एक पिता के प्रति बेटे का क्या कर्त्तव्य होता है?...


play
user

L.K.Saini

Student &motivational adviser

1:20

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी थी क्या थोड़ा डिफरेंट है लोगों से महलों का मुस्लिम होता है कि पेरेंट्स के प्रति बेटा या बेटी की जिम्मेदारी रिस्पांसिबिलिटीज क्या-क्या होनी चाहिए या क्या क्या होती है वह तो सेंड सेंड सेंड सभी लोग होते हैं कि जैसे पेरेंट्स हमको बचपन से लेकर आओ लाइटिंग 11th ट्वीट करते हैं छोटी छोटी बड़ी-बड़ी बात पर डांट से भी हम समझाते हुए एक्सीडेंट पेशेंट ली तो हम लोगों को बुरा लगता है कि उनको क्यों रोकते हैं क्यों डरता है बटन से सबसे तेज करो कर पाते हैं मदद मैच्योर हो पाते तो हमको अंडरस्टैंड हर लगता है जब खुद से कुछ बातें हमारे साथ में खुद से हमने फील कर रही हो तब के जो भी हमारे पेरेंट्स कहते हैं वह सही कहते हैं वन वास वन थिंग की मतलब कि पैरंट्स के घर में बच्चे तो एक ही राजाओं की तरह लेता है अल्लाह मदद की कोई फाउंडेशन नहीं कोई कुछ नहीं कोई नहीं कोई नहीं बट मेरी नजर में अगर बेटों का कोई कर्तव्य है तो वह होना चाहिए कि अपने पेरेंट्स को अपने घर में राजा महाराजाओं की तरह वह भी उसी तरह को ट्वीट करें जैसे पेरेंट्स उनको डिलीट करते थे लाइक दैट बचपन में लाइक दैट जमाने में क्या बेटा हो या बेटी और दोनों किस कौन सी क्वालिटी बराबर होती है तू लेटी है तो शायद अपने पेरेंट्स को ऑलवेज हेप्पी रखे हैं उनकी कभी भी सेट है इसका रीजन ना बने कोई भी बात है उनको अगर आप उनका नजरिया चेंज है आपकी थॉट चेंज है तो आप उनको एक दूसरे पर थोप कहना मतलब चीज को सहमति से सेट करें मतलब बात अच्छे से हो जाएगी

meri thi kya thoda different hai logo se mahalon ka muslim hota hai ki parents ke prati beta ya beti ki jimmedari rispansibilitij kya kya honi chahiye ya kya kya hoti hai wah toh send send send sabhi log hote hain ki jaise parents hamko bachpan se lekar aao lighting 11th tweet karte hain choti choti badi badi baat par dant se bhi hum smajhate hue accident patient li toh hum logo ko bura lagta hai ki unko kyon rokte hain kyon darta hai button se sabse tez karo kar paate hain madad mature ho paate toh hamko understand har lagta hai jab khud se kuch batein hamare saath mein khud se humne feel kar rahi ho tab ke jo bhi hamare parents kehte hain wah sahi kehte hain van vaas van thing ki matlab ki Parents ke ghar mein bacche toh ek hi rajao ki tarah leta hai allah madad ki koi foundation nahi koi kuch nahi koi nahi koi nahi but meri nazar mein agar beto ka koi kartavya hai toh wah hona chahiye ki apne parents ko apne ghar mein raja maharajaon ki tarah wah bhi usi tarah ko tweet karein jaise parents unko delete karte the like that bachpan mein like that jamane mein kya beta ho ya beti aur dono kis kaun si quality barabar hoti hai tu leti hai toh shayad apne parents ko always heppi rakhe hain unki kabhi bhi set hai iska reason na bane koi bhi baat hai unko agar aap unka najariya change hai aapki thought change hai toh aap unko ek dusre par thop kehna matlab cheez ko sehmati se set karein matlab baat acche se ho jayegi

मेरी थी क्या थोड़ा डिफरेंट है लोगों से महलों का मुस्लिम होता है कि पेरेंट्स के प्रति बेटा

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  364
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
बेटे का कर्तव्य ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!