देवी दुर्गा के नौ रूपों के नाम लिखें? ...


play
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

9:09

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देवी मां दुर्गा के 9 नाम और नौ स्वरूपों में इनकी प्रशिक्षित आभा अपने स्वरूप तब्दील करती हुई और अध्यात्म आचरण को समाधान के लिए अपने नाम और शुरू को की विवेचना की है प्रथम शैलपुत्री द्वितीय ब्रह्मचारिणी तृतीय चंद्रघंटा चतुर्थ कूष्मांडा पंचम स्कंदमाता यशस्विनी कात्यानी सप्तम कालरात्रि अष्टम महागौरी नवम सिद्धिदात्री यह नो नाम उल्लेख हुए हैं पर माता के इन दिव्य नो नामों का स्मरण करने से हमें एक दिव्य पहुंचा की पुण्य मिलती और हमारा मन शरीर अच्छा जीत हो जाता हूं गुड़गांव से तो इनके नाम मिश्रण की बात महत्वता है दूसरे हमारी बॉडी के अंदर 9 चक्र होते हैं हर चक्र में घर चक्र की याद शास्त्री होती हैं जैसा कि प्रथम मूलाधार चक्र है और जो पृथ्वी तत्व का लं बीज है इसमें माता शैलपुत्री के नाम से पर प्रति बहुत हुई हैं और द्वितीय में ब्रह्मचारिणी स्वरुप में है जो उस अधिष्ठान चक्र होता है शरीर के अंदर क्योंकि उसी जगह ब्रह्मचारी की पालन की शक्ति और स्कस सही सामाजिक समाधान रहता है अन्ना भीम मणिपुर चक्र में चंद्रघंटा देवी का निवास होता है और स्वस्तिक शक्स नाभि से ऊपर फिर देख के नीचे ही चक्र स्थापित होता है इसमें माता कुष्मांडा देवी का स्वरूप आता है और अनाहत चक्र में ह्रदय में स्कंदमाता का शुरू प्रकट होता है छठी चक्र विशुद्ध चक्र के अंदर कात्यानी जी का स्वरूप निखरता है ओ साथिया के चक्कर में कल रात्रि शुभ का प्रकट होता है ओ ललाट परम चक्र के अंदर अष्टम भाव में महागौरी जी का प्रादुर्भाव होता है और नवमेश चक सेंट्रल कमल के अंदर सिद्धिदात्री का शुरू प्रकट होता है यह नौ देवी स्टेप बाय स्टेप अपने स्वरूप को परिवर्तित करती हुई उन्नत विकास की ओर बढ़ती है और साधक के अंतरण गहराई में प्रवेश करते रहने दिव्य योग्यता प्राप्त होती है उनका जन सूचना अति सूक्ष्म होता चला जाता है और यह महाशक्ति सहस दल कमल के अंदर सदाशिव से विलय होती है और पूर्ण ब्रह्म कि यहां पर आधी भगवती के स्वरूप में आ जाता है और यह मनुष्य की समझ पर क्रिया अंतरण का यहां जागरण हो जाता है और साधक के नवीन जीवन की रचना होती है जिस प्रकार नमाज के ग्रह के उपरांत एक नया जन्म होता है इसी तरह मां दुर्गा 9 दिन की जो उपासना करते हैं लोग तो उस निष्ठा में जो सफल हो जाते हैं वह एक नवीन उल्लास के साथ पुणे उनका एक प्रकार से दिव्या अब होती विभूति मंडल शरण हो जाते हैं और बहुत ही कल्याण दायक है कहीं यात्रा के दौरान या किसी काम के दौरान भगवती के 9 नाम का जो स्वरूप का ध्यान करता है मुझसे विजय हासिल होती है और अपने मार्ग को प्रशस्त कर लेता है प्रशस्त कर लेता है जो इसके बाद अनुयाई और भक्तजन है उनको जीवन में पूर्ण लाभ मिलता है क्योंकि असली चीज मनुष्य के जीवन में यही होता है क्योंकि हमारे अंदर ईश्वर ने सारी कुछ चीजें बिखेर रखी है लेकिन हम उसे पा नहीं पाते इसका लाभ नहीं ले पाते हैं उसकी जानकारी नहीं मिल पाती प्रसुप्त अवस्था में उपरोक्त रहती है लेकिन अवचेतन मन से और परा से सूक्ष्म से स्थूल की ओर से प्रेरणा प्रीत करी जाती है तो कुछ सकारात्मक रूप से अपने अंदर सताए सास होने लगता है कि मुझ में क्या परिवर्तन आ रहा है और क्या प्रभाव है और यह निर्मल मन की अनुभूति का विषय होता है और इन चीजों की परिचर्चा हमेशा निर्मल हृदय से 71 भाग से करना चाहिए क्योंकि जग जननी चेतन में है और यह स्वयं ही सर्वज्ञ सर्वव्यापी अजीब है और इनकी कृपा नगर आज इस आदत पर हो जाता है तो उसका जीवन पर वितरण स्वीट हो जाता और ऐसी ही ऊर्जा से हम सांसारिक भवसागर से अपना निर्वाह करते हुए अपनी दादी को पूर्ण करते हुए हमारा जीवन सार्थक हो जाता है होली भगवती माता की बहुत महान कृपा अनुकंपा होती है कि साधक जिस क्षेत्र में जिस भावना में जिस स्वरूप में जिस भाव मैन का स्मरण करता है वैसी भाव में तब्दील होकर उनको पर फलीभूत करती है नमो नमः नव दुर्गा देवी स्वाहा

devi maa durga ke 9 naam aur nau swaroopon mein inki prashikshit abha apne swaroop tabdil karti hui aur adhyaatm aacharan ko samadhan ke liye apne naam aur shuru ko ki vivechna ki hai pratham shailputri dwitiya brahmacharini tritiya chandraghanta chaturth kushmanda pancham skandamata yashaswini katyani saptam kalaratri ashtam mahagauri navam siddhidatri yeh no naam ullekh hue hain par mata ke in divya no namon ka smarn karne se humein ek divya pohcha ki punya milti aur hamara man sharir accha jeet ho jata hoon gurgaon se toh inke naam mishran ki baat mahatvata hai dusre hamari body ke andar 9 chakra hote hain har chakra mein ghar chakra ki yaad shastri hoti hain jaisa ki pratham muladhar chakra hai aur jo prithvi tatva ka lan beej hai ismein mata shailputri ke naam se par prati bahut hui hain aur dwitiya mein brahmacharini swarup mein hai jo us adhisthan chakra hota hai sharir ke andar kyonki usi jagah brahmachari ki palan ki shakti aur skas sahi samajik samadhan rehta hai anna bhim manipur chakra mein chandraghanta devi ka niwas hota hai aur swastik shaks nabhi se upar phir dekh ke niche hi chakra sthapit hota hai ismein mata kushmanda devi ka swaroop aata hai aur anahat chakra mein hriday mein skandamata ka shuru prakat hota hai chathi chakra vishudh chakra ke andar katyani ji ka swaroop nikharata hai o sathiya ke chakkar mein kal ratri shubha ka prakat hota hai o lalaat param chakra ke andar ashtam bhav mein mahagauri ji ka pradurbhav hota hai aur navmesh chak central kamal ke andar siddhidatri ka shuru prakat hota hai yeh nau devi step by step apne swaroop ko parivartit karti hui unnat vikas ki aur badhti hai aur sadhak ke antran gehrai mein pravesh karte rehne divya yogyata prapt hoti hai unka jan suchana ati sukshm hota chala jata hai aur yeh mahashakti sahas dal kamal ke andar sadashiv se vilay hoti hai aur poorn Brahma ki yahan par aadhi bhagwati ke swaroop mein aa jata hai aur yeh manushya ki samajh par kriya antran ka yahan jagran ho jata hai aur sadhak ke naveen jeevan ki rachna hoti hai jis prakar namaz ke grah ke uprant ek naya janam hota hai isi tarah maa durga 9 din ki jo upasana karte hain log toh us nishtha mein jo safal ho jaate hain wah ek naveen ullas ke saath pune unka ek prakar se divya ab hoti vibhooti mandal sharan ho jaate hain aur bahut hi kalyan dayak hai kahin yatra ke dauran ya kisi kaam ke dauran bhagwati ke 9 naam ka jo swaroop ka dhyan karta hai mujhse vijay hasil hoti hai aur apne marg ko prashast kar leta hai prashast kar leta hai jo iske baad anuyai aur bhagtjan hai unko jeevan mein poorn labh milta hai kyonki asli cheez manushya ke jeevan mein yahi hota hai kyonki hamare andar ishwar ne saree kuch cheezen bikher rakhi hai lekin hum use pa nahi paate iska labh nahi le paate hain uski jankari nahi mil pati prasupt avastha mein uparokt rehti hai lekin avachetan man se aur para se sukshm se sthool ki aur se prerna preet kari jati hai toh kuch sakaratmak roop se apne andar sataye saas hone lagta hai ki mujhme kya parivartan aa raha hai aur kya prabhav hai aur yeh nirmal man ki anubhuti ka vishay hota hai aur in chijon ki paricharcha hamesha nirmal hriday se 71 bhag se karna chahiye kyonki jag janani chetan mein hai aur yeh swayam hi sarvagya sarvavyapi ajib hai aur inki kripa nagar aaj is aadat par ho jata hai toh uska jeevan par vitaran sweet ho jata aur aisi hi urja se hum sansarik bhavsagar se apna nirvah karte hue apni dadi ko poorn karte hue hamara jeevan sarthak ho jata hai holi bhagwati mata ki bahut mahaan kripa anukampa hoti hai ki sadhak jis kshetra mein jis bhavna mein jis swaroop mein jis bhav man ka smarn karta hai waisi bhav mein tabdil hokar unko par falibhoot karti hai namo Namah nav durga devi swaha

देवी मां दुर्गा के 9 नाम और नौ स्वरूपों में इनकी प्रशिक्षित आभा अपने स्वरूप तब्दील करती हु

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  984
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!