मैं आयुर्वेद सीखना चाहता हूं। इसकी कुछ बुनियादी बातों को समझने के लिए कुछ दिलचस्प किताबें क्या हैं?...


play
user

Dr. A Parvaiz

Ayurvedic Doctors

0:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको आज भी सीखना है तो पहले आपके पास करना होगा उसके बाद आपको मेडिकल कॉलेज में एडमिशन लेना होगा ऐसे मेडिकल कॉलेजेस बहुत सारे इंडिया में जैसे आपका हर स्टेट में है कोलकाता भी है डिग्री कॉलेज नहीं होता नीट मॉडल पर किसका होता है

agar aapko aaj bhi sikhna hai toh pehle aapke paas karna hoga uske baad aapko medical college mein admission lena hoga aise medical colleges bahut saare india mein jaise aapka har state mein hai kolkata bhi hai degree college nahi hota neet model par kiska hota hai

अगर आपको आज भी सीखना है तो पहले आपके पास करना होगा उसके बाद आपको मेडिकल कॉलेज में एडमिशन ल

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1918
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr Ramesh Kumar

Ayurvedic Doctor

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि आप एक बुक आती है अष्टांग हृदयम है और अष्टांग संग्रह जिसमें कि 7000 तरह के नियम है तो यदि आप उसमें थोड़ा सा भी कुछ अध्ययन करें और यदि आप यह तो काफी लंबी बातें हो जाएगी ठीक है लोग बीमार कम होते थे नहीं तो बराबर बीमार होते थे और आज बहुत भयानक भयानक बीमारी हो रही है अब लगभग 95% लोग बीमार है आज के पीछे बैठ जाएं और आप यह देखें कि पहले के लोग क्या करते थे कि जिस कारण बीमार नहीं सकते थे यदि आप इस पर थोड़ा सा ध्यान देंगे तो पहले की जितनी भी रूल जो भी आयुर्वेद के रूंस थे ना वह सभी आयुर्वेद के रूल शॉट शॉट मतलब छोटी-छोटी बातों में मौखिक रूप से अपने मतलब नेक्स्ट जेनरेशन को सिखा दिया जाता था देसी की बात करके खाना खाओ जमीन पर बैठकर खाना खाओ खाना खाने के बाद तुरंत पानी मत पियो यही समूची राजीव दीक्षित और दूसरा है इनका आप और थोड़ा सा पढ़ लो बहुत मतलब है शॉर्टकट में लिखें और तो बहुत कम समय में आप आयुर्वेद को अच्छी तरह से समझ सकते हैं

yadi aap ek book aati hai ashtanga hridayam hai aur ashtanga sangrah jisme ki 7000 tarah ke niyam hai toh yadi aap usme thoda sa bhi kuch adhyayan kare aur yadi aap yah toh kaafi lambi batein ho jayegi theek hai log bimar kam hote the nahi toh barabar bimar hote the aur aaj bahut bhayanak bhayaanak bimari ho rahi hai ab lagbhag 95 log bimar hai aaj ke peeche baith jayen aur aap yah dekhen ki pehle ke log kya karte the ki jis karan bimar nahi sakte the yadi aap is par thoda sa dhyan denge toh pehle ki jitni bhi rule jo bhi ayurveda ke runs the na vaah sabhi ayurveda ke rule shot shot matlab choti choti baaton mein maukhik roop se apne matlab next generation ko sikha diya jata tha desi ki baat karke khana khao jameen par baithkar khana khao khana khane ke baad turant paani mat piyo yahi samuchi rajeev dixit aur doosra hai inka aap aur thoda sa padh lo bahut matlab hai shortcut mein likhen aur toh bahut kam samay mein aap ayurveda ko achi tarah se samajh sakte hain

यदि आप एक बुक आती है अष्टांग हृदयम है और अष्टांग संग्रह जिसमें कि 7000 तरह के नियम है तो य

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!