अगर भारत में जाति धर्म नहीं होता तो भारत कैसे होता?...


play
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

10:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रशन है अगर भारत में जाति धर्म नहीं होता तो भारत कैसा होता है धर्म तो हमेशा रहता क्योंकि सविता की न्यूज़ धर्म से चली है मनुष्य को सात रूप में अनुशासित की दिशा को धर्म नहीं संचालित किया है और धन से जीने की कला मिली है अनुमान लगाया जा सकता एक पौष्टिक रूप से सृष्टि की रचना चलती डर भय नहीं रहता पहाड़पुर का कोई क्षेत्र नहीं होता मनमानी जंगलराज होता धर्मिक परमार्थ की रास्ता की ओर इंडिकेट करने की चीज है रही है और उस पर चल को सबको आनंद पूर्वक निर्भय जीवन देने की पद्धति है लेकिन भारत में जातिवाद ना होता तो मैं मान सकता था खैर अच्छी बात है क्योंकि इस उपक्रम में अपनी श्रेष्ठा को बनाने के लिए उन अनुशासन का पालन करें और सृष्टा में अपने को रखा रखना चाहिए भी क्योंकि विकास की ओर जाना कोई रोक नहीं है लेकिन ईश्वर की संरचना में सभी मानव एक है उससे कोई विभेद नहीं दिखता क्यों किससे रचनाएं सखी बराबर होती है और बहुत चीजें समानता दिखाती है जातिवाद में जो हीन भावना है शक्ति को संगठन को तोड़ती है कूची स्वार्थ में जुड़ी हुई होती है लेकिन मानव मानवता का एक हनन होता है विकास की ओर उन्मुख रहने का सब्जियों को गति मिली है लेकिन परिभाषा से उनका विरोध करना यह उस नेशनल का हनन होता है जातिवाद की संकीर्णता से ही लोग विचलित होकर अलग-अलग और दशा में वह बातें जो कि सम्मान की अपेक्षा हर एक प्राणी चाहता है लेकिन फिर भी हमें उसमें पर वृत्तांत देना चाहिए और यथा योग्य लगता है तो से सामान की गरिमा देनी चाहिए और उससे उसके अनुभव का हमें सहयोग प्राप्त होता है हम बड़प्पन में कृतार्थ नहीं अभिव्यक्त कर पाते हैं बेशक अगला पक्ष बिल्कुल स्वच्छ और निर्मल है कल्याणकारी है लेकिन एक विचारी मधबीलता उस्मान आभार को व्यक्त नहीं कर पाता है अपेक्षाकृत चाहत होती है प्राणियों का उन लोगों का हमारे गुण का सम्मान मिले अंदर क्यों ना है उनको कोई दवा नहीं सकता सद्गुणों का सम्मान हर जगह होता है एक जातिवाद की पृष्ठभूमि बनाकर चलते हैं यह कैसे हैं कि जात से हिना है यह इसको किसी तरह का सम्मान विकास नहीं पाते और उसके विकास में प्रसन्नता जाहिर नहीं होती है जिसकी भावना होती है विजय भारत में सुधार लाने का बहुत बहुत बहुत धर्म की स्थापना के लिए बहुत जरूरी है और श्याम ईश्वर की ज्योत आर वादी विचारधारा इसमें कहा गया है कि धर्म की स्थापना के लिए अतरण लेते हैं गांव का फैलाव करते हैं जो समानता धर्म पर स्थापित कर सकें अधर्म क्या होता है अगर धर्म ना हो तो अधर्म की उत्पत्ति होती नहीं धर्म के विपरीत का नाम अधर्म है लेकिन मूल रूप में धर्म था विकृति आ गई तो आराम हो गया है तो इन विकृतियों को हटाने से ही धर्म का सरोज ताज उड़ता है क्योंकि हर चीज को भाषण कैसे करती है महान संत कबीर दास जी ने कहा है कबीरा हाय गरीब की कब होना निष्फल जाए मदद चांद के व्यस्त रहो बस में हो जाए वैचारिक तरंगे जब एक साथ होकर कल्याण के लिए देश से उसके क्षेत्र में कैप्रीस होंगे तो जगत का बहुत खुशहाल विकास होगा और हां भी हमें यह भी सोचना चाहिए कि हम बहुत बड़े विकसित हो चुके हैं ज्ञानेश्वर की सीमा बहुत बाकी है और यह सर धरातल पर उतर रहा है और जो विशेष समूह का आस्वादन होता है वह जनसाधारण के लिए मिलता है तो संतोष पूर्ण जीवन निर्वाचित होना यह देश की अमन और शांति का एक सुंदर उदाहरण बनता है और ऐसा ऐसी संरचना होने की चाहिए और भारत सदैव गुरुओं का देश रहा है उसने अपनी शांति उस प्रेरणा से श्री ज्ञान विज्ञान को बढ़ाने का सहयोग दिया है वह देता रहा है क्योंकि यहां पर दुख से उन्मुख होकर ही

prashan hai agar bharat mein jati dharm nahi hota toh bharat kaisa hota hai dharm toh hamesha rehta kyonki savita ki news dharm se chali hai manushya ko saat roop mein anushasit ki disha ko dharm nahi sanchalit kiya hai aur dhan se jeene ki kala mili hai anumaan lagaya ja sakta ek पौष्टिक roop se shrishti ki rachna chalti dar bhay nahi rehta pahadpur ka koi kshetra nahi hota manmani jangalraj hota dharmik parmarth ki rasta ki aur indicate karne ki cheez hai rahi hai aur us par chal ko sabko anand purvak nirbhay jeevan dene ki paddhatee hai lekin bharat mein jaatiwad na hota toh main maan sakta tha khair acchi baat hai kyonki is upakram mein apni sreshtha ko banne liye un anushasan ka palan karein aur srishta mein apne ko rakha rakhna chahiye bhi kyonki vikas ki aur jana koi rok nahi hai lekin ishwar ki sanrachna mein sabhi manav ek hai usse koi wived nahi dikhta kyon kisse rachnaye sakhi barabar hoti hai aur bahut cheezen samanata dikhati hai jaatiwad mein jo heen bhavna hai shakti ko sangathan ko todti hai kuchi swarth mein judi hui hoti hai lekin manav manavta ka ek hanan hota hai vikas ki aur unmukh rehne ka sabjiyon ko gati mili hai lekin paribhasha se unka virodh karna yeh us national ka hanan hota hai jaatiwad ki sankirnata se hi log vichalit hokar alag alag aur dasha mein wah batein jo ki sammaan ki apeksha har ek prani chahta hai lekin phir bhi humein usme par vrittant dena chahiye aur yatha yogya lagta hai toh se saamaan ki garima deni chahiye aur usse uske anubhav ka humein sahyog prapt hota hai hum badappan mein kritarth nahi abhivyakt kar paate hain vesak agla paksh bilkul swacch aur nirmal hai kalyankari hai lekin ek vichaaree madhabilta usmaan aabhar ko vyakt nahi kar pata hai apekshakrit chahat hoti hai praniyo ka un logo ka hamare gun ka sammaan mile andar kyon na hai unko koi dawa nahi sakta sadguno ka sammaan har jagah hota hai ek jaatiwad ki prishthbhumi banakar chalte hain yeh kaise hain ki jaat se hina hai yeh isko kisi tarah ka sammaan vikas nahi paate aur uske vikas mein prasannata jaahir nahi hoti hai jiski bhavna hoti hai vijay bharat mein sudhaar lane ka bahut bahut bahut dharm ki sthapna ke liye bahut zaroori hai aur shyam ishwar ki jyot r wadi vichardhara ismein kaha gaya hai ki dharm ki sthapna ke liye atran lete hain gaon ka failaaw karte hain jo samanata dharm par sthapit kar sake adharma kya hota hai agar dharm na ho toh adharma ki utpatti hoti nahi dharm ke viprit ka naam adharma hai lekin mul roop mein dharm tha vikriti aa gayi toh aaram ho gaya hai toh in vikritiyon ko hatane se hi dharm ka saroj taj udta hai kyonki har cheez ko bhashan kaise karti hai mahaan sant kabir das ji ne kaha hai kanira hi garib ki kab hona nishphal jaye madad chand ke vyast raho bus mein ho jaye vaicharik tarange jab ek saath hokar kalyan ke liye desh se uske kshetra mein kaipris honge toh jagat ka bahut khushahal vikas hoga aur haan bhi humein yeh bhi sochna chahiye ki hum bahut bade viksit ho chuke hain gyaaneshvar ki seema bahut baki hai aur yeh sar dharatal par utar raha hai aur jo vishesh samuh ka aasvaadan hota hai wah janasaadhaaran ke liye milta hai toh santosh poorn jeevan nirvachit hona yeh desh ki aman aur shanti ka ek sundar udaharan baata hai aur aisa aisi sanrachna hone ki chahiye aur bharat sadaiv guruon ka desh raha hai usne apni shanti us prerna se shri gyaan vigyan ko badhane ka sahyog diya hai wah deta raha hai kyonki yahan par dukh se unmukh hokar hi

प्रशन है अगर भारत में जाति धर्म नहीं होता तो भारत कैसा होता है धर्म तो हमेशा रहता क्योंकि

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  967
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
3:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न दो भाग में जाति और धर्म धर्म तो दुनिया के सभी देशों में है अगर हम छोड़ दें तो कम्युनिस्ट देशों को कैसे क्यों हुआ है चाइना है पहले कभी रसिया था जाती केवल हिंदुस्तान में हैं और हिंदुस्तान की जो आज स्थिति है हम 5 ट्रिलियन डॉलर की बात करते हैं नहीं पहुंच सकते चाहे प्रधानमंत्री कुछ भी दावा करें जाति व्यवस्था हमारे भारतीय समाज की प्रगति में सबसे बड़ी बाधक है रहा सवाल धर्म का तो धर्म बना ही इसलिए था कि से सामाजिक नियंत्रण होगा लोग धर्म के डर से कोई गलत काम नहीं करेंगे लेकिन अब धर्म जो है दुनिया में युद्ध का सबसे बड़ा कारण बन गया है इमोशनल हमारे देश में भी आसान सी का सबसे बड़ा कारण धर्म मंत्र जा रहा है बड़ा आश्चर्य मुझे कि महात्मा गांधी के देश में जिस ने यह कहा था ईश्वर अल्लाह तेरो नाम धर्म के नाम पर किसी की हत्या हो रही है गौ हत्या के नाम पर भीड़ किसी को भी मार रही है तो मेरा अपना मानना यह है कि जाति व्यवस्था एक अलग चीज है लेकिन धर्म बना था हम सब को नियंत्रित करने के लिए अब धर्म दुनिया में एक दूसरे के लिए युद्ध बनने के लिए सबसे बड़ा हथियार बन गया है इस्लाम और अमेरिका एक-दूसरे आईएसआईएस क्या है तालिबान क्या है धर्म को लेकर लोग इस तरीके से लड़ाई लड़ रहे हैं कि धर्म का अस्तित्व खत्म हो रहा है धर्म बोला था सामाजिक नियंत्रण के लिए सामाजिक सुविधा के लिए हमारे सामाजिक विकास के लिए लेकिन आज धर्म क्या हो गया है एक दूसरों को लड़ने के लिए एक दूसरों को मारने के लिए 1 दिन हमारे देश में बहुत भारी मन से कह रहा हूं राजनीति मूवी धर्म का उपयोग हो रहा है यह सब बंद होना चाहिए घर में इसके लिए नहीं बनाता

aapka prashna do bhag me jati aur dharm dharm toh duniya ke sabhi deshon me hai agar hum chhod de toh communist deshon ko kaise kyon hua hai china hai pehle kabhi rasiya tha jaati keval Hindustan me hain aur Hindustan ki jo aaj sthiti hai hum 5 trillion dollar ki baat karte hain nahi pohch sakte chahen pradhanmantri kuch bhi daawa kare jati vyavastha hamare bharatiya samaj ki pragati me sabse badi badhak hai raha sawaal dharm ka toh dharm bana hi isliye tha ki se samajik niyantran hoga log dharm ke dar se koi galat kaam nahi karenge lekin ab dharm jo hai duniya me yudh ka sabse bada karan ban gaya hai emotional hamare desh me bhi aasaan si ka sabse bada karan dharm mantra ja raha hai bada aashcharya mujhe ki mahatma gandhi ke desh me jis ne yah kaha tha ishwar allah tharo naam dharm ke naam par kisi ki hatya ho rahi hai gau hatya ke naam par bheed kisi ko bhi maar rahi hai toh mera apna manana yah hai ki jati vyavastha ek alag cheez hai lekin dharm bana tha hum sab ko niyantrit karne ke liye ab dharm duniya me ek dusre ke liye yudh banne ke liye sabse bada hathiyar ban gaya hai islam aur america ek dusre ISIS kya hai taliban kya hai dharm ko lekar log is tarike se ladai lad rahe hain ki dharm ka astitva khatam ho raha hai dharm bola tha samajik niyantran ke liye samajik suvidha ke liye hamare samajik vikas ke liye lekin aaj dharm kya ho gaya hai ek dusro ko ladane ke liye ek dusro ko maarne ke liye 1 din hamare desh me bahut bhari man se keh raha hoon raajneeti movie dharm ka upyog ho raha hai yah sab band hona chahiye ghar me iske liye nahi banata

आपका प्रश्न दो भाग में जाति और धर्म धर्म तो दुनिया के सभी देशों में है अगर हम छोड़ दें तो

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  268
WhatsApp_icon
user

Mehmood Alum

Law Student

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत में अगर जाति और धर्म नहीं होते तो हमारे देश के लोग नास्तिक होते जैसे कि हमारे पड़ोसी देश चीन में देखने को मिलता है कि वहां के सरकार जो है वह नास्तिकता को प्रोत्साहित करती है और धर्म को हतोत्साहित करती है लेकिन अगर कुछ दशकों पहले तक चीन की भारत की स्थिति की तुलना की जाती तो ज्यादा फर्क नहीं था लेकिन अब चीन की स्थिति में अंतर आ गया है वह हमसे कई मामलों में काफी आगे निकल चुका है तो यह कहा जा सकता है कि अगर हमारे देश में जाति और धर्म ना होते तो हमारा देश ना तो बहुत विकसित होता और ना ही बहुत विकसित होता बल्कि स्थिति थोड़ी सी अलग होती थोड़ा ज्यादा शांति होती ऐसा कहा जा सकता है लेकिन अगर देश को विकास करना है तो उसके लिए अलग प्रयास करने होंगे

dekhiye bharat mein agar jati aur dharm nahi hote toh hamare desh ke log nastik hote jaise ki hamare padosi desh china mein dekhne ko milta hai ki wahan ke sarkar jo hai vaah nastikata ko protsahit karti hai aur dharm ko hatotsahit karti hai lekin agar kuch dashakon pehle tak china ki bharat ki sthiti ki tulna ki jaati toh zyada fark nahi tha lekin ab china ki sthiti mein antar aa gaya hai vaah humse kai mamlon mein kaafi aage nikal chuka hai toh yah kaha ja sakta hai ki agar hamare desh mein jati aur dharm na hote toh hamara desh na toh bahut viksit hota aur na hi bahut viksit hota balki sthiti thodi si alag hoti thoda zyada shanti hoti aisa kaha ja sakta hai lekin agar desh ko vikas karna hai toh uske liye alag prayas karne honge

देखिए भारत में अगर जाति और धर्म नहीं होते तो हमारे देश के लोग नास्तिक होते जैसे कि हमारे प

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में अधिक जाति धर्म नहीं होता तो इस समय भारत के जो लोग हैं यह सभी एक साथ एकजुट होकर मिलकर रह रहे होते और अलग-अलग क्षेत्र के लोग भी आपस में बिना किसी भेदभाव के रहते लेकिन भारत में यदि धर्म नहीं होता तो यह भी होता था कि अलग-अलग जो इस समय भारत जितना ज्यादा डाइवोर्स माना जाता है भी नेता पानी आती है भारत में और भारत की संस्कृति है बहुत ही ज्यादा है क्योंकि यहां पर अलग-अलग धर्म के लोग हैं वह निवास करते हैं सबकी अपनी अपनी मान्यताएं होती है यह भारत को एक ही बहुत ही ज्यादा शक्तिशाली देश बनाती है और मेरा मानना है कि ऐसे भी कोई धर्म एक दूसरे की बुराई करने के लिए नहीं कहता है कि चीजें बनाई गई इंसानों के ही द्वारा और इसका गलत उपयोग भी इंसान ही कर रहे हैं तो पहले यदि धर्म नहीं भी होता तो भी किस और अन्य कारण से इंसान इस तरह की चीजों को अंजाम देते लड़ाइयां करते तो धर्म होना या नहीं होना यह बात नहीं क्योंकि धर्म के कारण कुछ नहीं हो रहा है यह लोगों की मानसिकता के कारण हो रहा है

bharat mein adhik jati dharm nahi hota toh is samay bharat ke jo log hain yah sabhi ek saath ekjut hokar milkar reh rahe hote aur alag alag kshetra ke log bhi aapas mein bina kisi bhedbhav ke rehte lekin bharat mein yadi dharm nahi hota toh yah bhi hota tha ki alag alag jo is samay bharat jitna zyada divorce mana jata hai bhi neta paani aati hai bharat mein aur bharat ki sanskriti hai bahut hi zyada hai kyonki yahan par alag alag dharm ke log hain vaah niwas karte hain sabki apni apni manyatae hoti hai yah bharat ko ek hi bahut hi zyada shaktishali desh banati hai aur mera manana hai ki aise bhi koi dharm ek dusre ki burayi karne ke liye nahi kahata hai ki cheezen banai gayi insano ke hi dwara aur iska galat upyog bhi insaan hi kar rahe hain toh pehle yadi dharm nahi bhi hota toh bhi kis aur anya karan se insaan is tarah ki chijon ko anjaam dete ladaiyan karte toh dharm hona ya nahi hona yah baat nahi kyonki dharm ke karan kuch nahi ho raha hai yah logo ki mansikta ke karan ho raha hai

भारत में अधिक जाति धर्म नहीं होता तो इस समय भारत के जो लोग हैं यह सभी एक साथ एकजुट होकर मि

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  378
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!