आयुर्वेद के अनुसार, सुबह स्व-प्रेरित उल्टी स्वास्थ्य के लिए अच्छा है?...


play
user

Dr. Mani Bhushan Kumar

Ayurveda Specialist, Patna

0:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमन करते हैं कि जिसमें यह भी पंच क्रमांक एक पाठ है जिसे मदन फल का प्रयोग होता है मदनपुर को दूध का कर्ज़ बनाना मैंने दूध में उसको बोल करके उसको उत्पादन किया जाता है मदनपुर को फिर उसको बारीक पाउडर करके उसका दूध है बॉडी के हिसाब से दूध में दूध में मिलाकर खुद को खिलाया जाता है और उसको दमन करवाया जाता है तो अच्छा होता है जैसे स्किन डिजीज हो गया फिर तो फिर तो गडर नेता 130 हो गया जिसके पास कुछ नहीं बोलते हैं मतदान होना जलन होना जो पृथ्वी किसकी है जिसने गमन का प्रयोग किया जाता है

naman karte hain ki jisme yah bhi punch kramank ek path hai jise madan fal ka prayog hota hai madanpur ko doodh ka karz banana maine doodh mein usko bol karke usko utpadan kiya jata hai madanpur ko phir usko baarik powder karke uska doodh hai body ke hisab se doodh mein doodh mein milakar khud ko khilaya jata hai aur usko daman karvaya jata hai toh accha hota hai jaise skin disease ho gaya phir toh phir toh gadar neta 130 ho gaya jiske paas kuch nahi bolte hain matdan hona jalan hona jo prithvi kiski hai jisne gaman ka prayog kiya jata hai

नमन करते हैं कि जिसमें यह भी पंच क्रमांक एक पाठ है जिसे मदन फल का प्रयोग होता है मदनपुर को

Romanized Version
Likes  119  Dislikes    views  1567
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr Raj Kumar Kochar

Ayurvedic Doctors ( Researcher )

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं उसमें आगे जाकर कि आप की नसें कमजोर हो जाएगी विदेश चंद पद्धतियां करो जाना कोई करता है दो पाटों भेजो जाएगा ना नेचुरल वर्किंग उसकी नहीं होगी आप मतलब अगर खुद वह मीटिंग एक तो मीटिंग आ रही है कि को एक अंगुली डालके कर रहे हो तो नुकसान दिनों के बाद क्या देखोगे के अंदर छाले पड़ गए वहां पर लाल लाल हो गया वह इतना तेल जून नेचुरल प्रोसेस है वह मीटिंग का वह तो बेहतर है लेकिन रोज मीटिंग करना करवाना करवाना गलत है क्योंकि वह आपके दूसरे बहुत गंदा लेना

nahi usme aage jaakar ki aap ki nase kamjor ho jayegi videsh chand paddhatiyan karo jana koi karta hai do paton bhejo jaega na natural working uski nahi hogi aap matlab agar khud vaah meeting ek toh meeting aa rahi hai ki ko ek anguli dalke kar rahe ho toh nuksan dino ke baad kya dekhoge ke andar chhale pad gaye wahan par laal lal ho gaya vaah itna tel june natural process hai vaah meeting ka vaah toh behtar hai lekin roj meeting karna karwana karwana galat hai kyonki vaah aapke dusre bahut ganda lena

नहीं उसमें आगे जाकर कि आप की नसें कमजोर हो जाएगी विदेश चंद पद्धतियां करो जाना कोई करता है

Romanized Version
Likes  250  Dislikes    views  3131
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!