मेरे माता पिता आज कल अलग रह रहे हैं। मैं घर के माहौल से बहुत थक चुका हूँ। क्या करूँ?...


user

Neha Makhija

Clinical Psychologist

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

माता पिता के अलग होने से बच्चों पर प्रभाव जरूर पड़ता है पर हम को यह बात समझनी चाहिए कि वह दोनों माता-पिता होने के अलावा भी अपने आप में एक अलग मनुष्य है उनकी अपनी इच्छाएं उनकी अपनी प्रशंसा 557 में रहकर एक-दूसरे को घृणा करें एक दूसरे से नफरत करें इससे अच्छा लगता है पर बच्चों के लिए परिस्थिति बहुत कठिन कठिन होती है कि हम समझते हैं इसे थे आपको यह समझना चाहिए कि आपके माता-पिता एक अलग लक्ष्य है वह आपके माता-पिता सदैव रहेंगे और चाहे आपस में कितने भी मत भेजो आपके के दोनों हमेशा वही रहेंगे थकने का खतना परिस्थिति से थकना लाजमी है पर आपको यह समझना है कि जीवन में ऐसे उतार-चढ़ाव आते ही रहें आपको अपनी मां को अर्पिता को सिर्फ उनके माता-पिता के रोल आखिरकार में नहीं देखना है और आपको यह समझना है कि आपको भी आपके दे कुछ करना है झगड़े फसाद अगर रोज घर में हो उससे तो अच्छा है कि लोग दूर रहकर खुश रहें स्वस्थ रहें और शांत रहें इस बात को जिस दिन आप समझ जाएंगे आपकी थकान अपने आप कम होने लगे

mata pita ke alag hone se baccho par prabhav zaroor padta hai par hum ko yah baat samajhni chahiye ki vaah dono mata pita hone ke alava bhi apne aap me ek alag manushya hai unki apni ichhaen unki apni prashansa 557 me rahkar ek dusre ko ghrina kare ek dusre se nafrat kare isse accha lagta hai par baccho ke liye paristhiti bahut kathin kathin hoti hai ki hum samajhte hain ise the aapko yah samajhna chahiye ki aapke mata pita ek alag lakshya hai vaah aapke mata pita sadaiv rahenge aur chahen aapas me kitne bhi mat bhejo aapke ke dono hamesha wahi rahenge thakane ka khatana paristhiti se thakana lajmi hai par aapko yah samajhna hai ki jeevan me aise utar chadhav aate hi rahein aapko apni maa ko arpita ko sirf unke mata pita ke roll aakhirkaar me nahi dekhna hai aur aapko yah samajhna hai ki aapko bhi aapke de kuch karna hai jhagde fasad agar roj ghar me ho usse toh accha hai ki log dur rahkar khush rahein swasth rahein aur shaant rahein is baat ko jis din aap samajh jaenge aapki thakan apne aap kam hone lage

माता पिता के अलग होने से बच्चों पर प्रभाव जरूर पड़ता है पर हम को यह बात समझनी चाहिए कि वह

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  651
KooApp_icon
WhatsApp_icon
19 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!