आयुर्वेद के अनुसार, हमारे शरीर में हज़ार ों "नाड़ी" हैं। वे क्या हैं?...


user

Pinkesh Negi

Yoga Ayurveda

3:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर में हजारों नारी है वह क्या है देखिए हमारे शरीर में हजारों गाड़ियां हैं तो वह जो नाडिया है वह क्या करते हैं हमारी बॉडी में जो भी धातु है उन धातुओं का एक स्थान से दूसरे स्थान में जो क्या करके पहुंचाने के काम करती है क्योंकि हमारा शरीर जो है नालियों के थ्रू ही अपना जो है क्या करता है न्यूट्रेशन प्राप्त करता है तो इसलिए इन नालियों को जो है हजारों की संख्या में बताए गए इनमें कुछ नारियां होती है जिनमें वाद वाद पहना दिया होती है कब वह नारियां होती है पित्त वह नारियां होती है रक्त बह नारियां होती है और इन्हीं नाड़ियों से जो है क्या होता है शरीर के अंदर अलग-अलग दांत अलग अलग बहुत सारी प्रांत में उनकी गाड़ियों की ब्रांच बन जाती है और यह हजारों की संख्या में पहुंच जाती है इनमें से जो बॉडी में जो होती है जो शिराएं होती है वह आयुर्वेद के अनुसार 700 शिराएं बताए गए हैं जिसमें से 40 मैन होती है जिसमें से वात पित्त कफ रक्त तीनों अत्याचारों की गत दस दस नारियां होती है और यह जो है जब पूरे शरीर में फैलती है तो 175 175 के रूप में पूरे 175 के आसपास एक दोस्त की नाड़ी फैलती है तो यह लगभग लगभग पूरे आपकी बॉडी में सात सौ के आसपास यह नालियां हो जाती है और चीन का जो काम रहता है बॉडी में यह जो क्या कहते हैं वह धातुओं की पुष्टि करवाने का कार्य करती है शुद्ध रक्त को शुद्ध रक्त को उसके उसके कोच में पहुंच आती है उस टाइम पहुंचाती है अशुद्ध रक्त को जहां उसे जाना चाहिए वहां पहुंच जाती है कहां पर हुआ यू कम है कहां पर हो जाता है कहां पर पिक की प्रबलता है कहां पर चाहिए कहां पर नहीं चाहिए कहां पर कब से कहां पर लिक्विड चाहिए तू यह सब चीजें झाड़ियों के थ्रू होता है तो नाड़ियों का आयुर्वेद में बहुत ज्यादा इन पोटेंट है और इनके ही द्वारा हमारा पूरा सिस्टम जयपुर जोन क्रिया विज्ञान है जो कि हम आधुनिक भाषा में कह देते हैं जूलॉजी जो है इन गाड़ियों के द्वारा ही पूरा फिजियोलॉजी संचालित होता है इनके द्वारा ही जो भी आपका हारमोंस बनेगा जिस प्रकार का भी हारमोंस बनेगा वह इनके द्वारा ही इनकी पुष्टि करवाता है इस एंडोक्राइन में जो एंडोक्राइन और एंडोक्राइन सिस्टम में आपको नारियों की जरूरत नहीं लेकिन सिस्टम है भाई स्रावी ग्रंथियां हैं उन ग्रंथियों को उनके जो जो जो भी वह बनाते हैं जो कि उनका सिस्टम जो भी उनका सी क्वेश्चन रहता है वह श्री कृष्ण को जो है ex-prime जो कैलेंडर होती है वह नाड़ियों के द्वारा ही शरीर में एक स्थान से दूसरे स्थान में पहाड़ियों का हमारे शरीर में बहुत ज्यादा इंपोर्टेंट है

aapka prashna hai ayurveda ke anusaar hamare sharir me hazaro nari hai vaah kya hai dekhiye hamare sharir me hazaro gadiyan hain toh vaah jo nadia hai vaah kya karte hain hamari body me jo bhi dhatu hai un dhatuon ka ek sthan se dusre sthan me jo kya karke pahunchane ke kaam karti hai kyonki hamara sharir jo hai naliyon ke through hi apna jo hai kya karta hai nyutreshan prapt karta hai toh isliye in naliyon ko jo hai hazaro ki sankhya me bataye gaye inmein kuch nariyan hoti hai jinmein vad vad pehna diya hoti hai kab vaah nariyan hoti hai pitt vaah nariyan hoti hai rakt wah nariyan hoti hai aur inhin nadiyon se jo hai kya hota hai sharir ke andar alag alag dant alag alag bahut saari prant me unki gadiyon ki branch ban jaati hai aur yah hazaro ki sankhya me pohch jaati hai inmein se jo body me jo hoti hai jo shiraen hoti hai vaah ayurveda ke anusaar 700 shiraen bataye gaye hain jisme se 40 man hoti hai jisme se vaat pitt cough rakt tatvo atyacharo ki gat das das nariyan hoti hai aur yah jo hai jab poore sharir me failati hai toh 175 175 ke roop me poore 175 ke aaspass ek dost ki naadi failati hai toh yah lagbhag lagbhag poore aapki body me saat sau ke aaspass yah naliyan ho jaati hai aur china ka jo kaam rehta hai body me yah jo kya kehte hain vaah dhatuon ki pushti karwane ka karya karti hai shudh rakt ko shudh rakt ko uske uske coach me pohch aati hai us time pahunchati hai ashuddh rakt ko jaha use jana chahiye wahan pohch jaati hai kaha par hua you kam hai kaha par ho jata hai kaha par pic ki prabalta hai kaha par chahiye kaha par nahi chahiye kaha par kab se kaha par liquid chahiye tu yah sab cheezen jhadiyon ke through hota hai toh nadiyon ka ayurveda me bahut zyada in potent hai aur inke hi dwara hamara pura system jaipur zone kriya vigyan hai jo ki hum aadhunik bhasha me keh dete hain zoology jo hai in gadiyon ke dwara hi pura physiology sanchalit hota hai inke dwara hi jo bhi aapka hormones banega jis prakar ka bhi hormones banega vaah inke dwara hi inki pushti karwata hai is endocrine me jo endocrine aur endocrine system me aapko nariyon ki zarurat nahi lekin system hai bhai srawi granthiyan hain un granthiyon ko unke jo jo jo bhi vaah banate hain jo ki unka system jo bhi unka si question rehta hai vaah shri krishna ko jo hai ex prime jo calendar hoti hai vaah nadiyon ke dwara hi sharir me ek sthan se dusre sthan me pahadiyon ka hamare sharir me bahut zyada important hai

आपका प्रश्न है आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर में हजारों नारी है वह क्या है देखिए हमारे शरी

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  582
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!