शादी से ठीक पहले दुल्हन के दिमाग़ में क्या चलता है?...


play
user
0:26

Likes  215  Dislikes    views  2431
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Porshia Chawla Ban

Psychologist

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शादी के ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में क्या चलता है शादी के ठीक पहले दिन के दिमाग में मेरे ख्याल से कुछ भी नहीं चलता है उस वक्त तो ब्लैंक माइंड रहता है और यह लगता है कि यह कब खत्म होगा तब अब अलग-अलग व्यक्ति के हिसाब से अलग-अलग सोच हो सकती है एक ही हो सकती है और दूसरी हो सकती है कि यह मैं वहां जाऊंगी तो मैं जस्ट कैसे करूंगी ऐसी पानी कोरेक्स आईटी हो सकती है और यह भी लग सकता है कि मेरे कैरियर का क्या होगा आगे मैं जॉब कर पाऊंगी नहीं कर पाऊंगी मेरी जो इंडिविजुअलिटी है शख्सियत है उसका क्या होगा ऐसे जो है इस विचार आ सकते हैं कोई बहुत ज्यादा एक्साइटेड भी हो सकता है अपनी शादी को लेकर किया रे हम तो यहां घूमने जाएंगे वहां घूमने जाएंगे आप तो मैं मजे करूंगी क्या मुझे अब जो एक टेंशन थी कि शादी की शादी नहीं हो रही शादी नहीं हो रही है सही मिल रहा है तो अपने विचार आते हैं और मूड भी कोई दहेज का सीन कहीं पर बन रहा है तो दुल्हन को टेंशन आ सकती है कि मैं मेरे मां-बाप कैसे पेमेंट करेंगे या कैसे मैनेज करेंगे वहां डोमिनेंट्स इक्वेशन या कंडीशन क्या है वह डिसाइड करती है कि किस प्रकार के विचार आएंगे धन्यवाद

shaadi ke theek pehle dulhan ke dimag me kya chalta hai shaadi ke theek pehle din ke dimag me mere khayal se kuch bhi nahi chalta hai us waqt toh blank mind rehta hai aur yah lagta hai ki yah kab khatam hoga tab ab alag alag vyakti ke hisab se alag alag soch ho sakti hai ek hi ho sakti hai aur dusri ho sakti hai ki yah main wahan jaungi toh main just kaise karungi aisi paani koreks it ho sakti hai aur yah bhi lag sakta hai ki mere carrier ka kya hoga aage main job kar paungi nahi kar paungi meri jo individuality hai shakhsiyat hai uska kya hoga aise jo hai is vichar aa sakte hain koi bahut zyada excited bhi ho sakta hai apni shaadi ko lekar kiya ray hum toh yahan ghoomne jaenge wahan ghoomne jaenge aap toh main maje karungi kya mujhe ab jo ek tension thi ki shaadi ki shaadi nahi ho rahi shaadi nahi ho rahi hai sahi mil raha hai toh apne vichar aate hain aur mood bhi koi dahej ka seen kahin par ban raha hai toh dulhan ko tension aa sakti hai ki main mere maa baap kaise payment karenge ya kaise manage karenge wahan dominents equation ya condition kya hai vaah decide karti hai ki kis prakar ke vichar aayenge dhanyavad

शादी के ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में क्या चलता है शादी के ठीक पहले दिन के दिमाग में मेरे ख

Romanized Version
Likes  270  Dislikes    views  7828
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Priya Shatanjib Jha

Psychologist|Counselor|Dentist

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सबको दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं तो मुझे लगता है कि हर एक दुल्हन जो है उस पर डिपेंड करता है कई लड़कियां जो है वह थोड़ी सी आजकल सब बदल गया है मेरा जो सोच है वह मैं बहुत ऑपरेशन और काफी स्टडी के बाद जो भी मैं सोचती हूं उस पर आई हूं इसलिए मेरा तो सोचे को मैं एकदम से आप सब को आप सब के साथ कहना मुझे उतना ज्यादा फ्री नहीं लग रहा है क्योंकि मैंने जो अब से बेचैन किया है जो मैंने सेट किए हैं मैंने जो भी लाइफ में समझा है पड़ा है वह बहुत ऑब्जर्वेशन के बाद उस नदी से पैरों में फिर भी मैं आपको यह कहना चाहूंगी कि पहले के टाइम में लड़कियां लड़कियां खड़ी रहती थी जमेगा कि नहीं वह मुझे कुछ तो रखेगा फलाना ढिकाना आजकल ऐसे रहता है कि काफी सारी लड़कियां खुश रहती हो खुश हैं क्योंकि उनकी शादी हो और वह खुश है ओके करूंगी मैं अपना काम करूंगी अपने पैसे कमा लूंगा तो डिपेंड डिपेंड जिसके साथ आप जिसके साथ शादी कर रहे हो उसके साथ रहने की आदत नहीं है आपको अपने घर वालों के साथ रहने की आदत है ऐसा हो गया है कि वहां मैं हूं कि मेरा एवरीडे हर दिन कैसा रहेगा इसके साथ सोना है इसलिए उठना है मतलब अच्छा वाला कि आप घर में हो इससे जीना है जिंदगी शेयर करना है तो वह एक्साइटमेंट रहता है आजकल लोगों में यह मुझे ऐसा लगता है गांव घर में लेकिन अभी भी डर होगा लोगों को लगता होगा कि अरे थोड़ा डर ज्यादा रहेगा तो यह मुझे लगता है

namaste doston meri yani doctor priya jha ke taraf se aap sabko din ki bahut saree subhkamnaayain toh mujhe lagta hai ki har ek dulhan jo hai us par depend karta hai kai ladkiyan jo hai wah thodi si aajkal sab badal gaya hai mera jo soch hai wah main bahut operation aur kaafi study ke baad jo bhi main sochti hoon us par I hoon isliye mera toh soche ko main ekdam se aap sab ko aap sab ke saath kehna mujhe utana zyada free nahi lag raha hai kyonki maine jo ab se bechain kiya hai jo maine set kiye hai maine jo bhi life mein samjha hai pada hai wah bahut observation ke baad us nadi se pairon mein phir bhi main aapko yeh kehna chahungi ki pehle ke time mein ladkiyan ladkiyan khadi rehti thi jamega ki nahi wah mujhe kuch toh rakhega falana dhikana aajkal aise rehta hai ki kaafi saree ladkiyan khush rehti ho khush hai kyonki unki shadi ho aur wah khush hai ok karungi main apna kaam karungi apne paise kama lunga toh depend depend jiske saath aap jiske saath shadi kar rahe ho uske saath rehne ki aadat nahi hai aapko apne ghar walon ke saath rehne ki aadat hai aisa ho gaya hai ki wahan main hoon ki mera everyday har din kaisa rahega iske saath sona hai isliye uthna hai matlab accha vala ki aap ghar mein ho isse jeena hai zindagi share karna hai toh wah exitement rehta hai aajkal logo mein yeh mujhe aisa lagta hai gaon ghar mein lekin abhi bhi dar hoga logo ko lagta hoga ki are thoda dar zyada rahega toh yeh mujhe lagta hai

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सबको दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं तो

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  2465
WhatsApp_icon
user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शादी से ठीक पहले एक दुल्हन को मुझे इतना समझ में आता है दो चीजें महसूस हो रही होती है एक और एक उत्साह उत्साह मेरी शादी होने वाली है और एक दर्द की नई जगह होगी नए लोग होंगे कैसा होगा क्या मैं जस कर पाऊंगी क्या वह मुझे अच्छे से रखेंगे आप मुझे अपने घर की बहुत याद आएगी और क्या क्या मेरा हर दिन है मेरी एक्सट्रैक्ट अगर वह लव मैरिज नहीं आ रही है इस मैरिज है तो क्या मीर हसन मीर एक्सपेक्टशंस पूरी कर पाएगा क्या जख्म हस्बैंड खोज रही हूं क्या यह वही है क्या मैं राइट 5 में जा रही हूं या नहीं बाकी थोड़ा पसंद पसंद भी डिफरेंट हो सकता है

shadi se theek pehle ek dulhan ko mujhe itna samajh mein aata hai do cheezen mehsus ho rahi hoti hai ek aur ek utsaah utsaah meri shadi hone wali hai aur ek dard ki nayi jagah hogi naye log honge kaisa hoga kya main jas kar paungi kya wah mujhe acche se rakhenge aap mujhe apne ghar ki bahut yaad aayegi aur kya kya mera har din hai meri eksatraikt agar wah love marriage nahi aa rahi hai is marriage hai toh kya meer hasan meer eksapektashans puri kar payega kya jakhm husband khoj rahi hoon kya yeh wahi hai kya main right 5 mein ja rahi hoon ya nahi baki thoda pasand pasand bhi different ho sakta hai

शादी से ठीक पहले एक दुल्हन को मुझे इतना समझ में आता है दो चीजें महसूस हो रही होती है एक और

Romanized Version
Likes  645  Dislikes    views  9218
WhatsApp_icon
user

Karishma

Psychologist

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शादी से ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में बहुत सारे ऐसे विचार होते हैं जो उसकी लाइफ चेंज होने वाली होती है उसके प्रति कोई ऐसी परेशानियां भी होती है कि नहीं घर में कैसे ऐड करेंगे क्या होगा क्या नहीं होगा उसके रीति रिवाज में कैसे मान पाऊंगी कब कब तक ठीक पाऊंगी क्या वह लोग मेरे काम से सेटिस्फेक्शन पाएंगे कि नहीं पाएंगे सबके साथ मेरा मिलाजुला स्वभाव बदल तो नहीं जाएगा या फिर मुझसे कोई गलती तो नहीं हो जाएगी कि जिसकी वजह से बाद में रिलेशन में कुछ मनमुटाव आ जाए और कई बार ऐसी अच्छी सी फीलिंग भी आती है कि चलो हमारी एक नई लाइफ होगी हमारे पति के साथ और उसी अधिवास सपनों में वो राष्ट्रीय रहती है कई बार कि मैं यह करूंगी हनीमून पर कहां जाएंगे यह करेंगे वह करेंगे उसके बाद मेरे पति काम ऐसे ख्याल रखूंगी वह मुझे इतना प्यार करते हैं तो हमेशा से हम लोग ऐसे ही हंसते खेलते परिवार की आशा करते होते तो उसी के बारे में ज्यादा सोचते रहते हैं और ऐसी पागलपंती भी करते हैं कि कुछ कुछ ऐसे ही खाया ना दिलाते मन में कि वैसे वह छोटी-छोटी चीजें हमारे चेहरे पर खुशी ला कर रख देती तो कई बार दो तरफा मोड़ रहता है कई बार कॉर्टेन सो जाते हैं कई बार बहुत खुश हो जाते हैं कई बार मिक्स होता है कुछ फीलिंग के कई बार ऐसे दोस्तों के साथ बैठने के बाद उशीर करते थे पर वह कुछ सोचते हैं कि क्या मैं जो सोच रही हूं जो मेरी मम्मी का मैंने देखा हुआ है कि उसकी लाइफ कैसी है और क्या मेरी भी वही रहेगी तो कई सारी परेशानियां भी होती है कोई टेंशन भी होती है कोई कोई ऐसे ख्याल आदि होते जो डराते हैं या फिर वह सोचने पर मजबूर कर देते और थोड़ी बहुत ही वह प्यार वाली मोहब्बत वाली भी फीलिंग होती है कि चलो यह करेंगे वह करेंगे कंपलीट पैकेज होता है उसका कुछ रहता नहीं है कि कौन से टाइम पर कौन सा मूल कवर करता है

shadi se theek pehle dulhan ke dimag mein bahut saare aise vichar hote hai jo uski life change hone wali hoti hai uske prati koi aisi pareshaniya bhi hoti hai ki nahi ghar mein kaise aid karenge kya hoga kya nahi hoga uske riti rivaaj mein kaise maan paungi kab kab tak theek paungi kya vaah log mere kaam se setisfekshan payenge ki nahi payenge sabke saath mera milajula swabhav badal toh nahi jaega ya phir mujhse koi galti toh nahi ho jayegi ki jiski wajah se baad mein relation mein kuch manmutaav aa jaaye aur kai baar aisi achi si feeling bhi aati hai ki chalo hamari ek nayi life hogi hamare pati ke saath aur usi adhivas sapno mein vo rashtriya rehti hai kai baar ki main yah karungi honeymoon par kahaan jaenge yah karenge vaah karenge uske baad mere pati kaam aise khayal rakhungi vaah mujhe itna pyar karte hai toh hamesha se hum log aise hi hansate khelte parivar ki asha karte hote toh usi ke bare mein zyada sochte rehte hai aur aisi pagalpanti bhi karte hai ki kuch kuch aise hi khaya na dilate man mein ki waise vaah choti choti cheezen hamare chehre par khushi la kar rakh deti toh kai baar do tarfa mod rehta hai kai baar karten so jaate hai kai baar bahut khush ho jaate hai kai baar mix hota hai kuch feeling ke kai baar aise doston ke saath baithne ke baad ushir karte the par vaah kuch sochte hai ki kya main jo soch rahi hoon jo meri mummy ka maine dekha hua hai ki uski life kaisi hai aur kya meri bhi wahi rahegi toh kai saree pareshaniya bhi hoti hai koi tension bhi hoti hai koi koi aise khayal aadi hote jo darate hai ya phir vaah sochne par majboor kar dete aur thodi bahut hi vaah pyar wali mohabbat wali bhi feeling hoti hai ki chalo yah karenge vaah karenge complete package hota hai uska kuch rehta nahi hai ki kaunsi time par kaun sa mul cover karta hai

शादी से ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में बहुत सारे ऐसे विचार होते हैं जो उसकी लाइफ चेंज होने व

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  5809
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शादी से पहले जो एक कुंवारी लड़की थी उसके दिमाग पर लगता है कि भाई मैं ऐसे जिस परिवार को मैं जा रही हूं मार्केट में लोग कैसे होंगे यदि के लोगों के साथ में में कैसे एडजस्टमेंट करूं इस तरह जीतने का प्रयास करो सारी बातें उसके दिमाग में आती है और लड़की साल वालों के साथ में देगी अपनी अपनी पार्टी के साथ अपनी पारिवारिक संस्कारों के द्वारा सभी का दिल जीत जाती है तो भावी योजनाएं दिमाग पहुंची है यह सारी बातें उसके दिमाग में स्वागत पूछो जो भी दर्शन हो उसे एक नया प्रभार ज्वाइन करना होता है

shadi se pehle jo ek kuwaari ladki thi uske dimag par lagta hai ki bhai main aise jis parivar ko main ja rahi hoon market mein log kaise honge yadi ke logo ke saath mein mein kaise adjustment karu is tarah jitne ka prayas karo saree batein uske dimag mein aati hai aur ladki saal walon ke saath mein degi apni apni party ke saath apni parivarik sanskaron ke dwara sabhi ka dil jeet jaati hai toh bhave yojanaye dimag pahuchi hai yah saree batein uske dimag mein swaagat pucho jo bhi darshan ho use ek naya parbhar join karna hota hai

शादी से पहले जो एक कुंवारी लड़की थी उसके दिमाग पर लगता है कि भाई मैं ऐसे जिस परिवार को मैं

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1282
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न शादी से ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में क्या चलता है शादी से ठीक पहले दिमाग के दुल्हन के दिमाग में चलता है अगर उनकी अरेंज मैरिज है तो थोड़ी डिफरेंट सोच होगी अगर उनका लव मैरिज है तो थोड़ी डिफरेंट डिफरेंट सोचोगे दोनों में थिंकिंग लेवल का ही थी तो वह बंदा आपको खुश रखे वह सारी उम्मीदें अपने सब कुछ पूरे करेगा और उसके ससुराल वाले वह तो आएगी पता नहीं अपना एक-एक नहीं अपना गिटार सीखना है तो ठीक है पर आप से नहीं है तो पता नहीं कैसा होगा क्या होगा जो भी होगा जेल ना ही हो मेंटली फिट करना है अरेंज मैरेज है तो पता नहीं लड़का कैसा होगा शादी के बाद कैसा निकलेगा पासवर्ड कैसे होगे तब अच्छे रखे गए कि नहीं एंड सोरायसिस के सब अच्छा हो ऐसा भी हो सकता है उनके सपने उनके ड्रीम शादी के बाद जॉब करने देंगे कि नहीं चेक करने देगी यह भी होता है तो पॉजिटिव सोचेंगे कि नहीं नगरी सोचेगी तो क्या होगा यह भी होता है क्या रहेगा शादी के बाद लोग अच्छे व्यवहार करेगी कि नहीं मैं वहां एडजस्ट हो पाओगी कि नहीं कुछ सोचते हैं और साथ ही साथ में मम्मी पापा की उनके मम्मी पापा भाई बहन सब कुछ छोड़ कर जाना होगा तो उनकी भी याद आएगी पुरानी सब तेरा सब कुछ बहुत कुछ लड़कों करना पड़ेगा चाहे अरेंज मैरिज लव मैरिज है और बस यही सारी चीज में सोचते रहते हैं दुल्हन हो तो यही सोचेगी फिर अगर और ससुराल और मायका नजदीक नजदीक में है तो लड़की को कोई दिक्कत नहीं आती रहेगी हफ्ते में एक बार लेकिन दूर है आउट ऑफ कंट्री जाना है उठो स्टेट जाना है ऑफ सिटी जाना है तो उसको ज्यादा याद आएगी मम्मी पापा की दूर जाना है अब ज्यादा आने को मिलेगा नहीं मिलेगा धीरे-धीरे आदत हो जाएगी लेकिन जो अरेंज मैरिज लाइफ पार्टनर उसी के साथ ही दिन बिताने रात बितानी है उसी के साथ ही रहना है तो वह खुश भी होगी टेंशन में भी होगी अरेंज मैरिज लव मैरिज में तू टेंशन नहीं रहता है कि वह अपने पार्टनर को पहले से जानते हैं यही नहीं जनरल लिखी गई अच्छी बात है थोड़ा वक्त लगता है दुल्हन को एडजस्ट होने में रूस रेगुलेशन जो होते वह अपनाने में लेकिन वह सेट हो जाते हैं बाद में लेकिन सब को प्यार देना चाहिए और उसे गाना चाहिए तू जरूर हो जाता है कभी-कभी एक जैसे होते हैं कभी-कभी अलग होते हैं बाकी सारी सुख सुविधाएं जैसे मायके में लड़की रहती है वैसे उनको मिलती है लेकिन थोड़ा सा रीति-रिवाज अलग है तो उस हिसाब से भी चलना पड़ता है चलता है उनके दिमाग में

aapka prashna shadi se theek pehle dulhan ke dimag mein kya chalta hai shadi se theek pehle dimag ke dulhan ke dimag mein chalta hai agar unki arrange marriage hai toh thodi different soch hogi agar unka love marriage hai toh thodi different different sochoge dono mein thinking level ka hi thi toh vaah banda aapko khush rakhe vaah saree ummeeden apne sab kuch poore karega aur uske sasural waale vaah toh aayegi pata nahi apna ek ek nahi apna guitar sikhna hai toh theek hai par aap se nahi hai toh pata nahi kaisa hoga kya hoga jo bhi hoga jail na hi ho mentally fit karna hai arrange marriage hai toh pata nahi ladka kaisa hoga shadi ke baad kaisa niklega password kaise hoge tab acche rakhe gaye ki nahi and psoriasis ke sab accha ho aisa bhi ho sakta hai unke sapne unke dream shadi ke baad job karne denge ki nahi check karne degi yah bhi hota hai toh positive sochenge ki nahi nagari sochegi toh kya hoga yah bhi hota hai kya rahega shadi ke baad log acche vyavhar karegi ki nahi main wahan adjust ho paogi ki nahi kuch sochte hain aur saath hi saath mein mummy papa ki unke mummy papa bhai behen sab kuch chod kar jana hoga toh unki bhi yaad aayegi purani sab tera sab kuch bahut kuch ladko karna padega chahen arrange marriage love marriage hai aur bus yahi saree cheez mein sochte rehte hain dulhan ho toh yahi sochegi phir agar aur sasural aur mayaka nazdeek nazdeek mein hai toh ladki ko koi dikkat nahi aati rahegi hafte mein ek baar lekin dur hai out of country jana hai utho state jana hai of city jana hai toh usko zyada yaad aayegi mummy papa ki dur jana hai ab zyada aane ko milega nahi milega dhire dhire aadat ho jayegi lekin jo arrange marriage life partner usi ke saath hi din bitane raat bitani hai usi ke saath hi rehna hai toh vaah khush bhi hogi tension mein bhi hogi arrange marriage love marriage mein tu tension nahi rehta hai ki vaah apne partner ko pehle se jante hain yahi nahi general likhi gayi achi baat hai thoda waqt lagta hai dulhan ko adjust hone mein rus regulation jo hote vaah apnane mein lekin vaah set ho jaate hain baad mein lekin sab ko pyar dena chahiye aur use gaana chahiye tu zaroor ho jata hai kabhi kabhi ek jaise hote hain kabhi kabhi alag hote hain baki saree sukh suvidhaen jaise mayke mein ladki rehti hai waise unko milti hai lekin thoda sa riti rivaaj alag hai toh us hisab se bhi chalna padta hai chalta hai unke dimag mein

आपका प्रश्न शादी से ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में क्या चलता है शादी से ठीक पहले दिमाग के दु

Romanized Version
Likes  571  Dislikes    views  7262
WhatsApp_icon
user

Rohit Kumar Thakur

Music Coaching

9:54
Play

Likes  11  Dislikes    views  238
WhatsApp_icon
user

Purushottam Choudhary

ब्राह्मण Next IAS institute गार्ड

1:54
Play

Likes  62  Dislikes    views  1242
WhatsApp_icon
user
2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शादी से ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में क्या चलता है वह एक पराए घर में जाने वाली है उसे मालूम है वहां सब अनजान से चेहरे रहेंगे उनके बीच में अनजान लोगों के बीच में उसे अपना जीवन निर्वाह करना है फिर सभाओं के कैसे होंगे सांसद लोग कैसे होंगे जेठ जेठानी का स्वभाव कैसा होगा क्या मैं उनको निभा पाऊंगी क्या मैं उन्हें 110 हो पाऊंगी क्या मैं उनको संतुष्ट कर पाऊंगी इस तरह के विचार उसके मन में चलते हैं मुझे भी विचार आता है कि यदि मन को संतोष नहीं कर पाए को तो क्या होगा क्या मैं अगर संतोष नेकेड भाई में उनके कार्य में खरी खरी नहीं उतरी तो क्या होगा मेरे साथ में ऐसे विचार उसके साथ मनाते हैं इसके सिवा और जब मां से जाने के लिए समय आता है तो उसके मन में एक दिमाग में चलता है उसके बूढ़े मां बाप है और उसके भाई बंधु नहीं है के मन नहीं आता कि इन बूढ़े मां-बाप का ध्यान कौन रखेगा क्या होगा मेरे मां-बाप का या उसका भाई है भाई भाभी है और वह मां-बाप को ठीक से उनके रहते रहते नहीं रखते हैं तो भी यह मन विचार आता है कि मैं चली जाऊंगी मेरे मां-बाप को मेरे भाई भाभी कैसे रखेंगे यदि भाई भाभी नहीं है और उसके केवल भाई अकेला ही है और मां-बाप है और वह कुंवारा है तू भी उसे भी पी कर दी कि मेरे इस परिवार का क्या होगा इसको छोटे से भाई है अभी उम्र बहुत कम जो छोटा है तो उसी फिकरे देगी यह मेरा भाई मेरे मां-बाप का कैसे ख्याल रखेगा क्या होगा मैं तो दूर जाओगी मेरे मां-बाप मेरे बिना कैसे रह पाएंगे सुखी रह पाएंगे कि दुखी रह पाएंगे और यदि उन्हें दुख पहुंचेगा दुख भरा होगा तो मैं उनको के शहर कर पाओगे इश्वर की तरह के विचार करते हुए वह शादी के फेरे ले चाहिए और उसके पास जाती है तो यह स्थिति एक मानसिक रूप से दुल्हन की रहती है मेरी यह सोच है और हो सकता है इसमें और भी कुछ हो सकता है उसको अपने परिवार अपने समाज अपने एजेंट पड़ोसी अपने मोहल्ले उसके बारे में भी ज्यादा वर्षा कितने मन में लेकर जाती होगी यह मैं नहीं कह सकता हूं हो सकता है वहां जाने के पहले भी एक नए-नए सपने सच है कि मैं साजन के घर जाऊंगी मैं कैसे सुखी रहूंगी साजन मुझे कैसा रहेगा ऐसे प्रेम करेगा कि से मुझे घूम आएगा फिर आएगा यह भी दिमाग में चलता है कोई नहीं बचा सकता है वह एक दूसरे परिवार में अपने आप को समाज करने के लिए मन मजबूत कर लेती है और चल पड़ती है उस डगर पर धन्यवाद

shadi se theek pehle dulhan ke dimag mein kya chalta hai vaah ek parae ghar mein jaane wali hai use maloom hai wahan sab anjaan se chehre rahenge unke beech mein anjaan logo ke beech mein use apna jeevan nirvah karna hai phir sabhaon ke kaise honge saansad log kaise honge jeth jethani ka swabhav kaisa hoga kya main unko nibha paungi kya main unhe 110 ho paungi kya main unko santusht kar paungi is tarah ke vichar uske man mein chalte hain mujhe bhi vichar aata hai ki yadi man ko santosh nahi kar paye ko toh kya hoga kya main agar santosh naked bhai mein unke karya mein khadi khadi nahi utari toh kya hoga mere saath mein aise vichar uske saath manate hain iske siva aur jab maa se jaane ke liye samay aata hai toh uske man mein ek dimag mein chalta hai uske budhe maa baap hai aur uske bhai bandhu nahi hai ke man nahi aata ki in budhe maa baap ka dhyan kaun rakhega kya hoga mere maa baap ka ya uska bhai hai bhai bhabhi hai aur vaah maa baap ko theek se unke rehte rehte nahi rakhte hain toh bhi yah man vichar aata hai ki main chali jaungi mere maa baap ko mere bhai bhabhi kaise rakhenge yadi bhai bhabhi nahi hai aur uske keval bhai akela hi hai aur maa baap hai aur vaah kunwara hai tu bhi use bhi p kar di ki mere is parivar ka kya hoga isko chote se bhai hai abhi umr bahut kam jo chota hai toh usi fikre degi yah mera bhai mere maa baap ka kaise khayal rakhega kya hoga main toh dur jaogi mere maa baap mere bina kaise reh payenge sukhi reh payenge ki dukhi reh payenge aur yadi unhe dukh pahunchaega dukh bhara hoga toh main unko ke shehar kar paoge ishvar ki tarah ke vichar karte hue vaah shadi ke fere le chahiye aur uske paas jaati hai toh yah sthiti ek mansik roop se dulhan ki rehti hai meri yah soch hai aur ho sakta hai isme aur bhi kuch ho sakta hai usko apne parivar apne samaj apne agent padosi apne mohalle uske bare mein bhi zyada varsha kitne man mein lekar jaati hogi yah main nahi keh sakta hoon ho sakta hai wahan jaane ke pehle bhi ek naye naye sapne sach hai ki main sajan ke ghar jaungi main kaise sukhi rahungi sajan mujhe kaisa rahega aise prem karega ki se mujhe ghum aayega phir aayega yah bhi dimag mein chalta hai koi nahi bacha sakta hai vaah ek dusre parivar mein apne aap ko samaj karne ke liye man majboot kar leti hai aur chal padti hai us Dagar par dhanyavad

शादी से ठीक पहले दुल्हन के दिमाग में क्या चलता है वह एक पराए घर में जाने वाली है उसे मालूम

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  210
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!