मेरी ज़िंदगी में कोई भी प्रॉब्लम नहीं है तब भी मैं ख़ुश नहीं रह पाती। मैं क्या करूँ?...


user

Er. Vikas Sharma

Entrepreneur - Life Advisor - Writer

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की सबसे बड़ी समस्या यह नहीं है कि मैं खुश कैसे हो हमके बाहर दूसरों की खुशी से भी हम कई बार दुखी हैं जो एक आज की बहुत बड़ी समस्या है मैं अंदर से यह कहना चाहूंगा कि पहले सिर्फ कल नाइस करें कि आपने अब तक का जीवन कैसा रहा है यह चीज कृपया करके आप डायरी में एक जगह लिखेंगे कि मैंने इस उम्र में इस साल में इस ओर में क्या अजीब किया और में कैसे चेक किया और जब आप देखेंगे कि मैंने इस कितनी कठिनाई सी चीज हासिल की थी और कैसे हुई चीज पाई थी तब देखेंगे कि आप अपनी खुशियों को समेट रहे होंगे बस खुश रहने की छोटे-छोटे क्षण अपने आप देख रहे होंगे जितना आप अपने अपने पास सिमटे हो रहे हैं कि अपनी अपनी खुशियां मरेंगे तब खुश रहेंगे अगर मैं यह कहना चाहूंगा कि जितना ज्यादा या जितना ज्यादा अपने आप में आएंगे आज ना लिखेंगे आप कि मैं खुश कहां कहां थी किस समिति तो इतना खुश रहेंगे बस यही कहना चाहूंगा कि दूसरों की तरफ कम देखें या बाहर की तरफ जो बाहर की दुनिया है क्योंकि यह आज की दुनिया ही सोशल मीडिया वाली है या दिखावे की है जी हम बहुत खुश हैं इस बहुत ऐसा हैं हम यहां घूम के आए हमेशा किया यह और दुखी रहने का सबसे बड़ा रीजन है कि काश मैं भी ना होता यह मैं भी जगह में हो तो भी होती या मैं भी इस जगह गया होता या यह 15 कितना के इंजॉय कर रहा है लेकिन अब यह नहीं देखते कि अंदर सेव कितना टूटा है तो कृपया करके अपनी खुशियों को खुद खुश रहना सीखें

aaj ki sabse badi samasya yah nahi hai ki main khush kaise ho hamake bahar dusro ki khushi se bhi hum kai baar dukhi hain jo ek aaj ki bahut badi samasya hai main andar se yah kehna chahunga ki pehle sirf kal nice kare ki aapne ab tak ka jeevan kaisa raha hai yah cheez kripya karke aap diary me ek jagah likhenge ki maine is umar me is saal me is aur me kya ajib kiya aur me kaise check kiya aur jab aap dekhenge ki maine is kitni kathinai si cheez hasil ki thi aur kaise hui cheez payi thi tab dekhenge ki aap apni khushiyon ko samet rahe honge bus khush rehne ki chote chote kshan apne aap dekh rahe honge jitna aap apne apne paas simte ho rahe hain ki apni apni khushiya marenge tab khush rahenge agar main yah kehna chahunga ki jitna zyada ya jitna zyada apne aap me aayenge aaj na likhenge aap ki main khush kaha kaha thi kis samiti toh itna khush rahenge bus yahi kehna chahunga ki dusro ki taraf kam dekhen ya bahar ki taraf jo bahar ki duniya hai kyonki yah aaj ki duniya hi social media wali hai ya dikhaave ki hai ji hum bahut khush hain is bahut aisa hain hum yahan ghum ke aaye hamesha kiya yah aur dukhi rehne ka sabse bada reason hai ki kash main bhi na hota yah main bhi jagah me ho toh bhi hoti ya main bhi is jagah gaya hota ya yah 15 kitna ke enjoy kar raha hai lekin ab yah nahi dekhte ki andar save kitna tuta hai toh kripya karke apni khushiyon ko khud khush rehna sikhe

आज की सबसे बड़ी समस्या यह नहीं है कि मैं खुश कैसे हो हमके बाहर दूसरों की खुशी से भी हम कई

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  94
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!