क्या पित्त दोष के कारण सिरदर्द होता है आप पित्त सिरदर्द को कैसे रोक सकते हैं?...


play
user

Dr. Amit Hardia

Panchkarma Specialist

1:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल जब भी स्थिति का उर्दू का मन होता है तो यह ज़ीरो प्रदेश में जाकर मनुष्य के एरिया में जाकर जो इधर स्कूल जाने की और कर सकता है तो ऐसी कंडीशन में जबकि पूर्व दिशा में गमन करता है जो कि उचित कर्म का जो मुख्य स्थान बताया गया वह नाभि प्रदेश बताया गया नाभि के स्थान पर होता है वह तो जब ऊपर की तरफ आ रहा है इसका मतलब है कि अभी उसको जो है ऊपर आने से रोकना है या फिर अगर और को घमंड हो गया है तो उसे जो है एक वमन क्रिया होती है आयुर्वेद पंचकर्म तो उसके द्वारा उसको निकाल दिया जाता है वह मंजू है संबंधित रोगों के लिए एक अच्छी चिकित्सा है इसके अलावा अगर उसका उर्दू तमन्ना ना कर आना है या ऊपर की तरफ नहीं लाना है उसको नीचे से निकालना है उसमें एक विरेचन क्रिया और होती है तो विरेचन के द्वारा जो है नाभि के नीचे के जो पेपर होते हैं उनको आटा निकाल निरीक्षण में जो है लूज मोशन कराए जाते हैं पेशेंट को उचित दवाइयों के आधार के द्वारा तो उससे भी तो है निकल जाति काफी अच्छी रिजल्ट आते हैं

ji bilkul jab bhi sthiti ka urdu ka man hota hai toh yah zero pradesh mein jaakar manushya ke area mein jaakar jo idhar school jaane ki aur kar sakta hai toh aisi condition mein jabki purv disha mein gaman karta hai jo ki uchit karm ka jo mukhya sthan bataya gaya vaah nabhi pradesh bataya gaya nabhi ke sthan par hota hai vaah toh jab upar ki taraf aa raha hai iska matlab hai ki abhi usko jo hai upar aane se rokna hai ya phir agar aur ko ghamand ho gaya hai toh use jo hai ek waman kriya hoti hai ayurveda panchkarm toh uske dwara usko nikaal diya jata hai vaah manju hai sambandhit rogon ke liye ek achi chikitsa hai iske alava agar uska urdu tamanna na kar aana hai ya upar ki taraf nahi lana hai usko neeche se nikalna hai usmein ek virechan kriya aur hoti hai toh virechan ke dwara jo hai nabhi ke neeche ke jo paper hote hain unko atta nikaal nirikshan mein jo hai loose motion karae jaate hain patient ko uchit dawaiyo ke aadhaar ke dwara toh usse bhi toh hai nikal jati kafi achi result aate hain

जी बिल्कुल जब भी स्थिति का उर्दू का मन होता है तो यह ज़ीरो प्रदेश में जाकर मनुष्य के एरिया

Romanized Version
Likes  116  Dislikes    views  1517
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!