आयुर्वेद में वात, पित्त और कफ का क्या अर्थ है?...


play
user

Dr. Mani Bhushan Kumar

Ayurveda Specialist, Patna

0:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोट 32 होता है जैसे ही लोग मॉडर्न साथ में बोलते हैं ना के इंफेक्शन हमारे यहां जाता कि तीन रूप होते हैं बहुत बड़ी में बातचीत कर बात होता है पैसे की ताकत बबलगम होता है यह कहा जाता है यदि तीनों को सामान्य किया जाए तो दूर हट जाता है इसीलिए आयुर्वेद में परफेक्ट फिट होता है क्योंकि दूध का स्टेटमेंट होता है

note 32 hota hai jaise hi log modern saath mein bolte hain na ke infection hamare yahan jata ki teen roop hote hain bahut badi mein batchit kar baat hota hai paise ki takat bubblegum hota hai yah kaha jata hai yadi tatvo ko samanya kiya jaaye toh dur hut jata hai isliye ayurveda mein perfect fit hota hai kyonki doodh ka statement hota hai

नोट 32 होता है जैसे ही लोग मॉडर्न साथ में बोलते हैं ना के इंफेक्शन हमारे यहां जाता कि तीन

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  1503
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसका मतलब होता है आयुर्वेद में कोई लेटेस्ट प्रोग्राम कॉमन लैंग्वेज में बात करेंगे फिर भी नहीं बात कर ले पिंटू जी आपका सच्चा लगता है आप की दया है आपकी मचल गया बैलेंस

iska matlab hota hai ayurveda mein koi latest program common language mein baat karenge phir bhi nahi baat kar le pintu ji aapka saccha lagta hai aap ki daya hai aapki machal gaya balance

इसका मतलब होता है आयुर्वेद में कोई लेटेस्ट प्रोग्राम कॉमन लैंग्वेज में बात करेंगे फिर भी न

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  338
WhatsApp_icon
user

Dr. Satyendra Sharma

Ayurvedic Doctor

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जल अग्नि वायु और आकाश यह पंचमहाभूते से हमारा शरीर बना है और इनमें जो तीन चीजें हैं जल अग्नि और वायु लकी और आकाश का कुछ कुछ इसका मिलकर वह सब करा हुआ है सो जो जल तत्व है बुक्काक की बीमारी पैदा करता है जल की प्रकृति ठंडी या गर्म होता है जब आप देखेंगे तो बहुत लॉजिक है इसमें आपको बड़ा सा अग्नि तत्व आज देखेंगे तो एसिडिटी होती थी तो जलन होती छाती में अग्नि तत्व अग्नि तत्व जो है शरीर में आपको एलर्जी प्रॉब्लम लाएगा जो भी खुशी होगी मोटी आंखें करती जलाती है तो आपको बाहर आएंगे तो योग्यता पूर्वक वायु जो जोड़ों में दर्द हो गए हो ना यह बात रोक ना सारा दिन भर से संबंधित

jal agni vayu aur akash yah panchamahabhute se hamara sharir bana hai aur inmein jo teen cheezen hain jal agni aur vayu lucky aur akash ka kuch kuch iska milkar vaah sab kara hua hai so jo jal tatva hai bukkak ki bimari paida karta hai jal ki prakriti thandi ya garam hota hai jab aap dekhenge toh bahut logic hai isme aapko bada sa agni tatva aaj dekhenge toh acidity hoti thi toh jalan hoti chhati mein agni tatva agni tatva jo hai sharir mein aapko allergy problem layega jo bhi khushi hogi moti aankhen karti jalati hai toh aapko bahar aayenge toh yogyata purvak vayu jo jodo mein dard ho gaye ho na yah baat rok na saara din bhar se sambandhit

जल अग्नि वायु और आकाश यह पंचमहाभूते से हमारा शरीर बना है और इनमें जो तीन चीजें हैं जल अग्न

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!