मैं आयुर्वेद में अपने पेट को कैसे स्वस्थ रख सकता हूँ?...


user

Pinkesh Negi

Yoga Ayurveda

3:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं आयुर्वेद में अपने पेट को कैसे स्वस्थ रख सकता हूं आयुर्वेद में आप पेट को अच्छे से स्वस्थ रख सकते हैं अगर आप डाइजेशन को जो है अच्छे से समझे तो सबसे पहले आपको एक डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए मेरे हिसाब से कि आपको आपके शरीर की प्रकृति क्या है आपकी बॉडी की प्रकृति क्या है उसी प्रकार का आहार विहार का आप सेवन करें तो बिना डॉक्टर की सलाह लिया वे आप घर में यह सब चीज नहीं कर सकते कि आपको क्या खाना चाहिए या क्या नहीं खाना चाहिए आपकी क्या प्रकृति है प्राकृतिक या नहीं है लेकिन अगर आपके पेट में बहुत सारी प्रॉब्लम रहती है तो आपको जाए इसके लिए हंड्रेड परसेंट कि डॉक्टर के पास तो फिर तो आपको जाना ही चाहिए और अपनी प्रकृति का जो है अपने प्राकृतिक आज और डॉक्टर के सामने अपनी प्रकृति को रखना चाहिए देखो आयुर्वेद में क्या-क्या होता है कि आपको मशीनरी सिस्टम में पूरा आपकी बॉडी बॉडी को चेक करने का पूरा मशीनरी सिस्टर कैनिंग बगैरा जो भी है तो उससे क्या होता है कि आपकी रिपोर्ट बगैरा तैयार किए जाते हैं लेकिन आयुर्वेद शास्त्र में ऐसा कुछ नहीं है उसमें सिर्फ आपको आपकी प्रकृति के अनुसार ही आपको और आपके रोग का इलाज किया जाता है अगर एक अच्छा डॉक्टर होगा अच्छा डॉक्टर आपको आपको यही कहेगा आपको प्रकृति को जानने की कोशिश करें आपको क्या अच्छा लगता है क्या अच्छा नहीं लगता कौन सा टेस्ट अच्छा लगता है कांस्टेंट अच्छा लगता है खट्टा अच्छा लगता है मीठा अच्छा लगता है बारिश में घूमना अच्छा लगता है ज्यादा खुश रहना अच्छा लगता है या एकांत में रहना अच्छा लगता है इस तरह से बेडशीट जो चीजें हैं इनको जानते हुए अगर एक अच्छा डॉक्टर होगा एडमिन को तो इनको ही जानकर आप की प्रकृति को समझता है कि आपकी कौन से दोस्त की प्रकृति हैं और आपको किस दोष के लिए किस प्रकार का खाना आपको खाना चाहिए तो आप इसके लिए अपनी प्रकृति को पे मुझे डॉक्टर से अपनी प्रकृति को समझाएं फिर उस प्रकार का आहार विहार जो भी आपको देता है और जो भी रास्ता आपके लिए उपयुक्त बताया गया कि यह वाली रस वाली चीजें आपको ज्यादा खाने चेंज जो छह रस बताए गए उनमें से कौन सा रास्ता खोजें खाना चाहिए और इसी प्रकार से आपको अपने आयुर्वेद में पेट को ठीक कर सकते हो देखो बाहर से बताने वाले आपको बहुत मिलेंगे कि आप ऐसा करो एवं डॉक्टर भी बताएगा आप यह खाओ वह खाओ खाओ ऐसा कुछ भी नहीं जब तक आप अपनी प्रकृति को डॉक्टर के पास नहीं बताते तब तक यह असंभव क्या प्ले करो हां कभी तुके में हो गया तो ठीक है लेकिन प्रकृति को जानना उसके बाद आपके लिए डाइट बनाना यह जरूरी है और दूसरा अगर ज्यादा प्रॉब्लम है तो आयुर्वेदिक डॉक्टर आपको ट्रीटमेंट देता आपकी बॉडी क्लीनिंग करता है आपके स्टमक का जो है पूरा क्लीन करता है बस्ती का सकता है अभी रिटर्न कर सकता है रक्तमोक्षण नंबर वन करवा सकता है कुछ भी दोष के कारण ऐसा नहीं है कि स्टमक का प्रॉब्लम है तो जवाब पिचकारी प्रॉब्लम हो सकता है हो सकता है वह आपका प्रॉब्लम हो जिसकी वजह से आपके अंदर प्रॉब्लम आ रही होगी इनडाइजेशन हो रहा होगा मैं कब का प्रॉब्लम हो सकता है तू कुछ भी प्रॉब्लम हो सकती है तो डॉक्टर उसी हिसाब से आपको ट्रीट और अपने खानपान पर आपको ध्यान रखना था लेकिन अपने खान-पान को तभी जाकर आप वह चीजें खाएं जो आपको डॉक्टर बताएं और जिस प्रकृति के आप होंगे उसी प्रकृति का आपको भोजन मिलेगा

main ayurveda me apne pet ko kaise swasth rakh sakta hoon ayurveda me aap pet ko acche se swasth rakh sakte hain agar aap digestion ko jo hai acche se samjhe toh sabse pehle aapko ek doctor ki salah leni chahiye mere hisab se ki aapko aapke sharir ki prakriti kya hai aapki body ki prakriti kya hai usi prakar ka aahaar vihar ka aap seven kare toh bina doctor ki salah liya ve aap ghar me yah sab cheez nahi kar sakte ki aapko kya khana chahiye ya kya nahi khana chahiye aapki kya prakriti hai prakirtik ya nahi hai lekin agar aapke pet me bahut saari problem rehti hai toh aapko jaaye iske liye hundred percent ki doctor ke paas toh phir toh aapko jana hi chahiye aur apni prakriti ka jo hai apne prakirtik aaj aur doctor ke saamne apni prakriti ko rakhna chahiye dekho ayurveda me kya kya hota hai ki aapko machinery system me pura aapki body body ko check karne ka pura machinery sister canning bagaira jo bhi hai toh usse kya hota hai ki aapki report bagaira taiyar kiye jaate hain lekin ayurveda shastra me aisa kuch nahi hai usme sirf aapko aapki prakriti ke anusaar hi aapko aur aapke rog ka ilaj kiya jata hai agar ek accha doctor hoga accha doctor aapko aapko yahi kahega aapko prakriti ko jaanne ki koshish kare aapko kya accha lagta hai kya accha nahi lagta kaun sa test accha lagta hai constant accha lagta hai khatta accha lagta hai meetha accha lagta hai barish me ghumana accha lagta hai zyada khush rehna accha lagta hai ya ekant me rehna accha lagta hai is tarah se bedshit jo cheezen hain inko jante hue agar ek accha doctor hoga admin ko toh inko hi jaankar aap ki prakriti ko samajhata hai ki aapki kaun se dost ki prakriti hain aur aapko kis dosh ke liye kis prakar ka khana aapko khana chahiye toh aap iske liye apni prakriti ko pe mujhe doctor se apni prakriti ko samjhaye phir us prakar ka aahaar vihar jo bhi aapko deta hai aur jo bhi rasta aapke liye upyukt bataya gaya ki yah wali ras wali cheezen aapko zyada khane change jo cheh ras bataye gaye unmen se kaun sa rasta khojen khana chahiye aur isi prakar se aapko apne ayurveda me pet ko theek kar sakte ho dekho bahar se batane waale aapko bahut milenge ki aap aisa karo evam doctor bhi batayega aap yah khao vaah khao khao aisa kuch bhi nahi jab tak aap apni prakriti ko doctor ke paas nahi batatey tab tak yah asambhav kya play karo haan kabhi tuke me ho gaya toh theek hai lekin prakriti ko janana uske baad aapke liye diet banana yah zaroori hai aur doosra agar zyada problem hai toh ayurvedic doctor aapko treatment deta aapki body cleaning karta hai aapke stomach ka jo hai pura clean karta hai basti ka sakta hai abhi return kar sakta hai raktamokshan number van karva sakta hai kuch bhi dosh ke karan aisa nahi hai ki stomach ka problem hai toh jawab pichkari problem ho sakta hai ho sakta hai vaah aapka problem ho jiski wajah se aapke andar problem aa rahi hogi inadaijeshan ho raha hoga main kab ka problem ho sakta hai tu kuch bhi problem ho sakti hai toh doctor usi hisab se aapko treat aur apne khanpan par aapko dhyan rakhna tha lekin apne khan pan ko tabhi jaakar aap vaah cheezen khayen jo aapko doctor bataye aur jis prakriti ke aap honge usi prakriti ka aapko bhojan milega

मैं आयुर्वेद में अपने पेट को कैसे स्वस्थ रख सकता हूं आयुर्वेद में आप पेट को अच्छे से स्वस

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  790
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!