ताजमहल क्यों बना था?...


user

Pt.Sudhakar shukla

🦚Birth kundli Specialist🌹 भारत भाग्य विधाता🚩

6:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ताजमहल उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में पड़ता है ताजमहल बनाने का मुख्य कारण शिवजी की मंदिर की भगवान शिव जी का वहां पर एक स्थान था जहां पर वहां के स्थानीय लोग पूजन पद्धति अपने अनुसार किया करते थे वहां के स्थानीय लोगों ने विचार किया कि क्यों ना इस पर एक भव्य इमारत बना दिया जाए और शिव जी की आराधना किया जाए वहां के स्थानीय लोग ने मिल कर के उसे बहुत ही अच्छा तो ताजमहल वर्तमान समय में है इसे उन्होंने बनाया जब उन्होंने बनाया तो शाहजहां को ज्ञात हुआ और शाहजहां के साथ-साथ मुमताज उनकी बेगम का नाम था जो भी बहुत खूबसूरत थी उनको पता चला कि हमारे किला से भी ज्यादा खूबसूरत यहां पर एक मंदिर बना हुआ है तो वह उसको देखने के लिए जब उन्होंने देखा उसे तो उनको बहुत पसंद आ गया वह लौट के आई है और उनसे कहा कि या जो ताजमहल बना है भगवान शिव का मंदिर बना है या हमसे भी ज्यादा खूबसूरत है या बात शाहजहां को गड़बड़ लग गई और मुमताज बहुत ज्यादा खूबसूरत थी और उनको किसी भी व्यक्ति ने देखा नहीं था और वह उसे देखने जाने का जिद किया या फिर देखने चली गई इससे क्रोधित होकर के शाहजहां ने मुमताज को स्वयं मरवा दिया और शिव मंदिर क्या स्थान पर उनका मकबरा बनवा दिया और जितने लोगों ने उस ताजमहल को बनवाया था क्रोध के कारण वश उन सभी का हाथ कटवा दिया और आज के इतिहासकार कुछ गलत लिख दिया है कि उनके शाहजहां ने मुमताज के मरने के दुख के कारण से नहीं बनवाया था ताजमहल देखने जाने के कारण से मुमताज को शाहजहां ने मरवाया था यह सत्य क्योंकि वहां के स्थानीय लोगों ने आज ही जा करके देखें तो ताजमहल जैसी कोई दूसरी इमारत नहीं है तो शाहजहां को क्रोध इस बात का आया कि जब आप ऐसी इमारत बना सके कहते तो मेरा किला ऐसा क्यों नहीं बनाया इस कारण से उन्होंने सभी मजदूरों का हाथ कटवा दिया और मुमताज को वह इमारत ज्यादा पसंद आ गई वह शिव मंदिर थी तो वह शासक थे वह उस समय के राजा थे तो उन्होंने अपने राज्य का दुरुपयोग करते हुए उन सभी मजदूरों का हाथ कटवा दिया और लगभग बहुत सारे परिवार को उन्होंने अनाथ भी किया होगा ठीक है हाथ कटवा लागला कटवाया जितने लोग भी उसको बनाने में सहमति दें उनको मरवाया और उसके बाद में वह क्रोध उनका तब भी शांत नहीं हुआ शिवजी का मंदिर बताया जो तेजो महालय के नाम से था आज के दिन वक्त ताजमहल के नाम से जाना जाता है और जिस स्थान पर इनका मकबरा था अर्थात मुमताज का मकबरा है वही स्थान पर भगवान शिव की मंदिर थी और उसका विशेष किया था कि भगवान शिव के सर पर गंगा जी का वास था अर्थात आप सभी लोग जानते हैं कि अभी जाता है कि कैलाश से गंगा निकली है और भगवान शिव की जटाओं में गंगा समाहित तो उसी प्रकार का जो वहां के स्थानीय लोग तो उन्होंने यमुना नदी का इस प्रकार से प्रयोग किया और उन्होंने इसमें ऐसे पत्थर लगाए जो वास्तविक रित करके उस पर लगातार पानी देते रहे ऑक्सीजन और हाइड्रोजन दोनों सोते रहे और h2o बनाकर के चुके जहां पर मस्ती तो वहां पर एक एक बूंद पानी गिरा करें ऐसा उन्होंने उस समय में किया था या करना आसान नहीं है और जब शाहजहां कोई बात पता चली मुमताज उसको देखने आए तो क्रोध के कारण वस्तु मंदिर को अर्थात शिव की मूर्ति को वहां से हटाया और मुमताज को मरवा करके उन का मकबरा वहीं पर बनवा दिया और भारत के इतिहासकारों ने भी डर करके संभवत मैं भी अब ऐसी टिप्पणी कर रहा हूं तो बहुत आज अपने आपको महसूस नहीं कर रहा हूं लेकिन सच्चाई यही है जब उन्होंने इसको बनवाया तो मुमताज के कब्र के नाम से उसको कर दिया और इसका एक परिणाम घोषित किया कि अगर मुस्लिम औरतें या एक समाज को उनको संदेश देना था तभी अपने समुदाय और पंथ के लोगों को कोई भी मुस्लिम लड़की मुस्लिम पुरुष के अतिरिक्त किसी भी अन्य वस्तु या अन्य व्यक्ति को पसंद ना करें मैं उसका भी यही हाल होगा उनके इस कार्य को करने का एक यही मकसद था उनका जो मकसद था कि कोई भी मुस्लिम औरतें या मुस्लिम लड़कियां वह कोई ऐसी वस्तु को पसंद ना करें उनके कहने का मूल अर्थ था अर्थात उनके कहने का यह भाव था कि उन्हें सिर्फ मुस्लिम पुरुष को ही पसंद करना है अगर उसके अतिरिक्त उन्होंने कुछ भी पसंद किया उनको मार कर के और जिस को पसंद किया उन्हीं के घर में तुम्हारा कब्र बना दिया जाएगा था तुमको मार दिया जाएगा मुस्लिम औरतों को डराने के लिए या कार्य किया गया था और जो हिंदू समाज था उसे दबाने के लिए कार्य किया गया था बाकी भारत के इतिहासकारों ने क्या-क्या लिखा है ताजमहल के विषय में वह जाने बाकी ताजमहल बनने का कारण शिव मंदिर था और जो मंदिर बहुत ही अच्छा बना था और जैसा ताजमहल ऐसा ही बना था सिर्फ वहां पर जहां पर मकबरा है मकबरा के स्थान पर वहां पर शिवजी की मूरत थी और उस पर लगातार गंगा जी के स्वरूप में वह जल गिरता रहता था इतना सा कारण था और मुमताज को वह ताजमहल पसंद आ गया था उन्होंने शाहजहां से सिर्फ इतना कहा था कि आपके अर्थात मेरे और अब आपके महल से भी ज्यादा सुंदर वह ताजमहल है और इसी के कारण व सभी मजदूरों का हाथ काटा गया था और शिव जी की मूर्ति हटाकर शाहजहां का कब्र उसी स्थान पर बना दिया गया था जय हिंद जय भारत भारत माता की जय वंदे मातरम जय श्री राम

tajmahal uttar pradesh ke agra jile me padta hai tajmahal banane ka mukhya karan shivaji ki mandir ki bhagwan shiv ji ka wahan par ek sthan tha jaha par wahan ke sthaniye log pujan paddhatee apne anusaar kiya karte the wahan ke sthaniye logo ne vichar kiya ki kyon na is par ek bhavya imarat bana diya jaaye aur shiv ji ki aradhana kiya jaaye wahan ke sthaniye log ne mil kar ke use bahut hi accha toh tajmahal vartaman samay me hai ise unhone banaya jab unhone banaya toh shahjahan ko gyaat hua aur shahjahan ke saath saath mumtaj unki begum ka naam tha jo bhi bahut khoobsurat thi unko pata chala ki hamare kila se bhi zyada khoobsurat yahan par ek mandir bana hua hai toh vaah usko dekhne ke liye jab unhone dekha use toh unko bahut pasand aa gaya vaah lot ke I hai aur unse kaha ki ya jo tajmahal bana hai bhagwan shiv ka mandir bana hai ya humse bhi zyada khoobsurat hai ya baat shahjahan ko gadbad lag gayi aur mumtaj bahut zyada khoobsurat thi aur unko kisi bhi vyakti ne dekha nahi tha aur vaah use dekhne jaane ka jid kiya ya phir dekhne chali gayi isse krodhit hokar ke shahjahan ne mumtaj ko swayam marava diya aur shiv mandir kya sthan par unka makbara banwa diya aur jitne logo ne us tajmahal ko banwaya tha krodh ke karan vash un sabhi ka hath katva diya aur aaj ke itihaaskar kuch galat likh diya hai ki unke shahjahan ne mumtaj ke marne ke dukh ke karan se nahi banwaya tha tajmahal dekhne jaane ke karan se mumtaj ko shahjahan ne marwaya tha yah satya kyonki wahan ke sthaniye logo ne aaj hi ja karke dekhen toh tajmahal jaisi koi dusri imarat nahi hai toh shahjahan ko krodh is baat ka aaya ki jab aap aisi imarat bana sake kehte toh mera kila aisa kyon nahi banaya is karan se unhone sabhi majduro ka hath katva diya aur mumtaj ko vaah imarat zyada pasand aa gayi vaah shiv mandir thi toh vaah shasak the vaah us samay ke raja the toh unhone apne rajya ka durupyog karte hue un sabhi majduro ka hath katva diya aur lagbhag bahut saare parivar ko unhone anath bhi kiya hoga theek hai hath katva lagala katvaya jitne log bhi usko banane me sahmati de unko marwaya aur uske baad me vaah krodh unka tab bhi shaant nahi hua shivaji ka mandir bataya jo tejo mahalaya ke naam se tha aaj ke din waqt tajmahal ke naam se jana jata hai aur jis sthan par inka makbara tha arthat mumtaj ka makbara hai wahi sthan par bhagwan shiv ki mandir thi aur uska vishesh kiya tha ki bhagwan shiv ke sir par ganga ji ka was tha arthat aap sabhi log jante hain ki abhi jata hai ki kailash se ganga nikli hai aur bhagwan shiv ki jataon me ganga samahit toh usi prakar ka jo wahan ke sthaniye log toh unhone yamuna nadi ka is prakar se prayog kiya aur unhone isme aise patthar lagaye jo vastavik rit karke us par lagatar paani dete rahe oxygen aur hydrogen dono sote rahe aur h2o banakar ke chuke jaha par masti toh wahan par ek ek boond paani gira kare aisa unhone us samay me kiya tha ya karna aasaan nahi hai aur jab shahjahan koi baat pata chali mumtaj usko dekhne aaye toh krodh ke karan vastu mandir ko arthat shiv ki murti ko wahan se hataya aur mumtaj ko marava karke un ka makbara wahi par banwa diya aur bharat ke itihasakaron ne bhi dar karke sambhavat main bhi ab aisi tippani kar raha hoon toh bahut aaj apne aapko mehsus nahi kar raha hoon lekin sacchai yahi hai jab unhone isko banwaya toh mumtaj ke kabr ke naam se usko kar diya aur iska ek parinam ghoshit kiya ki agar muslim auraten ya ek samaj ko unko sandesh dena tha tabhi apne samuday aur panth ke logo ko koi bhi muslim ladki muslim purush ke atirikt kisi bhi anya vastu ya anya vyakti ko pasand na kare main uska bhi yahi haal hoga unke is karya ko karne ka ek yahi maksad tha unka jo maksad tha ki koi bhi muslim auraten ya muslim ladkiya vaah koi aisi vastu ko pasand na kare unke kehne ka mul arth tha arthat unke kehne ka yah bhav tha ki unhe sirf muslim purush ko hi pasand karna hai agar uske atirikt unhone kuch bhi pasand kiya unko maar kar ke aur jis ko pasand kiya unhi ke ghar me tumhara kabr bana diya jaega tha tumko maar diya jaega muslim auraton ko darane ke liye ya karya kiya gaya tha aur jo hindu samaj tha use dabane ke liye karya kiya gaya tha baki bharat ke itihasakaron ne kya kya likha hai tajmahal ke vishay me vaah jaane baki tajmahal banne ka karan shiv mandir tha aur jo mandir bahut hi accha bana tha aur jaisa tajmahal aisa hi bana tha sirf wahan par jaha par makbara hai makbara ke sthan par wahan par shivaji ki murat thi aur us par lagatar ganga ji ke swaroop me vaah jal girta rehta tha itna sa karan tha aur mumtaj ko vaah tajmahal pasand aa gaya tha unhone shahjahan se sirf itna kaha tha ki aapke arthat mere aur ab aapke mahal se bhi zyada sundar vaah tajmahal hai aur isi ke karan va sabhi majduro ka hath kaata gaya tha aur shiv ji ki murti hatakar shahjahan ka kabr usi sthan par bana diya gaya tha jai hind jai bharat bharat mata ki jai vande mataram jai shri ram

ताजमहल उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में पड़ता है ताजमहल बनाने का मुख्य कारण शिवजी की मंदिर की

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  1986
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!