मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे बच्चे को मनोवैज्ञानिक को दिखाने की ज़रूरत है?...


user

RITIKA KAIN

Health Care Professional

2:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

साइकोलॉजिस्ट को आपको लगता है या करा कर आपको अपने बच्चे के लिए कंसल्ट करना है कि करें या नहीं करें आप कुछ छोटी-छोटी बेटियां जो आप देख सकते हैं बच्चे के एक बेरिया बे अगर कोई नहीं बचा आकोला एकेडमिकली बहुत ज्यादा काम नहीं है इतना मेहनत करे सब कुछ कर भी नहीं कर पा रहा शायद कोई प्रॉब्लम है जो किसी साइकॉलजिस्ट से बात करके पता लगाया जा सकता है कि क्या वह बच्चे के साथ प्रॉब्लम है अनुरोध करते हैं कि सारे सेट टच करता है तेरी सोच कर क्या है क्या नहीं चेंज नहीं कर रहा है कुछ नहीं कर रहा है और हमें नहीं पता है आप उसे आगे नहीं आने तथा पृथ्वी उसी से तो उस टाइम हम आईटीआई कॉलेज कोई अगर हम किसी से बात कर ले किसी भी बच्चे के पीछे से तो उसे यह होता है कि हमें एक दूसरा पांडे घर में क्या करें तो हमारी स्कूल में कहां पर हमें पूरी कंप्लीट पिक्चर दिखा देगी ना बच्चे में शादीशुदा राठौर को नाम पूछने लाने के लिए खर्च कर सके मेंटल डिसऑर्डर सुपर भीम बच्चे के साथ कोई लिखाई पढ़ाई में कोई प्रॉब्लम है या कुछ को कंट्रोल कर सकते हैं

psychologist ko aapko lagta hai ya kara kar aapko apne bacche ke liye Consult karna hai ki kare ya nahi kare aap kuch choti choti betiyan jo aap dekh sakte hain bacche ke ek beriya be agar koi nahi bacha akola ekedmikli bahut zyada kaam nahi hai itna mehnat kare sab kuch kar bhi nahi kar paa raha shayad koi problem hai jo kisi psychologist se baat karke pata lagaya ja sakta hai ki kya vaah bacche ke saath problem hai anurodh karte hain ki saare set touch karta hai teri soch kar kya hai kya nahi change nahi kar raha hai kuch nahi kar raha hai aur hamein nahi pata hai aap use aage nahi aane tatha prithvi usi se toh us time hum iti college koi agar hum kisi se baat kar le kisi bhi bacche ke peeche se toh use yah hota hai ki hamein ek doosra pandey ghar mein kya kare toh hamari school mein kahaan par hamein puri complete picture dikha degi na bacche mein shaadishuda rathore ko naam poochne lane ke liye kharch kar sake mental disorder super bhim bacche ke saath koi likhai padhai mein koi problem hai ya kuch ko control kar sakte hain

साइकोलॉजिस्ट को आपको लगता है या करा कर आपको अपने बच्चे के लिए कंसल्ट करना है कि करें या नह

Romanized Version
Likes  113  Dislikes    views  1551
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Kanika Rungta

Child Counselor

1:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखिए जो हमारे बच्चे होते हैं आप फिर हम काफी हद तक उनकी एक इमोशनल स्टेट और एक मेंटल लेवल तक बॉन्डिंग में पार्टनर होते हैं चाय अब वह कर रहे हो जाए आप हाउसवाइफ हो या चाहे आप पेरेंट्स क्योंकि उसमें आपको रिपीटेड जाना होता हो इधर उधर जाकर करना होगा सभी केस में हर कोई अपने बच्चों से थोड़ा बहुत इमोशनली कनेक्ट होता है और हर एक इंसान का बच्चे का सबका एक लोटा एक दिव्य पाठक होता है या बच्चे यहां पर है वे कहते हैं ट्रांसलेशन स्टेट तू तो बहुत ज्यादा मेंटल हेल्थ शुरू हो जाती है डैडी कम और ज्यादा आसपास की दुनिया में अवैध बढ़ जाती है तो उसके पीछे से चीन चीज बढ़ जाते हैं और इन सबके अलावा जो हमारा बच्चा है नॉर्मल घर में रहने में रोल अगर कहीं ना कहीं प्रॉब्लम आ रही है किसी ना किसी से कहते हैं तो आपको जरूर साइकिल साइकिल कॉलेज उसको दिखाना स्कूल में और घर में आकर सिर्फ लड़ाई करना चिल्लाना आया पहले नहीं था बच्चे आते हैं तो आपको एक साइकॉलजिस्ट को जरूर कंसल्ट करना चाहिए

likhiye jo hamare bacche hote hain aap phir hum kaafi had tak unki ek emotional state aur ek mental level tak bonding mein partner hote hain chai ab vaah kar rahe ho jaaye aap housewife ho ya chahen aap parents kyonki usme aapko repeated jana hota ho idhar udhar jaakar karna hoga sabhi case mein har koi apne baccho se thoda bahut emotionally connect hota hai aur har ek insaan ka bacche ka sabka ek lota ek divya pathak hota hai ya bacche yahan par hai ve kehte hain translation state tu toh bahut zyada mental health shuru ho jaati hai daddy kam aur zyada aaspass ki duniya mein awaidh badh jaati hai toh uske peeche se china cheez badh jaate hain aur in sabke alava jo hamara baccha hai normal ghar mein rehne mein roll agar kahin na kahin problem aa rahi hai kisi na kisi se kehte hain toh aapko zaroor cycle cycle college usko dikhana school mein aur ghar mein aakar sirf ladai karna chillana aaya pehle nahi tha bacche aate hain toh aapko ek psychologist ko zaroor Consult karna chahiye

लिखिए जो हमारे बच्चे होते हैं आप फिर हम काफी हद तक उनकी एक इमोशनल स्टेट और एक मेंटल लेवल त

Romanized Version
Likes  112  Dislikes    views  1504
WhatsApp_icon
user

Dr Sanjana Seth

Psychologist & Psychotherapist

2:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत सारी चीज होती है कहते हैं कि मां संतोषी मां प्रसन्न होती जिस को पता चल जाता और एक हम थे स्टोंस जो कि हर बच्चे को जैसे कि 3 महीने तक नेट का दुख ना इसलिए खड़ा होना पकड़कर चलना है सारे माय स्कूल आगे बढ़ चुके हर जन्म क्यों निकलता है और ना कुछ पता चल जाते टाइम जब से बच्चा पैदा हुआ है कि उसको कैसे ढूंढकर बहुत ज्यादा टाइम पेपर बेसिक ले रहा है किस तरह से शक्ल कर रहा है टाइम पर खड़ा हुआ है नहीं हुआ है तो एक और वह गर्लफ्रेंड माइलस्टोन जो है वह स्टेशन के पास होते हैं हाथ में कॉलेज जिसके पास होते हैं माता-पिता को भी अवेंजर्स दी जाती है 1 + 10 कह रही हो तो उनको कार्ड मिलता है प्रेगनेंसी के टाइम उसके पीछे भी लिखा जाता है गाना इतनी पर सॉलिड टूटने पर फर्स्ट स्टेप इतने पर स्माइल करना जहां पर भी थोड़ा सा आपको लगेगा कि भी बचा नहीं कर रहा है तो आप उसको पिटिशन के साथ डिस्कस कर सकते हैं क्या वह चौक पोलियो ड्रॉप्स के लिए रिजर्व आफ हेल्थ सेंटर पर जाते हैं कहीं भी डिस्कस कर सकते हैं तो वहां पर क्लेरिटी आ जाती है कि हमें थोड़ा बहुत ढीली आ रहे विभिन्न तो हमारी एकदम देते हैं लिमिट देते हैं नाचूरल हमारी गर्लफ्रेंड के लिए उसमें है या उसके व्यामशाला जल्दी पकड़ ली जाए बेहतर है कि भरोसा नहीं है क्या तुम्हारा भाई बुलेट चला था तुम्हारा बच्चा था तो यहां पर भी डिलीवरी डिलीवरी थी जहां में किसी भी तरह का बुराई नहीं था यह बच्चा पैदा होता है उसके बाद लेट बच्चे मैदान कराया बोलना नहीं शुरू कर वह सबसे बड़ा साइन होता है तो ज्यादातर कोई भी तरीके का मानसिक कुछ आ रहा है बच्चे ने तो वह स्पीयर्स में बहुत जल्दी से ना सामने पता चल जाता है

bahut saree cheez hoti hai kehte hain ki maa santosh maa prasann hoti jis ko pata chal jata aur ek hum the stons jo ki har bacche ko jaise ki 3 mahine tak net ka dukh na isliye khada hona pakadkar chalna hai saare my school aage badh chuke har janam kyon nikalta hai aur na kuch pata chal jaate time jab se baccha paida hua hai ki usko kaise dhundhakar bahut zyada time paper basic le raha hai kis tarah se shakl kar raha hai time par khada hua hai nahi hua hai toh ek aur wah girlfriend milestone jo hai wah station ke paas hote hain hath mein college jiske paas hote hain mata pita ko bhi avengers di jati hai 1 + 10 keh rahi ho toh unko card milta hai pregnancy ke time uske peeche bhi likha jata hai gaana itni par solid tutne par first step itne par smile karna jaha par bhi thoda sa aapko lagega ki bhi bacha nahi kar raha hai toh aap usko petiton ke saath disky kar sakte kya wah chauk polio drops ke liye reserve of health center par jaate hain kahin bhi disky kar sakte hain toh wahan par kleriti aa jati hai ki humein thoda bahut dhili aa rahe vibhinn toh hamari ekdam dete hain limit dete hain netural hamari girlfriend ke liye usme hai ya uske vyamashala jaldi pakad li jaye behtar hai ki bharosa nahi hai kya tumhara bhai bullet chala tha tumhara baccha tha toh yahan par bhi delivery delivery thi jaha mein kisi bhi tarah ka burayi nahi tha yeh baccha paida hota hai uske baad late bacche maidan karaya bolna nahi shuru kar wah sabse bada sign hota hai toh jyadatar koi bhi tarike ka mansik kuch aa raha hai bacche ne toh wah Spears mein bahut jaldi se na saamne pata chal jata hai

बहुत सारी चीज होती है कहते हैं कि मां संतोषी मां प्रसन्न होती जिस को पता चल जाता और एक हम

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  402
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे बच्चे का मनोवैज्ञानिक को दिखाने की जरूरत है देखिए मनाने को दिखाने की जरूरत कैसे वह पता चल गया ऐसा नहीं है अगर नार्मल बच्चा भी है आपका ठीक है अगर उनको स्टडी में प्रॉब्लम हो रही है या घर में भी है और उसका कुछ डिफरेंट है तबीयत बच्चों को दिखा सकते हो मनोवैज्ञानिक के पास ओके और जिसका भी नॉर्मल नहीं है उनको तो कंपलसरी दिखाना ही दिखाना है चाहे वह स्कूल में हो घर में हो या कोई और प्रॉब्लम है अगर वह मालिक को दिखा दे तो सबसे ज्यादा अच्छा है और बच्चे नॉर्मल है लेकिन उनका कहना है कि उनका एक लिखित कहां तक है कितना लेवल तक वह कितने इंटेलिजेंट है वह भी आता है उसका पर्सनल चैट करके जान सकता है तो वह भी पता चलेगा तो मोदी को दिखाने के लिए कोई ठोस कारण वजह की जरूरत नहीं है आप ऐसे भी दिखा सकते हो कि मुझे इसके बारे में यह चाहिए करंट दिखा सकते

mujhe kaise pata chalega ki mere bacche ka manovaigyanik ko dikhane ki zarurat hai dekhiye manane ko dikhane ki zarurat kaise vaah pata chal gaya aisa nahi hai agar normal baccha bhi hai aapka theek hai agar unko study mein problem ho rahi hai ya ghar mein bhi hai aur uska kuch different hai tabiyat baccho ko dikha sakte ho manovaigyanik ke paas ok aur jiska bhi normal nahi hai unko toh compulsory dikhana hi dikhana hai chahen vaah school mein ho ghar mein ho ya koi aur problem hai agar vaah malik ko dikha de toh sabse zyada accha hai aur bacche normal hai lekin unka kehna hai ki unka ek likhit kahaan tak hai kitna level tak vaah kitne Intelligent hai vaah bhi aata hai uska personal chat karke jaan sakta hai toh vaah bhi pata chalega toh modi ko dikhane ke liye koi thos karan wajah ki zarurat nahi hai aap aise bhi dikha sakte ho ki mujhe iske bare mein yah chahiye current dikha sakte

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे बच्चे का मनोवैज्ञानिक को दिखाने की जरूरत है देखिए मनाने को दिख

Romanized Version
Likes  354  Dislikes    views  4389
WhatsApp_icon
user

Sraban Kr Bag

Career Counselor

3:37
Play

Likes  10  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!