आप योग आसन के दौरान कैसे सांस लेते हैं?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग करते समय सांसो की आवाज हमें अपने कानों से सुनाई नहीं देती उस माध्यम से हम सोच लेते हैं सोच की आहट भी नहीं सुनाई देती हम सांस ले रहे हैं या नहीं इसका मतलब जब होता है योगा और योगा में अंतर है थोड़ा आप यह मत समझना कि योग योगासन से कहते हैं युवा युवा संघ से कहते हैं योग केवल यहां से

yog karte samay saanso ki awaaz hamein apne kanon se sunayi nahi deti us madhyam se hum soch lete hain soch ki aahat bhi nahi sunayi deti hum saans le rahe hain ya nahi iska matlab jab hota hai yoga aur yoga me antar hai thoda aap yah mat samajhna ki yog yogasan se kehte hain yuva yuva sangh se kehte hain yog keval yahan se

योग करते समय सांसो की आवाज हमें अपने कानों से सुनाई नहीं देती उस माध्यम से हम सोच लेते हैं

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  958
WhatsApp_icon
18 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आशा है आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं इसका उत्तर है पूरा योग पूरा यासर स्वास की प्रक्रिया पर आधारित है आप योग में सामान्य नियम है कि जब भी आप आगे झुकना तो श्वास बाहर निकाला और जब भी झुक कर के जब उठे तो सांस भरते हुए थे जब भी पीछे तो सांस भरकर के पीछे धूप में योग का सामान्य नियम है सभी आसन में अभियोग में सभी प्राणायाम में निर्धारित है कि कब है आप स्वास्थ्य लेंगे कभी आप श्वास बाहर निकालेंगे करें योग रहें निरोग

asha hai aap yogasan ke dauran kaise saans lete hain iska uttar hai pura yog pura yasar swas ki prakriya par aadharit hai aap yog me samanya niyam hai ki jab bhi aap aage jhukna toh swas bahar nikaala aur jab bhi jhuk kar ke jab uthe toh saans bharte hue the jab bhi peeche toh saans bharkar ke peeche dhoop me yog ka samanya niyam hai sabhi aasan me abhiyog me sabhi pranayaam me nirdharit hai ki kab hai aap swasthya lenge kabhi aap swas bahar nikalenge kare yog rahein nirog

आशा है आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं इसका उत्तर है पूरा योग पूरा यासर स्वास की प्र

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  2550
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

1:22

Likes  297  Dislikes    views  3716
WhatsApp_icon
play
user

Dr. R. K. Gupta

Yoga & Nature Care Health center

0:40

Likes  105  Dislikes    views  1032
WhatsApp_icon
user

inderjeet singh

Yoga Trainer

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं तो हम जो भी होगा सन करते हैं तो गहरी लंबी सांस लेते हैं हम गरीब और लंबी सांस विश्वास होती है सर अगर तू सांसो लंबी भी होती है और उसको करना से हमारे बॉडी के अंदर जहां जाओ सीजन की प्राणवायु की जरूरत है वहां हवा और जातीय तो हम तो उज्जैन व्रत के साथ जाते हैं कुछ आसन होते हैं उन्होंने मूल प्रति के साथ भी करने होते हैं

aapne poocha hai ki aap yogasan ke dauran kaise saans lete hain toh hum jo bhi hoga san karte hain toh gehri lambi saans lete hain hum garib aur lambi saans vishwas hoti hai sir agar tu saanso lambi bhi hoti hai aur usko karna se hamare body ke andar jaha jao season ki pranavayu ki zarurat hai wahan hawa aur jatiye toh hum toh ujjain vrat ke saath jaate hain kuch aasan hote hain unhone mul prati ke saath bhi karne hote hain

आपने पूछा है कि आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं तो हम जो भी होगा सन करते हैं तो गहरी

Romanized Version
Likes  100  Dislikes    views  743
WhatsApp_icon
user

Somit Yoga Varanasi

Yoga Trainer and Astrologer

0:22
Play

Likes  73  Dislikes    views  1099
WhatsApp_icon
user
0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार योगा और आसन के दौरान सांस लेने का सही तरीका है कि जब आप गहरी सांस लें तो पेट बाहर आना चाहिए और जवाब सांस छोड़ने तो पेट अंदर जाना चाहिए यह श्वास लेने का तरीका है और इससे मन भी शांत रहता है और आप छोटे बच्चों को देखेंगे तो छोटे बच्चों में यह गड़बड़ नहीं होती है क्योंकि तब तक उनका मस्तिष्क शांत रहता है तो वह प्रॉपर आप किसी भी छोटे बच्चे को आप देखिए 5 से 6 साल तक एकदम छोटे जो बेबी बोर्न होते हैं तुरंत तो सांस लेने में उनका पेट बाहर आता है उसको छोड़ने में पेट अंदर जाता है यही सांस लेने का सही तरीका है

namaskar yoga aur aasan ke dauran saans lene ka sahi tarika hai ki jab aap gehri saans le toh pet bahar aana chahiye aur jawab saans chodne toh pet andar jana chahiye yah swas lene ka tarika hai aur isse man bhi shaant rehta hai aur aap chote baccho ko dekhenge toh chote baccho me yah gadbad nahi hoti hai kyonki tab tak unka mastishk shaant rehta hai toh vaah proper aap kisi bhi chote bacche ko aap dekhiye 5 se 6 saal tak ekdam chote jo baby born hote hain turant toh saans lene me unka pet bahar aata hai usko chodne me pet andar jata hai yahi saans lene ka sahi tarika hai

नमस्कार योगा और आसन के दौरान सांस लेने का सही तरीका है कि जब आप गहरी सांस लें तो पेट बाहर

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  827
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है योगासन के दौरान कैसे सांस लें तो आप एक ही समय से नोट कर लीजिए कि जब भी आप नीचे की तरफ देखेंगे तो सांस को छोड़ेंगे और जब ऊपर की तरफ ठीक है अब नीचे झुकना ऊपर उठना क्या समझे इससे आप यह लगा लीजिए कि धरती से जब हम किसी भी वस्तु को उठाते हुए की जरूरत पड़ती है तो इसी तरह सब नीचे की तरफ से तो पूरा शरीर की तरफ एक बार को उठा रहे शरीर के बाहर को उठाने के लिए

aapka sawaal hai yogasan ke dauran kaise saans le toh aap ek hi samay se note kar lijiye ki jab bhi aap niche ki taraf dekhenge toh saans ko chodenge aur jab upar ki taraf theek hai ab niche jhukna upar uthna kya samjhe isse aap yah laga lijiye ki dharti se jab hum kisi bhi vastu ko uthate hue ki zarurat padti hai toh isi tarah sab niche ki taraf se toh pura sharir ki taraf ek baar ko utha rahe sharir ke bahar ko uthane ke liye

आपका सवाल है योगासन के दौरान कैसे सांस लें तो आप एक ही समय से नोट कर लीजिए कि जब भी आप नीच

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  948
WhatsApp_icon
user

Ajay Tiwari

Yoga Master

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगासन के दौरान जितना कि जैसे हम मगर जितने भी फॉरवर्ड बैंड करते हैं तो हम सांसों को छोड़कर करते हैं और जितने भी बैकवर्ड बैंड होगा तुम सांसों को भरके लेकिन उसके बाद उस पोस्टर में ठहरने के लिए हमारी स्वास्थ्य की जो प्रक्रिया होती है वह सामान्य और कुछ पोस्टर में तो ऐसा होता है कि हम सांस नॉर्मल ले नहीं पाते तो उस समय हमारा जो जैसे उज्जाई प्राणायाम में जैसे हम सांस को लेते हैं तो उस तरह से जय उज्जाई प्राणायाम की तरह हम सांस एग्जांपल ऑफ उष्ट्रासन पोजीशन में है या हाफ मैराथन में है तो उस समय आप कंप्लीट कर ले नहीं सकते तो उनका कंस्ट्रक्ट होता है गले की पोजीशन ऑफ कर लेते हैं

yogasan ke dauran jitna ki jaise hum magar jitne bhi forward band karte hain toh hum shanson ko chhodkar karte hain aur jitne bhi backward band hoga tum shanson ko bharke lekin uske baad us poster me thaharane ke liye hamari swasthya ki jo prakriya hoti hai vaah samanya aur kuch poster me toh aisa hota hai ki hum saans normal le nahi paate toh us samay hamara jo jaise ujjai pranayaam me jaise hum saans ko lete hain toh us tarah se jai ujjai pranayaam ki tarah hum saans example of ushtrasan position me hai ya half marathon me hai toh us samay aap complete kar le nahi sakte toh unka construct hota hai gale ki position of kar lete hain

योगासन के दौरान जितना कि जैसे हम मगर जितने भी फॉरवर्ड बैंड करते हैं तो हम सांसों को छोड़कर

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  633
WhatsApp_icon
user

Dr. Seema Sukalkar

Founder & Director - Ayuryog Nature Cure and Yoga Center

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगासन के दौरान जो सांसी है वह हमेशा ही सहज होनी चाहिए और ध्यान दें कि कहीं पर हमें सांसो को रोकना नहीं है वैसे तो स्वाभाविक रूप से जब आप फ्री को पीछे क्यों ले जाते हैं तो सांसे लेनी होती है और जब आप आगे झुकते हो तो सांसो को छोड़ना होता है पर यह अगर आपको कुछ डाउट है या पता नहीं है कि क्या करना है कुछ सांसों में सांस को रोकना है किस में लेना है कभी सांसों को छोड़ना है तो सिंपल सा उपाय है कि हमेशा जब भी आप योगा आसन कर रहे हो तो सांसो को सहज ही रखे सांसो को रोक नहीं और ना ही बहुत देर तक सांसों को रोके रोके रखना है कि आप अगर सांसो को रोकेंगे तो आप आसन को ज्यादा देर तक मेंटेन नहीं कर पाएंगे यह ध्यान रखें

yogasan ke dauran jo Sansi hai vaah hamesha hi sehaz honi chahiye aur dhyan de ki kahin par hamein saanso ko rokna nahi hai waise toh swabhavik roop se jab aap free ko peeche kyon le jaate hain toh sanse leni hoti hai aur jab aap aage jhukate ho toh saanso ko chhodna hota hai par yah agar aapko kuch doubt hai ya pata nahi hai ki kya karna hai kuch shanson mein saans ko rokna hai kis mein lena hai kabhi shanson ko chhodna hai toh simple sa upay hai ki hamesha jab bhi aap yoga aasan kar rahe ho toh saanso ko sehaz hi rakhe saanso ko rok nahi aur na hi bahut der tak shanson ko roke roke rakhna hai ki aap agar saanso ko rokenge toh aap aasan ko zyada der tak maintain nahi kar payenge yah dhyan rakhen

योगासन के दौरान जो सांसी है वह हमेशा ही सहज होनी चाहिए और ध्यान दें कि कहीं पर हमें सांसो

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  326
WhatsApp_icon
user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगासन के दौरान सामान्य स्वास्थ्य से लिखते हैं वैसे ही लेने की जरूरत है अगर हम जैसे युग में अगर आसन करते हुए ऊपर की तरफ धीरे-धीरे स्पष्ट कीजिए और अगर नीचे जो करे तो स्वास्थ को छोड़ दीजिए धीरे-धीरे छोड़ दीजिए निकाल दीजिए और जरासंध की कुल स्थिति तक हम पहुंच जाए तो मिस सामान्य श्वास लेते हैं धन्यवाद आपका दिन शुभ रहे

yogasan ke dauran samanya swasthya se likhte hain waise hi lene ki zarurat hai agar hum jaise yug me agar aasan karte hue upar ki taraf dhire dhire spasht kijiye aur agar niche jo kare toh swaasth ko chhod dijiye dhire dhire chhod dijiye nikaal dijiye aur jarasandh ki kul sthiti tak hum pohch jaaye toh miss samanya swas lete hain dhanyavad aapka din shubha rahe

योगासन के दौरान सामान्य स्वास्थ्य से लिखते हैं वैसे ही लेने की जरूरत है अगर हम जैसे युग मे

Romanized Version
Likes  190  Dislikes    views  1873
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी आपका प्रश्न है कि आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं तो योगासन जब हम करते हैं तो उसमें जो है पोस्टर के हिसाब से सांस ले लिया और सो जाती है जैसे का कोई फॉरवर्ड बिल्डिंग हो रही है आगे जपते समय श्वास को छोड़ते हैं पीछे आते समय स्वास्थ्य को लेते हैं इस तरह से किसी आसन में जाते समय पोस्टर में स्वास्थ्य को छोड़ना है लेना है जब हम उस आसन को होल्ड करते हैं रुकते हैं उस स्तर होते हैं तो सामान्य गति से सांस लेते छोड़ते हैं तो यह एक अभ्यास का विषय है और जब आप भी आप योग करें तो सांसों की प्रक्रिया के साथ ही करें और शुरुआत में किसी कुशल योग शिक्षक के अगर निर्देशन में करेंगे तो आप सांसो की गति योग के हिसाब से आसानी से सीख सकते हैं

ji aapka prashna hai ki aap yogasan ke dauran kaise saans lete hain toh yogasan jab hum karte hain toh usme jo hai poster ke hisab se saans le liya aur so jaati hai jaise ka koi forward building ho rahi hai aage japte samay swas ko chodte hain peeche aate samay swasthya ko lete hain is tarah se kisi aasan mein jaate samay poster mein swasthya ko chhodna hai lena hai jab hum us aasan ko hold karte hain rukte hain us sthar hote hain toh samanya gati se saans lete chodte hain toh yah ek abhyas ka vishay hai aur jab aap bhi aap yog kare toh shanson ki prakriya ke saath hi kare aur shuruat mein kisi kushal yog shikshak ke agar nirdeshan mein karenge toh aap saanso ki gati yog ke hisab se aasani se seekh sakte hain

जी आपका प्रश्न है कि आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं तो योगासन जब हम करते हैं तो उसम

Romanized Version
Likes  154  Dislikes    views  1947
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है क्या योग आसन के दलाल कैसे सांस लेते हैं तो देखिए प्रत्येक आसन आर्थिक योग या बोल रहे हैं मैं अलग-अलग सामान लेने की प्रक्रिया है किसी में गहरी सांस लेकर आसन किया जाता है किसी किसी आसन में सास को छोड़ते हुए किया जाता है इसलिए इसका कोई निर्धारित पर सांस लेने की प्रक्रिया नहीं जो व्यक्ति योग करता है उसे सब कुछ पता हो जाता है लेकिन इसमें आप पूछे हैं कि कैसे आप सांस लेते हैं हम तो यह कहेंगे सामान्य सांस लीजिए सामान्य होना चाहिए जैसे जिससे आसन में जैसा सांसों की परख आप लोगों को उचित समझते हैं वैसे ही लेते हैं और छोड़ते हैं धन्यवाद

aapka question hai kya yog aasan ke dalaal kaise saans lete hain toh dekhiye pratyek aasan aarthik yog ya bol rahe hain main alag alag saamaan lene ki prakriya hai kisi mein gehri saans lekar aasan kiya jata hai kisi kisi aasan mein saas ko chodte hue kiya jata hai isliye iska koi nirdharit par saans lene ki prakriya nahi jo vyakti yog karta hai use sab kuch pata ho jata hai lekin isme aap pooche hain ki kaise aap saans lete hain hum toh yah kahenge samanya saans lijiye samanya hona chahiye jaise jisse aasan mein jaisa shanson ki parakh aap logo ko uchit samajhte hain waise hi lete hain aur chodte hain dhanyavad

आपका क्वेश्चन है क्या योग आसन के दलाल कैसे सांस लेते हैं तो देखिए प्रत्येक आसन आर्थिक योग

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  1012
WhatsApp_icon
user

Dr.Swatantra Sharma

Yoga Expert & Consultant

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगासन के दौरान हमें स्वास्थ धीमी और गहरी लेनी चाहिए क्योंकि योगासन में हम अपने भीतरी वाइट और गर्ल्स को शक्ति प्रदान करते हैं हमारे विभिन्न पोस्ट सर हमारे एंडोक्राइन ग्लैंड पर इफेक्ट डालते हैं यदि इस समय धीमा और गहरा श्वास लिया जाए तो उन एंडोक्राइन ग्लैंड और इंपॉर्टेंट वाइटल ऑर्गन स्कोर ऑक्सीजन का इनफ्लो बढ़ जाता है जिससे आसन का लाभ दुगना हो जाता है

yogasan ke dauran hamein swaasth dheemi aur gehri leni chahiye kyonki yogasan mein hum apne bheetari white aur girls ko shakti pradan karte hain hamare vibhinn post sir hamare endocrine gland par effect daalte hain yadi is samay dheema aur gehra swas liya jaaye toh un endocrine gland aur important vital organ score oxygen ka inaflo badh jata hai jisse aasan ka labh dugna ho jata hai

योगासन के दौरान हमें स्वास्थ धीमी और गहरी लेनी चाहिए क्योंकि योगासन में हम अपने भीतरी वाइट

Romanized Version
Likes  84  Dislikes    views  1213
WhatsApp_icon
user

Ashish Rawat

Yoga Teacher

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम आशीष रावत और मेरा यूट्यूब चलाने में स्वाध्याय योग और योग ग्रुप एंड सवाल पूछा गया है और योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं आसन करते समय हमें 9 से इन्हेल करना चाहिए और नौ से ही अफजल करना चाहिए अगर आपको अफजल करने में दिक्कत आती है तो आप 9:00 से इन्हेल और माउस से एग्जिट कर सकते हैं लेकिन मैं उसे इन्हें नहीं करना चाहिए धन्यवाद

hello friends mera naam aashish rawat aur mera youtube chalane mein swaadhyaay yog aur yog group and sawaal poocha gaya hai aur yogasan ke dauran kaise saans lete hain aasan karte samay hamein 9 se inhale karna chahiye aur nau se hi afzal karna chahiye agar aapko afzal karne mein dikkat aati hai toh aap 9 00 se inhale aur mouse se exit kar sakte hain lekin main use inhen nahi karna chahiye dhanyavad

हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम आशीष रावत और मेरा यूट्यूब चलाने में स्वाध्याय योग और योग ग्रुप एंड

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  219
WhatsApp_icon
play
user

Amrita Show

Yoga Instractor

0:33

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप

aap

आप

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  554
WhatsApp_icon
user

Kumar Ajit

Yoga Trainer (पतंजलि योग समिति योग शिक्षक)

2:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम जी नमस्कार आपका प्रश्न है कि आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं लिखिए सामान्यता जो सांस लेने की प्रक्रिया है वह तो स्वता ही होती है और इसमें सांस लेने की एक अपनी महत्व भी है सामान्य तौर पर अगर हम देखें आगे की तरह अगर दबाव पड़ रहा हो तो श्वास को बाहर छोड़ते हैं और जब पीछे तरफ पीछे की तरफ खिंचाव आ रहा हो तो श्वास को बाहर छोड़ते अंदर भरते हैं तो बाहर लेते हैं अंदर लेने को स्वास्थ्य को पूरा कहते हैं शास्त्रीय भाषा में और बाहर छोड़ने के को रिचा कहते हैं तो यह पूरक और रेचक जब हम योगासन करते हैं तो स्वता ही होता है और इसकी जरूरत बढ़ जाता है क्योंकि हमारे जब आसन करते हैं तो मांस पेशियों पर कहीं ना कहीं दबाव उसको पर कहीं ना कहीं जाओ या दबाव पड़ता है तो वहां पर ऑक्सीजन की आवश्यकता बढ़ जाता है रक्त संचार बढ़ जाता है हमें स्वास्थ्य कभी-कभी जैसे अधिक लेने लगते हैं जैसा कि आप देखेंगे कि आप दौड़ते हैं या अधिक व्यायाम करने लगते हैं तो आप लगते हैं स्वास्थ्य लेने लगते हैं अर्थात आपको जीवनी शक्ति की अधिक मात्रा में आवश्यकता होता है तो शरीर स्वता वैसा काम करने लगता है तो इसमें काम करता है थोड़ी सी सजगता के साथ वास्को लिए रहेंगे भक्तों के साथ जितनी देर तक आप जैसा तन में की स्थिति में आप बने बने हुए हैं इतना देर तक स्वास को अगर रोके रखते हैं तो उसका लाभ बढ़ जाता है इसकी प्रक्रिया

om ji namaskar aapka prashna hai ki aap yogasan ke dauran kaise saans lete hain likhiye samanyata jo saans lene ki prakriya hai vaah toh swata hi hoti hai aur isme saans lene ki ek apni mahatva bhi hai samanya taur par agar hum dekhen aage ki tarah agar dabaav pad raha ho toh swas ko bahar chodte hain aur jab peeche taraf peeche ki taraf khinchav aa raha ho toh swas ko bahar chodte andar bharte hain toh bahar lete hain andar lene ko swasthya ko pura kehte hain shashtriya bhasha mein aur bahar chodne ke ko richa kehte hain toh yah purak aur rechak jab hum yogasan karte hain toh swata hi hota hai aur iski zarurat badh jata hai kyonki hamare jab aasan karte hain toh maas peshiyon par kahin na kahin dabaav usko par kahin na kahin jao ya dabaav padta hai toh wahan par oxygen ki avashyakta badh jata hai rakt sanchar badh jata hai hamein swasthya kabhi kabhi jaise adhik lene lagte hain jaisa ki aap dekhenge ki aap daudte hain ya adhik vyayam karne lagte hain toh aap lagte hain swasthya lene lagte hain arthat aapko jeevni shakti ki adhik matra mein avashyakta hota hai toh sharir swata waisa kaam karne lagta hai toh isme kaam karta hai thodi si sajgata ke saath vasko liye rahenge bhakton ke saath jitni der tak aap jaisa tan mein ki sthiti mein aap bane bane hue hain itna der tak swas ko agar roke rakhte hain toh uska labh badh jata hai iski prakriya

ओम जी नमस्कार आपका प्रश्न है कि आप योगासन के दौरान कैसे सांस लेते हैं लिखिए सामान्यता जो

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  254
WhatsApp_icon
user

Sudhir Kumar Pandey

Yoga Instructor

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

संयोग में पांच तक कोई रोल नहीं है तो लगता है कि योगासन करते समय नेचुरल आती है और जाती है लोगों में उपयोग करते समय कितनी सांस लेना है कितने घंटे अगर आप निकल जाते हैं तो ज्यादा अच्छा रहता है क्योंकि जब आप पर ध्यान देंगे तो हम आतंकवाद ध्यान नहीं दे पाएंगे और अच्छे ढंग से हो नहीं पाता है लेकिन मेरा यह कहना है कि 5:00 पर बिल्कुल ध्यान मत दीजिए जवाब योगासन करते हैं तो नेचुरल लेते हैं कितनी छूट है

sanyog mein paanch tak koi roll nahi hai toh lagta hai ki yogasan karte samay natural aati hai aur jati hai logo mein upyog karte samay kitni saans lena hai kitne ghante agar aap nikal jaate hain toh zyada accha rehta hai kyonki jab aap par dhyan denge toh hum aatankwad dhyan nahi de payenge aur acche dhang se ho nahi pata hai lekin mera yeh kehna hai ki 5:00 par bilkul dhyan mat dijiye jawab yogasan karte hain toh natural lete hain kitni chhut hai

संयोग में पांच तक कोई रोल नहीं है तो लगता है कि योगासन करते समय नेचुरल आती है और जाती है ल

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  413
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!