क्या भगवान है? यदि है तो कैसे?...


user

Anil Kumar Tiwari

Yoga, Meditation & Astrologer

3:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या भगवान है यदि है तो कैसे पहला प्रश्न क्या भगवान है उत्तर यह कि भगवान है और फिर पूछते हैं कि यदि है तो कैसे-कैसे का मतलब यह हुआ आप देख रहे हैं आप सुन रहे हैं आप हर चीज को महसूस कर रहे हैं सूरज निकल रहा है चुप रहा है पृथ्वी घूम रही है आकाशगंगा में हजारों तारे नक्षत्र विचरण कर रहे हैं वनस्पतियां है पशु पक्षी जीव जंतु हैं सारा जीवन है पूरा संसार यह सब कैसे चल रहा है यह इस सब को चलाने वाली जो एक इनर्जी है जो एक ऊर्जा है जो एक ऊर्जा की व्यवस्था है उस व्यवस्था का नाम भगवान रखा गया है बड़ी कठिन व्यवस्था है गन्ने के अंदर मीठा रस भरना आंवले के अंदर खट्टा रस भरना अनार के अंदर लाल रंग रस भरना आपके अंदर बुद्धि का चलना आंखों से वाणी से बोलना महसूस करना जन्म होना और फिर जो जन्मा है उसकी मृत्यु होना संसार में जो कुछ भी जन्मता है वह 1 दिन मरण को प्राप्त होता है पशु-पक्षी हूं वनस्पति हो या कुछ भी संसार में जो आज है कल नहीं रहेगा इसकी जो व्यवस्था चलाने वाला है इसका जो संचालन करने वाला कौन है वही भगवान वही सब कर रहा है आप जन्मे हैं इस समय है 1 दिन ऐसा आएगा नहीं रहेंगे तो कहां चले जाएंगे फिर कहां से आए थे कहां से जन्मे थे शरीर के अंदर जो भोजन करते हैं उससे रस मजा खून मांस इज बनाने की एक फैक्ट्री शरीर के भीतर चल रही है यह सब कौन कर रहा है इसको करने वाले को ही भगवान कहते हैं पूछा ना भगवान क्या है यदि है तो कैसे हैं इसी तरह है यह जस्सार व्यवस्था चल रही है यह सारी व्यवस्था वही कर रहा है

aapka prashna hai kya bhagwan hai yadi hai toh kaise pehla prashna kya bhagwan hai uttar yah ki bhagwan hai aur phir poochhte hain ki yadi hai toh kaise kaise ka matlab yah hua aap dekh rahe hain aap sun rahe hain aap har cheez ko mehsus kar rahe hain suraj nikal raha hai chup raha hai prithvi ghum rahi hai akashganga mein hazaro taare nakshtra vichran kar rahe hain vanaspatiyan hai pashu pakshi jeev jantu hain saara jeevan hai pura sansar yah sab kaise chal raha hai yah is sab ko chalane wali jo ek inarji hai jo ek urja hai jo ek urja ki vyavastha hai us vyavastha ka naam bhagwan rakha gaya hai badi kathin vyavastha hai ganne ke andar meetha ras bharna aanvale ke andar khatta ras bharna anaar ke andar laal rang ras bharna aapke andar buddhi ka chalna aankho se vani se bolna mehsus karna janam hona aur phir jo janma hai uski mrityu hona sansar mein jo kuch bhi janmata hai vaah 1 din maran ko prapt hota hai pashu pakshi hoon vanaspati ho ya kuch bhi sansar mein jo aaj hai kal nahi rahega iski jo vyavastha chalane vala hai iska jo sanchalan karne vala kaun hai wahi bhagwan wahi sab kar raha hai aap janme hain is samay hai 1 din aisa aayega nahi rahenge toh kahaan chale jaenge phir kahaan se aaye the kahaan se janme the sharir ke andar jo bhojan karte hain usse ras maza khoon maas is banane ki ek factory sharir ke bheetar chal rahi hai yah sab kaun kar raha hai isko karne waale ko hi bhagwan kehte hain poocha na bhagwan kya hai yadi hai toh kaise hain isi tarah hai yah jassar vyavastha chal rahi hai yah saree vyavastha wahi kar raha hai

आपका प्रश्न है क्या भगवान है यदि है तो कैसे पहला प्रश्न क्या भगवान है उत्तर यह कि भगवान है

Romanized Version
Likes  155  Dislikes    views  1217
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री कृष्णा आपने पूछा क्या भगवान है यदि है तो कैसे हैं बिल्कुल है हंड्रेड परसेंट है भगवान को कृष्ण कृष्ण का एक ही बात है भागवत आया है कि एक अनेक नामों से पुकारते हैं ज्ञानी लोग भ्रम कहते हैं योगी लोग परमात्मा कहते हैं भक्त लोग भगवान को कैसे हैं उनका दिव्य सही है तो मनुष्य जैसा शरीर लेकिन उनका दिवसीय अपना सहित भौतिक शरीर हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण भगवान नहीं होते तो मेरा दुकान मिठाई आज से 40 साल पहले की बात है मेरे को बहुत दुख है तू कहे तो मैं बार बार सोचता था कि अब सही हत्या कर दी थी क्यों दुख सहन नहीं हो सका शरीयत या ख्वाजा बोलचाल भाषा में आपने क्या कहते लेकिन मेरी दादी हमेशा यह कहती आत्मघाती मां पापी खर्चे में रुक गया फिर मैंने राधे राम राम जी भक्ति कि पहले तो हमारे गांव के पास थी उनका आश्रम है फिर थोड़े से हनुमानजी की बर्फी मैंने कुछ नहीं भक्ति शुरू की कि मुझे ईश्वर की भक्ति करनी थी ना अब मैं काफी व्यस्त हो गए ईश्वर की भक्ति करता हूं जब इस भक्ति में कमी शुरू की तो अपनी वह मौजूद थी दिखाने लगे मुझे दिखाने का मतलब कृपा के दर्शन कराते बार-बार कोई ऐसी घटनाएं होती तो मैं अकेला रह जाता है जैसे कोई वस्तु मेरे को चाहिए थी ना तो सड़क में मिल जाती थी कोई वस्तु मेरे को चाहिए तो घर पर आकर लेकर पैसे की जरूरत होती तो कोई घर पर आकर क्या देता तुम्हारे को कैसे जूते ले लो बहुत की पोस्ट गया अगर मैं मना करूं तो 3000 घंटे लग जाते हैं तो इसे तो 10 मिनट से ज्यादा ऑडियो अपलोड हो ही नहीं सकता है फिर तो आगे जाकर सपने में जागे देने लगे उपदेश देने लगेगी बार-बार मुक्ता आत्मा को भेजने के मुख्तार वेदर से हमारी भक्ति पड़ती है हमें यह जानकारी होती है एक बार हम मुक्त क्योंकि मुद्दों के उपयोग में जा सकते हैं जैसे यह व्यवस्था भी जाएंगे तो इस वक्त ही इसमें को भगवान को एक ही बात है इनकी आप भक्ति सुन कीजिए आपको जानकारी मिल जाएगी भक्ति का प्रार्थना और इनकी भक्ति के लिए थोड़ा सा नियम पालन कल्याण शादीशुदा याद दो संतान के बाद मानसिक और शारीरिक श्रीपाली कीजिए और शादीशुदा नहीं है शादी करने की इच्छा की शादी कर लीजिए लेकिन बोल संतान के बाद मानसिक और शारीरिक ब्रह्मशरी पाली कीजिए और दो संतान के बीच 5 साल का है तेरे थी ताकि आपके परिवार को आत्मा के गुण संपन्न आएगी जो आपको सुखी करेगी और संसार को विश्व की करेगी जब मानसी बसारी ब्रह्मचर्य का पालन की भक्ति करते तो ईश्वर जल्दी प्रसन्न होते हैं और परिवार में स्त्री रहते हुए भी मानसिक और शारीरिक सिंपल और जल्दी प्रसन्न होते हैं यूट्यूब में एसएससी वीडियो आगे जिसका शक्ति का सेवन होता रहता है लोग सारी के ब्रह्मचर्य पालन पल देसी पल नहीं कर पाते इसलिए उनका सशक्तीकरण हो जाता है सतीश रणुजा तरफ से हमारी जो सकती है मूलाधार ऊपर नहीं बढ़ती हरे कृष्ण हरे कृष्ण थोड़े सावधान के तो आप महाशिव सारी बहन से ही पालन कटनी से जल्दी प्रसन्न होते हैं और नहीं करते हैं तो आप जो इस तरह से किसी व्यापारी को तो उधार देना पसंद नहीं करते कि वह एक तरह का जो रही है वह तो पैसे देंगे हम उड़ा देगा इसलिए नहीं कर पाते क्यों आप मां से सारी भ्रम से पालन नहीं कर पाए तो इस वर्ष होते हैं यह तो मतलब नहीं है इसकी आत्मशक्ति तो जाग ही रहा है 29 परी इससे तय करने से क्या मतलब यह ध्यान रखें मुझे भी सपने में आकर इतना आगे भी विषय भोग त्याग दो फिर कभी ऐसा समय काफी बरसों से मासिक धर्म से पालन करता था लेकिन बीच में धोखा गया तो मैं भी भूल गया तो मेरे को सबसे आएगी सर मैंने बार-बार पूछा कि नशे में पूछा तो उसने सपने में आकर का विशेष ध्यान दें फिर करेंगे फिर मेरे को गलती समझ में आ गई मेरे से वह बिल्कुल भी तो मेरा भगवान श्री चंद्र काम कर दिया मेरे को प्रार्थना करने की जरूरत नहीं होती जैसे ही कोई मन में कोई दुख आता है जैसे रात को कोई बैठे बैठे तो सोचा यह दुख ही दुख 10:00 बजे रात को 3:02 बजे सपने में आकर उसका समाधान बताते थे बिना प्राथमिक आते हैं इतनी बड़ी कृपा है और आप मेरे से प्रवचन सुन रहे श्री कृपा से तो आपको पूरी कृपा ही हरे कृष्ण हरे कृष्ण भक्ति में आगे बढ़िए यह मनुष्य जीवन बार-बार नहीं मिलता इस जीवन में इतनी योग्यता है कि आप भक्ति करके भगवान बन जाते हैं वह कृपाल दर्शन कराते हैं बार-बार 17 माह के आगे उद्देश्य से मुक्त हुए थे जिससे हमारा प्रेम उन्हें हो जाता है जब हमारा प्रेम उन्हें हो जाते तो हम भगवान जाती हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे कृष्ण तो हमारे में भगवान बनने की योग्यता है तो आप भक्ति में आगे बढ़िए कुछ भी संसद का पूछिए श्री कृपा से उसे बताऊंगा मेरी शुभकामनाएं आपके साथ है और एक प्रश्न प्रश्न प्रश्न प्रश्न पत्र

jai shri krishna aapne poocha kya bhagwan hai yadi hai toh kaise hain bilkul hai hundred percent hai bhagwan ko krishna krishna ka ek hi baat hai bhagwat aaya hai ki ek anek namon se pukarte hain gyani log bharam kehte hain yogi log paramatma kehte hain bhakt log bhagwan ko kaise hain unka divya sahi hai toh manushya jaisa sharir lekin unka divasiya apna sahit bhautik sharir hare krishna hare krishna krishna krishna bhagwan nahi hote toh mera dukaan mithai aaj se 40 saal pehle ki baat hai mere ko bahut dukh hai tu kahe toh main baar baar sochta tha ki ab sahi hatya kar di thi kyon dukh sahan nahi ho saka shareeyat ya khwaja bolchal bhasha me aapne kya kehte lekin meri dadi hamesha yah kehti aatmghaati maa papi kharche me ruk gaya phir maine radhe ram ram ji bhakti ki pehle toh hamare gaon ke paas thi unka ashram hai phir thode se hanumanji ki barfi maine kuch nahi bhakti shuru ki ki mujhe ishwar ki bhakti karni thi na ab main kaafi vyast ho gaye ishwar ki bhakti karta hoon jab is bhakti me kami shuru ki toh apni vaah maujud thi dikhane lage mujhe dikhane ka matlab kripa ke darshan karate baar baar koi aisi ghatnaye hoti toh main akela reh jata hai jaise koi vastu mere ko chahiye thi na toh sadak me mil jaati thi koi vastu mere ko chahiye toh ghar par aakar lekar paise ki zarurat hoti toh koi ghar par aakar kya deta tumhare ko kaise joote le lo bahut ki post gaya agar main mana karu toh 3000 ghante lag jaate hain toh ise toh 10 minute se zyada audio upload ho hi nahi sakta hai phir toh aage jaakar sapne me jago dene lage updesh dene lagegi baar baar mukta aatma ko bhejne ke mukhtar Weather se hamari bhakti padti hai hamein yah jaankari hoti hai ek baar hum mukt kyonki muddon ke upyog me ja sakte hain jaise yah vyavastha bhi jaenge toh is waqt hi isme ko bhagwan ko ek hi baat hai inki aap bhakti sun kijiye aapko jaankari mil jayegi bhakti ka prarthna aur inki bhakti ke liye thoda sa niyam palan kalyan shaadishuda yaad do santan ke baad mansik aur sharirik shripali kijiye aur shaadishuda nahi hai shaadi karne ki iccha ki shaadi kar lijiye lekin bol santan ke baad mansik aur sharirik brahmashari paali kijiye aur do santan ke beech 5 saal ka hai tere thi taki aapke parivar ko aatma ke gun sampann aayegi jo aapko sukhi karegi aur sansar ko vishwa ki karegi jab mansi basari brahmacharya ka palan ki bhakti karte toh ishwar jaldi prasann hote hain aur parivar me stree rehte hue bhi mansik aur sharirik simple aur jaldi prasann hote hain youtube me ssc video aage jiska shakti ka seven hota rehta hai log saari ke brahmacharya palan pal desi pal nahi kar paate isliye unka sashaktikarn ho jata hai satish ranuja taraf se hamari jo sakti hai muladhar upar nahi badhti hare krishna hare krishna thode savdhaan ke toh aap mahashiv saari behen se hi palan katni se jaldi prasann hote hain aur nahi karte hain toh aap jo is tarah se kisi vyapaari ko toh udhaar dena pasand nahi karte ki vaah ek tarah ka jo rahi hai vaah toh paise denge hum uda dega isliye nahi kar paate kyon aap maa se saari bharam se palan nahi kar paye toh is varsh hote hain yah toh matlab nahi hai iski atmashakti toh jag hi raha hai 29 pari isse tay karne se kya matlab yah dhyan rakhen mujhe bhi sapne me aakar itna aage bhi vishay bhog tyag do phir kabhi aisa samay kaafi barson se maasik dharm se palan karta tha lekin beech me dhokha gaya toh main bhi bhool gaya toh mere ko sabse aayegi sir maine baar baar poocha ki nashe me poocha toh usne sapne me aakar ka vishesh dhyan de phir karenge phir mere ko galti samajh me aa gayi mere se vaah bilkul bhi toh mera bhagwan shri chandra kaam kar diya mere ko prarthna karne ki zarurat nahi hoti jaise hi koi man me koi dukh aata hai jaise raat ko koi baithe baithe toh socha yah dukh hi dukh 10 00 baje raat ko 3 02 baje sapne me aakar uska samadhan batatey the bina prathmik aate hain itni badi kripa hai aur aap mere se pravachan sun rahe shri kripa se toh aapko puri kripa hi hare krishna hare krishna bhakti me aage badhiye yah manushya jeevan baar baar nahi milta is jeevan me itni yogyata hai ki aap bhakti karke bhagwan ban jaate hain vaah kripal darshan karate hain baar baar 17 mah ke aage uddeshya se mukt hue the jisse hamara prem unhe ho jata hai jab hamara prem unhe ho jaate toh hum bhagwan jaati hare krishna hare krishna hare krishna toh hamare me bhagwan banne ki yogyata hai toh aap bhakti me aage badhiye kuch bhi sansad ka puchiye shri kripa se use bataunga meri subhkamnaayain aapke saath hai aur ek prashna prashna prashna prashna patra

जय श्री कृष्णा आपने पूछा क्या भगवान है यदि है तो कैसे हैं बिल्कुल है हंड्रेड परसेंट है भगव

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
user
0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खूब सुंदर संसार है तीनो लोक है सच में तेरी माया अपरंपार है भगवान साहब और हीरा

khoob sundar sansar hai teeno lok hai sach me teri maya aparampar hai bhagwan saheb aur heera

खूब सुंदर संसार है तीनो लोक है सच में तेरी माया अपरंपार है भगवान साहब और हीरा

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
play
user

Farha Hussain

Community Developer at Vokal

0:18

फैशन भगवान है क्या है कहीं देखा है क्या भगवान

Likes  1  Dislikes    views  195
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kya bhagwan hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!