भारत अमेरिका से 100 साल पीछे किस चीज़ में है?...


user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:26
Play

पीछे किस चीज में तो मुझे लगता है कि अमेरिका भारत अमेरिका से 4 साल...

Likes  9  Dislikes    views  221
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Markandey Pandey

Senior Journalist

3:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आगे आगे देखिए सही मायनों में आगे है वह अपने मिलिट्री पावर में आगे है इकोनामिक और में आगे है इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट इंडेक्स जो है वह बेहतर है और वहां की जीडीपी जाते हैं और पर कैपिटा इनकम जाते हैं पर कैपिटा परचेसिंग पावर जाते हैं तो तमाम चीजें और जिसके कारण कहते हैं कि वह एक डेवलप्ड कंट्री है और हम डेवलपिंग कंट्री हैं और पीछे भारत की छे हैं अमेरिका के पीछे यही कारण है कि अमेरिका आगे पीछे की आम आदमी को भी समझना होगा कि हम से मिलकर बनता है और हम कोई काम है क्या ना करें जिसको हर काम है क्या करें जो देश को और अपनी सोसाइटी को मजबूती मिले और सब लोगों को मिलकर नेशनल इंटरेस्ट में काम करना चाहिए गोरमेंट को भी करना चाहिए यहां तक कि गवर्नमेंट का क्या पोजीशन है उस पोजीशन को भी नेशनल इंटरेस्ट के मुद्दों पर डेवलपमेंट के मुद्दों पर एक राय होनी चाहिए अगर हम बनाने में कामयाब हो जाए तो निश्चित रूप से अगर हम ना के साथ 70 साल पहले का स्थिति देखे जैसा कि बताया जाता है कि डॉलर के मुकाबले रुपया मजबूत का उल्टा हो चुका है डॉलर और रुपए में बहुत फर्क आ गया है तो कुछ भी असंभव नहीं देश की जनता और आम लोगों ने लोगों के अंदर सिटी से उसका जिम्मेदारी है वह आ जाए अपने अंदर एक कॉन्शियस नेशनल कॉन्शियस में ताजा बहुत ही अमेरिका की जनता के अंदर है वह ज्यादा सोचते हमारे बीच यह भावना बढ़ती जाएगी और देश में काफी प्रगति की और भारत वर्ष और आगे भी करेगा

aage aage dekhie sahi maayano mein aage hai wah apne miltary power mein aage hai economic aur mein aage hai infrastructure development index jo hai wah behtar hai aur wahan ki gdp jaate hain aur par capita income jaate hain par capita Perchacing power jaate hain toh tamam cheezen aur jiske kaaran kehte hain ki wah ek developed country hai aur hum developing country hain aur peeche bharat ki chhe hain america ke peeche yahi kaaran hai ki america aage peeche ki aam aadmi ko bhi samajhna hoga ki hum se milkar baata hai aur hum koi kaam hai kya na karein jisko har kaam hai kya karein jo desh ko aur apni society ko majbuti mile aur sab logo ko milkar national interest mein kaam karna chahiye garment ko bhi karna chahiye yahan tak ki government ka kya position hai us position ko bhi national interest ke muddon par development ke muddon par ek rai honi chahiye agar hum banane mein kamyab ho jaye toh nishchit roop se agar hum na ke saath 70 saal pehle ka sthiti dekhe jaisa ki bataya jata hai ki dollar ke muqable rupya majboot ka ulta ho chuka hai dollar aur rupaye mein bahut fark aa gaya hai toh kuch bhi asambhav nahi desh ki janta aur aam logo ne logo ke andar city se uska jimmedari hai wah aa jaye apne andar ek सबकॉन्शियस माइंड क्या होता है ? national सबकॉन्शियस माइंड क्या होता है ? mein taaza bahut hi america ki janta ke andar hai wah zyada sochte hamare beech yeh bhavna badhti jayegi aur desh mein kaafi pragati ki aur bharat varsh aur aage bhi karega

आगे आगे देखिए सही मायनों में आगे है वह अपने मिलिट्री पावर में आगे है इकोनामिक और में आगे ह

Romanized Version
Likes  68  Dislikes    views  1109
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!