कई नेता अपना दल बदल र है हैं। क्या वो सिर्फ़ अपने फ़ायदे का सोच रहें हैं? इसपर आप क्या कहना चाहेंगे?...


user

Pankaj Mall

Life Coach, Trainer, Cyclist

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पॉलिटिक्स में विचारधारा आईडियोलॉजी या कैसी सोच है उससे ज्यादा इंपॉर्टेंट लोगों के लिए सत्ता में बने रहना होता है और यह किसी भी प्रोफेशन के लिए लागू होता है जब तक आपको काम मिल रहा है जब तक आपके पास अथॉरिटी है लोग आपको पूछेंगे और डेमोक्रेसी में यही होता है अगर आपके हाथ में सत्ता नहीं है तो आप की पूछ नहीं होगी ऐसे लोग भी देखते हैं कि पार्टी बदलते हैं और वह देखते हैं कि कौन सी पार्टी के जीतने के चांस ज्यादा है कौन से पार्टी सरकार बनाएगी या किस पार्टी को लेकर के लोगों की सोच पॉजिटिव है मॉडल मोरालिटी पर नहीं जाएंगे कि क्या अच्छा है क्या बुरा है लेकिन यह जरूरी है पॉलीटिशियंस के लिए कि वह जब जीतकर के आते हैं तो काम करते हैं या नहीं करते हैं और यह जनता की भी जिम्मेदारी है कि आपका दिन को चुन रहे हैं किन को वोट कर रहे हैं उनसे हिसाब मांगे उनको प्रेशर में रखना जरूरी होता है क्योंकि वह हमारे लिए ही काम कर रहे हैं तो वह अपने फायदे के लिए नहीं लेकिन समाज के लिए उनको काम करना चाहिए और शायद हमारी भी जिम्मेदारी है कि वैसे लोगों को हम चुन करके सत्ता में बैठा है जो जाति धर्म से ऊपर उठकर के देश के बारे में सोचें समाज के बारे में सोचें और हम सब के लिए मेहनत करें देश को आगे बढ़े यही बात रहेगी तो इस बार वोट भी आप वैसे ही लोगों को दें जो सत्ता को संभाल सकते हैं जो देश को आगे बढ़ा सकते हैं धन्यवाद

politics mein vichardhara aidiyolaji ya kaisi soch hai usse zyada important logo ke liye satta mein bane rehna hota hai aur yeh kisi bhi profession ke liye laagu hota hai jab tak aapko kaam mil raha hai jab tak aapke paas authority hai log aapko puchenge aur democracy mein yahi hota hai agar aapke hath mein satta nahi hai toh aap ki puch nahi hogi aise log bhi dekhte hain ki party badalte hain aur wah dekhte hain ki kaun si party ke jitne ke chance zyada hai kaunsi party sarkar banaegi ya kis party ko lekar ke logo ki soch positive hai model morality par nahi jaenge ki kya accha hai kya bura hai lekin yeh zaroori hai politicians ke liye ki wah jab jeetkar ke aate hain toh kaam karte hain ya nahi karte hain aur yeh janta ki bhi jimmedari hai ki aapka din ko chun rahe hain kin ko vote kar rahe hain unse hisab mange unko pressure mein rakhna zaroori hota hai kyonki wah hamare liye hi kaam kar rahe hain toh wah apne fayde ke liye nahi lekin samaj ke liye unko kaam karna chahiye aur shayad hamari bhi jimmedari hai ki waise logo ko hum chun karke satta mein baitha hai jo jati dharm se upar uthakar ke desh ke bare mein sochen samaj ke bare mein sochen aur hum sab ke liye mehnat karein desh ko aage badhe yahi baat rahegi toh is baar vote bhi aap waise hi logo ko de jo satta ko sambhaal sakte hain jo desh ko aage badha sakte hain dhanyavad

पॉलिटिक्स में विचारधारा आईडियोलॉजी या कैसी सोच है उससे ज्यादा इंपॉर्टेंट लोगों के लिए सत्त

Romanized Version
Likes  95  Dislikes    views  2287
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!