मेरे बारे में जब लोग पहली बार देखते होंगे तो वह मेरे बारे में क्या सोचते होंगे आप मुझे बताएं मैं ऐसा क्यों सोचती हूँ?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

का पैसा अपने बारे में क्यों सोचती हैं लोगों को देखेंगे जल्दी ही आपके अंदर दोगुना यादव भक्ति सुनाओ या अलग समाज से अलग रुपए को वेशभूषा ना हो या मित्रों से बदसूरत हूं यदि सुंदरता की को देखेगा मैं तो क्यों देखेगा और मेरे दोनों चाहिए नवसाधना तो फिर आपके मन में काम करने पर अमरीका अमरीका को कोई नहीं देखता एक बार चलते-फिरते नजर पड़ी उसे हटाने का विशेष रूप से कोई नहीं देखता

ka paisa apne bare me kyon sochti hain logo ko dekhenge jaldi hi aapke andar doguna yadav bhakti sunao ya alag samaj se alag rupaye ko veshbhusha na ho ya mitron se badsoorat hoon yadi sundarta ki ko dekhega main toh kyon dekhega aur mere dono chahiye navasadhna toh phir aapke man me kaam karne par america america ko koi nahi dekhta ek baar chalte phirte nazar padi use hatane ka vishesh roop se koi nahi dekhta

का पैसा अपने बारे में क्यों सोचती हैं लोगों को देखेंगे जल्दी ही आपके अंदर दोगुना यादव भक्त

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  1301
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!