ऑटिज़्म क्या है और इसे बुरा क्यों माना जाता है?...


play
user

Dr. PRAVINA MISHRA

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

1:08

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बुरा मानने वाली बात नहीं बीमारी होने वाली बात नहीं है बुरा मानने वाली कोई बात नहीं होता है लोगों का यह मानना है कि यदि धर्म है या होने की संभावना है कि नहीं करनी है क्या वहां जाना है बुरा बुरा

bura manane waali baat nahi bimari hone waali baat nahi hai bura manane waali koi baat nahi hota hai logon ka yeh manana hai ki yadi dharam hai ya hone ki sambhavna hai ki nahi karni hai kya wahan jana hai bura bura

बुरा मानने वाली बात नहीं बीमारी होने वाली बात नहीं है बुरा मानने वाली कोई बात नहीं होता है

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  500
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

व्हाट इस द मैटर भी बीमारी है जिसमें बच्चा तो है वह उसका समाचार जैसी टेबल को अपना माइंड नहीं देखा किसी तरह का नुकसान नहीं शो करेगा बच्चा दूसरे बच्चों के साथ चलेगा नहीं

what is the matter bhi bimari hai jisme baccha toh hai vaah uska samachar jaisi table ko apna mind nahi dekha kisi tarah ka nuksan nahi show karega baccha dusre bacchon ke saath chalega nahi

व्हाट इस द मैटर भी बीमारी है जिसमें बच्चा तो है वह उसका समाचार जैसी टेबल को अपना माइंड नही

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  284
WhatsApp_icon
user
1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऑटिज्म में कुछ ऐसी ही आ गई लिमिटेशंस है काम कीजिए बचपन से शुरू होती है बहुत कम उम्र के बच्चों के कुछ ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं प्रॉपर आई कांटेक्ट नहीं सकते हैं और जो इमोशन आप बच्चे के बाद चाहिए तो वह सर से धीरे-धीरे जब बच्चा बड़ा होता है आगे चंकी दूसरे अन्य बच्चों में घुल मिलकर खेल नहीं पाता है उससे लक्षण होते हैं जो अन्य बच्चों की अपेक्षा अलग होते हैं नहीं कर रहा है बच्चे वह बच्चा जैसे यह समस्या है अमेरिकी सरकार का दूसरों की बात कुछ समझ नहीं पाता तो एक तरह से लोगों को लगता है कि यह अलग बच्चा है दोबारा बच्चन से कैसा सूचना लेखन की समस्या रहती है लेकिन कोई ऐसा होता है जिसमें वह कुछ अच्छा समझा

autism mein kuch aisi hi aa gayi Limitations hai kaam kijiye bachpan se shuru hoti hai bahut kam umr ke bacchon ke kuch aise lakshan dikhai dete hain proper I Contact nahi sakte hain aur jo emotion aap bacche ke baad chahiye toh vaah sir se dhire dhire jab baccha bada hota hai aage chinki dusre anya bacchon mein ghul milkar khel nahi pata hai usse lakshan hote hain jo anya bacchon ki apeksha alag hote hain nahi kar raha hai bacche vaah baccha jaise yah samasya hai american sarkar ka dusron ki baat kuch samajh nahi pata toh ek tarah se logon ko lagta hai ki yah alag baccha hai dobara bachchan se kaisa soochna lekhan ki samasya rehti hai lekin koi aisa hota hai jisme vaah kuch accha samjha

ऑटिज्म में कुछ ऐसी ही आ गई लिमिटेशंस है काम कीजिए बचपन से शुरू होती है बहुत कम उम्र के बच्

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  2461
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!