क्या सामाजिक भय उपचार योग्य है मैं इस डर को कैसे दूर कर सकता हूँ?...


user
1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सोशल फोबिया है समाज में मिलने में दिक्कत आती है तो इसके उपचार होती है मनोवैज्ञानिक उपचार होते हैं और यहां पर काफी हद तक मैंने जो सकता है इंसान उस उस समाज में अगर सुबह भीड़ को एड्रेस करने की बजाय एक व्यक्ति के साथ दो व्यक्ति के साथ धीरे धीरे एक से होता है इसमें नीचे से शुरू उसके उसके लेबल्स को बढ़ाएं के साथ जो व्यक्ति के साथ इक्वेशन में डार्लिंग भी नहीं हमारे यहां में वह कौशल नहीं हासिल हो पाएंगे

social phobia hai samaj mein milne mein dikkat aati hai toh iske upchaar hoti hai manovaigyanik upchaar hote hain aur yahan par kaafi had tak maine jo sakta hai insaan us us samaj mein agar subah bheed ko address karne ki bajay ek vyakti ke saath do vyakti ke saath dhire dhire ek se hota hai isme niche se shuru uske uske labels ko badhaye ke saath jo vyakti ke saath equation mein darling bhi nahi hamare yahan mein vaah kaushal nahi hasil ho payenge

सोशल फोबिया है समाज में मिलने में दिक्कत आती है तो इसके उपचार होती है मनोवैज्ञानिक उपचार ह

Romanized Version
Likes  164  Dislikes    views  2425
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Naren khatri

Student And Social Worker

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

का सवाल है कि क्या सामाजिक व उपचार योग्य है इस डर से कैसे दूर हो कर सकता हूं तो आप हमेशा सकारात्मक सोच ही सामाजिक समाज द्वारा और अगर आप सही है आप अपनी जगह पर ताप को डरने की कोई जरूरत नहीं है धन्यवाद

ka sawaal hai ki kya samajik va upchaar yogya hai is dar se kaise dur ho kar sakta hoon toh aap hamesha sakaratmak soch hi samajik samaj dwara aur agar aap sahi hai aap apni jagah par taap ko darane ki koi zarurat nahi hai dhanyavad

का सवाल है कि क्या सामाजिक व उपचार योग्य है इस डर से कैसे दूर हो कर सकता हूं तो आप हमेशा स

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्री राम आपने पसंद किया क्या सामाजिक व उपचार योग्य है हां सामाजिक पर उपचार योग्य है क्योंकि ऐसा कोई चीज नहीं जिसका कोई उपचार ने हो डर मन की एक अवस्था है जिसे आसानी से व्यक्ति 1 महीने या 2 महीने या गंभीर अवस्था हो तो 1 वर्ष में बाहर आ सकता है परंतु डर की वजह से बहुत से लोग बहुत से खतरनाक रास्ते भी अपना लेते हैं इससे अच्छा तो यह है कि हमें इलाज के लिए प्रयास करना चाहिए देखो वैज्ञानिक पति से होने वाले उपचार आजकल इतनी ज्यादा विश्वसनीय नहीं रहे हैं और आध्यात्म में कोई विश्वास करता नहीं यही कमी है कि अध्यात्म में विश्वास नहीं करने की वजह से लोग आजकल सहानुभूति सहनशीलता जैसे यू चीजें हैं वह व्यक्ति में कम होगी और इसी के कारण ही ऐसे रोग उत्पन्न होते हैं अब आपको डर से कैसे निजात पाए देखो व्यक्ति को सदैव भगवत चिंतन करना चाहिए दूसरा गणेश जी जो बुद्धि के देवता उनको शाम सुबह और शाम बजना चाहिए माता सरस्वती को बजना चाहिए क्योंकि वह विद्या की गई है इसके अलावा हनुमान चालीसा पढ़ना चाहिए जिससे मन की नेगेटिविटी दूर होती है इसके अलावा ओमकार का जाप करना चाहिए ओमकार क्योंकि आपको पता है एक पॉजिटिव बीज मंत्र है जिसका आप 21 बार 51 बार 108 बार जाप करोगे तो आप 1 महीने के अंदर ही कितने इससे बड़ा से बड़ा डर क्यों नहीं सता रहा हो आप आसानी से उसे डर से निजात पा लोगे और ज्यादा से ज्यादा व्यक्तियों में आप उठना बैठना बोलना इंटर में बहुत हद तक सफलता प्राप्त होती है और हमें निजात मिलता है जय श्री राम

shri ram aapne pasand kiya kya samajik va upchaar yogya hai haan samajik par upchaar yogya hai kyonki aisa koi cheez nahi jiska koi upchaar ne ho dar man ki ek avastha hai jise aasani se vyakti 1 mahine ya 2 mahine ya gambhir avastha ho toh 1 varsh mein bahar aa sakta hai parantu dar ki wajah se bahut se log bahut se khataranaak raste bhi apna lete hai isse accha toh yeh hai ki humein ilaj ke liye prayas karna chahiye dekho vaigyanik pati se hone wale upchaar aajkal itni zyada viswasniya nahi rahe hai aur aadhyatm mein koi vishwas karta nahi yahi kami hai ki adhyaatm mein vishwas nahi karne ki wajah se log aajkal sahanubhuti sahansheelta jaise you cheezen hai wah vyakti mein kam hogi aur isi ke kaaran hi aise rog utpann hote hai ab aapko dar se kaise nijat paye dekho vyakti ko sadaiv bhagwat chintan karna chahiye doosra ganesh ji jo buddhi ke devta unko shaam subah aur shaam bajana chahiye mata saraswati ko bajana chahiye kyonki wah vidya ki gayi hai iske alava hanuman chalisa padhna chahiye jisse man ki negativity dur hoti hai iske alava omkar ka jaap karna chahiye omkar kyonki aapko pata hai ek positive beej mantra hai jiska aap 21 baar 51 baar 108 baar jaap karoge toh aap 1 mahine ke andar hi kitne isse bada se bada dar kyon nahi sataa raha ho aap aasani se use dar se nijat pa loge aur zyada se zyada vyaktiyon mein aap uthna baithana bolna inter mein bahut had tak safalta prapt hoti hai aur humein nijat milta hai jai shri ram

श्री राम आपने पसंद किया क्या सामाजिक व उपचार योग्य है हां सामाजिक पर उपचार योग्य है क्यों

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  382
WhatsApp_icon
play
user

Shweta Dharamdasani

Rehabilitation Psychologist

1:16

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अकेले सोते हो गया का पुस्तक एक चीज है जिसको हम ही कर पाते हैं क्योंकि वह काफी मुश्किल होता है तो कुछ लोग जो आप आते हैं हमारे पास हां मैंने कर पाते हैं वह चीजों से जब हम उनको बारे में कुछ टेक्निक बताते हैं या कुछ और को यह समझ समझ पाते कि उनको ऐसा क्यों हो रहा है तो नहीं कि वह लोग बाहर निकल पाते समझ पाते कि वह क्यों किस चीज से डर रहे हैं और इसके बाद पानी के बाहर निकलने का डर है तो मनुष्य के पास आप आना ही पड़ा क्या

akele sote ho gaya ka pustak ek cheez hai jisko hum hi kar paate hain kyonki wah kaafi mushkil hota hai toh kuch log jo aap aate hain hamare paas haan maine kar paate hain wah chijon se jab hum unko bare mein kuch technique batatey hain ya kuch aur ko yeh samajh samajh paate ki unko aisa kyon ho raha hai toh nahi ki wah log bahar nikal paate samajh paate ki wah kyon kis cheez se dar rahe hain aur iske baad pani ke bahar nikalne ka dar hai toh manushya ke paas aap aana hi pada kya

अकेले सोते हो गया का पुस्तक एक चीज है जिसको हम ही कर पाते हैं क्योंकि वह काफी मुश्किल होत

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  515
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!