हल्दी वाली चाय "गोल्डन मिल्क" आयुर्वेद में इतनी प्रतिष्ठित क्यों है?...


user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमको कुछ नहीं हल्दी वाली चाय गोल्डन मिल्क आयुर्वेद में इतनी प्रतिष्ठित क्यों है देखिए हल्दी वाली चाय गोल्डन मिल्क जो है प्रतिशत इसलिए रहेगी हल्दी किसी भी रूप में लिया जाए तो हमारे शरीर को नुकसान नहीं करती यह एक्सीडेंट है एंटी ऑक्सीडेंट है कहने का मतलब हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास करती है हल्दी और यहां तक हल्दी के बारे में माना गया है कि हल्दी को किसी भी चीज़ में अगर गम खा रहे हैं मिलाकर तो कहने का मतलब उसके बैटरी सेट को हल्दी खत्म कर देती है तो यह तो चाय तो ऐसे ही बेड इफेक्ट वाली चीज है जल्दी चाय है तो इसलिए ज्यादा प्रतिष्ठित है जनरल छाया पिएंगे तो और नुकसान करती है लेकिन हल्दी वाली चाची गोल्डन मिलकर आयुर्वेद में इसलिए प्रतिशत आओ कोई बात नहीं है हल्दी में वैसा हल्दी कलश आसान तरीके * है कि उसको किसी भी रूप में खर्चा ले पका कर ले चाय के रूप में ले दूध में मिलाकर ले या किसी भी रूप में मिलाकर पी लेते हैं तो आपके शरीर को फायदा ही फायदा करता है ना कि नुकसान नुकसान का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता है उसी के साथ धन्यवाद

hamko kuch nahi haldi wali chai golden milk ayurveda mein itni pratishthit kyon hai dekhiye haldi wali chai golden milk jo hai pratishat isliye rahegi haldi kisi bhi roop mein liya jaaye toh hamare sharir ko nuksan nahi karti yah accident hai anti aksident hai kehne ka matlab hamare sharir mein rog pratirodhak kshamta ka vikas karti hai haldi aur yahan tak haldi ke bare mein mana gaya hai ki haldi ko kisi bhi cheez mein agar gum kha rahe hain milakar toh kehne ka matlab uske battery set ko haldi khatam kar deti hai toh yah toh chai toh aise hi bed effect wali cheez hai jaldi chai hai toh isliye zyada pratishthit hai general chhaya piyenge toh aur nuksan karti hai lekin haldi wali chachi golden milkar ayurveda mein isliye pratishat aao koi baat nahi hai haldi mein waisa haldi kalash aasaan tarike hai ki usko kisi bhi roop mein kharcha le paka kar le chai ke roop mein le doodh mein milakar le ya kisi bhi roop mein milakar p lete hain toh aapke sharir ko fayda hi fayda karta hai na ki nuksan nuksan ka koi sawaal hi nahi paida hota hai usi ke saath dhanyavad

हमको कुछ नहीं हल्दी वाली चाय गोल्डन मिल्क आयुर्वेद में इतनी प्रतिष्ठित क्यों है देखिए हल्द

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  1098
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!