क्या कोडपेंडेंसी एक मानसिक बीमारी है?...


user

Porshia Chawla Ban

Psychologist

2:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिग्गी डिपेंडेंसी डिपेंडेंट प्रसाद जी डिसऑर्डर एक रहता है तो अवॉइड इंडिपेंडेंट डिसऑर्डर तो अभी कोडिपेंडेंसी अलग हुआ लेकिन जो आप कहना चाह रहे हैं आपस में एक दूसरे पर निर्भर होना देखे बिना निर्भर है तो जीवन चल नहीं सकता है तो हमको हमेशा हर किसी की जरूरत और किसी को हमारी जरूरत तो हम कभी किसी की मदद कोई हमारी मदद तो सोसाइटी में जब हम रहते हैं फैमिली में जो लोग रहते हैं तो हमेशा हम जो हैं कुछ करते हैं जो किसी के काम आता है या कोई कुछ करता है तो ऐसा रहता है तो कोडिपेंडेंसी एक जरूरत है जीवन की मैं ऐसा मानती हूं लेकिन विकार का रूप ले लेती है नैंसी रहती है जो विकार का रूप ले लेते क्या आप बहुत ज्यादा जब किसी के ऊपर आश्रित है कोई डिसीजन ले सकते हैं कुछ भी नहीं कर सकते हो अक्षम महसूस करते हो और आप भी कॉन्फिडेंस नहीं है खुद को कह रही हो बट करने का तो इमोशनल डिपेंडेंसी भी उसी के अंदर आ जाती है तो आप किस चीज की तरफ इंगित कर रहे हैं क्या तकलीफ से जूझ रहे हैं और एक जैसी आपकी सिम्टम्स क्या है तो वह शायद आप इतना डिटेल में लिख भी नहीं पाएंगे मैं पूछ भी नहीं पाऊंगी आप बताएंगे भी तो फिर भी हम अकेले सुननी है कि मैं वापस जवाब दे पाऊं तो बेहतर रहेगा कि आप किसी मनोचिकित्सक से परामर्श ले उनसे मिले उनसे बात करें अपने बारे में डिटेल में बताएं और उनसे फिर खुलकर डिस्कशन करें क्योंकि या तो आप फिर पढ़ना शुरू कर देंगे गूगल पर कोई किताब डाउनलोड करके फिर उस से क्या होगा कि नहीं है तो आप नहीं समझ पाएंगे और खुद को हम कैसे हम खुद की भी बहुत सी ऐसी चीज होती है जो हम खुद के साथ भी और नकली डिस्कस नहीं करते हैं या नहीं बताते और छुपाते हैं घटाकर और बड़ा कर बता वह भी एक वजह रहती है कि डायग्नो सोने में बहुत टाइम लगता है और खुद का इलाज तो कर ही नहीं सकते हैं जब मैं तेनू प्रॉब्लम की बात आती है तो इसीलिए कोई काउंसलर के साथ मिल सकते हैं और तो मिलिए किसी से कलर जिससे और उनको अपनी बात बताइए और फिर उनके साथ डिसकस कीजिए हो सकता है कि आपका यह सिर्फ एक और हम हो या फिर अब आप ऐसी पानी खो रहे हो कुछ ऐसी बात है ही नहीं या फिर कुछ अगर है भी तो उसको कैसे सॉर्ट आउट किया कि नहीं साइकोथेरेपी के द्वारा काउंसलिंग के द्वारा हम अगर यह प्रॉब्लम है अभी तो इससे बाहर आ सकते ऐसा नहीं है कि नहीं आ सकते हैं तो आप डेफिनेटली ट्राई करें किसी से बात करें धन्यवाद

diggi dipendensi dependent prasad ji disorder ek rehta hai toh avoid independent disorder toh abhi kodipendensi alag hua lekin jo aap kehna chah rahe hain aapas mein ek dusre par nirbhar hona dekhe bina nirbhar hai toh jeevan chal nahi sakta hai toh hamko hamesha har kisi ki zarurat aur kisi ko hamari zarurat toh hum kabhi kisi ki madad koi hamari madad toh society mein jab hum rehte hain family mein jo log rehte hain toh hamesha hum jo hain kuch karte hain jo kisi ke kaam aata hai ya koi kuch karta hai toh aisa rehta hai toh kodipendensi ek zarurat hai jeevan ki main aisa maanati hoon lekin vikar ka roop le leti hai nainsi rehti hai jo vikar ka roop le lete kya aap bahut zyada jab kisi ke upar aashrit hai koi decision le sakte hain kuch bhi nahi kar sakte ho aksham mehsus karte ho aur aap bhi confidence nahi hai khud ko keh rahi ho but karne ka toh emotional dipendensi bhi usi ke andar aa jaati hai toh aap kis cheez ki taraf ingit kar rahe kya takleef se joojh rahe hain aur ek jaisi aapki Symptoms kya hai toh vaah shayad aap itna detail mein likh bhi nahi payenge main puch bhi nahi paungi aap batayenge bhi toh phir bhi hum akele sunnani hai ki main wapas jawab de paun toh behtar rahega ki aap kisi manochikitsak se paramarsh le unse mile unse baat kare apne bare mein detail mein bataye aur unse phir khulkar discussion kare kyonki ya toh aap phir padhna shuru kar denge google par koi kitab download karke phir us se kya hoga ki nahi hai toh aap nahi samajh payenge aur khud ko hum kaise hum khud ki bhi bahut si aisi cheez hoti hai jo hum khud ke saath bhi aur nakli discs nahi karte hain ya nahi batatey aur chhupaate hain ghatakar aur bada kar bata vaah bhi ek wajah rehti hai ki dayagno sone mein bahut time lagta hai aur khud ka ilaj toh kar hi nahi sakte hain jab main tenu problem ki baat aati hai toh isliye koi counselor ke saath mil sakte hain aur toh miliye kisi se color jisse aur unko apni baat bataye aur phir unke saath discuss kijiye ho sakta hai ki aapka yah sirf ek aur hum ho ya phir ab aap aisi paani kho rahe ho kuch aisi baat hai hi nahi ya phir kuch agar hai bhi toh usko kaise sort out kiya ki nahi psychotherapy ke dwara kaunsaling ke dwara hum agar yah problem hai abhi toh isse bahar aa sakte aisa nahi hai ki nahi aa sakte hain toh aap definetli try kare kisi se baat kare dhanyavad

डिग्गी डिपेंडेंसी डिपेंडेंट प्रसाद जी डिसऑर्डर एक रहता है तो अवॉइड इंडिपेंडेंट डिसऑर्डर तो

Romanized Version
Likes  87  Dislikes    views  2892
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!