किस देश में मुसलमान अच्छे हैं या हिंदू?...


user

Pt.Sudhakar shukla

🦚Birth kundli Specialist🌹 भारत भाग्य विधाता🚩 9517287000

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो व्यक्ति राष्ट्रीय सेवा करता है जो व्यक्ति देश सेवा करता है जो दूसरों का हित सोचता है अर्थात सिर्फ स्वयं का नहीं वही अच्छा है अब वह हिंदू हो तो भी अच्छा है मुस्लिम तो भी अच्छा है स्वयं या एक विशेष के लिए जो विशेष कार्य करने की चेष्टा करें अर्थात दूसरों को पीड़ा देकर के स्वयं सुख प्राप्त करने वाला व्यक्ति अच्छा नहीं हो सकता जो स्वयं भी सुखी रहें और दूसरों को भी सुखी देखना चाहे वह व्यक्ति अच्छा होता है ठीक है जो व्यक्ति दूसरों को दुख देना चाहता है वह कदापि अच्छा नहीं है ऐसा नहीं कि वह सिर्फ मनुष्यों पर लागू होता है सभी जीव मनुष्य भी एक जीव हुई है वह जानवर ही है ऐसा नहीं कि मनुष्य का जैसे आप भैंस गाय या गधा या घोड़ा ऐसे ही मनुष्य हैं लेकिन मनुष्य की जो इच्छा शक्ति है मनुष्य की जो कार्य क्षमता है वह सबसे ज्यादा है सबसे श्रेष्ठ है इस कारण सभी जंतुओं में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और वह सबसे अच्छा कार्य करते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं कि अगर आप सिर्फ सर्वश्रेष्ठ हो तो आप दूसरे को कष्ट दोगे ऐसा नहीं है जो मनुष्य सभी जीवो के प्रति अच्छा भाव रखता हो स्वयं का लाभ भी देखें और उसके साथ-साथ सभी जीवो के प्रति दया का भाव रखें और सभी जीवो के प्रति करुणा रखें और सभी जीवो को सुरक्षित रखें वही अच्छा है

jo vyakti rashtriya seva karta hai jo vyakti desh seva karta hai jo dusro ka hit sochta hai arthat sirf swayam ka nahi wahi accha hai ab vaah hindu ho toh bhi accha hai muslim toh bhi accha hai swayam ya ek vishesh ke liye jo vishesh karya karne ki cheshta kare arthat dusro ko peeda dekar ke swayam sukh prapt karne vala vyakti accha nahi ho sakta jo swayam bhi sukhi rahein aur dusro ko bhi sukhi dekhna chahen vaah vyakti accha hota hai theek hai jo vyakti dusro ko dukh dena chahta hai vaah kadapi accha nahi hai aisa nahi ki vaah sirf manushyo par laagu hota hai sabhi jeev manushya bhi ek jeev hui hai vaah janwar hi hai aisa nahi ki manushya ka jaise aap bhains gaay ya gadha ya ghoda aise hi manushya hain lekin manushya ki jo iccha shakti hai manushya ki jo karya kshamta hai vaah sabse zyada hai sabse shreshtha hai is karan sabhi jantuon me manushya ko sarvashreshtha mana jata hai aur vaah sabse accha karya karte hain lekin ab aisa nahi ki agar aap sirf sarvashreshtha ho toh aap dusre ko kasht doge aisa nahi hai jo manushya sabhi jeevo ke prati accha bhav rakhta ho swayam ka labh bhi dekhen aur uske saath saath sabhi jeevo ke prati daya ka bhav rakhen aur sabhi jeevo ke prati corona rakhen aur sabhi jeevo ko surakshit rakhen wahi accha hai

जो व्यक्ति राष्ट्रीय सेवा करता है जो व्यक्ति देश सेवा करता है जो दूसरों का हित सोचता है अर

Romanized Version
Likes  89  Dislikes    views  2217
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!