मैं अपने माँ बाप से ज़्यादा खुल कर बात नहीं कर पाता। मैं क्या करूँ?...


user

गोपाल पांडेय

Journalist, Counselor, motivational speaker

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों मैं गोपाल पांडे और आज का क्वेश्चन है कि मैं अपने मां-बाप से ज्यादा खुलकर बात नहीं कर पाता मैं क्या करूं तो मैं कहना चाहूंगा मेरे दोस्तों अगर आप अपने मम्मी पापा से बात नहीं कर पाते हैं तो इसका ऑप्शन है कि आप अपने भाई बहन का सहारा ले सकते हैं या फिर अपनी बड़ी दीदी का यह बड़े भाई का सहारा लेकर आप क्या बात है सकते हैं नहीं तो फिर अपनी किसी फ्रेंड का भी सहारा लेकर अब मम्मी पापा तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं अगर फिर भी अगर आपको लगता है कि मैं अपनी बात अभी तक ठीक ढंग से नहीं बता पा रहे हैं फिर आपके फ्रेंड आपका साथ नहीं देते हैं तो आप आज पड़ोस की जो अंट्या होते हैं जो कि मम्मी की खास फ्रेंड है अब उनके सामने जाकर इस प्रकार के क्वेश्चन को रख सकते हैं कि एंटी जी ऐसा चीज में साथ होता है मुझे क्या करना चाहिए तो निसंदेह आपकी आंटी जो होगी आपकी मम्मी से बात करेगी और हो सकता है कि आपके मीट भी करा दे मम्मी पापा के साथ जिससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा उसके साथी एक्सपोर्टर वीरा का धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

namaskar doston main gopal pandey aur aaj ka question hai ki main apne maa baap se zyada khulkar baat nahi kar pata main kya karu toh main kehna chahunga mere doston agar aap apne mummy papa se baat nahi kar paate hain toh iska option hai ki aap apne bhai behen ka sahara le sakte hain ya phir apni badi didi ka yah bade bhai ka sahara lekar aap kya baat hai sakte hain nahi toh phir apni kisi friend ka bhi sahara lekar ab mummy papa tak apni baat pohcha sakte hain agar phir bhi agar aapko lagta hai ki main apni baat abhi tak theek dhang se nahi bata paa rahe hain phir aapke friend aapka saath nahi dete hain toh aap aaj pados ki jo antya hote hain jo ki mummy ki khas friend hai ab unke saamne jaakar is prakar ke question ko rakh sakte hain ki anti ji aisa cheez me saath hota hai mujhe kya karna chahiye toh nisandeh aapki aunty jo hogi aapki mummy se baat karegi aur ho sakta hai ki aapke meat bhi kara de mummy papa ke saath jisse aapka aatmvishvaas bhi badhega uske sathi Exporter veera ka dhanyavad aapka din shubha ho

नमस्कार दोस्तों मैं गोपाल पांडे और आज का क्वेश्चन है कि मैं अपने मां-बाप से ज्यादा खुलकर ब

Romanized Version
Likes  140  Dislikes    views  1139
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!