आयुर्वेद के अनुसार, क्या किसी व्यक्ति को भोजन से पहले, बाद में या भोजन के दौरान पानी पीना चाहिए?...


user

Arjun Vaidya

CEO of Dr Vaidya’s

0:37
Play

Likes  49  Dislikes    views  400
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr. Amit Hardia

Panchkarma Specialist

1:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विक्की आयुर्वेद में पानी पीने के लिए कोई विशेष नियम नहीं है उसमें ऐसा बताया है कि जब भी व्यक्ति को प्यास लगे तो उसे पानी पीना चाहिए भोजन खाने के दौरान सबसे ज्यादा कन्फ्यूजन रहता है कि आने के पहले इन्हें खाने के बाद लें या कितनी देर बाद ले ऐसा कृष्णा हमेशा हमारे वहां मरी जो आते हैं वह पूछते हैं तो उसमें ऐसी कल्पना की गई है कि शरीर को हम जहां भोजन करते हैं तो जो हमारा ऊदल भाग होता है स्टमक होता है उसको अगर हम तीन भागों में काल्पनिक रुप से वार्ड दें तो उसमें एक भाग जो है ठोस आहार के रूप में एक आग जो है तरल द्रव पानी के रूप में और तीसरा भाग जो है खाली स्थान छोड़ना चाहिए ऐसा माना गया है तो जो हम चाहें तो जो रिश्तेदार सब्जियां होती हैं जो सब्जी बनाते हैं तो उसमें पानी को करके भी पानी की मात्रा शरीर में पहुंचा सकते अगर आप किन कारणों से पोषाहार ले रहे हैं तो उसका एक भाग जो है पानी के द्वारा खान के बीच में थोड़ा थोड़ा करके पी सकते हैं इसके अलावा खाना खाने के 1 घंटे बाद तक आपको जो है पानी नहीं लेना चाहिए अगर पानी लेना भी पड़े तो गरम गुनगुना पानी ही लेना चाहिए

vicky ayurveda mein paani peene ke liye koi vishesh niyam nahi hai usmein aisa bataya hai ki jab bhi vyakti ko pyaas lage toh use paani peena chahiye bhojan khane ke dauran sabse zyada confusion rehta hai ki aane ke pehle inhen khane ke baad lein ya kitni der baad le aisa krishna hamesha hamare wahan mari jo aate hain vaah poochhte hain toh usmein aisi kalpana ki gayi hai ki sharir ko hum jahan bhojan karte hain toh jo hamara udal bhag hota hai stomach hota hai usko agar hum teen bhaagon mein kalpnik roop se ward dein toh usmein ek bhag jo hai thos aahaar ke roop mein ek aag jo hai taral drav paani ke roop mein aur teesra bhag jo hai khaali sthan chhodna chahiye aisa mana gaya hai toh jo hum chahain toh jo rishtedar sabjiyan hoti hain jo sabzi banate hain toh usmein paani ko karke bhi paani ki matra sharir mein pahuncha sakte agar aap kin karanon se poshahar le rahe hain toh uska ek bhag jo hai paani ke dwara khan ke beech mein thoda thoda karke p sakte hain iske alava khana khane ke 1 ghante baad tak aapko jo hai paani nahi lena chahiye agar paani lena bhi pade toh garam gunguna paani hi lena chahiye

विक्की आयुर्वेद में पानी पीने के लिए कोई विशेष नियम नहीं है उसमें ऐसा बताया है कि जब भी व्

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  1498
WhatsApp_icon
user

Dr. Mitramahesh

Ayurvedic Doctors

4:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने यह सिद्धांत को सही रूप से समझा नहीं है जब तक आप खाना खाइए तब तक पानी मत पीजिए बाद में दो-तीन घंटे पर के बाद भी पानी पीजिए और यह करिए वह पर यह एक प्रकार की मात्र दो ही काल्पनिक बातें हैं पूरी काल्पनिक बातें तो तभी होती है कि जब आप लोग उल्टी सीधी बातों का अनुसरण करके सभी को नष्ट करते हैं और परेशान होते और शरीर में बिक्री अकड़ी करते हैं जब भी सभी के अंदर आपको जरूरत लगे तो पानी उचित मात्रा में भूत दूध पिलाना चाहिए गले के अंदर खोड़ा कटक रहेगा तभी आपको पानी केक दो घूंट पीना चाहिए जरूर सलूशन पानी पीना चाहिए और पानी बहुत अधिक पिएंगे और यह तो उसका कोई कंट्रोल नहीं करेंगे यह भी एक प्रकार की शारीरिक कष्ट हो सकता है और इसको दूर करने के लिए आयुर्वेद विज्ञान के अनुसार आपको प्रतिदिन सूर्योदय से पहले एक-दो घंटे पहले उठना चाहिए सभी की मित्र है उसकी ईमित्र से सफाई करके लाल तो जीव को सक्रिय सचित्र से स्नान करिए घर की सफाई करिए दीवारों की सफाई करिए धूल मिट्टी डिस्टर्ब अकेले घर के अंदर सोचते नहीं रहना चाहिए और घरेलू पूरी पूरी रूप से स्वच्छ रहना चाहिए उसको आप लोग जरूर देखिए और दंड बैठक और योगासन के आसान है उसको देख तस्वीर देखकर ये घर के अंदर धूप करिए यज्ञ करिए जो वेदोक्त ग्रंथ स्वामी दयानंद ने हिंदू धर्म और वेदों की पुनर्रचना के लिए पुनर्जीवन सृष्टि सृष्टि में चलाने के लिए 200 साल पहले उसका प्रारंभ करवाया आर्य समाज जो वेद धर्म का विषय है और उसकी वेद धर्म की स्थाई स्ट्रिप सिटी के लिए उसके इतिहास को बीएफ मुसलमान किचन का क्या इतिहास है क्या है उनकी विचारधारा है ऐसे लोग पढ़ते कैसे आए दुनिया का कैसे इन लोगों ने विकास किया है विपरीत विचारधारा रखते हैं उनके ग्रंथ कितने होते हैं उस जाए हुए हैं उसको समझने के लिए पूरी इतिहास को समझने के लिए सत्यार्थ प्रकाश तात्पर्य मनुष्य की जाति की उत्पत्ति रचना वेदों का प्रादुर्भाव और आज तक के सारी क्या स्कोप लोग कमल जी यह मत पंथ धर्म का नाम देकर के मनुष्य जीवन को कैसे बर्बाद करते हैं यह समझ ही चारों वेदों का उपयोग से आयुर्वेद और आयुर्वेद के आयुर्वेद के विज्ञान में विचारधारा के अनुसार आपके जीवन के अंदर पर तेज कल सुबह में उठकर उतना सफाई करना कि वह जो हमने साथ बिताए हैं उस अनुसार जीवन चल रही है पूर्ण शाकाहारी बने और नाश्ता वगैरह दूध के साथ तीन पराठे सो डेढ़ सौ ग्राम वाले होने चाहिए 23 अपनी शक्ति के अनुसार खाइए शारीरिक श्रम कसम का बधाई और आपको के भोजन वगैरह को अच्छी तरह तक करेंगे अच्छे स्वास्थ्य साथ करेंगे मन के साथ करेंगे और आपका आत्मा शरीर पवित्र होगा आपकी शारीरिक क्षमता बढ़ेगी कभी कोई रोग नहीं होगा और आप अच्छी तरह से हमेशा निरोगी रहेंगे अपने परिवार को भी अपने बालों को कोई भी निरोगी देखेंगे समाज और देश को भी आप लोग उसका नाम लेंगे और यह सारे जो पिक है वह धर्म के सच्चे पत्रकार श्री बालाजी भाष्य भूमिका संस्कार ही दी यह सारे पुस्तक का पूर्व जन्म से लेकर बोलती पर क्या-क्या लिए में क्या पालना करनी चाहिए विद्याओं को कैसे पढ़ना चाहिए और शरीर की सिटी कैसे अच्छी रखनी चाहिए सही इतिहास व गरीब जान कर के दुनिया के अंदर गीत धर्म क्या मि शंकर 11th विश्वमार्यम् चालू करवा करके कैसे निरोगी रहते हैं सकते हैं और कैसे एक सुदृढ़ समाज व्यवस्था बंद करके यारी ओपन चक्रवर्ती साम्राज्य पूरी दुनिया केंद्र स्थापित करने के लिए आप लोग प्रवेश में करिए प्राचीन जमाने से हिंदू संख्या चार वेद के नाम से रही है और इस सभ्यता को दूसरी बार आप लागू करवा दीजिए हर हमेशा के लागू करवा लीजिए और परिचय रोटी इस्लाम के नाम पर जो विकृत विचार खिले है उसका परिवर्तन करके आप लोग धर्म की स्थापना करिए और अपने शरीर को अपने मन को पवित्र करके सुदृढ़ समाज व्यवस्था बनाइए और यह सिस्टम के अनुसार चलिए धन्यवाद

aapne yah siddhant ko sahi roop se samjha nahi hai jab tak aap khana khaiye tab tak paani mat PGA baad me do teen ghante par ke baad bhi paani PGA aur yah kariye vaah par yah ek prakar ki matra do hi kalpnik batein hain puri kalpnik batein toh tabhi hoti hai ki jab aap log ulti seedhi baaton ka anusaran karke sabhi ko nasht karte hain aur pareshan hote aur sharir me bikri akadi karte hain jab bhi sabhi ke andar aapko zarurat lage toh paani uchit matra me bhoot doodh pilaana chahiye gale ke andar khoda katak rahega tabhi aapko paani cake do ghunt peena chahiye zaroor salution paani peena chahiye aur paani bahut adhik piyenge aur yah toh uska koi control nahi karenge yah bhi ek prakar ki sharirik kasht ho sakta hai aur isko dur karne ke liye ayurveda vigyan ke anusaar aapko pratidin suryoday se pehle ek do ghante pehle uthna chahiye sabhi ki mitra hai uski imitra se safaai karke laal toh jeev ko sakriy sachitr se snan kariye ghar ki safaai kariye deewaaron ki safaai kariye dhul mitti disturb akele ghar ke andar sochte nahi rehna chahiye aur gharelu puri puri roop se swachh rehna chahiye usko aap log zaroor dekhiye aur dand baithak aur yogasan ke aasaan hai usko dekh tasveer dekhkar ye ghar ke andar dhoop kariye yagya kariye jo vedokt granth swami dayanand ne hindu dharm aur vedo ki punarrachana ke liye punarjeewan shrishti shrishti me chalane ke liye 200 saal pehle uska prarambh karvaya arya samaj jo ved dharm ka vishay hai aur uski ved dharm ki sthai strip city ke liye uske itihas ko bf musalman kitchen ka kya itihas hai kya hai unki vichardhara hai aise log padhte kaise aaye duniya ka kaise in logo ne vikas kiya hai viprit vichardhara rakhte hain unke granth kitne hote hain us jaaye hue hain usko samjhne ke liye puri itihas ko samjhne ke liye satyarth prakash tatparya manushya ki jati ki utpatti rachna vedo ka pradurbhav aur aaj tak ke saari kya scope log kamal ji yah mat panth dharm ka naam dekar ke manushya jeevan ko kaise barbad karte hain yah samajh hi charo vedo ka upyog se ayurveda aur ayurveda ke ayurveda ke vigyan me vichardhara ke anusaar aapke jeevan ke andar par tez kal subah me uthakar utana safaai karna ki vaah jo humne saath bitae hain us anusaar jeevan chal rahi hai purn shakahari bane aur nashta vagera doodh ke saath teen parathe so dedh sau gram waale hone chahiye 23 apni shakti ke anusaar khaiye sharirik shram kasam ka badhai aur aapko ke bhojan vagera ko achi tarah tak karenge acche swasthya saath karenge man ke saath karenge aur aapka aatma sharir pavitra hoga aapki sharirik kshamta badhegi kabhi koi rog nahi hoga aur aap achi tarah se hamesha nirogee rahenge apne parivar ko bhi apne balon ko koi bhi nirogee dekhenge samaj aur desh ko bhi aap log uska naam lenge aur yah saare jo pic hai vaah dharm ke sacche patrakar shri balaji bhashya bhumika sanskar hi di yah saare pustak ka purv janam se lekar bolti par kya kya liye me kya paalna karni chahiye vidyaon ko kaise padhna chahiye aur sharir ki city kaise achi rakhni chahiye sahi itihas va garib jaan kar ke duniya ke andar geet dharm kya me shankar 11th vishwamaryam chaalu karva karke kaise nirogee rehte hain sakte hain aur kaise ek sudridh samaj vyavastha band karke yaari open chakravarti samrajya puri duniya kendra sthapit karne ke liye aap log pravesh me kariye prachin jamane se hindu sankhya char ved ke naam se rahi hai aur is sabhyata ko dusri baar aap laagu karva dijiye har hamesha ke laagu karva lijiye aur parichay roti islam ke naam par jo vikrit vichar khile hai uska parivartan karke aap log dharm ki sthapna kariye aur apne sharir ko apne man ko pavitra karke sudridh samaj vyavastha banaiye aur yah system ke anusaar chaliye dhanyavad

आपने यह सिद्धांत को सही रूप से समझा नहीं है जब तक आप खाना खाइए तब तक पानी मत पीजिए बाद में

Romanized Version
Likes  141  Dislikes    views  1396
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!