मेरे माता पिता आज कल अलग रह रहे हैं। मैं घर के माहौल से बहुत थक चुका हूँ। क्या करूँ?...


user

Neha Makhija

Clinical Psychologist

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

माता पिता के अलग होने से बच्चों पर प्रभाव जरूर पड़ता है पर हम को यह बात समझनी चाहिए कि वह दोनों माता-पिता होने के अलावा भी अपने आप में एक अलग मनुष्य है उनकी अपनी इच्छाएं उनकी अपनी प्रशंसा 557 में रहकर एक-दूसरे को घृणा करें एक दूसरे से नफरत करें इससे अच्छा लगता है पर बच्चों के लिए परिस्थिति बहुत कठिन कठिन होती है कि हम समझते हैं इसे थे आपको यह समझना चाहिए कि आपके माता-पिता एक अलग लक्ष्य है वह आपके माता-पिता सदैव रहेंगे और चाहे आपस में कितने भी मत भेजो आपके के दोनों हमेशा वही रहेंगे थकने का खतना परिस्थिति से थकना लाजमी है पर आपको यह समझना है कि जीवन में ऐसे उतार-चढ़ाव आते ही रहें आपको अपनी मां को अर्पिता को सिर्फ उनके माता-पिता के रोल आखिरकार में नहीं देखना है और आपको यह समझना है कि आपको भी आपके दे कुछ करना है झगड़े फसाद अगर रोज घर में हो उससे तो अच्छा है कि लोग दूर रहकर खुश रहें स्वस्थ रहें और शांत रहें इस बात को जिस दिन आप समझ जाएंगे आपकी थकान अपने आप कम होने लगे

mata pita ke alag hone se baccho par prabhav zaroor padta hai par hum ko yah baat samajhni chahiye ki vaah dono mata pita hone ke alava bhi apne aap me ek alag manushya hai unki apni ichhaen unki apni prashansa 557 me rahkar ek dusre ko ghrina kare ek dusre se nafrat kare isse accha lagta hai par baccho ke liye paristhiti bahut kathin kathin hoti hai ki hum samajhte hain ise the aapko yah samajhna chahiye ki aapke mata pita ek alag lakshya hai vaah aapke mata pita sadaiv rahenge aur chahen aapas me kitne bhi mat bhejo aapke ke dono hamesha wahi rahenge thakane ka khatana paristhiti se thakana lajmi hai par aapko yah samajhna hai ki jeevan me aise utar chadhav aate hi rahein aapko apni maa ko arpita ko sirf unke mata pita ke roll aakhirkaar me nahi dekhna hai aur aapko yah samajhna hai ki aapko bhi aapke de kuch karna hai jhagde fasad agar roj ghar me ho usse toh accha hai ki log dur rahkar khush rahein swasth rahein aur shaant rahein is baat ko jis din aap samajh jaenge aapki thakan apne aap kam hone lage

माता पिता के अलग होने से बच्चों पर प्रभाव जरूर पड़ता है पर हम को यह बात समझनी चाहिए कि वह

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  650
WhatsApp_icon
17 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके माता-पिता आजकल अलग रह रहे हैं और आप कह रहे हैं कि मैं घर के माहौल से बहुत ही थक चुका हूं क्या करूं तो पहले तो यह पता करना पड़ेगा कि आपके घर में और सदस्य कितने हैं क्या घर में आपकी पत्नी आपके बच्चे हैं या आप केवल अकेले ही थे तो आपके माता पिता को छोड़कर अपने घर चले गए या पत्नी के साथ यदि आप पत्नी के साथ हैं और आपने किसी कारणवश अपने माता-पिता को अपने से अलग किया है तो जरूर थकान हो रही होगी क्योंकि माता-पिता से अलग रहकर कोई भी बच्चा सही नहीं रह पाता है तो आपको चाहिए कि अपनी बोरियत और अपनी थकान और अपने डर को निकालने के लिए आप अपने माता-पिता को अपने घर ले आएं जो भी समस्या आपके सामने आई है उसे सॉल्व करें बातचीत से करें या पैसे देने की समस्या है तो पैसे देने से करें अगर आपकी पत्नी के साथ कोई प्रॉब्लम हुई है तो उसे बैठकर shout-out करें तो आपकी यह जो अखनवाली पोजीशन है बोरियत वाली पोजीशन है वह जरूर ठीक होगी क्योंकि हर समस्या का हल पहले पैदा होता है बाद में समस्या पैदा होती है

aapke mata pita aajkal alag reh rahe hain aur aap keh rahe hain ki main ghar ke maahaul se bahut hi thak chuka hoon kya karu toh pehle toh yah pata karna padega ki aapke ghar me aur sadasya kitne hain kya ghar me aapki patni aapke bacche hain ya aap keval akele hi the toh aapke mata pita ko chhodkar apne ghar chale gaye ya patni ke saath yadi aap patni ke saath hain aur aapne kisi karanvash apne mata pita ko apne se alag kiya hai toh zaroor thakan ho rahi hogi kyonki mata pita se alag rahkar koi bhi baccha sahi nahi reh pata hai toh aapko chahiye ki apni boriyat aur apni thakan aur apne dar ko nikalne ke liye aap apne mata pita ko apne ghar le aaen jo bhi samasya aapke saamne I hai use solve kare batchit se kare ya paise dene ki samasya hai toh paise dene se kare agar aapki patni ke saath koi problem hui hai toh use baithkar shout out kare toh aapki yah jo akhanvali position hai boriyat wali position hai vaah zaroor theek hogi kyonki har samasya ka hal pehle paida hota hai baad me samasya paida hoti hai

आपके माता-पिता आजकल अलग रह रहे हैं और आप कह रहे हैं कि मैं घर के माहौल से बहुत ही थक चुका

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  306
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:55
Play

Likes  124  Dislikes    views  1755
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी मां मेरे माता-पिता आज का अलग रह नहीं मैं घर के बोल चुका हूं क्या करूं आपकी मां से ऐसा लगता है माता-पिता ना रातों में मुझे किसी एक के साथ में कितनी दुखद घटना है क्या आपके आपके साथ और आपके जीवन में माता-पिता की बेटियां कर रहे हैं अपनी ईगो अपनी समस्याओं और अपने इंकार के गाना नादानी के गाने बड़ी गलती कर रहे हैं कि संतान के सुख और सम्मान को तो करा कर अपनी छोटे स्वाभिमान के लिए यह दोनों आपस में टकरा बताइए किस को जो मार सकते हैं अगर माता को झुका सकते हैं तो मैं तो पूछना चाहिए कि पिताजी की जो दूर रहकर अबकी करने उन्हें वह चमकाएं अपना काली हो जाएगी आपको लगता कि पिता जी आपकी बात आसानी से सुनी नहीं है और समझ जाएंगे ठाकुर को समझाइए और वह माताजी को समझाइए दोनों एक दूसरे की फुल पुकार करके उनको जाकर संतान के लिए एक हो जाए पर कमाल भी दुख के दिन भी दूर चले जाएंगे और घर में खुशियां जान ले लेंगे बताइए मुझे दोनों चाहिए अगर आप दोनों नहीं अपने आप को एक जगह नहीं स्थापित किया तो बताइए मैं किस तरफ जाऊं बच्चे हिनल आप को सुधार सकते हैं प्रश्न की हीरोइन से यही गलती गर्म करते हैं तो क्या कमीनी समझाते हम आपकी बात नहीं मानते क्योंकि आज आप लोग जो गलत काम तक नहीं उठा रहे हैं उसमें हम सभी की भलाई है मुझे आपके उच्च विचारों से हमें

apni maa mere mata pita aaj ka alag reh nahi main ghar ke bol chuka hoon kya karu aapki maa se aisa lagta hai mata pita na raatoon me mujhe kisi ek ke saath me kitni dukhad ghatna hai kya aapke aapke saath aur aapke jeevan me mata pita ki betiyan kar rahe hain apni ego apni samasyaon aur apne inkar ke gaana naadaani ke gaane badi galti kar rahe hain ki santan ke sukh aur sammaan ko toh kara kar apni chote swabhiman ke liye yah dono aapas me takara bataiye kis ko jo maar sakte hain agar mata ko jhuka sakte hain toh main toh poochna chahiye ki pitaji ki jo dur rahkar abki karne unhe vaah chamkaen apna kali ho jayegi aapko lagta ki pita ji aapki baat aasani se suni nahi hai aur samajh jaenge thakur ko samjhaiye aur vaah mataji ko samjhaiye dono ek dusre ki full pukaar karke unko jaakar santan ke liye ek ho jaaye par kamaal bhi dukh ke din bhi dur chale jaenge aur ghar me khushiya jaan le lenge bataiye mujhe dono chahiye agar aap dono nahi apne aap ko ek jagah nahi sthapit kiya toh bataiye main kis taraf jaaun bacche hinal aap ko sudhaar sakte hain prashna ki heroine se yahi galti garam karte hain toh kya kamini smajhate hum aapki baat nahi maante kyonki aaj aap log jo galat kaam tak nahi utha rahe hain usme hum sabhi ki bhalai hai mujhe aapke ucch vicharon se hamein

अपनी मां मेरे माता-पिता आज का अलग रह नहीं मैं घर के बोल चुका हूं क्या करूं आपकी मां से ऐसा

Romanized Version
Likes  416  Dislikes    views  5988
WhatsApp_icon
play
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

0:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप उससे डायरेक्ट बात करें क्योंकि इस तरीके से आसान नहीं होगा आपको सलाह दे पाना अब बात है अगर मावा मुझसे मिलना चाहे तो हम को गोली मिलने के लिए धन्यवाद नमस्कार

aap usse direct baat kare kyonki is tarike se aasaan nahi hoga aapko salah de paana ab baat hai agar mava mujhse milna chahen toh hum ko goli milne ke liye dhanyavad namaskar

आप उससे डायरेक्ट बात करें क्योंकि इस तरीके से आसान नहीं होगा आपको सलाह दे पाना अब बात है

Romanized Version
Likes  129  Dislikes    views  2373
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों इतनी बड़ी दुनिया इतने सारे लोग भिन्न-भिन्न तरीके की सोच निरहुआ कहानियां अपनी फिलॉसफी अपने बिलीव सपना सिस्टर बगैरा बगैरा अब मैं घर परिवार की बात करते हैं तो हर एक इंसान चाहते हैं कि घर में सुख शांति बनी रहे हमेशा लेकिन क्या होता है हर बार वह आइडियल कंडीशन नहीं होती है परिस्थितियां परिस्थितियां आती है और इंसान की अपनी बुद्धि विवेक समाज संस्कार के कारण हो सकता है कभी वो इधर उधर हो जाए हो सकता है गलतियां हो जाए गलतियां खाली लड़के से या बच्चे से नहीं हो सकती हो सकते हैं माता-पिता से भी हो जाए हो सकता है वह अपनी जगह सही हो बच्चा अपनी जगह से तो बहुत सारी पर मिले हो सकते हैं इसके कारण कई बार ऐसा होता है और आजकल यह थोड़ा साधारण ही हो गया है कि भाई फ्रीक्वेंसी की से एक दूसरे के साथ मैच नहीं करते देखे सब तो यही चाहते हैं कि घर में सुख शांति बनी रहे सब लोग अच्छे से रहें और आगे जीवन एचएसएलए लेकिन कई बार क्या होता है कि ऐसा नहीं चल पाता वह आइडियल कंडीशन नहीं आ पाते तो आपको जरूर करना चाहिए कि आप अपनी तरफ से क्या कर सकते हैं और आपको पूरी कोशिश करनी चाहिए पूरे दिल से करनी चाहिए क्योंकि वह हमारे माता पिता है लेकिन फिर भी अगर ऐसा कुछ हो जाता है तो आप क्या करेंगे आप अपने आप को पर सबसे पहले इतना गिल्टी मत महसूस कर आइए आप भी देखें कि अभी भी आप कुछ कर सकते हैं अगर आप कुछ कर सकते हैं तो कीजिए उसको ठीक करने के लिए आगे नहीं कर सकते तो दूर से ही रहकर आप कैसे यह देखेंगे कि मेरे अपने पिता के साथ सब कुछ ठीक-ठाक है और कुछ मदद जो आप क्या आपका फर्ज है चाय बेटे का है बेटी का वह आप कैसे निभाएंगे इस पर भी आप ध्यान दीजिए और वह जरूर कीजिए तो आपको देखने की जरूरत नहीं गिल्टी महसूस करने की जरूरत नहीं है आपको अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिए वह काम करना चाहिए जो आपके लिए सही आपके परिवार के लिए सही है आपके माता-पिता के लिए सही है भले ही थोड़ी दूरी हो गई हो कोई बात नहीं आप इस तरीके से आगे बढ़ी है लाइफ में

namaskar doston itni badi duniya itne saare log bhinn bhinn tarike ki soch nirahua kahaniya apni philosophy apne believe sapna sister bagera bagera ab main ghar parivar ki baat karte hain toh har ek insaan chahte hain ki ghar mein sukh shanti bani rahe hamesha lekin kya hota hai har baar wah ideal condition nahi hoti hai paristhiyaann paristhiyaann aati hai aur insaan ki apni buddhi vivek samaj sanskar ke kaaran ho sakta hai kabhi vo idhar udhar ho jaye ho sakta hai galtiya ho jaye galtiya khaali ladke se ya bacche se nahi ho sakti ho sakte hain mata pita se bhi ho jaye ho sakta hai wah apni jagah sahi ho baccha apni jagah se toh bahut saree par mile ho sakte hain iske kaaran kai baar aisa hota hai aur aajkal yeh thoda sadhaaran hi ho gaya hai ki bhai frequency ki se ek dusre ke saath match nahi karte dekhe sab toh yahi chahte hain ki ghar mein sukh shanti bani rahe sab log acche se rahen aur aage jeevan HSLA lekin kai baar kya hota hai ki aisa nahi chal pata wah ideal condition nahi aa paate toh aapko zaroor karna chahiye ki aap apni taraf se kya kar sakte hain aur aapko puri koshish karni chahiye poore dil se karni chahiye kyonki wah hamare mata pita hai lekin phir bhi agar aisa kuch ho jata hai toh aap kya karenge aap apne aap ko par sabse pehle itna guilty mat mehsus kar aaiye aap bhi dekhen ki abhi bhi aap kuch kar sakte hain agar aap kuch kar sakte hain toh kijiye usko theek karne ke liye aage nahi kar sakte toh dur se hi rahkar aap kaise yeh dekhenge ki mere apne pita ke saath sab kuch theek thak hai aur kuch madad jo aap kya aapka farz hai chai bete ka hai beti ka wah aap kaise nibhaenge is par bhi aap dhyan dijiye aur wah zaroor kijiye toh aapko dekhne ki zarurat nahi guilty mehsus karne ki zarurat nahi hai aapko apne kartavya ka palan karna chahiye wah kaam karna chahiye jo aapke liye sahi aapke parivar ke liye sahi hai aapke mata pita ke liye sahi hai bhale hi thodi doori ho gayi ho koi baat nahi aap is tarike se aage badhi hai life mein

नमस्कार दोस्तों इतनी बड़ी दुनिया इतने सारे लोग भिन्न-भिन्न तरीके की सोच निरहुआ कहानियां अप

Romanized Version
Likes  665  Dislikes    views  8325
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अच्छा किया क्या आपने यह प्रश्न किया अब बहुत परेशान हो समझ सकती हो मेरे माता-पिता आजकल अलग रह रहे मैं घर से माल से बहुत थक चुका हूं क्या करूं कुछ नहीं कुछ दिनों के लिए अब कहीं बाहर घूमने के लिए चले जाइए जो भी हो सकता है अपने माता-पिता को समझाइए कि आप गलत क्यों समझा सकते हो लेकिन प्यार से समझा है

accha kiya kya aapne yah prashna kiya ab bahut pareshan ho samajh sakti ho mere mata pita aajkal alag reh rahe main ghar se maal se bahut thak chuka hoon kya karu kuch nahi kuch dino ke liye ab kahin bahar ghoomne ke liye chale jaiye jo bhi ho sakta hai apne mata pita ko samjhaiye ki aap galat kyon samjha sakte ho lekin pyar se samjha hai

अच्छा किया क्या आपने यह प्रश्न किया अब बहुत परेशान हो समझ सकती हो मेरे माता-पिता आजकल अलग

Romanized Version
Likes  360  Dislikes    views  4492
WhatsApp_icon
user

Prachi Rathi

Psychologist & Life Coach

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम आदमी अगर मुझे पता होता तो मैं आपको शायद बटन हेल्प कर पाती इस बार कोई बात नहीं बट आपकी पैरंट्स फ्रेश हो चुके हैं अभी वह एक ऐसी सिचुएशन है जो अपने कंट्रोल में नहीं है अगर ऐसी सिचुएशन में आप अपने आप को ब्लेम कर रहे हैं उस चीज के लिए कहीं ना कहीं अपने आप को बिल्कुल करें तो सबसे पहले आपको करना पड़ेगा या आपको अपने पेरेंट्स को भी प्लेन करना बंद करना होगा या फिर वही तुमको कहीं ना कहीं आपको रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट करना होगा कि यह मेरी लाइफ में अब बोल चुका है जब भी हम किसी भी प्रॉब्लम को एक्सेप्ट कर लेते हैं हम उस चीज को डील करने के लिए और भी ज्यादा प्यार हो जाता है हमारे अंदर बहुत ज्यादा ताकत है जो थी कि हमको समझें और उस कर सकते हैं हम तभी सोच पाते तो दोनों सिचुएशन को एक्सेप्ट कर ले कल जब तक हम 1 दिनों में रहेंगे कि नहीं ऐसा नहीं हो सकता है ऐसा क्यों हुआ ऐसा नहीं होता तो अच्छा होता जब तक हम यह सोच हमें उस उस प्रॉब्लम का कभी सलूशन नहीं मिलेगा क्योंकि मैं आपसे रिक्वेस्ट करूंगी कि आप डिफिकल्ट है बट कहीं ना कहीं कुछ बात करिए और फिर उसके साथ आप बेस्ट क्या कर सकते हैं एक्सीडेंट वाला ₹1 का फ्यूचर बैटल हुआ उस पर फोकस करें

aam aadmi agar mujhe pata hota toh main aapko shayad button help kar pati is baar koi baat nahi but aapki Parents fresh ho chuke hain abhi wah ek aisi situation hai jo apne control mein nahi hai agar aisi situation mein aap apne aap ko blame kar rahe hain us cheez ke liye kahin na kahin apne aap ko bilkul karein toh sabse pehle aapko karna padega ya aapko apne parents ko bhi plane karna band karna hoga ya phir wahi tumko kahin na kahin aapko request ko except karna hoga ki yeh meri life mein ab bol chuka hai jab bhi hum kisi bhi problem ko except kar lete hain hum us cheez ko deal karne ke liye aur bhi zyada pyar ho jata hai hamare andar bahut zyada takat hai jo thi ki hamko samajhe aur us kar sakte hain hum tabhi soch paate toh dono situation ko except kar le kal jab tak hum 1 dinon mein rahenge ki nahi aisa nahi ho sakta hai aisa kyon hua aisa nahi hota toh accha hota jab tak hum yeh soch humein us us problem ka kabhi salution nahi milega kyonki main aapse request karungi ki aap difficult hai but kahin na kahin kuch baat kariye aur phir uske saath aap best kya kar sakte hain accident vala Rs ka future battle hua us par focus karein

आम आदमी अगर मुझे पता होता तो मैं आपको शायद बटन हेल्प कर पाती इस बार कोई बात नहीं बट आपकी प

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  383
WhatsApp_icon
user

Dr. Priya Shatanjib Jha

Psychologist|Counselor|Dentist

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं विकी लाइफ में क्या होता ना कि हम अपने एक सपने का तना के रखते हैं यानी कि बादल सपने का एक बादल होता है जो हमारे सर के ऊपर से इमैजिनरी देना मंडरा रहा होता है और वह जो बबल जो है वही पर फूट जाता है यानी कि जो हम उम्मीद लगाए रहते हैं जिंदगी से एक्सपेक्टेशन वह जब बस हो जाता है उसका क्लाउड तो हमको बहुत दुख होता है यह मैंने आपको इसलिए कहा इतना लंबा चौड़ा कि हम सब एक हमने इमेज बनाया होता है कि हमारे पैर अंजू है मम्मी पापा दोनों साथ में रहे जैसे की मूवीस में दिखाते हैं जैसे की सीरियल पिक्चरों में दिखाते हैं और जैसे कि दूसरे बच्चों के मां-बाप रहते हैं तो हम भी ज्यादा कि हमारे पर भी वैसे रहे लेकिन देखे सबके घर में जो है वह रिश्ता मां-बाप का सिम नहीं होता तो अनफॉर्चूनेटली और दुर्भाग्य से अगर आपके घर में ऐसा है बात जो आजकल आपके घर में नहीं बहुत कॉमन है लेकिन झगड़े सब घर में होते लेकिन झगड़े का आगे का स्टेज अगर आ गया है और पेरेंट्स मम्मी-पापा साथ में रह रहे हैं तो इससे आप पर्सनली अपने जिंदगी को बर्बाद करना शुरु मत कीजिए क्योंकि अभी आपका एज काफी यंग होगा और अभी से ही क्या होता ना फिर पर्सनालिटी में आने शुरू हो जाएंगे आप भी आगे जाकर अपने मम्मी या पापा जैसे बन सकते हो इसकी संभावना हाय है तो रोटी और फोटो आपने जो एक्सपेक्टेशन बनाकर रखा हुआ है वह जो बादल को खुद ही छोड़ दीजिए और यह समझ जाओ कि आपकी ट्रेन जो है उनमें अनबन है उनमें इश्यूज है इस चीज को आप को एक्सेप्ट करना होगा लेकिन यह भी मन में रखो कि आगे जाकर आपका रिश्ता आपके लवर से या के पत्नी या पति से ऐसा नहीं होगा आप अपना खुद का पहचान बनाओगे और आपका एक आपके रिश्ते का एक अपना पहचान होगा दुनिया में और आपकी के लिए खुद पहले सो डोंट वरी अबाउट चीजों के बारे में चिंता मत करो यह दुर्भाग्य की बात है कि आपके पैरेंट्स के साथ ऐसा हुआ लेकिन उसको आपको एक्सेप्ट करना होगा और आप खुश रहिए अपने में अपनी जिंदगी देखें और दोनों मम्मी पापा से अलग-अलग मैंने प्यार कीजिए थैंक यू

namaste doston meri yani doctor priya jha ke taraf se aap sab ko din ki bahut saree subhkamnaayain vicky life mein kya hota na ki hum apne ek sapne ka tana ke rakhte hain yani ki badal sapne ka ek badal hota hai jo hamare sir ke upar se imaijinri dena mandra raha hota hai aur vaah jo babal jo hai wahi par feet jata hai yani ki jo hum ummid lagaye rehte hain zindagi se expectation vaah jab bus ho jata hai uska cloud toh hamko bahut dukh hota hai yah maine aapko isliye kaha itna lamba chauda ki hum sab ek humne image banaya hota hai ki hamare pair Anju hai mummy papa dono saath mein rahe jaise ki Movies mein dikhate hain jaise ki serial pikcharon mein dikhate hain aur jaise ki dusre baccho ke maa baap rehte hain toh hum bhi zyada ki hamare par bhi waise rahe lekin dekhe sabke ghar mein jo hai vaah rishta maa baap ka sim nahi hota toh anafarchunetli aur durbhagya se agar aapke ghar mein aisa hai baat jo aajkal aapke ghar mein nahi bahut common hai lekin jhagde sab ghar mein hote lekin jhagde ka aage ka stage agar aa gaya hai aur parents mummy papa saath mein reh rahe hain toh isse aap personally apne zindagi ko barbad karna shuru mat kijiye kyonki abhi aapka age kaafi young hoga aur abhi se hi kya hota na phir personality mein aane shuru ho jaenge aap bhi aage jaakar apne mummy ya papa jaise ban sakte ho iski sambhavna hi hai toh roti aur photo aapne jo expectation banakar rakha hua hai vaah jo badal ko khud hi chod dijiye aur yah samajh jao ki aapki train jo hai unmen anban hai unmen issues hai is cheez ko aap ko except karna hoga lekin yah bhi man mein rakho ki aage jaakar aapka rishta aapke lover se ya ke patni ya pati se aisa nahi hoga aap apna khud ka pehchaan banaaoge aur aapka ek aapke rishte ka ek apna pehchaan hoga duniya mein aur aapki ke liye khud pehle so dont worry about chijon ke bare mein chinta mat karo yah durbhagya ki baat hai ki aapke pairents ke saath aisa hua lekin usko aapko except karna hoga aur aap khush rahiye apne mein apni zindagi dekhen aur dono mummy papa se alag alag maine pyar kijiye thank you

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं व

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  2012
WhatsApp_icon
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे माता-पिता आज का अलग रह रहे हैं मैं घर के माहौल में बहुत थक चुका हूं क्या करूं इसका मतलब यह है कि या तो आत्महत्या के साथ रहते हैं या आप पिता के साथ आते हैं या आप अलग रहते हैं अगर आप माता के साथ रहते हैं तो आपका पिता से संपर्क नहीं होता और आप पिता के साथ रहते हैं तो आपका माता के साथ संबंध रहता है बता प्रभाव है कि जब माता-पिता क्या करती हो तो आपका संबंध मां-बाप से संतुलित नहीं रहा है समान रूप से देखा जाता है बच्चों के कारण ही माता पिता ने अंतर होता है यह देश होता है अलग सोचने का काम होता है होने की कोई क्रीम या कोई पुरुष उनकी अंदर अलग रहने के कारण हो सकता है लेकिन समांतर रूप से यह नहीं होता ऐसा क्या कर रहे हैं कि पिता माता से अलग हो शायद ना उनको सत श्री सत्य साई नहीं कर पाता यह एक मिलता है

mere mata pita aaj ka alag reh rahe hain main ghar ke maahaul mein bahut thak chuka hoon kya karu iska matlab yeh hai ki ya toh atmahatya ke saath rehte hain ya aap pita ke saath aate hain ya aap alag rehte hain agar aap mata ke saath rehte hain toh aapka pita se sampark nahi hota aur aap pita ke saath rehte hain toh aapka mata ke saath sambandh rehta hai bata prabhav hai ki jab mata pita kya karti ho toh aapka sambandh maa baap se santulit nahi raha hai saman roop se dekha jata hai baccho ke kaaran hi mata pita ne antar hota hai yeh desh hota hai alag sochne ka kaam hota hai hone ki koi cream ya koi purush unki andar alag rehne ke kaaran ho sakta hai lekin samantar roop se yeh nahi hota aisa kya kar rahe hain ki pita mata se alag ho shayad na unko sat shri satya sai nahi kar pata yeh ek milta hai

मेरे माता-पिता आज का अलग रह रहे हैं मैं घर के माहौल में बहुत थक चुका हूं क्या करूं इसका मत

Romanized Version
Likes  287  Dislikes    views  5743
WhatsApp_icon
user

महेश हिन्दू

विधार्थी

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार भाइयों बहनों देखिए ऐसा है कि यह आपके माता-पिता दोनों अलग-अलग रह रहे हैं और आप हम दोनों की लड़ाई झगड़ों से तंग आ चुके हैं अब आपको क्या करना चाहिए तो मैं आपको सलाह देता हूं और जितने भी लोग इस वर्ष इस समस्या से परेशान हैं उनके लिए भी तो आप ऐसा करिए आपकी शादी हो जाए आप बड़े हो जाए आपका परिवार मन जाए तो आप ऐसा कदापि मत करना आप इनसे सीख ले लेना कैसे करते हैं तो ऐसा होता है आप अपने माता-पिता दोनों लग रहे हैं आप कमाई करिए नौकरी कर रहे हैं जो भी आपके कमाई का जरिया है उसके द्वारा अपने माता-पिता दोनों की सेवा करिए जाए वह कैसे भी हो राक्षस भी हो लेकिन आप उनकी सेवा करें क्योंकि आपका दायित्व है तथा आप अपने होने वाली संतान को एहसास इनके बारे में बिल्कुल भी मत बताइएगा कि आपके दादा अभी ऐसे हैं जैसे हैं बिल्कुल उन बातों का उन बच्चों पर प्रभाव पड़ेगा और वह बच्चे सोचेंगे कि उन्होंने ऐसा क्यों किया इसलिए ऐसी बात बिल्कुल नहीं बताना चाहते हैं तो स्पष्ट रूप से बिल्कुल साफ सुथरा बिल्कुल सत्य बात बताएं तथा माता-पिता अलग रह रहे हैं तो आप जब उठे हो जाए तो दोनों को एक साथ लाने कि आप कोशिश करिए आपसे जितना संभव हो सके बाकी आप घर परिवार छोड़ना या जो भी आप एफ आई आर दर्ज करोगे जो भी करोगे उससे समाज आपको अच्छा नहीं कहेगा ये गैलेक्सी इसलिए आपका दायित्व बनता है कि आप कुछ ना करें कमेंट करिए अलग रही लेकिन माता-पिता की सेवा करें धन्यवाद

namaskar bhaiyo bahanon dekhie aisa hai ki yeh aapke mata pita dono alag alag reh rahe hain aur aap hum dono ki ladai jhagadon se tang aa chuke hain ab aapko kya karna chahiye toh main aapko salah deta hoon aur jitne bhi log is varsh is samasya se pareshan hain unke liye bhi toh aap aisa kariye aapki shadi ho jaye aap bade ho jaye aapka parivar man jaye toh aap aisa kadapi mat karna aap inse seekh le lena kaise karte hain toh aisa hota hai aap apne mata pita dono lag rahe hain aap kamai kariye naukri kar rahe hain jo bhi aapke kamai ka jariya hai uske dwara apne mata pita dono ki seva kariye jaye wah kaise bhi ho rakshas bhi ho lekin aap unki seva karein kyonki aapka dayitva hai tatha aap apne hone wali santan ko ehsaas inke bare mein bilkul bhi mat bataiega ki aapke dada abhi aise hain jaise hain bilkul un baaton ka un baccho par prabhav padega aur wah bacche sochenge ki unhone aisa kyon kiya isliye aisi baat bilkul nahi batana chahte hain toh spasht roop se bilkul saaf suthara bilkul satya baat bataye tatha mata pita alag reh rahe hain toh aap jab uthe ho jaye toh dono ko ek saath lane ki aap koshish kariye aapse jitna sambhav ho sake baki aap ghar parivar chhodna ya jo bhi aap f I r darj karoge jo bhi karoge usse samaj aapko accha nahi kahega ye galaxy isliye aapka dayitva baata hai ki aap kuch na karein comment kariye alag rahi lekin mata pita ki seva karein dhanyavad

नमस्कार भाइयों बहनों देखिए ऐसा है कि यह आपके माता-पिता दोनों अलग-अलग रह रहे हैं और आप हम द

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  587
WhatsApp_icon
user

Sks

योग

1:52
Play

Likes  36  Dislikes    views  550
WhatsApp_icon
user
0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज माता-पिता आज कल अगर आ रहा है अगर का महत्व थक चुके क्या करें तो मैं अपने जाता हूं कि आप शांति से काम ले आता पिता का था तो अब दिमाग बंद करके रखे अपने माता-पिता का मानना है कि माता-पिता को अकेला सुनाई चाहत नहीं है माता-पिता संतान के लिए पूरी जिंदगी बात करते हैं उनका अच्छा बनाते हैं उनके पिक्चर्स भागते हैं तुम्हें कोई कहा जाता है कि माता-पिता को अलग ना रहने दें उनकी सेवा करें उनके साथ रहें और अपने साथियों को आप सेवा करें और उनको आप अपनी सेवा करवाने का मौका दे

aaj mata pita aaj kal agar aa raha hai agar ka mahatva thak chuke kya kare toh main apne jata hoon ki aap shanti se kaam le aata pita ka tha toh ab dimag band karke rakhe apne mata pita ka manana hai ki mata pita ko akela sunayi chahat nahi hai mata pita santan ke liye puri zindagi baat karte hain unka accha banate hain unke pictures bhagte hain tumhe koi kaha jata hai ki mata pita ko alag na rehne de unki seva kare unke saath rahein aur apne sathiyo ko aap seva kare aur unko aap apni seva karwane ka mauka de

आज माता-पिता आज कल अगर आ रहा है अगर का महत्व थक चुके क्या करें तो मैं अपने जाता हूं कि आप

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  336
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

माता-पिता अलग रह रहे हैं इससे आप अपने मन को हटाए कम से कम आप को इस बात से खुशी होनी चाहिए कि आपके मां और पिता दोनों ही बनी हुई है और वह किसी तरह आप के कारण ही साथ मिलते हैं या जो भी दिक्कत है आप अपने दुश्मन को हटाकर आप अपने कैरियर अपने भविष्य में अपने आप को खुश रखें किसी भी एंटरटेनमेंट में अपना दिमाग लगा दीजिए जिसमें आपको खुशी मिले इन सब बातों को मन से हटा कर घर के माहौल में कभी-कभी इंसान रहते रहते बहुत ही मानसिक परेशानी में पड़ जाता है जिससे समझ में नहीं आता कि वह क्या करें और क्या नहीं इसीलिए आप इन सब बात खाना देकर आप अपनी खुश रहे आप किसी ने आप कुछ ऐसी ही करें जो आपके मन को बहुत खुश करती हो घर पर ही आप अपना काम सेंड करें अपना काम करने से क्या होगा क्या आप इन सब बातों की ओर ध्यान नहीं लगेगा यदि आप शिक्षा के क्षेत्र में है तो आप अपनी पढ़ाई पढ़ाई नहीं एंटरटेनमेंट खोजें यदि आप कोई काम कर रहे हैं बिजनेस रोशनी या किसी गवर्मेंट जॉब में है तो आप पर ज्यादा ध्यान दें मां बाप के बीच जो भी है तो वही जाने आप अपने इतना ध्यान दें क्योंकि आप जो भी करेंगे तो आपके अब अच्छा हो या बुरा वाली मां बाप को भी जाएगा यदि आप अच्छा करते हैं तो मां-बाप अलग रही है तू पास रहे हैं अच्छा खुशी होगी आपके बारे में

mata pita alag reh rahe hain isse aap apne man ko hataye kam se kam aap ko is baat se khushi honi chahiye ki aapke maa aur pita dono hi bani hui hai aur vaah kisi tarah aap ke karan hi saath milte hain ya jo bhi dikkat hai aap apne dushman ko hatakar aap apne carrier apne bhavishya me apne aap ko khush rakhen kisi bhi Entertainment me apna dimag laga dijiye jisme aapko khushi mile in sab baaton ko man se hata kar ghar ke maahaul me kabhi kabhi insaan rehte rehte bahut hi mansik pareshani me pad jata hai jisse samajh me nahi aata ki vaah kya kare aur kya nahi isliye aap in sab baat khana dekar aap apni khush rahe aap kisi ne aap kuch aisi hi kare jo aapke man ko bahut khush karti ho ghar par hi aap apna kaam send kare apna kaam karne se kya hoga kya aap in sab baaton ki aur dhyan nahi lagega yadi aap shiksha ke kshetra me hai toh aap apni padhai padhai nahi Entertainment khojen yadi aap koi kaam kar rahe hain business roshni ya kisi government job me hai toh aap par zyada dhyan de maa baap ke beech jo bhi hai toh wahi jaane aap apne itna dhyan de kyonki aap jo bhi karenge toh aapke ab accha ho ya bura wali maa baap ko bhi jaega yadi aap accha karte hain toh maa baap alag rahi hai tu paas rahe hain accha khushi hogi aapke bare me

माता-पिता अलग रह रहे हैं इससे आप अपने मन को हटाए कम से कम आप को इस बात से खुशी होनी चाहिए

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
user

Rakesh Kumar Chandra

BE ( Electrical )/ MBA ( Marketing) Electrical Engineer

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने लिखा है कि मेरे माता-पिता आजकल लग रहे हैं मैं क्या करूं लेकिन आपने नहीं बताया कि माता-पिता घर से रह रहे हैं क्या माता-पिता आपसे इसलिए लग रहा है कि आप उनके बिहार से संतोष नहीं किया इसलिए रह रहे हैं कि आपका व्यवहार उनके पति अच्छा नहीं किया इसलिए रह रहे हैं कि वह जो है आप पूरे शहर में रहते हो और आप जो है एक दूसरे शहर में नौकरी करते हैं इस कारण वह दूर है यहां की बीवी उनको भी आपके साथ रखने के लिए तैयार नहीं है आपकी भी उनको खाना बनाकर नहीं देती है कौन सी आती है जिनके कारण वो जब वापस कारणों को दूर कर पाएंगे तो आप उनके पास गांव के जवारा बेहतर काम कर पाएंगे तो इसके लिए जरूरी है कि आप अपने परिवार में और अपने माता-पिता ने सामंजस्य बिठाने की कोशिश करें और एक बढ़िया माहौल बना क्रिएटिव माहौल बनाने की कोशिश करें

aapne likha hai ki mere mata pita aajkal lag rahe hain main kya karu lekin aapne nahi bataya ki mata pita ghar se reh rahe hain kya mata pita aapse isliye lag raha hai ki aap unke bihar se santosh nahi kiya isliye reh rahe hain ki aapka vyavhar unke pati accha nahi kiya isliye reh rahe hain ki vaah jo hai aap poore shehar me rehte ho aur aap jo hai ek dusre shehar me naukri karte hain is karan vaah dur hai yahan ki biwi unko bhi aapke saath rakhne ke liye taiyar nahi hai aapki bhi unko khana banakar nahi deti hai kaun si aati hai jinke karan vo jab wapas karanon ko dur kar payenge toh aap unke paas gaon ke jawara behtar kaam kar payenge toh iske liye zaroori hai ki aap apne parivar me aur apne mata pita ne samanjasya bitane ki koshish kare aur ek badhiya maahaul bana creative maahaul banane ki koshish kare

आपने लिखा है कि मेरे माता-पिता आजकल लग रहे हैं मैं क्या करूं लेकिन आपने नहीं बताया कि माता

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  210
WhatsApp_icon
user

Raj Bahadur

Study Please Subscribe On YouTube

0:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने घर से बाहर जाइए तो 3 महीने कहीं घूम कर आया और उसके बाद आपको सब अच्छा लगने लगेगा

aap apne ghar se bahar jaiye toh 3 mahine kahin ghum kar aaya aur uske baad aapko sab accha lagne lagega

आप अपने घर से बाहर जाइए तो 3 महीने कहीं घूम कर आया और उसके बाद आपको सब अच्छा लगने लगेगा

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  395
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  4  Dislikes    views  101
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!