OCD का पता कैसे चलता है?...


user

Priyanka

Psychologist

0:55
Play

Likes  485  Dislikes    views  6992
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

POOJA ( Psychologist )

Education Counselor

4:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी का पता कैसे चलता है देखिए ओसीडी आगे कहा जाए चिंता करने वाली बीमारी होती है ठीक है जिसमें निरीक्षक होता है किसी बात की जरूरत से ज्यादा चिंता करने लगता है एक ही जैसे चाहे ख्याल उसे बार-बार आते हैं ठीक है और एक ही काम को बार-बार दोहराना चाहता है ऐसे लोगों को सनक वाले ख्याल आते हैं जाने की तो थोड़ी सी टाइप भी लगवा ले ख्याल आते हैं और अपने बिहेवियर पर उनका कंट्रोल नहीं होता ऐसे मरीज ना तो खुद को रोक पाते हैं नहीं बे फ़िक्र नहीं पाते हैं जैसे कोई जैसे कि कोई सुनी पुराने दी अटक जाती है वैसे ही ओसीडी दिमाग ओसीडी से दिमाग किसी एक ख्याल या काम पर अटक जाता है मतलब क्या होता है यह कंफर्म करने के लिए की सपोर्ट कीजिए ऑफ सब्सिडी कौन सी बीमारी में काम करते-करते के गेस्ट बनकर देखो सोनी अगेहा मनाइए अपना काम करके घर बंद कर दिया तो वह क्या करेगी आप 20 बार इस सो की नोट चेक करें कि बार-बार बार-बार थोड़ी देर में थोड़ी सी चीज की उसको कार्य याद करने की क्षमता कम से कम हो गए तो जाती है उसको बार-बार चेक करते रहते तब तक आप बोलते रहते हैं कई लोग तो कई लोग होते कईयों को हाथ धोने की बीमारी होती है ना जान जब तक कि वह चिन्ना जाएगा आप तब तक गाड़ी भगाते रहते हैं जब तक कि आपको यह सब कुछ नहीं ना हो जाए कि जिस शख्स ने पिक्चर दिया था पीछे तो नहीं कर रहा तो इस तरह के कुछ सिस्टम सोचा उसके अंदर के खबरिया p312 गाड़ी लेकर जा रहा है गाड़ी में लॉक लगाया लगाया यह नहीं लगाया खुली तो बार-बार उसी को चेक करते अरे कहां गए साफ सफाई करनी है ना गंदगी से डरते हैं ना कुछ लोग बार-बार चीजों की जांच करते रहते हैं मैंने आपको बताया है ना चीजों को संभाल कर रखने वाले इस बात से डरे होते हैं कि अगर उन्होंने कुछ बात कह का तो कुछ बुरा होगा ना आदमी इसी डर की वजह से मैं प्यार करूं चीजों को संभाल कर सकते हैं ज्यादातर लोगों में अब सेशन और कंप्लेशन दोनों देखा जाता है लेकिन कुछ लोगों में सिर्फ एक ही समस्या भी हो सकती है जरूरी नहीं है दोनों हो आप दोनों को सकता कुछ नहीं किया ठीक है इसके कुछ सोचो आप संपर्क में आने या दूसरों को दूषित कर देने का डर होता किसी को नुकसान पहुंचाने का डर होता है धर्म या नैतिक विचारों पर पागलपन की हद तक ध्यान देना क्रम और समानता समानता को लेकर यह सोचना कि सब कुछ पता होना चाहिए किसी चीज को भाग्यशाली भाग्यशाली मानने का अंधविश्वास तरह के यह चीज़ें रोगी के लक्षण है यह समझाने लगे हैं

OCD ka pata kaise chalta hai dekhiye OCD aage kaha jaaye chinta karne wali bimari hoti hai theek hai jisme nirikshak hota hai kisi baat ki zarurat se zyada chinta karne lagta hai ek hi jaise chahen khayal use baar baar aate hain theek hai aur ek hi kaam ko baar baar doharana chahta hai aise logo ko sanak waale khayal aate hain jaane ki toh thodi si type bhi lagwa le khayal aate hain aur apne behaviour par unka control nahi hota aise marij na toh khud ko rok paate hain nahi be fikra nahi paate hain jaise koi jaise ki koi suni purane di atak jaati hai waise hi OCD dimag OCD se dimag kisi ek khayal ya kaam par atak jata hai matlab kya hota hai yah confirm karne ke liye ki support kijiye of subsidy kaun si bimari me kaam karte karte ke guest bankar dekho sony ageha manaiye apna kaam karke ghar band kar diya toh vaah kya karegi aap 20 baar is so ki note check kare ki baar baar baar baar thodi der me thodi si cheez ki usko karya yaad karne ki kshamta kam se kam ho gaye toh jaati hai usko baar baar check karte rehte tab tak aap bolte rehte hain kai log toh kai log hote kaiyon ko hath dhone ki bimari hoti hai na jaan jab tak ki vaah chinna jaega aap tab tak gaadi bhagaate rehte hain jab tak ki aapko yah sab kuch nahi na ho jaaye ki jis sakhs ne picture diya tha peeche toh nahi kar raha toh is tarah ke kuch system socha uske andar ke khabriya p312 gaadi lekar ja raha hai gaadi me lock lagaya lagaya yah nahi lagaya khuli toh baar baar usi ko check karte are kaha gaye saaf safaai karni hai na gandagi se darte hain na kuch log baar baar chijon ki jaanch karte rehte hain maine aapko bataya hai na chijon ko sambhaal kar rakhne waale is baat se dare hote hain ki agar unhone kuch baat keh ka toh kuch bura hoga na aadmi isi dar ki wajah se main pyar karu chijon ko sambhaal kar sakte hain jyadatar logo me ab session aur kampleshan dono dekha jata hai lekin kuch logo me sirf ek hi samasya bhi ho sakti hai zaroori nahi hai dono ho aap dono ko sakta kuch nahi kiya theek hai iske kuch socho aap sampark me aane ya dusro ko dushit kar dene ka dar hota kisi ko nuksan pahunchane ka dar hota hai dharm ya naitik vicharon par pagalpan ki had tak dhyan dena kram aur samanata samanata ko lekar yah sochna ki sab kuch pata hona chahiye kisi cheez ko bhagyashali bhagyashali manne ka andhavishvas tarah ke yah chize rogi ke lakshan hai yah samjhane lage hain

ओसीडी का पता कैसे चलता है देखिए ओसीडी आगे कहा जाए चिंता करने वाली बीमारी होती है ठीक है जि

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  525
WhatsApp_icon
user

Vikash Kumar

Psychologist

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिग बॉस edk2 सिम्टम्स होते हैं वह बहुत बेसिक सिम्टम्स होते हैं वह कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं है कि इसके लिए कोई साइकोलॉजिस्ट ही होना चाहिए बाकी अगर आप काफी टाइम से अगर कुछ में जो चीजें बताने जा रहा हूं अगर ऐसा आपके साथ या किसी और व्यक्ति के साथ होता है तो उसने उसे डी के सिम्टम्स हो सकते हैं ओसीडी पहली बात तो यह 80 डिसऑर्डर का पाठ है तो और एनजीटी का एक भाग है तो लंबे समय तक जो व्यक्ति चिंता में रहते हैं उनको यह प्रॉब्लम हो सकती है उसी डीके जो सिम्टम्स है जैसे कोई व्यक्ति अगर लीजिएगा अगर आप अपने घर में सो रहे हैं और सोते समय भी शाम को लेटे समय भी आपने अपने घर का दरवाजा बंद कर रखा है और फिर भी आपके मन में यह ख्याल आ रहा है कि मेरा दरवाजा कहीं खोला तो नहीं है जबकि आप बंद कर चुके हैं और फिर भी आप खड़े होकर बार बार उसको दरवाजे को चेक करने जा रहे हैं कि कहीं दरवाजा खोला तो नहीं है और आप आ कर लेते हैं फिर आपके मन में यह विचार आता है कि कहीं दरवाजा खुला तो नहीं है यह सारे इसी तरीके के सिम्टम्स ओसीडी के होते हैं और उसी दिन कहते ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर एग्जांपल मैं आपको देता हूं जैसे अगर आपको लगता है कि आपके हाथ और आप हाथ धुलने धुलने के बाद में आकर बैठते हैं फिर आपको ऐसा फील होता है कि मैं पर जमता है तो आप इसको लेकर बार-बार हाथ एंड्रॉस कर रहे हैं तो यही सारे सिम्टम्स इन किसी काम को करने के बाद भी आपके मन में आया आया लाना कि मैं कि वह काम नहीं हुआ और मैं बार-बार करने का मन करना उसी का मोचड़ी कहते हैं और सिर्फ कंपलीट सेटअप

big boss edk2 Symptoms hote hain vaah bahut basic Symptoms hote hain vaah koi bhi vyakti aisa nahi hai ki iske liye koi psychologist hi hona chahiye baki agar aap kaafi time se agar kuch me jo cheezen batane ja raha hoon agar aisa aapke saath ya kisi aur vyakti ke saath hota hai toh usne use d ke Symptoms ho sakte hain OCD pehli baat toh yah 80 disorder ka path hai toh aur NGT ka ek bhag hai toh lambe samay tak jo vyakti chinta me rehte hain unko yah problem ho sakti hai usi DK jo Symptoms hai jaise koi vyakti agar lijiega agar aap apne ghar me so rahe hain aur sote samay bhi shaam ko lete samay bhi aapne apne ghar ka darwaja band kar rakha hai aur phir bhi aapke man me yah khayal aa raha hai ki mera darwaja kahin khola toh nahi hai jabki aap band kar chuke hain aur phir bhi aap khade hokar baar baar usko darwaze ko check karne ja rahe hain ki kahin darwaja khola toh nahi hai aur aap aa kar lete hain phir aapke man me yah vichar aata hai ki kahin darwaja khula toh nahi hai yah saare isi tarike ke Symptoms OCD ke hote hain aur usi din kehte obsessive kampalsiv disorder example main aapko deta hoon jaise agar aapko lagta hai ki aapke hath aur aap hath dhulne dhulne ke baad me aakar baithate hain phir aapko aisa feel hota hai ki main par jamata hai toh aap isko lekar baar baar hath endras kar rahe hain toh yahi saare Symptoms in kisi kaam ko karne ke baad bhi aapke man me aaya aaya lana ki main ki vaah kaam nahi hua aur main baar baar karne ka man karna usi ka mochdi kehte hain aur sirf complete setup

बिग बॉस edk2 सिम्टम्स होते हैं वह बहुत बेसिक सिम्टम्स होते हैं वह कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  646
WhatsApp_icon
play
user

Dr Raj Kumar Kochar

Ayurvedic Doctors ( Researcher )

0:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जाट द्वारा सोनोग्राफी में भी पता लग जाता है कुछ टेस्ट करवाएंगे तो सिटी का कत्ल

jaat dwara sonography mein bhi pata lag jata hai kuch test karavaenge toh city ka katl

जाट द्वारा सोनोग्राफी में भी पता लग जाता है कुछ टेस्ट करवाएंगे तो सिटी का कत्ल

Romanized Version
Likes  212  Dislikes    views  3033
WhatsApp_icon
user

SHEEMA HAFEEZ

Senior Consultant Psychologist at Moolchand Healthcare

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऊंची डायग्नोसिस से बिजली 2 तरीके होते हैं पहला तरीका होता है और जिसके अंदर आप एक अर्पित के पास आएंगे वह आपसे कुछ क्वेश्चन पूछेंगे तो एक अच्छे नेता नेता इस टेस्ट होता है जैसे आप तो अगला टेस्ट करने जाते हैं जवाब को डेंगू और मलेरिया होता है वैसे ही आपको जब कोई साइकोलॉजी कोरिया मेंटल हेल्थ प्रॉब्लम होती है आप अपने प्रोफेशन के पास जाएंगे उनके पास भी आपकी उन सब चीजों को बात करने का या आईडेंटिफाई करने का एक तरीका होता है उसको हम कैसे साइकोलॉजिकल समझ जाएंगे कि आप उसी डेट आफ टेक्नोलॉजी है उनको पता होता है कि की बीमारियों को डायग्नोज करवा सकते हैं

unchi diagnosis se bijli 2 tarike hote hain pehla tarika hota hai aur jiske andar aap ek arpit ke paas aayenge vaah aapse kuch question puchenge toh ek acche neta neta is test hota hai jaise aap toh agla test karne jaate hain jawab ko dengue aur malaria hota hai waise hi aapko jab koi psychology korea mental health problem hoti hai aap apne profession ke paas jaenge unke paas bhi aapki un sab chijon ko baat karne ka ya aidentifai karne ka ek tarika hota hai usko hum kaise saikolajikal samajh jaenge ki aap usi date of technology hai unko pata hota hai ki ki bimariyon ko dayagnoj karva sakte hain

ऊंची डायग्नोसिस से बिजली 2 तरीके होते हैं पहला तरीका होता है और जिसके अंदर आप एक अर्पित के

Romanized Version
Likes  120  Dislikes    views  1577
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी का पता कैसे चलता है अगर आपके दिमाग में एक ही चीज को बार बार छुट्टी गिनते हैं अथवा एक ही कार्य को बार-बार करते हैं जैसे कि हाथ को बार बार धोना तो आपको उसे भी हो सकता है ठीक है

OCD ka pata kaise chalta hai agar aapke dimag mein ek hi cheez ko baar baar chhutti ginate hain athva ek hi karya ko baar baar karte hain jaise ki hath ko baar baar dhona toh aapko use bhi ho sakta hai theek hai

ओसीडी का पता कैसे चलता है अगर आपके दिमाग में एक ही चीज को बार बार छुट्टी गिनते हैं अथवा एक

Romanized Version
Likes  340  Dislikes    views  4208
WhatsApp_icon
user

Dr. REETI RASTOGI

CLINICAL PSYCHOLOGIST

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसमें तो इसमें जब कभी कुछ बार-बार मन में आते हैं और उन विचारों से बहुत ज्यादा होती है और विचारों को रोक नहीं पाते अटेंड करने की कोशिश करने पर भी नहीं कर पाती और आपका 1 घंटे से ज्यादा का टाइम लेने लगे हैं तो और आपकी सोच ना रखो पर्सनल फंक्शन इन को भी डिस्टर्ब करने लगे वॉशिंग चेक करने का बार बार सिर्फ सोचने का गंदगी का चेक करने का अकाउंट करने का निर्गुण सिमेट्री वर्ष बराबर एक लाइन में एक तरफ से होनी चाहिए इस तरह से कई प्रकार होते हैं

usmein toh ismein jab kabhi kuch baar baar man mein aate hain aur un vicharon se bahut zyada hoti hai aur vicharon ko rok nahi paate attend karne ki koshish karne par bhi nahi kar pati aur aapka 1 ghante se zyada ka time lene lage hain toh aur aapki soch na rakho personal function in ko bhi disturb karne lage washing check karne ka baar baar sirf sochne ka gandagi ka check karne ka account karne ka nirgun symmetry varsh barabar ek line mein ek taraf se honi chahiye is tarah se kai prakar hote hain

उसमें तो इसमें जब कभी कुछ बार-बार मन में आते हैं और उन विचारों से बहुत ज्यादा होती है और व

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  409
WhatsApp_icon
user

Dr. Sumit Mehta

Psychiatrist

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कार्टून देखना है

cartoon dekhna hai

कार्टून देखना है

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

6:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है उसी डीके पता कैसे चलता है देखिए उसी भी एक गंभीर मानसिक समस्या है और तुम उस मींस ऑफ शिप शिप मतलब जुनूनी बाध्यकारी तुम्हें कोई अधिकारी या जुनूनी विचार बार-बार आते हैं कोई इमेजेस बार-बार बनती है कोई शक बार होता है कुछ इनवाइटीस होते हैं बार-बार और फिल्म को दूर करने के लिए हम उसको दूर करने के लिए उससे संबंधित कुछ व्यवहार करते हैं बार-बार कंपंक्शंस बन जाते हमारी दोस्ती से कंपटीशन और डिसऑर्डर ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर इस बीमारी का यानी ओसीडी का दुनिया भर में लगभग ढाई प्रतिशत लोगों को अपने जीवन में किसी न किसी बिंदु पर प्रभावित करता है और आमतौर पर यह लक्षण 35 वर्ष की आयु के बाद शुरू होते हैं हालांकि कई ऐसे लोग हैं जो 20 साल से पहले भी उसके लक्षण विकसित हो सकते हैं कई लोग कहते हैं कि और तुम्हें ज्यादा होते हैं लेकिन मेल प्रभावित हो सकते हैं उसी डीके अब आपने यह पूछा कि उसे क्या पता कैसे लगाएं तो वह उनके लक्षणों से पता लग सकता है और यह लक्षण है कि गंदगी यार गानों से दूषित होने का भय या दूसरे को दूषित करने के बारे में परेशान ऐसी सोच बार-बार दूसरे चीजों की अत्याधिक जांच करना जैसे उपकरण इंस्ट्रूमेंट ताले और स्विच बार बार चेक करना तीसरा अत्यधिक प्रार्थना के धार्मिक अनुष्ठानों में भाग लेना जो डर से गिरते हैं फिर कोई जंग जीत एम बेफिजूल चीज है जमा करना और उन्हें एक और इसमें बड़ा गंभीर लक्षण है यौन रूप से स्पष्ट इंटक विचारों अंखियों के बारे में सोचना कि बार-बार उनको एक संबंधी आईडिया आना किसी न किसी की छवि देख ना बार-बार परिवार के सदस्यों और परिजनों को यह देखने के लिए जांच कर रहे हैं कि वह सुरक्षित है तो अब यह जो जुनूनी विचार है जिन्होंने इमेजेस है जिन्होंने कुछ डाउट शमशेर की वजह से रोगी को इनवाइट होने लगते हैं तनाव बहुत बढ़ जाता है कि मेरे को क्यों हो रहा है बार-बार मेरे सामने मेरे मन में यह क्यों ही मजेदार है एक ही विचार क्यों बार-बार आ रहा है तो फिर उसको इनसाइटी को दूर करने के लिए उस से रिलेटेड मगर हर बार बार करते हैं जिसको हम चाहते हैं कंपल्सिव कंपल्सिव करना नहीं चाहते लेकिन उसकी अंदरूनी कंपटीशन बन जाती मजबूरी बन जाती है बार-बार 2 किसानों के डर से वह बार-बार हाथ धोते हैं बार-बार इसी तरह जब उनको लगता है कि बाहर निकलते हुए मैंने यह चेक नहीं किया ताला चटनी चटनी की बार-बार लाइट और ताले वगैरा चेक करते हैं घर से बाहर जाने से पहले यह भी कम पड़ जाती है इसी तरह हमको लगता है कि मेरे शरीर से बदबू आ रही है तो बार-बार सेंड पेचर पर इसी तरह कोई आईडिया कोई इमेजेस उनके मन में बार-बार बन रहे हैं तो उस से रिलेटेड नगर के प्रतिष्ठित पैदा हो रहा है तो बार बार उसको चेक करने की कोशिश करता है तो यह व्यवहार जो है वह कंपल्सिव हो जाता है यह मुझे पर्सनली की एक अजीब सी हो जाती है कि पहले उनको जुनूनी विचार आते हैं इमेजेस बनती हैं कुछ तस्वीर उभरती है मस्त में होती नहीं है और फिर उनको उनसे इनसाइटी होती है इनसाइटी को दूर करने के लिए वह कंपटीशन बिहेवियर कोई ना कोई और ही होता है बार बार होता है एमबी एमबी है मियां अंदर बहुत दिनों तक लगातार चलता रहा फिर हम कंपटीशन है मेरे कुछ करते रहे थे इसको हम उसी लिए पाउडर या व्हाट्सएप संपर्क से देवरिया हिंदी में जिन्होंने बाध्यकारी भी कह सकते हैं कि आपके परिवार में किसी को है दोस्ती में कैसे-कैसे क्या टेस्ट का स्नातक के पास जाना जरूरी है क्योंकि इसका इलाज करवाइए

aapka prashna hai usi DK pata kaise chalta hai dekhiye usi bhi ek gambhir mansik samasya hai aur tum us means of ship ship matlab junooni badhyakari tumhe koi adhikari ya junooni vichar baar baar aate hain koi images baar baar banti hai koi shak baar hota hai kuch inavaitis hote hain baar baar aur film ko dur karne ke liye hum usko dur karne ke liye usse sambandhit kuch vyavhar karte hain baar baar kampankshans ban jaate hamari dosti se competition aur disorder obsessive kampalsiv disorder is bimari ka yani OCD ka duniya bhar mein lagbhag dhai pratishat logo ko apne jeevan mein kisi na kisi bindu par prabhavit karta hai aur aamtaur par yah lakshan 35 varsh ki aayu ke baad shuru hote hain halaki kai aise log hain jo 20 saal se pehle bhi uske lakshan viksit ho sakte hain kai log kehte hain ki aur tumhe zyada hote hain lekin male prabhavit ho sakte hain usi DK ab aapne yah poocha ki use kya pata kaise lagaye toh vaah unke lakshano se pata lag sakta hai aur yah lakshan hai ki gandagi yaar gaano se dushit hone ka bhay ya dusre ko dushit karne ke bare mein pareshan aisi soch baar baar dusre chijon ki atyadhik jaanch karna jaise upkaran instrument tale aur switch baar baar check karna teesra atyadhik prarthna ke dharmik anushthanon mein bhag lena jo dar se girte hain phir koi jung jeet M befijul cheez hai jama karna aur unhe ek aur isme bada gambhir lakshan hai yaun roop se spasht intak vicharon ankhiyon ke bare mein sochna ki baar baar unko ek sambandhi idea aana kisi na kisi ki chhavi dekh na baar baar parivar ke sadasyon aur parijanon ko yah dekhne ke liye jaanch kar rahe hain ki vaah surakshit hai toh ab yah jo junooni vichar hai jinhone images hai jinhone kuch doubt shamsher ki wajah se rogi ko invite hone lagte hain tanaav bahut badh jata hai ki mere ko kyon ho raha hai baar baar mere saamne mere man mein yah kyon hi majedar hai ek hi vichar kyon baar baar aa raha hai toh phir usko inasaiti ko dur karne ke liye us se related magar har baar baar karte hain jisko hum chahte hain kampalsiv kampalsiv karna nahi chahte lekin uski andaruni competition ban jaati majburi ban jaati hai baar baar 2 kisano ke dar se vaah baar baar hath dhote hain baar baar isi tarah jab unko lagta hai ki bahar nikalte hue maine yah check nahi kiya tala chatni chatni ki baar baar light aur tale vagera check karte hain ghar se bahar jaane se pehle yah bhi kam pad jaati hai isi tarah hamko lagta hai ki mere sharir se badbu aa rahi hai toh baar baar send pechar par isi tarah koi idea koi images unke man mein baar baar ban rahe hain toh us se related nagar ke pratishthit paida ho raha hai toh baar baar usko check karne ki koshish karta hai toh yah vyavhar jo hai vaah kampalsiv ho jata hai yah mujhe personally ki ek ajib si ho jaati hai ki pehle unko junooni vichar aate hain images banti hain kuch tasveer ubharti hai mast mein hoti nahi hai aur phir unko unse inasaiti hoti hai inasaiti ko dur karne ke liye vaah competition behaviour koi na koi aur hi hota hai baar baar hota hai MB MB hai miyan andar bahut dino tak lagatar chalta raha phir hum competition hai mere kuch karte rahe the isko hum usi liye powder ya whatsapp sampark se devariya hindi mein jinhone badhyakari bhi keh sakte hain ki aapke parivar mein kisi ko hai dosti mein kaise kaise kya test ka snatak ke paas jana zaroori hai kyonki iska ilaj karavaiye

आपका प्रश्न है उसी डीके पता कैसे चलता है देखिए उसी भी एक गंभीर मानसिक समस्या है और तुम उस

Romanized Version
Likes  175  Dislikes    views  1244
WhatsApp_icon
user

Kunal D Joshi

Public Speaking

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी रुपए ऑब्सेसिव कंपल्सिव कंपल्सिव डिसऑर्डर तो इसमें इसको सिम्टम्स होते हैं जैसे एक चीज को बार-बार रिपीट करना जैसा अपने दरवाजे का लॉक लगाया कि मैं बार बार चेक कर लो आप बहुत मतलब हाइपरटेंशन रहते हो हर टाइप का बाबू किसी बात का बुरा लगता है ऐसे बहुत से सेम सेम टाइम से अगर आपको लग रहा है आपको कुछ ऐसा है जो अच्छी से अच्छी साइकिल से व्यक्त कीजिए कुछ ऐसी दवाई आती है डॉग मेरी दवा और क्या-क्या तो आप उनसे भी वजह बदल सकते

OCD rupaye obsessive kampalsiv kampalsiv disorder toh isme isko Symptoms hote hain jaise ek cheez ko baar baar repeat karna jaisa apne darwaze ka lock lagaya ki main baar baar check kar lo aap bahut matlab hypertension rehte ho har type ka babu kisi baat ka bura lagta hai aise bahut se same same time se agar aapko lag raha hai aapko kuch aisa hai jo achi se achi cycle se vyakt kijiye kuch aisi dawai aati hai dog meri dawa aur kya kya toh aap unse bhi wajah badal sakte

ओसीडी रुपए ऑब्सेसिव कंपल्सिव कंपल्सिव डिसऑर्डर तो इसमें इसको सिम्टम्स होते हैं जैसे एक चीज

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1416
WhatsApp_icon
user

Dr. Alpana Rastogi

Psychologist

2:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी में दो चीजें होते हैं जिसको हम कहते हैं आप सबसे अच्छे कंपल्सिव डिसऑर्डर पहला जोश में मेजर चीज होती है अब सेशन कोई ऐसा विचार जिस विचार जो विचार आपको लगातार परेशान करता है और आप जानते हैं कि वह विचार गलत है आपको वह विचार फालतू है उस विचार का कोई अर्थ नहीं है तो इसको हम ऑपरेशन करते लेकिन उसके बावजूद आप उस विचार को छोड़ नहीं पाते वह भी चार लगातार आपको तंग करता रहता है और दूसरा उसमें एक और चीज होती है बहुत है कंपल्सिव कंपल्सिव मतलब कि किसी भी काम का बहुत बार करते देते हाथ धोने का काम है तो आपको लगेगा कि आप अगर पांच बार यह हाथ जाएंगे तो ठीक है 5 बार 7 बार की गिनती आपकी अपनी तरह की होती है तो अगर आप पे करेंगे तो उसके बाद आपको शांति मिलती है अगर आपको नहीं करते तो आपके इनसाइट उलझन बनी हुई रहती है यह एक पत्नी चम है जिसको सिटी के बारे में लेकिन जब आपको यह पता रहे कि यह बहुत हो गया है और अगर हम अपने से तो कर आते ही हैं और अपने परिवार जनों को भी बहुत पोस्ट करते हैं कि नहीं आपको भी यही करना पड़ेगा जैसे हम हाथ धोते हैं ठीक है लेकिन हमारे ठीक-ठाक है वह भी नहीं है लेकिन अगर हमारे इसके अलावा हम अपने हस्बैंड से भी कहें कि नहीं आप भी पांच बार हाथ धोए अगर आपने 5 बार हाथ नहीं तो आप हमारी कोई वस्तु छू नहीं सकते तो यह हमारे यह उसी डी रोग है किसी भी काम को बहुत बार सिस्टमैटिकली करना बात ठीक से करना ओसीडी नहीं होता उसी पर्सनैलिटी हो सकता है लेकिन यह जब तक आप किसी चिकित्सा चिकित्सा मनोवैज्ञानिक के पास स्वयं जाकर के अपना आकलन नहीं कर पाते वेट नहीं कर पाते तो यह तब तक ही कहना मुश्किल है कि आपको सीडी है कि नहीं है लेकिन अगर आपको यह लक्षण है क्या किसी भी विचार को के साथ लड़ते रहते लेकिन विचार आपका पीछा नहीं छोड़ता और क्या आप किसी काम को कई बार करते देते हाथ धोने का तो एक एग्जांपल है लेकिन इसी तरह से कुछ लोग ताला बहुत चेक करते हैं पैसे रखते तो कई बार चेक करते हैं कई बार चीजों को बार बार बार पलट कर देखते हैं नोट्स बनाते तो कई बार देखते कॉपी को कई बार चेक करते तो यह कई बार अगर यह आदमी आप में है तो हो सकता है आपको उसी लिए आपको अपने पास के किसी भी चिकित्सा मनोवैज्ञानिक से मिलकर कि इसका इसका पता लगाना चाहिए और इसके निवारण के बारे में भी बात करनी चाहिए धन्यवाद

OCD me do cheezen hote hain jisko hum kehte hain aap sabse acche kampalsiv disorder pehla josh me major cheez hoti hai ab session koi aisa vichar jis vichar jo vichar aapko lagatar pareshan karta hai aur aap jante hain ki vaah vichar galat hai aapko vaah vichar faltu hai us vichar ka koi arth nahi hai toh isko hum operation karte lekin uske bawajud aap us vichar ko chhod nahi paate vaah bhi char lagatar aapko tang karta rehta hai aur doosra usme ek aur cheez hoti hai bahut hai kampalsiv kampalsiv matlab ki kisi bhi kaam ka bahut baar karte dete hath dhone ka kaam hai toh aapko lagega ki aap agar paanch baar yah hath jaenge toh theek hai 5 baar 7 baar ki ginti aapki apni tarah ki hoti hai toh agar aap pe karenge toh uske baad aapko shanti milti hai agar aapko nahi karte toh aapke insight uljhan bani hui rehti hai yah ek patni chamm hai jisko city ke bare me lekin jab aapko yah pata rahe ki yah bahut ho gaya hai aur agar hum apne se toh kar aate hi hain aur apne parivar jano ko bhi bahut post karte hain ki nahi aapko bhi yahi karna padega jaise hum hath dhote hain theek hai lekin hamare theek thak hai vaah bhi nahi hai lekin agar hamare iske alava hum apne husband se bhi kahein ki nahi aap bhi paanch baar hath dhoe agar aapne 5 baar hath nahi toh aap hamari koi vastu chu nahi sakte toh yah hamare yah usi d rog hai kisi bhi kaam ko bahut baar sistamaitikli karna baat theek se karna OCD nahi hota usi personality ho sakta hai lekin yah jab tak aap kisi chikitsa chikitsa manovaigyanik ke paas swayam jaakar ke apna aakalan nahi kar paate wait nahi kar paate toh yah tab tak hi kehna mushkil hai ki aapko CD hai ki nahi hai lekin agar aapko yah lakshan hai kya kisi bhi vichar ko ke saath ladte rehte lekin vichar aapka picha nahi chodta aur kya aap kisi kaam ko kai baar karte dete hath dhone ka toh ek example hai lekin isi tarah se kuch log tala bahut check karte hain paise rakhte toh kai baar check karte hain kai baar chijon ko baar baar baar palat kar dekhte hain notes banate toh kai baar dekhte copy ko kai baar check karte toh yah kai baar agar yah aadmi aap me hai toh ho sakta hai aapko usi liye aapko apne paas ke kisi bhi chikitsa manovaigyanik se milkar ki iska iska pata lagana chahiye aur iske nivaran ke bare me bhi baat karni chahiye dhanyavad

ओसीडी में दो चीजें होते हैं जिसको हम कहते हैं आप सबसे अच्छे कंपल्सिव डिसऑर्डर पहला जोश में

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  389
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!