पंचकर्म में हमें क्या खाना चाहिए?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कर्म मैं आपको खिचड़ी भी डाल कर खाना है फल खा सकते हैं और आप सब्जी में तोरी लौकी ऊपरमल सिर्फ दूध पी सकते हैं आप इतना ही खाना आपको उचित है हो सके तो आप साबुत मूंग घर आकर खा सकते हैं या मूंग का सीएम बना सके पी सकते हैं

karm main aapko khichdi bhi daal kar khana hai fal kha sakte hain aur aap sabzi me tore lauki uparamal sirf doodh p sakte hain aap itna hi khana aapko uchit hai ho sake toh aap sabut moong ghar aakar kha sakte hain ya moong ka cm bana sake p sakte hain

कर्म मैं आपको खिचड़ी भी डाल कर खाना है फल खा सकते हैं और आप सब्जी में तोरी लौकी ऊपरमल सिर्

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  823
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है पंचकर्म में हमें क्या खाना चाहिए देखिए पंचकर्म की क्रिया करने के बाद मिर्च मसाले और हार्ड चीज खाने से परहेज बताया गया है उसमें आप खिचड़ी खा सकते हैं भी मिश्रित खिचड़ी और सारे लोग खिचड़ी खाते हैं और मैक्सिमम लोग खिचड़ी ही खिलाते हैं इसलिए खिचड़ी आपके लिए अच्छा आहार के रूप में माना जाएगा धन्यवाद

aapka question hai panchkarm me hamein kya khana chahiye dekhiye panchkarm ki kriya karne ke baad mirch masale aur hard cheez khane se parhej bataya gaya hai usme aap khichdi kha sakte hain bhi mishrit khichdi aur saare log khichdi khate hain aur maximum log khichdi hi khilaate hain isliye khichdi aapke liye accha aahaar ke roop me mana jaega dhanyavad

आपका क्वेश्चन है पंचकर्म में हमें क्या खाना चाहिए देखिए पंचकर्म की क्रिया करने के बाद मिर्

Romanized Version
Likes  200  Dislikes    views  2735
WhatsApp_icon
user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पंचकर्म में आप किसी योग योग्य योग वेब से आप संपर्क करें वही आपका दिशानिर्देश तय करेंगे मार्गदर्शन कोई करेंगे धन्यवाद आपका दिन शुभ रहे

panchkarm me aap kisi yog yogya yog web se aap sampark kare wahi aapka dishanirdesh tay karenge margdarshan koi karenge dhanyavad aapka din shubha rahe

पंचकर्म में आप किसी योग योग्य योग वेब से आप संपर्क करें वही आपका दिशानिर्देश तय करेंगे मार

Romanized Version
Likes  237  Dislikes    views  2961
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:29

Likes  274  Dislikes    views  2772
WhatsApp_icon
user

Dr. Arvind Kumar Mishra

Ayurvedic Doctor

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरिजीत के लिए अलग-अलग चीजें होती है जो पिटाई अच्छी तरीके से हो जाए ज्यादातर मूंग की खिचड़ी जम का दिया उसी को पेपर किया जाता है इसके कमीशन कहीं कहीं कहीं चावल की खिलाते हैं पहले भी अटैच करके 5 दिन तक

arijit ke liye alag alag cheezen hoti hai jo pitai achi tarike se ho jaaye jyadatar moong ki khichdi jam ka diya usi ko paper kiya jata hai iske commision kahin kahin kahin chawal ki khilaate hain pehle bhi attach karke 5 din tak

अरिजीत के लिए अलग-अलग चीजें होती है जो पिटाई अच्छी तरीके से हो जाए ज्यादातर मूंग की खिचड़ी

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  446
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Rishi Mishra

Ayurvedic Doctor

0:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चल रहा हो तो उसमें क्या रहेगा और तुरंत ऊर्जा का प्रयोग करें तो लेते हैं तो हमारे अंदर किसी प्रकार के

chal raha ho toh usme kya rahega aur turant urja ka prayog kare toh lete hain toh hamare andar kisi prakar ke

चल रहा हो तो उसमें क्या रहेगा और तुरंत ऊर्जा का प्रयोग करें तो लेते हैं तो हमारे अंदर किसी

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  192
WhatsApp_icon
user

Dr. Mitramahesh

Ayurvedic Doctors

6:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पंचकर्म आयुर्वेद की एक महान सिस्टम है आयुर्वेद लिखना आज से 25 हजार साल से नहीं महाभारत द्रौपदी तेरा और सचिव को और उसे यह भेजो 4uk मेंस कलयुग चीज 420000 का होता है कि द्वापर है वह उसे डबल है कतरा उससे डबल है और सती की स्टडी टेबल है और ऐसे 428 से युग का यह 29 वां कलयुग है आप लोग यह सारी जानकारी के लिए के लिए सत्यार्थ प्रकाश को जारी भाष्य भूमिका और संस्कार विधि महर्षि दयानंद वैदिक परिपाटी में बताइए वैदिक सभ्यता और समाज व्यवस्था के लिए जो उन्होंने इसमें अट्ठारह सौ पचहत्तर के बाद आर्य समाज मोमेंट का जो जन्म दिया प्राचीन वेद धर्म की पूरे विश्व में सत्ता लाने के लिए यह आर्य समाज की जो यह वैदिक सिस्टम है वह कृण्वंतो विश्वमार्यम् ऋग्वेद के मंत्र से चल रही है सारी दुनिया को आज दुनिया के सारे देश महाभारत के युद्ध में यह अरब है चीन है पूरी दुनिया के पांच खंडों के जितने भी खड़ी हो सारे खंड की सारी प्रजा यहीं पर जाए सारी वैदिक धर्मी थी और बाड़मेर समय के अनुसार पिछले पर महाभारत के भीतर कई सारी प्रजा है वही धर्म है जिसको आप लोग हिंदू धर्म के नाम से समझते हैं वह प्रजा इस तरह से रही थी और उसके बाद में वह किसी को जीवनी क्वेश्चन बनी और उससे पहले पारसी बनी और अभी मुसलमान और किचन में गिरी की हालत देखी जाती है यह एक प्रकार के धर्म के नाम पर काल्पनिक विचारधारा है हैं उसमें कुछ भी नहीं है 9 जी के लिए आप इस्लाम को और पीछे नीति को अच्छी तरह से समझना चाहते हैं उसका हिस्टोरिकल स्टडी करना चाहते हैं उसकी धर्म का धर्म के नियमों का जो थियोलॉजी भी के सिस्टम के अनुसार शादी करेंगे तो उसके लिए आप सत्यार्थ प्रकाश के 13 14 20 समुल्लास मतलब जय और चैप्टर कस्टडी करिए जो बाइबिल और कुरान कीजिए क्या-क्या कल्पना यह है और क्या बातें से इन लोगों ने पूरे सिस्टम को राजसत्ता लेकर के 30 तरीके और मुस्लिमों ने पूरी दुनिया के अंदर भयानक रस वाला किया है जिहाद और जैसे ही तेरी उनके शब्द है प्राचीन भारत में धर्म युद्ध के नाम पर कोई ना कि कोई प्रजा को किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं पहुंचाई थी प्राचीन विश्व में की सारी व्यवस्था वेद धर्म के अनुसार से कोई धर्म युद्ध युद्ध नाम की चीजें नहीं थी जो दूसरे दुराचारी लोग थे उनको दंड देकर के चाणक्य की जो पॉलिसी हम आज के युग में समझते हैं कि के लिए चाणक्य की जो अर्थव्यवस्था की सिस्टम की शाम दाम दंड और भेद उसके अनुसार जो दूसरे लोग थे उस डिस्टिक को दंडात्मक कार्य होती थी और जो पंजाब के अंदर राजा नाम की जो सिस्टम थी उस सिस्टम को विशेष घर किया जाता था लेकिन परंतु महाभारत के बाद यह सिस्टम को वर्ण व्यवस्था के अंदर परिवर्तित कर दिया गया और हिंदू धर्म का विनाश कर दिया और दुनिया भर के अंदर हिंदू और बौद्ध धर्म का अंत कर के क्वेश्चन मुस्लिम se11 विचारधाराओं का जन्म हुआ और विचारों का दिया हुआ मूलभूत वैज्ञानिक नाम है और चार वेद ऋग्वेद यजुर्वेद सामवेद और अथर्ववेद उसमें से वह चारों से लेकर ₹4 है उसमें रुक भेज का उपदेश दे आयुर्वेद है और इसी प्रकार के अर्थ वेद शाम संगीत और शिल्प कलाओं व गिरी के वह चार सिस्टम है चार वेदों के साथ से चार वेद 14 विद्या और 64 कलाओं का एक बहुत साइंटिफिक परंपरा विश्व में विद्युत के द्वारा फैली थी उसका एक अलग विषय है आप उसके लिए हमारे साथ चर्चा और जानकारी ले सकते हैं परंतु आयुर्वेद के अंदर आयुर्वेद का जैविक नाम है और विज्ञान में शरीर की जो भेज किया है मनुष्य शरीर का वीर्य कब पशु पक्षी जीव जंतु तमाम लोग तमाम पशु प्राणी जीवंत सृष्टि पंच त्रिभुज के कारण जीवित और मृत और व्यवस्था में आती है तो बातचीत और कब को आयुर्वेद विज्ञान पूरे पूरा कंट्रोल कर लेता है अच्छा बना देता है पंचकर्म के द्वारा शरीर की शुद्धि हो जाती है और रोग से मुक्ति होकर के व्यक्ति के साथ और धातुओं की क्षमता बढ़ती है शुद्धिकरण होता है और मनुष्य के अंदर एक नई जो प्राणशक्ति पैदा हो जाती है व्यक्ति वेदों के आदेश के अनुसार 100 साल और 100 साल से थी कि चाहे शतम जीवेम शरद अशोक पाल जी को और शतम जीवम प्रोग्राम 16 साल से अधिक बीएफ जी यह पुलिस सिस्टम वैदिक विज्ञान के अंदर आ जाती है और उसके जो अद्भुत है उसे दे हमारे पास आर्य समाज जावेद hospital.com के मारे वीडियो कहां पर है सुनी और आर्यसमाज आयुर्वेद हॉस्पिटल आर्य समाज आयुर्वेद औषधि निर्माण प्रयोगशाला के हमारे जो औषध है पंचकर्म साहेब तो धातु के बलवर्धक को सारे उसे धोखा आप लोग इस समय के उस समय के अनुसार आप उसका उपयोग करिए यह दोस्ती सम्मान पंचकर्म और सशक्त धातु की शुद्धि के द्वारा हमारी अवसाद और हमारी मेडिकल ट्रीटमेंट सिस्टम से हम कोरोनावायरस को भी संपूर्ण कंट्रोल में करने का दावा करते हैं और पादे भारत में और विश्व में पहला आयुर्वेदाचार्य हो जो इस प्रकार यह बाबा मुझे ज्ञान विज्ञान और उसके साथ कर रहा हो और आप लोग आपके परिचय में जो भी नगरसेवक को मिली सिविल को ओपन करो अनिल होम दूसरे लोग हो उनको ही जानकारी दीजिए और हमारा संपर्क कीजिए धन्यवाद

panchkarm ayurveda ki ek mahaan system hai ayurveda likhna aaj se 25 hazaar saal se nahi mahabharat draupadi tera aur sachiv ko aur use yah bhejo 4uk mains kalyug cheez 420000 ka hota hai ki dwapar hai vaah use double hai katara usse double hai aur sati ki study table hai aur aise 428 se yug ka yah 29 va kalyug hai aap log yah saari jaankari ke liye ke liye satyarth prakash ko jaari bhashya bhumika aur sanskar vidhi maharshi dayanand vaidik paripati me bataiye vaidik sabhyata aur samaj vyavastha ke liye jo unhone isme attharah sau pachahattar ke baad arya samaj moment ka jo janam diya prachin ved dharm ki poore vishwa me satta lane ke liye yah arya samaj ki jo yah vaidik system hai vaah krinwanto vishwamaryam rigved ke mantra se chal rahi hai saari duniya ko aaj duniya ke saare desh mahabharat ke yudh me yah arab hai china hai puri duniya ke paanch khando ke jitne bhi khadi ho saare khand ki saari praja yahin par jaaye saari vaidik dharami thi aur badmer samay ke anusaar pichle par mahabharat ke bheetar kai saari praja hai wahi dharm hai jisko aap log hindu dharm ke naam se samajhte hain vaah praja is tarah se rahi thi aur uske baad me vaah kisi ko jeevni question bani aur usse pehle parasi bani aur abhi musalman aur kitchen me giri ki halat dekhi jaati hai yah ek prakar ke dharm ke naam par kalpnik vichardhara hai hain usme kuch bhi nahi hai 9 ji ke liye aap islam ko aur peeche niti ko achi tarah se samajhna chahte hain uska historical study karna chahte hain uski dharm ka dharm ke niyamon ka jo thiyolaji bhi ke system ke anusaar shaadi karenge toh uske liye aap satyarth prakash ke 13 14 20 samullas matlab jai aur chapter custody kariye jo bible aur quraan kijiye kya kya kalpana yah hai aur kya batein se in logo ne poore system ko rajasatta lekar ke 30 tarike aur muslimo ne puri duniya ke andar bhayanak ras vala kiya hai jihad aur jaise hi teri unke shabd hai prachin bharat me dharm yudh ke naam par koi na ki koi praja ko kisi bhi prakar ki asuvidha nahi pahunchai thi prachin vishwa me ki saari vyavastha ved dharm ke anusaar se koi dharm yudh yudh naam ki cheezen nahi thi jo dusre durachari log the unko dand dekar ke chanakya ki jo policy hum aaj ke yug me samajhte hain ki ke liye chanakya ki jo arthavyavastha ki system ki shaam daam dand aur bhed uske anusaar jo dusre log the us district ko dandatmak karya hoti thi aur jo punjab ke andar raja naam ki jo system thi us system ko vishesh ghar kiya jata tha lekin parantu mahabharat ke baad yah system ko varn vyavastha ke andar parivartit kar diya gaya aur hindu dharm ka vinash kar diya aur duniya bhar ke andar hindu aur Baudh dharm ka ant kar ke question muslim se11 vichardharaon ka janam hua aur vicharon ka diya hua mulbhut vaigyanik naam hai aur char ved rigved yajurved samved aur atharvaved usme se vaah charo se lekar Rs hai usme ruk bhej ka updesh de ayurveda hai aur isi prakar ke arth ved shaam sangeet aur shilp kalaon va giri ke vaah char system hai char vedo ke saath se char ved 14 vidya aur 64 kalaon ka ek bahut scientific parampara vishwa me vidyut ke dwara faili thi uska ek alag vishay hai aap uske liye hamare saath charcha aur jaankari le sakte hain parantu ayurveda ke andar ayurveda ka Jaivik naam hai aur vigyan me sharir ki jo bhej kiya hai manushya sharir ka virya kab pashu pakshi jeev jantu tamaam log tamaam pashu prani jivant shrishti punch tribhuj ke karan jeevit aur mrit aur vyavastha me aati hai toh batchit aur kab ko ayurveda vigyan poore pura control kar leta hai accha bana deta hai panchkarm ke dwara sharir ki shudhi ho jaati hai aur rog se mukti hokar ke vyakti ke saath aur dhatuon ki kshamta badhti hai shuddhikaran hota hai aur manushya ke andar ek nayi jo pranshakti paida ho jaati hai vyakti vedo ke aadesh ke anusaar 100 saal aur 100 saal se thi ki chahen shatam jivem sharad ashok pal ji ko aur shatam jivam program 16 saal se adhik bf ji yah police system vaidik vigyan ke andar aa jaati hai aur uske jo adbhut hai use de hamare paas arya samaj javed hospital com ke maare video kaha par hai suni aur aryasamaj ayurveda hospital arya samaj ayurveda aushadhi nirmaan prayogshala ke hamare jo awasadhi hai panchkarm saheb toh dhatu ke balavardhak ko saare use dhokha aap log is samay ke us samay ke anusaar aap uska upyog kariye yah dosti sammaan panchkarm aur sashakt dhatu ki shudhi ke dwara hamari avsad aur hamari medical treatment system se hum coronavirus ko bhi sampurna control me karne ka daawa karte hain aur pade bharat me aur vishwa me pehla ayurvedacharya ho jo is prakar yah baba mujhe gyaan vigyan aur uske saath kar raha ho aur aap log aapke parichay me jo bhi nagarsevak ko mili civil ko open karo anil home dusre log ho unko hi jaankari dijiye aur hamara sampark kijiye dhanyavad

पंचकर्म आयुर्वेद की एक महान सिस्टम है आयुर्वेद लिखना आज से 25 हजार साल से नहीं महाभारत द्र

Romanized Version
Likes  102  Dislikes    views  848
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!