क्या मैं कृष्ण भगवान को पा सकता हूँ?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिट्टू कृष्ण भगवान को पाने ना पाने के बारे में तुम्हें तुम्हें जब कह सकता हूं कि मैंने स्वयं प्रश्नों को पा लिया मैंने भी किसी को नहीं पाया मैं यह मानता हूं भगवान की अनुभूति अपने अंदर आत्मा में महसूस होती है जब भी आपको इस शुभ कर्म करते हैं तो निश्चित मान के चलिए कि आप प्रेरणा देने वाले अपने किसी गरीब आदमी की सहायता किसी ना किसी की सहायता की विद्यार्थी की आपको किसी की सुनने की प्रेरित किया है वही हमारे अंदर समाहित हैं वह शुभ कर्मों के अच्छे कर्मों के लिए प्रेरित करता है अशुभ कर्मों के लिए नहीं मानव शरीर में दो पार्ट होते हैं मन और आत्म रक्षक गंदे कर्म क्यों नहीं जाता है गंदे कर्म कर आता है जबकि आत्मा हमेशा गंदी कर्मों का भूत करती है सब कर्मों की ओर प्रेरित करती है यह जो चोरी डकैती बेईमानी गुंडागर्दी लड़कियों को तंग करना लड़कियों को पत्थर पर छींटाकशी करना यह सब गंदी बातें हैं वह सारे मन कराता है आत्महत्या तो तुम्हारी देखकर कितने किसी निर्दोष लड़की को तंग किया उसको तेज किया है तो तुम्हारी आत्मा जब भी तो मंत्र ही काम से बैठोगे धिक्कार कि क्या वह बड़ी निर्दोष लड़की थी और मेरे को तेज किया मेरे सुप्रिया कसम के लिए हमेशा आपकी आंखों से बड़ा कोई जज नहीं होता है इसलिए इसलिए भगवान जो है ना वह अनुभूति का विषय है इस को संबोधित करूं आप सत्कर्म करो अच्छे कर्म करो अच्छे रास्ते पर चलो अपने माता-पिता का नाम रोशन करो

bittu krishna bhagwan ko pane na pane ke bare mein tumhe tumhe jab keh sakta hoon ki maine swayam prashnon ko pa liya maine bhi kisi ko nahi paya main yeh manata hoon bhagwan ki anubhuti apne andar aatma mein mehsus hoti hai jab bhi aapko is shubha karm karte hain toh nishchit maan ke chaliye ki aap prerna dene wale apne kisi garib aadmi ki sahayta kisi na kisi ki sahayta ki vidyarthi ki aapko kisi ki sunne ki prerit kiya hai wahi hamare andar samahit hain wah shubha karmon ke acche karmon ke liye prerit karta hai ashubh karmon ke liye nahi manav sharir mein do part hote hain man aur aatm rakshak gande karm kyon nahi jata hai gande karm kar aata hai jabki aatma hamesha gandi karmon ka bhoot karti hai sab karmon ki aur prerit karti hai yeh jo chori dakaiti baimani gundagardi ladkiyon ko tang karna ladkiyon ko patthar par chintakashi karna yeh sab gandi batein hain wah saare man karata hai atmahatya toh tumhari dekhkar kitne kisi nirdosh ladki ko tang kiya usko tez kiya hai toh tumhari aatma jab bhi toh mantra hi kaam se baithoge dhikkaar ki kya wah badi nirdosh ladki thi aur mere ko tez kiya mere supriya kasam ke liye hamesha aapki aankho se bada koi judge nahi hota hai isliye isliye bhagwan jo hai na wah anubhuti ka vishay hai is ko sambodhit karu aap satkarm karo acche karm karo acche raste par chalo apne mata pita ka naam roshan karo

बिट्टू कृष्ण भगवान को पाने ना पाने के बारे में तुम्हें तुम्हें जब कह सकता हूं कि मैंने स्व

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  363
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!