पद्मावत के बारे में आपकी क्या राय है?...


play
user

munmun

Volunteer

1:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिखे पद्मावत जो 1 हिंदी साहित्य के जो है अंतर्गत सूफी परंपरा का जो प्रसिद्ध महाकाव्य है और इसके रचनाकार जो है मलिक मोहम्मद जायसी है और दोहा और चौपाई छंद में लिखे गए इस महाकाव्य की भाषा अवधि है और यह हिंदी की जो है अवधी बोली में जाती है वह बोली में है और चौपाई दोहे में जो है लिखी गई है और चौपाई के प्रत्येक साथियों के बाद जो है दोहा आता है और इस प्रकार आए हुए जो दोहों की संख्या है 653 है इसकी रचना जो है सन 947 हिजरी में हुई थी और इसकी कुछ प्रतिया में जो है रचना तिथि 927 हिजरी में मिलती है और किंतु यह बहस असंभव है तो अन्य कारणों के अतिरिक्त जो है इस संभावना का जो है सबसे बड़ा कारण यह है कि जो मलिक साहब का जन्म ही 900 या 906 ईसवी में हुआ था और ग्रंथ के प्रारंभ में जो है चाहे वक्त के रूप में जो है शेर शाह की प्रशंसा है और यह तथ्य भी जो है 947 हिजरी को ही रचना तिथि प्रमाणित करता है और 927 डिग्री में जो है शिक्षा का इतिहास भी कोई स्थान नहीं है

dikhe padmavat jo 1 hindi sahitya ke jo hai antargat sufi parampara ka jo prasiddh mahakavya hai aur iske rachnakar jo hai malik muhammad jayasi hai aur doha aur chaupai chhand mein likhe gaye is mahakavya ki bhasha awadhi hai aur yeh hindi ki jo hai awadhi boli mein jati hai wah boli mein hai aur chaupai dohe mein jo hai likhi gayi hai aur chaupai ke pratyek sathiyo ke baad jo hai doha aata hai aur is prakar aaye hue jo dohon ki sankhya hai 653 hai iski rachna jo hai san 947 hijra mein hui thi aur iski kuch pratiya mein jo hai rachna tithi 927 hijra mein milti hai aur kintu yeh bahas asambhav hai toh anya karanon ke atirikt jo hai is sambhavna ka jo hai sabse bada kaaran yeh hai ki jo malik saheb ka janam hi 900 ya 906 isvi mein hua tha aur granth ke prarambh mein jo hai chahe waqt ke roop mein jo hai sher shah ki prashansa hai aur yeh tathya bhi jo hai 947 hijra ko hi rachna tithi pramanit karta hai aur 927 degree mein jo hai shiksha ka itihas bhi koi sthan nahi hai

दिखे पद्मावत जो 1 हिंदी साहित्य के जो है अंतर्गत सूफी परंपरा का जो प्रसिद्ध महाकाव्य है और

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  11
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!