaah aisa karta hai rahi baat arrange marriage isme apne caste me shaadi karni hoti hai toh yah vaakai depend karta hai ki vaah karna chahta hai ya phir nahi toh phir yah decision yuva koi khud se decide karna chahiye aur isme bura manne wali koi baat nahi hai

अरेंज मैरिज लव मैरिज हो रही बात इसको युवा पीढ़ी अगर बुरा मानते हैं तो ऐसा कुछ नहीं है जिसक

Romanized Version
Likes  234  Dislikes    views  1909
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं यार एक मैरिज बुरी नहीं होती है कि अपनी-अपनी समझ है जो पीढ़ी के लोग लड़के यह समझते हैं कि रमेश ज्यादा बेहतर है बाकी भारत में यदि उसके परिणाम देखे जाए भारत को इसका रेट दक्षिणी भारत में अरेंज मैरिज की अरेंज मैरिज नंबर पिक्चर में परसेंट सकती है जब भी लव मैरिज सिर्फ ओनली 10 15 परसेंट पर ही सकता की पिक्चर सुपर चैनल अंग्रेज भारत का पर्वतीय इलाकों में केवल जो सोता है केवल की स्कीम किरण को देख पाते हैं बाकी बुजुर्ग लोग जाते परिजन जो होते हैं कि में चोट होने के नाते स्वभाव गुण जार आदि सभी कुछ देखते हैं दुर्भाग्य एक निर्जन देशज आधुनिकता के बाप में अंधी हो रही है इसी का दुष्परिणाम कि आज तुमसे बहुत ज्यादा संख्या बढ़ गई है यह सब लंबेरिस के दुष्परिणाम है

nahi yaar ek marriage buri nahi hoti hai ki apni apni samajh hai jo peedhi ke log ladke yah samajhte hain ki ramesh zyada behtar hai baki bharat me yadi uske parinam dekhe jaaye bharat ko iska rate dakshini bharat me arrange marriage ki arrange marriage number picture me percent sakti hai jab bhi love marriage sirf only 10 15 percent par hi sakta ki picture super channel angrej bharat ka parvatiya ilako me keval jo sota hai keval ki scheme kiran ko dekh paate hain baki bujurg log jaate parijan jo hote hain ki me chot hone ke naate swabhav gun jar aadi sabhi kuch dekhte hain durbhagya ek nirjan deshaj adhunikata ke baap me andhi ho rahi hai isi ka dushparinaam ki aaj tumse bahut zyada sankhya badh gayi hai yah sab lamberis ke dushparinaam hai

नहीं यार एक मैरिज बुरी नहीं होती है कि अपनी-अपनी समझ है जो पीढ़ी के लोग लड़के यह समझते हैं

Romanized Version
Likes  281  Dislikes    views  3546
WhatsApp_icon
user

RAVI

Teacher and Poet

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जैसे अपने प्रश्न पूछा अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी पीढ़ी बुरा क्यों बताते हैं कि अरेंज मैरिज इतना बुरा नहीं अरेंज मैरिज इतना बुरा नहीं है और युवा पीढ़ी अगर बुरा बताती है तो वह असली बताती है कि लव मैरिज में जिस से शादी कर रहे हैं या लव मैरिज कर रहे हैं तो उसमें अपने जीवनसाथी के बारे में उनको पता होता है लेकिन अरेंज मैरिज में अपनी जीवनसाथी के बारे में उन्हें ज्यादा नहीं पता होता है और उसके बाद लव मैरिज में उनकी मर्जी होती है और अरेंज मैरिज में उनके परिवार की मर्जी होती तो आपको पता ही होगा कि जहां हम लोगों की खुद की मर्जी होती है मैं वहां बहुत अच्छा लगता है और नॉर्मली जा मारी मर्जी नहीं होती तो वहां मैं थोड़ा सा बुरा लगता है तो यह थोड़ा सा फर्क है अरेंज मैरिज और लव मैरिज का धन्यवाद

dekhiye jaise apne prashna poocha arrange marriage ko yuva peedhi peedhi bura kyon batatey hain ki arrange marriage itna bura nahi arrange marriage itna bura nahi hai aur yuva peedhi agar bura batati hai toh vaah asli batati hai ki love marriage me jis se shaadi kar rahe hain ya love marriage kar rahe hain toh usme apne jeevansathi ke bare me unko pata hota hai lekin arrange marriage me apni jeevansathi ke bare me unhe zyada nahi pata hota hai aur uske baad love marriage me unki marji hoti hai aur arrange marriage me unke parivar ki marji hoti toh aapko pata hi hoga ki jaha hum logo ki khud ki marji hoti hai main wahan bahut accha lagta hai aur normally ja mari marji nahi hoti toh wahan main thoda sa bura lagta hai toh yah thoda sa fark hai arrange marriage aur love marriage ka dhanyavad

देखिए जैसे अपने प्रश्न पूछा अरेंज मैरिज को युवा पीढ़ी पीढ़ी बुरा क्यों बताते हैं कि अरेंज

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  234
WhatsApp_icon
user

Sagar सागर

Engineer ,Singer,Director

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

परिस्थितियों और वक्त के हिसाब से इंसान की सोच को भी बदलना चाहिए अर्थात जब हम बाल विवाह करते थे अर्थात जब स्त्री और पुरुष की आयु 1 ऑब्लिक हुआ करते थे तो मां-बाप उनके निधन का फैसला किया करते थे अट्ठारह अरेंज मैरिज होती थी तो प्रसिद्ध मां-बाप ही जान पाते थे कि उनके लिए क्या बेहतर है परंतु आज जब हम बाली को का निर्वाह करते हैं एक अच्छी खासी आई होने के बाद तो आप समझ सकते हैं कि जब हम इतनी सोचने समझने की शक्ति पा चुके होते हैं तो क्यों ना हमें अपनी मर्जी से विवाह करने का अधिकार होना चाहिए क्योंकि हमें अपना जीवनसाथी स्वयं सुनने का अधिकार तो मिलना ही चाहिए

paristhitiyon aur waqt ke hisab se insaan ki soch ko bhi badalna chahiye arthat jab hum baal vivah karte the arthat jab stree aur purush ki aayu 1 ablik hua karte the toh maa baap unke nidhan ka faisla kiya karte the attharah arrange marriage hoti thi toh prasiddh maa baap hi jaan paate the ki unke liye kya behtar hai parantu aaj jab hum baali ko ka nirvah karte hain ek achi khasee I hone ke baad toh aap samajh sakte hain ki jab hum itni sochne samjhne ki shakti paa chuke hote hain toh kyon na hamein apni marji se vivah karne ka adhikaar hona chahiye kyonki hamein apna jeevansathi swayam sunne ka adhikaar toh milna hi chahiye

परिस्थितियों और वक्त के हिसाब से इंसान की सोच को भी बदलना चाहिए अर्थात जब हम बाल विवाह करत

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सर अरेंज मैरिज ही बुरी नहीं है अरेंज मैरिज में जो आज के टाइम में जो जंगल जंगल लोग हैं जो युवा पीढ़ी अपने आपको मतलब लव मैरिज को ज्यादा इंपॉर्टेंट दे रहे हैं इसका कारण यही की मर्जी पेरेंट्स है वह जब हम बच्चे होते हैं तब से हम से ऐसी आशा करते हैं कि हम जमाने के साथ चलें यानी कि अगर किसी के बच्चा क्लास में फर्स्ट आया तो मेरे बच्चे भी क्लास में फर्स्ट आई उसके बाद उसकी फैसिलिटी जौनसारी वह चीजें फॉरवर्ड करवा रहा है जो उसको इस जमाने में अजी बस स्टैंड लोगों ने करवा रहे हैं जैसे मान लीजिए कोई भी चीज जो हम उसके बाद में आती जाती तो उसकी जो यह मेरी पर्सनल किंग कहे कि उस टाइम पर आकर बैलेंस होते हैं क्या अब यह हमारे अनुसार चले अभी इतने दिन पहले जो चल रहा था वह जमाने के अनुसार अब यह अजीब होता है कई कारण होते हैं औरत है तू ज्यादा मतलब ज्यादा करीब आ जाते हैं वह किसी अनजान से शादी करना फिर उसके बाद पता नहीं उसका तेजा कैसे रहे होंगे आज कल की जो भक्त है टाइम के अनुसार कि हो सकता है और वीडियो कोई उसका कोई दोस्त है या फिर तोता तोता वीडियो है जिसको लव मैरिज करते हैं हालांकि जो अरेंज मैरिज है ज्यादा बैठक है सितारों के लंबा समय तक चलने की उम्मीद रहती है

namaskar sir arrange marriage hi buri nahi hai arrange marriage mein jo aaj ke time mein jo jungle jungle log hain jo yuva peedhi apne aapko matlab love marriage ko zyada important de rahe hain iska karan yahi ki marji parents hai vaah jab hum bacche hote hain tab se hum se aisi asha karte hain ki hum jamane ke saath chalen yani ki agar kisi ke baccha class mein first aaya toh mere bacche bhi class mein first I uske baad uski facility jaunsari vaah cheezen forward karva raha hai jo usko is jamane mein aji bus stand logo ne karva rahe hain jaise maan lijiye koi bhi cheez jo hum uske baad mein aati jaati toh uski jo yah meri personal king kahe ki us time par aakar balance hote kya ab yah hamare anusaar chale abhi itne din pehle jo chal raha tha vaah jamane ke anusaar ab yah ajib hota hai kai karan hote hain aurat hai tu zyada matlab zyada kareeb aa jaate hain vaah kisi anjaan se shadi karna phir uske baad pata nahi uska teja kaise rahe honge aaj kal ki jo bhakt hai time ke anusaar ki ho sakta hai aur video koi uska koi dost hai ya phir tota tota video hai jisko love marriage karte hain halaki jo arrange marriage hai zyada baithak hai sitaron ke lamba samay tak chalne ki ummid rehti hai

नमस्कार सर अरेंज मैरिज ही बुरी नहीं है अरेंज मैरिज में जो आज के टाइम में जो जंगल जंगल लोग

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!