ऐंज़ाइयटी डिसॉर्डर का सामना कैसे करें और ऐंज़ाइयटी डिसॉर्डर के प्रकार क्या हैं?...


play
user

Chandni Gupta

RCI Psychologist & Counselor

1:20

Likes  15  Dislikes    views  190
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sheetal Singh

Clinical Psychologist

2:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एंजाइटी डिसऑर्डर कई प्रकार के होते हैं जैसे ऑनलाइन फोटो एडिटर मैट्रिक चैट स्टार्ट डेट इन 14 तारीख के लिए सामना करने के लिए आप को कंट्रोल करना होता है कि आप किसी ने के तरीके मां के दरबार में कुछ बदलाव लाते हैं जिसकी सोच में बदलाव एक ईमेल खाता चेक करना काफी जरूरी है ताकि अभी तक निकलेगा लेकिन अब आगे कुलदीपक पर जो भी पीते हो वहां पर मैक्सिमम कर दो के बजे कि आप तो पसीना इनक्रीस रेट आएगा कि नहीं पैदा होता

Anjaiti disorder kai prakar ke hote hain jaise online photo editor metric chat start date in 14 tarikh ke liye samana karne ke liye aap ko control karna hota hai ki aap kisi ne ke tarike maa ke darbaar mein kuch badlav late hain jiski soch mein badlav ek email khaata check karna kaafi zaroori hai taki abhi tak niklega lekin ab aage kuldipak par jo bhi peete ho wahan par maximum kar do ke baje ki aap toh paseena increase rate aaega ki nahi paida hota

एंजाइटी डिसऑर्डर कई प्रकार के होते हैं जैसे ऑनलाइन फोटो एडिटर मैट्रिक चैट स्टार्ट डेट इन 1

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  516
WhatsApp_icon
user
3:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो सबसे पहले प्रकार बताऊंगी फिर उससे कैसे उपयोग करें लोगों को इस जंगल भरी एक चिंता बनी रहती है हर चीज को देखकर की चिंता में हो जाते हैं और कुछ अनहोनी का डर बना रहता है कि कुछ खराब हो जाएगा क्या जो बुरा है वह अच्छा नहीं हो रहा है और जरा जरा सी बातों के वह बिल्कुल डर जाते हैं कपड़ा जाते हैं कुछ कुछ पूरा हो गया नहीं होती है कोई भी छोटी-छोटी पीएमटी का फॉर्म है वह भी आज होते हैं पानी क्या होता है लगता है ऊंचाई पर पहुंच कर दान करते हम सभी लोगों को कुछ ना कुछ लगता है लेकिन हम उसे काबू पा लेते हैं और हम उतना ज्यादा नहीं परेशान करता मगर किसी को अगर किया है तो वह कुछ अलग से लक्षण दिखने लगते हैं बिल्कुल बिल्कुल बिल्कुल फोबिया क्लस्ट्रोफोबिया मीनिंग इन तीनों फॉर्म एंड लाइटिंग लाइटिंग ऑफिसर कंपल्सिव डिसऑर्डर और सीधी फोबिया कभी-कभी अपनी माइंड फोन में है इनका सामना करता है अगर छपरा हट होगी या परेशानी होगी या चिंता होगी सिर्फ ले सकता है दूसरे कार्यों में मन लगाकर पूजा पाठ करें कि हमारा काम भला होगा हमारे साथ कुछ बुरा नहीं होगा जरूरी नहीं है लेकिन हम अपनी समस्या को अपना समझने की कोशिश करती हैं फिर हम अपने आप को समझाते हैं और उनसे डी करने की कोशिश करती हमारे आसपास की व्यक्ति भी ऐसे होते हैं जो लोगों को समझाते हैं उन्हें बताते हैं उनका साथ देते हैं इन चीजों को ठीक करने में आसानी हो

jo sabse pehle prakar bataungi phir usse kaise upyog kare logo ko is jungle bhari ek chinta bani rehti hai har cheez ko dekhkar ki chinta mein ho jaate hain aur kuch anahoni ka dar bana rehta hai ki kuch kharab ho jaega kya jo bura hai vaah accha nahi ho raha hai aur zara zara si baaton ke vaah bilkul dar jaate hain kapda jaate hain kuch kuch pura ho gaya nahi hoti hai koi bhi choti choti pmt ka form hai vaah bhi aaj hote hain paani kya hota hai lagta hai uchai par pohch kar daan karte hum sabhi logo ko kuch na kuch lagta hai lekin hum use kabu paa lete hain aur hum utana zyada nahi pareshan karta magar kisi ko agar kiya hai toh vaah kuch alag se lakshan dikhne lagte hain bilkul bilkul bilkul phobia klastrofobiya meaning in tatvo form and lighting lighting officer kampalsiv disorder aur seedhi phobia kabhi kabhi apni mind phone mein hai inka samana karta hai agar chapra hut hogi ya pareshani hogi ya chinta hogi sirf le sakta hai dusre karyo mein man lagakar puja path kare ki hamara kaam bhala hoga hamare saath kuch bura nahi hoga zaroori nahi hai lekin hum apni samasya ko apna samjhne ki koshish karti hain phir hum apne aap ko smajhate hain aur unse d karne ki koshish karti hamare aaspass ki vyakti bhi aise hote hain jo logo ko smajhate hain unhe batatey hain unka saath dete hain in chijon ko theek karne mein aasani ho

जो सबसे पहले प्रकार बताऊंगी फिर उससे कैसे उपयोग करें लोगों को इस जंगल भरी एक चिंता बनी रहत

Romanized Version
Likes  166  Dislikes    views  2412
WhatsApp_icon
user

Taanya Nagi

Founder & Facilitator, Holistic Healing Centre, New Delhi

1:27
Play

Likes  12  Dislikes    views  154
WhatsApp_icon
user

Anuja Kulkarni

Co-Fouder, Jidnyasa Assessment & Counselling

1:25
Play

Likes  7  Dislikes    views  184
WhatsApp_icon
user

munmun

Volunteer

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एंजाइटी डिसऑर्डर जो है उसे कहा जाता है जिसमें इंसान को जो है घबराहट होने लगती है इसे जो है आप किसी सके ट्रस्ट के जूही ऑफिस डिसऑर्डर की जो है दवाई आप उनसे ले सकते हैं

anxiety disorder jo hai use kaha jata hai jisme insaan ko jo hai ghabarahat hone lagti hai ise jo hai aap kisi sake trust ke juhi office disorder ki jo hai dawai aap unse le sakte hain

एंजाइटी डिसऑर्डर जो है उसे कहा जाता है जिसमें इंसान को जो है घबराहट होने लगती है इसे जो है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!