कृष्ण को चोर क्यों कहा गया है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि भगवान श्री कृष्ण से जो मन लगा लेता था उसका वह मन चुरा लेते थे जो भगवान श्री कृष्ण से प्रेम कर बैठता था तो उसका वह दिल चुरा लेते थे भगवान श्रीकृष्ण से अगर कोई माखन छुपाता था तो उसका वह माखन चुरा लेते थे वह सर्वव्यापी सर्व व्यापक है लिंग से कुछ भी छुपाने पर वह उसका भेद खोल देते थे इसीलिए तो उसे प्रिंसेस के भक्त यही कहते थे जो आपने कहा चोर वास्तव में चोर का तात्पर्य आप समझते हैं कि चोर किसे कहते हैं जो एक ऐसा शब्द पहले जब महिलाएं बैठती थी एक चोर बना कर बैठा करती थी गोल चबूतरा और उस पर बैठकर अनेक प्रकार के गीत गाया करती थी तो जूस चोर को कहने के पृथ्वी रूपी से चोर को जो अपने पुरुषार्थ से अपने सामर्थ्य से घुमा रहा है उसे चोर नहीं तो आप और क्या कहेगी बस सोच और ज्ञान की कमी है कि श्रीकृष्ण को चोर हमें कि हम क्यों कहते हैं अज्ञानी लोग क्यों कहते थे वह चोर नहीं जो चोरियां करने वाला कुछ चीजें उठाने वाला वह चोर जो अपनी सामर्थ्य से इस चोर गोल रूपी पृथ्वी को चारों ओर घुमा रहा है

kyonki bhagwan shri krishna se jo man laga leta tha uska vaah man chura lete the jo bhagwan shri krishna se prem kar baithta tha toh uska vaah dil chura lete the bhagwan shrikrishna se agar koi makkhan chhupata tha toh uska vaah makkhan chura lete the vaah sarvavyapi surv vyapak hai ling se kuch bhi chhupaane par vaah uska bhed khol dete the isliye toh use Princes ke bhakt yahi kehte the jo aapne kaha chor vaastav me chor ka tatparya aap samajhte hain ki chor kise kehte hain jo ek aisa shabd pehle jab mahilaye baithati thi ek chor bana kar baitha karti thi gol chabutara aur us par baithkar anek prakar ke geet gaaya karti thi toh juice chor ko kehne ke prithvi rupee se chor ko jo apne purusharth se apne samarthya se ghuma raha hai use chor nahi toh aap aur kya kahegi bus soch aur gyaan ki kami hai ki shrikrishna ko chor hamein ki hum kyon kehte hain agyani log kyon kehte the vaah chor nahi jo choriyan karne vala kuch cheezen uthane vala vaah chor jo apni samarthya se is chor gol rupee prithvi ko charo aur ghuma raha hai

क्योंकि भगवान श्री कृष्ण से जो मन लगा लेता था उसका वह मन चुरा लेते थे जो भगवान श्री कृष्ण

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  958
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
krishna ko chor kyu kaha gaya ; krishna ko chor kyu kaha gaya hai ; कृष्ण को चोर क्यों कहा गया है ; कृष्ण को चोर क्यों कहा गया है कवि का अभिप्राय स्पष्ट करें ; कृष्ण को चोर क्यों कहा गया ; krishna ko chor kyu kaha gaya hai kabhi ka abhipray spasht karen ; krishna ko chor kyon kaha gaya hai ; gopiyon ne shri krishna ko makhan chor kyon kaha hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!