बॉर्डरलाइन व्यक्तित्व विकार वाले लोगों के साथ संबंध कब टूटने लगते हैं?...


play
user
0:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्किन के लक्षण एकदम से उभर के आने लगते हैं तो वह व्यक्ति खुद नहीं समझ पाता और दूसरों के साथ हो उस तरह से व्यवहार नहीं कर पाते पाते दोनों की जिनको यह समस्या है और दूसरे लोग वह भी नहीं समझ पाते कि एक मानसिक बीमारी है तो इस तरह से संबंध खराब होने लगते हैं उसके लक्षण इतने परेशान करने वाले होते हैं खुद व्यक्ति के लिए भी और दूसरों के लिए तो इन परेशानियों से उनके आपसी संबंध पर ही बहुत फर्क है

skin ke lakshan ekdam se ubhar ke aane lagte hai toh vaah vyakti khud nahi samajh pata aur dusro ke saath ho us tarah se vyavhar nahi kar paate paate dono ki jinako yah samasya hai aur dusre log vaah bhi nahi samajh paate ki ek mansik bimari hai toh is tarah se sambandh kharab hone lagte hai uske lakshan itne pareshan karne waale hote hai khud vyakti ke liye bhi aur dusro ke liye toh in pareshaniyo se unke aapasi sambandh par hi bahut fark hai

स्किन के लक्षण एकदम से उभर के आने लगते हैं तो वह व्यक्ति खुद नहीं समझ पाता और दूसरों के सा

Romanized Version
Likes  161  Dislikes    views  2426
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!