समुंदर गुप्त की विशेषताएं बताएं?...


user
1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको प्रश्न है समुंद्र गुप्त की विशेषताए बताए तो समुंद्र गुप्त मौर्य साम्राज्य का एक शासक था जिसने मौर्य चंद्रगुप्त के बाद 350 ईसा पूर्व के आसपास सिंहासन को संभाला चंद्रगुप्त मौर्य का पुत्र था समुद्रगुप्त एक महान कवि और संगीतकार भी था समुंद्र गुप्त कोष की राज्य प्रसारण नीतियों के कारण भारत का नेपोलियन भी कहा जाता है और उसका राज पूर्व में बंगाल की खाड़ी से लेकर पश्चिम में पूर्वी मालवा तक फैला हुआ था अर्थात हिमालय से लेकर दक्षिण में विंध्य पर्वत तक फैला हुआ था आपको समुद्रगुप्त साथी एक बहुत सही दे इंसान भी था उसके राज्य में कवियों और लेखकों और विद्वानों को काफी प्रश्रय मिला

aapko prashna hai samundra gupt ki visheshtaye bataye toh samundra gupt maurya samrajya ka ek shasak tha jisne maurya chandragupta ke baad 350 isa purv ke aaspass sinhaasan ko sambhala chandragupta maurya ka putra tha samudragupt ek mahaan kavi aur sangeetkar bhi tha samundra gupt kosh ki rajya prasaran nitiyon ke karan bharat ka napoleon bhi kaha jata hai aur uska raj purv me bengal ki khadi se lekar paschim me purvi malawa tak faila hua tha arthat himalaya se lekar dakshin me vindhya parvat tak faila hua tha aapko samudragupt sathi ek bahut sahi de insaan bhi tha uske rajya me kaviyon aur lekhako aur vidvaano ko kaafi prashray mila

आपको प्रश्न है समुंद्र गुप्त की विशेषताए बताए तो समुंद्र गुप्त मौर्य साम्राज्य का एक शासक

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  873
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Roshan Prasad Jaiswal

Junior Volunteer

0:46

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो समुद्र गुप्त राजवंश के चौथे राजा चंद्रगुप्त प्रथम के उत्तराधिकारी देव पाटलिपुत्र उनके साम्राज्य की राजधानी थी वे वैश्विक इतिहास में सबसे बड़े और सफल सेनानायक सम्राट माने जाते हैं समुद्रगुप्त गुप्त राजवंश के चौथे शासक थे और उनका शासनकाल भारत के लिए स्वर्ग स्वर्ण युग की शुरुआत कहीं जाती है यह उनकी प्राथमिक विशेषता थी दूसरी है कि जैसे विशेष नोबिता घातक लड़ाई कुल्हाड़ी फिर बाग असर सिक्के उसकी एक कुशल योद्धा को साबित करते हैं सिखों की समुद्रगुप्त के प्रकार व प्रदर्शन किया बलिदान और उसके कई जीत और दर्शाते हैं

toh samudra gupt rajvansh ke chauthe raja chandragupta pratham ke uttradhikari dev patliputra unke samrajya ki rajdhani thi ve vaishvik itihas mein sabse bade aur safal senanayak samrat maane jaate hai samudragupt gupt rajvansh ke chauthe shasak the aur unka shasankal bharat ke liye swarg swarn yug ki shuruat kahin jaati hai yah unki prathmik visheshata thi dusri hai ki jaise vishesh nobita ghatak ladai kulhadi phir bagh asar sikke uski ek kushal yodha ko saabit karte hai Sikhon ki samudragupt ke prakar va pradarshan kiya balidaan aur uske kai jeet aur darshate hain

तो समुद्र गुप्त राजवंश के चौथे राजा चंद्रगुप्त प्रथम के उत्तराधिकारी देव पाटलिपुत्र उनके स

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  416
WhatsApp_icon
user

Munmun 🌈

Volunteer

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखी समुद्र समुद्र गुप्त गुप्त राजवंश की छोटे राजा और चंद्रगुप्त प्रथम के उत्तराधिकारी थे एवं पाटलिपुत्र उनके साम्राज्य की राजधानी थी और वे वैश्विक इतिहास में जो है सबसे बड़े और सफल सेनानायक एवं सम्राट सम्राट माने जाते थे और समुद्र गुप्त गुप्त राजवंश के चौथे शासक थे और उनका शासन काल था भारत के लिए स्वर्ण युग की शुरुआत कहीं जाती थी और मुझे समुद्रगुप्त को जो है गुप्त राजवंश का महानतम राजा माना जाता है और वे एक उदार शासक वीर योद्धा और कला के संरक्षक थे उनका नाम जावा पाठ में तंत्रिका के नाम से प्रकट है

likhi samudra samudra gupt gupt rajvansh ki chote raja aur chandragupta pratham ke uttradhikari the evam patliputra unke samrajya ki rajdhani thi aur ve vaishvik itihas mein jo hai sabse bade aur safal senanayak evam samrat samrat maane jaate the aur samudra gupt gupt rajvansh ke chauthe shasak the aur unka shasan kaal tha bharat ke liye swarn yug ki shuruat kahin jaati thi aur mujhe samudragupt ko jo hai gupt rajvansh ka mahantam raja mana jata hai aur ve ek udaar shasak veer yodha aur kala ke sanrakshak the unka naam java path mein tantrika ke naam se prakat hai

लिखी समुद्र समुद्र गुप्त गुप्त राजवंश की छोटे राजा और चंद्रगुप्त प्रथम के उत्तराधिकारी थे

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  427
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!