क्या सात्विक खाद्य पदार्थ हमें लंबे समय तक जीने में मदद करते हैं?...


user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शापित पदार्थों में लंबे समय के लिए हमारी पूरी पूरी मदद अधिक भोजन शुद्ध सात्विक भोजन लेना चाहिए धन्यवाद

shaapit padarthon me lambe samay ke liye hamari puri puri madad adhik bhojan shudh Satvik bhojan lena chahiye dhanyavad

शापित पदार्थों में लंबे समय के लिए हमारी पूरी पूरी मदद अधिक भोजन शुद्ध सात्विक भोजन लेना च

Romanized Version
Likes  225  Dislikes    views  2502
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

2:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है क्या सात्विक आहार पदार्थ का क्वेश्चन है कि शातिर आहार्य पदार्थ लंबे समय तक जीने के लिए मदद करते हैं देखिए यह सच्चाई है कि सात्विक आहार यानी भेज जो फूड होता है और नॉन वेजिटेरियन के बने शपथ ज्यादा प्रभावकारी प्रभावशाली होता है जिसका आज उदाहरण पूरे विश्व में आप देख लीजिए हमारे इंडियन लोग मैक्सिमम लोग शाकाहारी होते हैं शादी कर लेते हैं जितनी जनसंख्या है उस हिसाब से हम लोग काफी अभी सुरक्षित है करुणा के मामले में जितने भी नॉनवेजिटेरियन लोग हैं और सारे देश देख लीजिए वहां क्या हाल है कारण कि नॉनवेज को पचने में 12 से 14 घंटे कम से कम लग जाते हैं लेकिन सात्विक आहार को पचने में 5 से 6 घंटे में उठाना पड़ जाता है उसके लिए हमारे शरीर को बहुत ज्यादा मेहनत करने की आवश्यकता नहीं होती लेकिन नॉनवेज के लिए हमारे शरीर के जितने पास सब कुछ ज्यादा मेहनत करना पड़ता है इसलिए इंटरनल जितने भी गेम हैं सब एक्टिव हो जाते हैं क्योंकि उनसे बारंबार ज्यादा से ज्यादा काम लिया जाता है इसलिए वह बहुत जल्दी अंदर से पुराने हो जाते हैं और काम करने बंद कर देते हैं इसलिए विदेशियों का इम्यूनिटी पावर जो होता है पापी कमजोर होता है इंडियन व्यक्ति के अपेक्षाकृत यह उदाहरण आपके सामने है देख सकते हैं पूरे विश्व को देख लीजिए एक हिंदुस्तान को देख लीजिए क्या हाल है सबका हम लोग साथी का हाल लेते हैं उसी का परिणाम है कि आज हमने तो दर काफी कम है और देशों के अपेक्षाकृत धन्यवाद

aapka question hai kya Satvik aahaar padarth ka question hai ki shatir aharya padarth lambe samay tak jeene ke liye madad karte hain dekhiye yah sacchai hai ki Satvik aahaar yani bhej jo food hota hai aur non vegetarian ke bane shapath zyada prabhavkari prabhavshali hota hai jiska aaj udaharan poore vishwa me aap dekh lijiye hamare indian log maximum log shakahari hote hain shaadi kar lete hain jitni jansankhya hai us hisab se hum log kaafi abhi surakshit hai corona ke mamle me jitne bhi nanvejiteriyan log hain aur saare desh dekh lijiye wahan kya haal hai karan ki nonveg ko pachane me 12 se 14 ghante kam se kam lag jaate hain lekin Satvik aahaar ko pachane me 5 se 6 ghante me uthana pad jata hai uske liye hamare sharir ko bahut zyada mehnat karne ki avashyakta nahi hoti lekin nonveg ke liye hamare sharir ke jitne paas sab kuch zyada mehnat karna padta hai isliye internal jitne bhi game hain sab active ho jaate hain kyonki unse barambar zyada se zyada kaam liya jata hai isliye vaah bahut jaldi andar se purane ho jaate hain aur kaam karne band kar dete hain isliye videshiyon ka immunity power jo hota hai papi kamjor hota hai indian vyakti ke apekshakrit yah udaharan aapke saamne hai dekh sakte hain poore vishwa ko dekh lijiye ek Hindustan ko dekh lijiye kya haal hai sabka hum log sathi ka haal lete hain usi ka parinam hai ki aaj humne toh dar kaafi kam hai aur deshon ke apekshakrit dhanyavad

आपका क्वेश्चन है क्या सात्विक आहार पदार्थ का क्वेश्चन है कि शातिर आहार्य पदार्थ लंबे समय त

Romanized Version
Likes  221  Dislikes    views  5810
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका कुछ नहीं किया साथ में खातेदार हमें लंबे समय तक जीने में मदद करते हैं हमेशा पूजन करना चाहिए था तो है हम करेंगे तो शारीरिक मानसिक रूप से स्वस्थ रहेंगे शारीरिक रूप से उपस्थित होना चाहिए राष्ट्रीय चंचलता मन में भरेगी टाइम से क्या कर लेंगे तो आप हमारे अंदर उत्पन्न हो जाते हैं पेट से लेकर मान चलेगी ना जाने कितने लोग उत्पन्न होते हैं तो हम भी नहीं कर पाते हो तो बता देना चाहिए आपका विचार बहुत ही अच्छा है धन्यवाद

aapka kuch nahi kiya saath me khatedar hamein lambe samay tak jeene me madad karte hain hamesha pujan karna chahiye tha toh hai hum karenge toh sharirik mansik roop se swasth rahenge sharirik roop se upasthit hona chahiye rashtriya chanchalata man me bharegi time se kya kar lenge toh aap hamare andar utpann ho jaate hain pet se lekar maan chalegi na jaane kitne log utpann hote hain toh hum bhi nahi kar paate ho toh bata dena chahiye aapka vichar bahut hi accha hai dhanyavad

आपका कुछ नहीं किया साथ में खातेदार हमें लंबे समय तक जीने में मदद करते हैं हमेशा पूजन करना

Romanized Version
Likes  124  Dislikes    views  3730
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां सादिक खाद पदार्थ आपको लंबे समय तक जीने में मदद करता है वह इसलिए जैसे हमारा जो भोजन का तंत्र है उसे हेल्प करता है सात्विक भोजन में आप स्वास्थ्य की ही आहार लेते हैं मात्रा के अनुसार ज्यादा मिर्च मसाले ना लेते हुए जिससे हमारे तंत्र को प्रभाव पड़ता है तो आप जब तंत्र हमारा सही रहेगा तो आप लंबे समय तक जी सकते हैं स्वास्तिक भोजन के अनुसार तो आप चाहते भोजन करें निरोगी रहें लंबे समय तक लिए

ji haan sadik khad padarth aapko lambe samay tak jeene me madad karta hai vaah isliye jaise hamara jo bhojan ka tantra hai use help karta hai Satvik bhojan me aap swasthya ki hi aahaar lete hain matra ke anusaar zyada mirch masale na lete hue jisse hamare tantra ko prabhav padta hai toh aap jab tantra hamara sahi rahega toh aap lambe samay tak ji sakte hain swastik bhojan ke anusaar toh aap chahte bhojan kare nirogee rahein lambe samay tak liye

जी हां सादिक खाद पदार्थ आपको लंबे समय तक जीने में मदद करता है वह इसलिए जैसे हमारा जो भोजन

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  1279
WhatsApp_icon
play
user

Mukesh Kumar

Yoga Instructor

0:54

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

करीब-करीब इसलिए जीते हैं लंबे समय तक क्योंकि उनके बॉडी में जो साथी भोजन जाता है उससे उनका इम्यून सिस्टम हाई हो जाता है बॉडी में ऑक्सीजन का लेवल अच्छा रहता उनके शरीर में जो भी नस नाडिया हैं वह मजबूत रहती हैं उनमें रक्त का प्रवाह बहुत उचित ढंग से होता है और जो मांसाहारी लोग भोजन करते हैं उन्हें कोलेस्ट्रॉल का लेवल हाई रेटेड हाई रहता है और बहुत सारे नखरा ते रहते हैं इससे उनके शरीर का जो भी इम्यून सिस्टम है वह लो हो जाता और धीरे-धीरे स्लो हो जाते हैं काम करना जो भी लोग खाते हैं उन्हें ज्यादा पाई गई है जो दोनों की संभावना

kareeb kareeb isliye jeete hain lambe samay tak kyonki unke body mein jo sathi bhojan jata hai usse unka immune system high ho jata hai body mein oxygen ka level accha rehta unke sharir mein jo bhi nas nadia hain vaah majboot rehti hain unmen rakt ka pravah bahut uchit dhang se hota hai aur jo masahari log bhojan karte hain unhe cholesterol ka level high rated high rehta hai aur bahut saare nakhra te rehte hain isse unke sharir ka jo bhi immune system hai vaah lo ho jata aur dhire dhire slow ho jaate hain kaam karna jo bhi log khate hain unhe zyada payi gayi hai jo dono ki sambhavna

करीब-करीब इसलिए जीते हैं लंबे समय तक क्योंकि उनके बॉडी में जो साथी भोजन जाता है उससे उनका

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  401
WhatsApp_icon
user

Dr. N S S Gauri

Ayurvedic Doctor

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह जरूरी नहीं है कि साथ में खाद्य पदार्थ आपको लंबे समय तक जीवित रहने की उपलब्धता करें लंबे समय तक जीवन के लिए सामाजिक और व्यवहारिक तौर पर और भी कई फैक्टर होते हैं इनका और रोल होता है सबसे बड़ा फैक्टर आपके बदन की इम्यूनिटी पावर और फिजिकल एक्टिविटी के लिए उपलब्धता का है

yah zaroori nahi hai ki saath mein khadya padarth aapko lambe samay tak jeevit rehne ki upalabdhata kare lambe samay tak jeevan ke liye samajik aur vyavaharik taur par aur bhi kai factor hote hain inka aur roll hota hai sabse bada factor aapke badan ki immunity power aur physical activity ke liye upalabdhata ka hai

यह जरूरी नहीं है कि साथ में खाद्य पदार्थ आपको लंबे समय तक जीवित रहने की उपलब्धता करें लंबे

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  257
WhatsApp_icon
user
3:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हरि ओम नमस्कार खाद्य पदार्थ हमें लंबे समय तक जीने में मदद करते हैं प्रश्न था कि आपने तो दिनों से होंगी मेरे साथ में लंबी लंबी आयु जीने में मदद नहीं पड़ता जैसे कि अलग कि आप आजकल देख रही हैं कोरोना वायरस कोविड-19 एक तामसिक मांसाहारी खाद्य पदार्थ का रिजल्ट है कि लोगों ने बहुत से मांसाहार को खाया और इस तरह के वायरस हमारे हाथ पर तामसिक पदार्थों में कभी भी हमारे जीवन में सफल होने की तरफ नहीं बढ़ा वह सिर्फ हमारे जीवा के स्वाद के लिए हम ले सकते हैं बाकी वह हमें लंबी और निश्चित आयु अभी प्रदान नहीं करते जैसे क्या पहले देखेंगे पहले की जो ऋषि मुनि हुआ करते थे हमारे वैदिक काल में घुसकर और सात्विक आहार को ही लेते थे जिस मुझे कंदमूल और फल वगैरा ही होते थे उनकी आयु यदि आप देखेंगे तो 100 वर्ष से ज्यादा होती है इंसान की जो निश्चित ही 120 वर्ष होती है और आजकल की उसमें से स्टार्ट फ्रॉम करते ही बुढ़ापे में आने लग जाते हैं और हमारा जीवन चक्र रुक जाता है और हमें कब मृत्यु आ जाते हैं हमें पता है यह सब तामसी प्रवृत्ति होता हमसे खाद्य पदार्थों का ही रिजल्ट है कि जो हमारी प्रवृत्ति है वह पूर्ण रूप से काम से पूछो कि हम सात्विकता को छोड़कर हम शान से प्रभावों में पढ़ रहे हैं वेस्टर्न कल्चर को देख रहे हैं लेकिन जो सात्विकता हमें मिली है हमारे ऋषि-मुनियों से वह हमारे लिए बहुत ही अमूल्य यदि हम नहीं समझेंगे तो हम अपनी आयु का शेर खुद ब खुद करते हैं सात्विक आहार ही हमारे जीवन का आधार है तामसी क्या रात से कहार हमारे जीने का आधार कभी नहीं बन सकते वह मात्र एक स्वाद की पूर्णता करने के लिए होते हैं हमारी इंद्रियां है उनके उनकी मौलिकता को खत्म करने के लिए होते हैं बाकी उसका कोई महत्व हमारे जीवन में नहीं होता तो आप साथ में कहां से जुड़ी सात्विक विचारों से जुड़ी कहां के साथी आपके विचार भी साफ होते जाएंगे और आप आपकी आयु और बढ़ेगी यदि आपके जीवन में किसी भी तरह का रोग नहीं होगा आप स्वीकार लेते हैं तो आपके जीवन में रोगी नहीं आएगा सात्विक जीवन शैली लेते हैं जीते रोगी नहीं आता तो जब भी नहीं होगा रोगों का निवारण हो पाएगा सरकारी बढ़ेगी बढ़ेगी और यह भाव रखते हैं प्रकृति के विरुद्ध जाते हैं उसके विरुद्ध चलते हैं तो निश्चित रूप से रोग आएंगे आएंगे हर तरह की चीज के पीछे एक कारण इस कारण को पहले

hari om namaskar khadya padarth hamein lambe samay tak jeene me madad karte hain prashna tha ki aapne toh dino se hongi mere saath me lambi lambi aayu jeene me madad nahi padta jaise ki alag ki aap aajkal dekh rahi hain corona virus kovid 19 ek tamasik masahari khadya padarth ka result hai ki logo ne bahut se mansahaari ko khaya aur is tarah ke virus hamare hath par tamasik padarthon me kabhi bhi hamare jeevan me safal hone ki taraf nahi badha vaah sirf hamare Jiva ke swaad ke liye hum le sakte hain baki vaah hamein lambi aur nishchit aayu abhi pradan nahi karte jaise kya pehle dekhenge pehle ki jo rishi muni hua karte the hamare vaidik kaal me ghuskar aur Satvik aahaar ko hi lete the jis mujhe kandamul aur fal vagera hi hote the unki aayu yadi aap dekhenge toh 100 varsh se zyada hoti hai insaan ki jo nishchit hi 120 varsh hoti hai aur aajkal ki usme se start from karte hi budhape me aane lag jaate hain aur hamara jeevan chakra ruk jata hai aur hamein kab mrityu aa jaate hain hamein pata hai yah sab taamsi pravritti hota humse khadya padarthon ka hi result hai ki jo hamari pravritti hai vaah purn roop se kaam se pucho ki hum satwikata ko chhodkar hum shan se prabhavon me padh rahe hain western culture ko dekh rahe hain lekin jo satwikata hamein mili hai hamare rishi muniyon se vaah hamare liye bahut hi amuly yadi hum nahi samjhenge toh hum apni aayu ka sher khud bsp khud karte hain Satvik aahaar hi hamare jeevan ka aadhar hai taamsi kya raat se kahar hamare jeene ka aadhar kabhi nahi ban sakte vaah matra ek swaad ki purnata karne ke liye hote hain hamari indriya hai unke unki maulikata ko khatam karne ke liye hote hain baki uska koi mahatva hamare jeevan me nahi hota toh aap saath me kaha se judi Satvik vicharon se judi kaha ke sathi aapke vichar bhi saaf hote jaenge aur aap aapki aayu aur badhegi yadi aapke jeevan me kisi bhi tarah ka rog nahi hoga aap sweekar lete hain toh aapke jeevan me rogi nahi aayega Satvik jeevan shaili lete hain jeete rogi nahi aata toh jab bhi nahi hoga rogo ka nivaran ho payega sarkari badhegi badhegi aur yah bhav rakhte hain prakriti ke viruddh jaate hain uske viruddh chalte hain toh nishchit roop se rog aayenge aayenge har tarah ki cheez ke peeche ek karan is karan ko pehle

हरि ओम नमस्कार खाद्य पदार्थ हमें लंबे समय तक जीने में मदद करते हैं प्रश्न था कि आपने तो दि

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  220
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!