ध्यान कैसे करें?...


user

Kanhaiya Bhardwaj

Yoga Philosopher Expert, M D Panchgavya, Spiritual Orater

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपने पूछा है कि ध्यान कैसे करें तो ध्यान के लिए सबसे पहले यह जरूरी है कि आप आसन करें प्राणायाम करें फिर ध्यान करने के लिए जाएं तो बहुत ही अच्छा रहेगा डायरेक्ट ध्यान करेंगे तो ध्यान से प्रेरित होकर कि किसी को देख कर के ले जा सकता है सबसे पहले ध्यान को आंतरिक रूप से आप उसके प्रति उत्सुकता पैदा करना है मन के भीतर एक प्रश्न होना चाहिए आपकी वितरण बैठे थे तो ध्यान नहीं कर पाएंगे वहां पर बोर हो जाएंगे और दूसरी बार बार सबसे पहले आसन कोई स्थिर करें नहीं तो पता चलेगी या बैठे रहे हैं पैर दुखने लगे तो फिर तब भी व्याख्या नहीं कर पाएंगे और जबरा प्राणायाम करेंगे तो जानू कि मैं स्वास्थ्य की चिंता थी जो संस्कृत आती है सांस जब सामान्य रूप से चलने लगती है एक लाइन में चलने लगती है तो मन अपने आप इस तरह जाता है और आप एकाग्र हो सकते हैं जो आपके प्राणी को समान रुप से चलें एक नियमित ध्यान का ध्यान करें और जो और भी ज्ञान है वह समय-समय पर योग गुरुओं के संरक्षण में ना करके योगा सपोर्ट के संरक्षण में रहकर के आध्यात्मिक गुरुओं के संपर्क में निवारण करके दिया ध्यान कर सकते बैठेंगे तो ध्यान नहीं हो पाएगा

namaskar aapne poocha hai ki dhyan kaise kare toh dhyan ke liye sabse pehle yah zaroori hai ki aap aasan kare pranayaam kare phir dhyan karne ke liye jayen toh bahut hi accha rahega direct dhyan karenge toh dhyan se prerit hokar ki kisi ko dekh kar ke le ja sakta hai sabse pehle dhyan ko aantarik roop se aap uske prati utsukata paida karna hai man ke bheetar ek prashna hona chahiye aapki vitaran baithe the toh dhyan nahi kar payenge wahan par bore ho jaenge aur dusri baar baar sabse pehle aasan koi sthir kare nahi toh pata chalegi ya baithe rahe hain pair dukhne lage toh phir tab bhi vyakhya nahi kar payenge aur jabra pranayaam karenge toh janu ki main swasthya ki chinta thi jo sanskrit aati hai saans jab samanya roop se chalne lagti hai ek line me chalne lagti hai toh man apne aap is tarah jata hai aur aap ekagra ho sakte hain jo aapke prani ko saman roop se chalen ek niyamit dhyan ka dhyan kare aur jo aur bhi gyaan hai vaah samay samay par yog guruon ke sanrakshan me na karke yoga support ke sanrakshan me rahkar ke aadhyatmik guruon ke sampark me nivaran karke diya dhyan kar sakte baitheange toh dhyan nahi ho payega

नमस्कार आपने पूछा है कि ध्यान कैसे करें तो ध्यान के लिए सबसे पहले यह जरूरी है कि आप आसन कर

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  130
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
dhyan karne ka tarika ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!