क्या PTSD एक मानसिक बीमारी है?...


play
user

Dr. Ratna Sharma

Psychologist/Counselor

0:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसको बोलते हैं

usko bolte hain

उसको बोलते हैं

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  252
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

2:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या पीटीएसडी एक मानसिक बीमारी है जी हां पीटीएसडी एक मानसिक बीमारी है पीटीएसडी का फुल फॉर्म है ओके post-traumatic स्ट्रेस डिसऑर्डर ठीक है इसमें समथिंग देखा जाए तो मतलब के बार-बार बुरे सपने देखने की वजह से ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रहा है तो मानसिक बीमारी के शिकार है ठीक है और हो सकता है कि इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति चिड़चिड़ा और छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा भी करता हूं ओके समझा दिमाग में अतीत की घटनाएं प्रतिक्रिया देती है बचपन में आरपीएससी होने की संभावना बढ़ाते हैं और नींद में सपने देखना का बार-बार देखना या याद ना ना भूलना यादव स्मृति और विस्मृति में परेशानी ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई बहुत ही प्रॉब्लम है सच्चा अचानक तेज गुस्सा और कभी-कभी हिंसक होना अचानक दिल का दौरा पड़ना कारण मांसपेशियों में दर्द घबराहट और चिंता बने रहना अलग अत्यधिक सर लाने और शर्मिंदगी ठीक है ज्यादा भावुक होना घटना से जुड़ी बातों को नजरअंदाज करना और गणित में अगर आप को सुधार लाना है तो चिकित्सक मोड़ थेरेपी का घंटे थेरेपी का इस्तेमाल करता है और यह वैज्ञानिक पर तालाब की विधियां है उंगली देखते हुए आकाश के बारे में बात करते हैं ओके चाहिए धन्यवाद

aapka prashna hai kya PTSD ek mansik bimari hai ji haan PTSD ek mansik bimari hai PTSD ka full form hai ok post traumatic stress disorder theek hai isme something dekha jaaye toh matlab ke baar baar bure sapne dekhne ki wajah se dhyan kendrit nahi kar paa raha hai toh mansik bimari ke shikaar hai theek hai aur ho sakta hai ki is bimari se peedit vyakti chidchida aur choti choti baaton par gussa bhi karta hoon ok samjha dimag mein ateet ki ghatnaye pratikriya deti hai bachpan mein rpsc hone ki sambhavna badhate hain aur neend mein sapne dekhna ka baar baar dekhna ya yaad na na bhoolna yadav smriti aur vismriti mein pareshani dhyan kendrit karne mein kathinai bahut hi problem hai saccha achanak tez gussa aur kabhi kabhi hinsak hona achanak dil ka daura padhna karan mansapeshiyon mein dard ghabarahat aur chinta bane rehna alag atyadhik sir lane aur sharmindagi theek hai zyada bhavuk hona ghatna se judi baaton ko najarandaj karna aur ganit mein agar aap ko sudhaar lana hai toh chikitsak mod therapy ka ghante therapy ka istemal karta hai aur yah vaigyanik par taalab ki vidhiyan hai ungli dekhte hue akash ke bare mein baat karte hain ok chahiye dhanyavad

आपका प्रश्न है क्या पीटीएसडी एक मानसिक बीमारी है जी हां पीटीएसडी एक मानसिक बीमारी है पीटीए

Romanized Version
Likes  398  Dislikes    views  4136
WhatsApp_icon
user

Dr.Monika Jhamb

Counselling Psychologist

3:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार यहां प्रश्न पूछा गया है कि क्या पीटीएसडी एक मानसिक बीमारी है जी हां पीटीएसडी यानी की पोस्ट मेट्रिक स्पेस डिसऑर्डर एक गंभीर मानसिक रोग है कुछ लोग दुखद अनुभव के सदमे से बाहर नहीं आ पाते लंबे समय तक वे उन्हीं अनुभवों में गिरे रहते हैं तो ऐसी मनोदशा को हम पोस्ट मैसेज टेक्स्ट सोडा कहते हैं अगर हम अपने रोजमर्रा के अनुभव पर गौर करें तो हमने सभी नहीं महसूस किया होता कि दुर्घटना आर्थिक नुकसान किसी करीबी व्यक्ति का निर्धन या कुछ भी जबर बुरे अनुभव रहे हो कभी ना कभी हर व्यक्ति उनका सामना जरूर करना पड़ता है जिंदगी में लेकिन वह कितनी भी दुखद घटना क्यों ना हो कुछ समय बाद व्यक्ति अपने day-to-day रूटीन में वापस लग जाता है वह दुख धीरे-धीरे कम हो जाने लगता है लेकिन पीटीएस जी यानी पोस्ट मैट्रिक स्ट्रेस डिसऑर्डर की अवस्था में व्यक्ति माही 9:00 तक गहरी उदासी में डूबा रहता है उसके लिए सदमे से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है दुर्घटना के दृश्य उस व्यक्ति को बार-बार परेशान करते हैं बार-बार उसकी आंखों के सामने वही दृश्य उतरते रहते हैं अक्सर उसके दिमाग में यही सब चलता रहता है नींद से चौंक कर उठ जाना सपने में रोना दुर्घटना के अनुभव के बारे में बार-बार महसूस करना बुक क्लास नींद की कमी हो जाना व्यवहार में भी चर्चा अपना जाना और रोजमर्रा के कार्य में दिलचस्पी खत्म होना यह सारे लक्षण है पीटीएस देखें और मरीज के मन में इस बात का डर हमेशा बना रहता है कि मैं दुर्घटना कहीं दोबारा ना हो तो ऐसी नकारात्मक मनोदशा को एंटीसिपेटरी इनसाइटी भी कहा जाता है जहां हम सोचने की अरे अगर यह दोबारा रिपीट हो गया तो फिर क्या होगा अगर देखा जाए तो यह कहां सबसे ज्यादा कहां पाया जाता है युद्ध या दंगों से प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले ज्यादातर लोग इस मनोवैज्ञानिक समस्या के शिकार हो तेरे से बहुत दूर क्या गर्म बात करते हैं तो वहां पर अक्सर लोग इसी अभया वैसी स्थिति में रहते हैं कि कभी भी कहीं भी कोई बम फट जाएगा कोई मिसाइल गिर जाएगी या कुछ भी ऐसा हो जाएगा जो उन्होंने एक्सपेक्ट नहीं किया है तो वहां बहुत ज्यादा पीटीएसबी के मरीज होते हैं जो इस तरीके की दशा से गुजर रहे होते अरे सर यह भी देखा गया है कि अगर हिंसक माहौल में कोई पला बढ़ा हो या बचपन में यौन दुर्व्यवहार जिला हूं तो उनके अंदर भी यह समस्या पाई जा सकती है लेकिन यह बात यह है कि अगर आज सही प्रकार से मनोचिकित्सक की देखरेख में सही दवाइयां और सही काउंसलिंग और थेरेपी ऑपरेशन को मिल रही होती है तो उसे 8 महीने अगर साल भर का धीरे-धीरे हम सकारात्मक बदलाव मरीज के अंदर देख सकते हैं आशा करूंगी कि यह जवाब आपके लिए हेल्पफुल होगा थैंक यू सो मच

namaskar yahan prashna poocha gaya hai ki kya PTSD ek mansik bimari hai ji haan PTSD yani ki post matric space disorder ek gambhir mansik rog hai kuch log dukhad anubhav ke sadme se bahar nahi aa paate lambe samay tak ve unhi anubhavon mein gire rehte hai toh aisi manodasha ko hum post massage text soda kehte hai agar hum apne rozmarra ke anubhav par gaur kare toh humne sabhi nahi mehsus kiya hota ki durghatna aarthik nuksan kisi karibi vyakti ka nirdhan ya kuch bhi jabar bure anubhav rahe ho kabhi na kabhi har vyakti unka samana zaroor karna padta hai zindagi mein lekin vaah kitni bhi dukhad ghatna kyon na ho kuch samay baad vyakti apne day to day routine mein wapas lag jata hai vaah dukh dhire dhire kam ho jaane lagta hai lekin PTS ji yani post metric stress disorder ki avastha mein vyakti maahi 9 00 tak gehri udasi mein dooba rehta hai uske liye sadme se bahar nikalna mushkil ho jata hai durghatna ke drishya us vyakti ko baar baar pareshan karte hai baar baar uski aankho ke saamne wahi drishya utarate rehte hai aksar uske dimag mein yahi sab chalta rehta hai neend se chaunk kar uth jana sapne mein rona durghatna ke anubhav ke bare mein baar baar mehsus karna book class neend ki kami ho jana vyavhar mein bhi charcha apna jana aur rozmarra ke karya mein dilchaspi khatam hona yah saare lakshan hai PTS dekhen aur marij ke man mein is baat ka dar hamesha bana rehta hai ki main durghatna kahin dobara na ho toh aisi nakaratmak manodasha ko entisipetri inasaiti bhi kaha jata hai jaha hum sochne ki are agar yah dobara repeat ho gaya toh phir kya hoga agar dekha jaaye toh yah kahaan sabse zyada kahaan paya jata hai yudh ya dango se prabhavit kshetro mein rehne waale jyadatar log is manovaigyanik samasya ke shikaar ho tere se bahut dur kya garam baat karte hai toh wahan par aksar log isi abhaya vaisi sthiti mein rehte hai ki kabhi bhi kahin bhi koi bomb phat jaega koi missile gir jayegi ya kuch bhi aisa ho jaega jo unhone expect nahi kiya hai toh wahan bahut zyada PTSB ke marij hote hai jo is tarike ki dasha se gujar rahe hote are sir yah bhi dekha gaya hai ki agar hinsak maahaul mein koi pala badha ho ya bachpan mein yaun durvyavahar jila hoon toh unke andar bhi yah samasya payi ja sakti hai lekin yah baat yah hai ki agar aaj sahi prakar se manochikitsak ki dekhrekh mein sahi davaiyan aur sahi kaunsaling aur therapy operation ko mil rahi hoti hai toh use 8 mahine agar saal bhar ka dhire dhire hum sakaratmak badlav marij ke andar dekh sakte hai asha karungi ki yah jawab aapke liye helpful hoga thank you so match

नमस्कार यहां प्रश्न पूछा गया है कि क्या पीटीएसडी एक मानसिक बीमारी है जी हां पीटीएसडी यानी

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  568
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!