लोग भगवान को क्यों मानते हैं?...


user

Acharya shree guru ji vyas / vocal music( singing)on line live for learrning cont. my watsaap chat/call-8898408005

Shreemad Bhagwat Katha, Ramkatha, Bhajan Sandhya Program , Mata Ki Chowki, Jagran , all Types Devosnal & Festival Program Contact Us- 8898408005

2:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री राधे कृष्ण भगवान को मानते हैं पितरों भगवान को मानने के कई कारण हैं सरल भाषा में समझाता हूं लोग अपने पिता को क्यों मारते हैं तो जैसे लोग अपने पिता को मानते हैं अगर बबीता को तो नहीं जानते कि वही मेरा पिता है फिर भी बताने पर जो है विश्वास करके भरोसा करके पिता को आदर किया जाता है भ्रमण किया जाता है मां के कहने पर उसी तरह से परमात्मा को भी आप नहीं जानते लेकिन जो हमारे शास्त्र है जो ग्रंथ हैं हमारे माता-पिता हैं समान है जिस तरह का हमें आदेश देते हैं इस तरह से हमको परमात्मा पर नाश्ता बनानी पड़ती है और उसी से उसी से मारी श्रद्धा की कड़ी परमात्मा से जुड़ती है और हम उस श्रद्धा की कड़ी को जो पैदा की कड़ी को जोड़कर परमात्मा तक हम पहुंच पाते हैं तो सीधा सामाजिक है जैसे हम अपने पिता में अपनी श्रद्धा रखते हैं तो वह हमारा सिस्टिका पूरे ब्रह्मांड का परमपिता है उस पर अगाध श्रद्धा होना जरूरी है और लोगों को मानना ही पड़ेगा दिल सब एक जैसे पैसे आज नहीं तो कल उनको परमात्मा की शरण में जाना पड़ेगा यह सच्चाई है लेकिन इसके लिए आपका खुद का नंबर होना चाहिए जब तक आपको उन्होंने ही होगा तब आपको विश्वास नहीं होगा तब तक आप मानेंगे नहीं तो उसके लिए आपका अनुभव आपके साथ होना जरूरी है उस अनुभव के लिए आप प्रयत्न करें शास्त्रों को पढ़ें ध्यान दें और उससे अपना अनुभव ना बनाएं कि वह किसी के कहने पर आप काम को पक्का नहीं होगा आपको विश्वास नहीं होगा जब तक आप कोशिश करो ना हो तब तक आपको कोई चीज समझ में नहीं आएगी अपने आप जानोगे तो लेकिन मान नहीं पाओगे जानना एक बात है मानना एक बात है तो अपना अनुभव स्वयं बनाएं आपको सब मालूम पड़ेगा कि भगवान को क्यों लोग मानते हैं अब आपको अनुभव हो जाएगा शाम को यहीं कहकर भगवान को क्यों मानते हैं वह सच्चाई आपके अंदर विश्वास और जो जो है प्रेम अपने आप प्रकट हो जाएगा और आप सब जान जाएंगे कि भगवान को क्यों मानते मित्रों जय श्री कृष्ण जय श्री राधे

jai shri radhe krishna bhagwan ko maante hain pitaron bhagwan ko manne ke kai karan hain saral bhasha me samajhaata hoon log apne pita ko kyon marte hain toh jaise log apne pita ko maante hain agar Babita ko toh nahi jante ki wahi mera pita hai phir bhi batane par jo hai vishwas karke bharosa karke pita ko aadar kiya jata hai bhraman kiya jata hai maa ke kehne par usi tarah se paramatma ko bhi aap nahi jante lekin jo hamare shastra hai jo granth hain hamare mata pita hain saman hai jis tarah ka hamein aadesh dete hain is tarah se hamko paramatma par nashta banani padti hai aur usi se usi se mari shraddha ki kadi paramatma se judti hai aur hum us shraddha ki kadi ko jo paida ki kadi ko jodkar paramatma tak hum pohch paate hain toh seedha samajik hai jaise hum apne pita me apni shraddha rakhte hain toh vaah hamara sistika poore brahmaand ka parampita hai us par agadh shraddha hona zaroori hai aur logo ko manana hi padega dil sab ek jaise paise aaj nahi toh kal unko paramatma ki sharan me jana padega yah sacchai hai lekin iske liye aapka khud ka number hona chahiye jab tak aapko unhone hi hoga tab aapko vishwas nahi hoga tab tak aap manenge nahi toh uske liye aapka anubhav aapke saath hona zaroori hai us anubhav ke liye aap prayatn kare shastron ko padhen dhyan de aur usse apna anubhav na banaye ki vaah kisi ke kehne par aap kaam ko pakka nahi hoga aapko vishwas nahi hoga jab tak aap koshish karo na ho tab tak aapko koi cheez samajh me nahi aayegi apne aap janoge toh lekin maan nahi paoge janana ek baat hai manana ek baat hai toh apna anubhav swayam banaye aapko sab maloom padega ki bhagwan ko kyon log maante hain ab aapko anubhav ho jaega shaam ko yahin kehkar bhagwan ko kyon maante hain vaah sacchai aapke andar vishwas aur jo jo hai prem apne aap prakat ho jaega aur aap sab jaan jaenge ki bhagwan ko kyon maante mitron jai shri krishna jai shri radhe

जय श्री राधे कृष्ण भगवान को मानते हैं पितरों भगवान को मानने के कई कारण हैं सरल भाषा में सम

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1880
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!