मैं यह सुनिश्चित करना चाहता हूँ कि मेरा बच्चा केवल सात्विक भोजन खाए। मैं कैसे शुरू करूँ?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अगर यह करना चाहते हैं तो सबसे पहले घर में ही स्वास्तिक भोले रखें जो मेड रायपुर कच्चे फल दूध सब्जी में परमल तोरी लौकी इनका सेवन करें दूध में आप बादाम ड्राई फूड का भी प्रयोग कर सकते हैं कमली खाएं हो सके तो आप भी खाएं और आपकी स्थिति सही है तो आप ऑलिव ऑयल खा सकते हैं भोजन में यह तिल का तेल भी खा सकते हैं सब्जी में या के लिए साथ्यकी बनाए रखने में बहुत मददगार है तो आप अपने घर से ही शुरुआत करें अपने आप से करें तो आप सोते हो सकते हैं और अपने बच्चे को भी स्वास्थ्य बना सकते हैं

aap agar yah karna chahte hain toh sabse pehle ghar me hi swastik bhole rakhen jo made raipur kacche fal doodh sabzi me parmal tore lauki inka seven kare doodh me aap badam dry food ka bhi prayog kar sakte hain kamli khayen ho sake toh aap bhi khayen aur aapki sthiti sahi hai toh aap olive oil kha sakte hain bhojan me yah til ka tel bhi kha sakte hain sabzi me ya ke liye sathyaki banaye rakhne me bahut madadgaar hai toh aap apne ghar se hi shuruat kare apne aap se kare toh aap sote ho sakte hain aur apne bacche ko bhi swasthya bana sakte hain

आप अगर यह करना चाहते हैं तो सबसे पहले घर में ही स्वास्तिक भोले रखें जो मेड रायपुर कच्चे फल

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  1131
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चा पार्टी को दिखाएं कितनी दूरी है पूरा परिवार कब हो जहां पर ईश्वर प्राणी था इसलिए प्रिया कल आप अधिक से अधिक भजन कीर्तन अपने इष्ट के प्रति अधिक से अधिक समर्पण स्वयं के प्रति सबसे पहले इस चीज को डालना और हमेशा शुभ आते ही हूं परिवार में शुभचिंतक ऐसी चीज़ नहीं है बच्चों में डालने के लिए कितनी सिखाया जाए या कोई एक व्यक्ति कर रहा हूं ऐसा नहीं होता ही बच्चों के कुर्ते बताइए अस्पताल प्रसाद वितरण करते हैं उसके साथ इसके लिए आपको अपने परिवार को अपनाना होगा और इस को मन से दिल से अगर आप करेंगे तो आपको पता ही होगा

baccha party ko dikhaen kitni doori hai pura parivar kab ho jaha par ishwar prani tha isliye priya kal aap adhik se adhik bhajan kirtan apne isht ke prati adhik se adhik samarpan swayam ke prati sabse pehle is cheez ko dalna aur hamesha shubha aate hi hoon parivar me shubhchintak aisi cheez nahi hai baccho me dalne ke liye kitni sikhaya jaaye ya koi ek vyakti kar raha hoon aisa nahi hota hi baccho ke kurte bataiye aspatal prasad vitaran karte hain uske saath iske liye aapko apne parivar ko apnana hoga aur is ko man se dil se agar aap karenge toh aapko pata hi hoga

बच्चा पार्टी को दिखाएं कितनी दूरी है पूरा परिवार कब हो जहां पर ईश्वर प्राणी था इसलिए प्रि

Romanized Version
Likes  219  Dislikes    views  1819
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं यह सुनिश्चित करना चाहता हूं कि मेरा बच्चा केवल कल सात्विक आहार खाएं कि मैं कैसे शुरू करूं तो मैं आपसे बिल्कुल भी सहमत नहीं हूं यदि आप इस तरह से सोच रखते हैं कि बिल्कुल नहीं यदि आपको अपने बच्चे को बिल्कुल सात्विक भोजन पर लाना है और अभी तक यदि बच्चा आपका सब कुछ खा रहा है राजसिक तामसिक सब कुछ खा रहा है तो नहीं एक ही दिन में बिल्कुल आप इस तरह से नहीं कर सकते आप धीरे-धीरे से उसका तामसिक और रांची का हार उसका बंद कर रही है और साथ ही कहा रुक उसका चालू रहने दे धीरे धीरे धीरे धीरे कम करते जाएं और साथी कहार को बढ़ाते जा यदि आप इस तरह से तय करेंगे तो आप सभी को सही दिशा में जाएंगे और आपने बिल्कुल एक ही दिन में झटके से बोलो जैसे कम गाड़ी चलाते हैं तो ब्रेक में मारेंगे तो आगे गिरने का डर होता है इसे हम पर इसी तरह से हम अपनी बच्ची को कंट्रोल करेंगे

main yah sunishchit karna chahta hoon ki mera baccha keval kal Satvik aahaar khayen ki main kaise shuru karu toh main aapse bilkul bhi sahmat nahi hoon yadi aap is tarah se soch rakhte hain ki bilkul nahi yadi aapko apne bacche ko bilkul Satvik bhojan par lana hai aur abhi tak yadi baccha aapka sab kuch kha raha hai raajsik tamasik sab kuch kha raha hai toh nahi ek hi din me bilkul aap is tarah se nahi kar sakte aap dhire dhire se uska tamasik aur ranchi ka haar uska band kar rahi hai aur saath hi kaha ruk uska chaalu rehne de dhire dhire dhire dhire kam karte jayen aur sathi kahar ko badhate ja yadi aap is tarah se tay karenge toh aap sabhi ko sahi disha me jaenge aur aapne bilkul ek hi din me jhatake se bolo jaise kam gaadi chalte hain toh break me marenge toh aage girne ka dar hota hai ise hum par isi tarah se hum apni bachi ko control karenge

मैं यह सुनिश्चित करना चाहता हूं कि मेरा बच्चा केवल कल सात्विक आहार खाएं कि मैं कैसे शुरू क

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  1343
WhatsApp_icon
user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चे को समझाइए नॉनवेज वगैरह नहीं यह गंदी चीजें होती है आप होता है ईश्वर ने हमें खूब शुद्ध सात्विक भोजन दिया इसको सात्विक भोजन करना चाहिए और अधिक से अधिक मात्रा में पौष्टिक भोजन का महत्व समझाएं और उसी का सेवन कराएं और अपने परिवार के प्रभाव पड़ता है गलत संगत से धन्यवाद

bacche ko samjhaiye nonveg vagera nahi yah gandi cheezen hoti hai aap hota hai ishwar ne hamein khoob shudh Satvik bhojan diya isko Satvik bhojan karna chahiye aur adhik se adhik matra me paushtik bhojan ka mahatva samjhaye aur usi ka seven karaye aur apne parivar ke prabhav padta hai galat sangat se dhanyavad

बच्चे को समझाइए नॉनवेज वगैरह नहीं यह गंदी चीजें होती है आप होता है ईश्वर ने हमें खूब शुद्ध

Romanized Version
Likes  189  Dislikes    views  2168
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  58  Dislikes    views  938
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैया सुनिश्चित करना चाहता हूं मेरा बच्चा क्या और सात्विक भोजन खाएं मैं कैसे शुरू करो तो यह आपने यह जो सोचा है तो बहुत अच्छा सोचा है और आप भी सो जाओ जान दे रहे हैं बच्चे के बारे में सोचना है कभी-कभी खा सकते हैं लेकिन क्या होता है कि हर बॉडी को मन को विचलित करता है वही हमारी जुबान को ज्यादातर अच्छा लगता है तो उनकी बात नहीं जाना हमें यह देखना कि अपने बच्चों को खिला सकते हैं और यह आपको अपने बच्चों के कितना कितना भी टेस्टी हो कितना भी अच्छा हो जो है पेट को चार भागों में बांट लीजिए आधा पेट आपको खाने से भरना है उसका तुम्हारा भाग पानी से भरना है और चौथे भाव खाली छोड़ देना है वगैरह संचालन के लिए पालन करते हुए मूर्तियों के अनुसार भोजन आपको लेना है किसी के दिखाओ मैं नहीं कि मैं इस सीजन में यह खा रहा हूं कि जब भी नासिक आते हैं या ठंडी में खरीदते खाते हैं जबकि गर्मियों के सीजन में आम होते गर्मी में तरबूज अग्रवाल वाले भी होते हैं यह हमारा समझाने का मतलब हमें समझाने की कोशिश की आपको और के अनुसार क्या आपको खाना है और योग क्या है इसके विषय में समझाएं यह समझो आपका बच्चा एक अच्छा नागरिक बनकर तैयार होगा कोई प्रॉब्लम नहीं होगी एकदम स्वस्थ होगा उसका मन भी स्वस्थ होगा मानसिक रूप से अच्छे से तैयार हुआ कोई भी कार्य करेगा तो पूरा करेगा तो अपनी लाइफ में ऊंचाइयों को छुए गा

maiya sunishchit karna chahta hoon mera baccha kya aur Satvik bhojan khayen main kaise shuru karo toh yah aapne yah jo socha hai toh bahut accha socha hai aur aap bhi so jao jaan de rahe hain bacche ke bare me sochna hai kabhi kabhi kha sakte hain lekin kya hota hai ki har body ko man ko vichalit karta hai wahi hamari jubaan ko jyadatar accha lagta hai toh unki baat nahi jana hamein yah dekhna ki apne baccho ko khila sakte hain aur yah aapko apne baccho ke kitna kitna bhi tasty ho kitna bhi accha ho jo hai pet ko char bhaagon me baant lijiye aadha pet aapko khane se bharna hai uska tumhara bhag paani se bharna hai aur chauthe bhav khaali chhod dena hai vagera sanchalan ke liye palan karte hue murtiyon ke anusaar bhojan aapko lena hai kisi ke dikhaao main nahi ki main is season me yah kha raha hoon ki jab bhi nashik aate hain ya thandi me kharidte khate hain jabki garmiyo ke season me aam hote garmi me tarabuj agrawal waale bhi hote hain yah hamara samjhane ka matlab hamein samjhane ki koshish ki aapko aur ke anusaar kya aapko khana hai aur yog kya hai iske vishay me samjhaye yah samjho aapka baccha ek accha nagarik bankar taiyar hoga koi problem nahi hogi ekdam swasth hoga uska man bhi swasth hoga mansik roop se acche se taiyar hua koi bhi karya karega toh pura karega toh apni life me unchaiyon ko chuye jaayega

मैया सुनिश्चित करना चाहता हूं मेरा बच्चा क्या और सात्विक भोजन खाएं मैं कैसे शुरू करो तो यह

Romanized Version
Likes  134  Dislikes    views  2544
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:42

Likes  204  Dislikes    views  2296
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो रूपिंदर में अपना फल पत्ती के अनुसार क्योंकि बच्चे का लालन-पालन तो माता-पिता नहीं करना है ना जो उसको शुरू से अब खाने पीने की आदत डाल देंगे उसकी उसका विचार सूची कैसे हो जाएगा

jo rupindar mein apna fal patti ke anusaar kyonki bacche ka lalan palan toh mata pita nahi karna hai na jo usko shuru se ab khane peene ki aadat daal denge uski uska vichar suchi kaise ho jaega

जो रूपिंदर में अपना फल पत्ती के अनुसार क्योंकि बच्चे का लालन-पालन तो माता-पिता नहीं करना ह

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  315
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Anuj Dupta

Director and chief ayurvedic consultant and founder of Mantra Ayurveda.

0:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे मुताबिक सबसे पहले बच्चे के अंदर अच्छे विचारों का उत्पन्न होना बड़ा जरूरी है बच्चों को सबसे पहले मॉर्निंग वॉक उसी दैनिक दैनिक दिनचर्या और बच्चों को हमें बताना चाहिए साथ में खाने की खाने के क्या फायदे होते हैं और राशि को काम से खाने के क्या नुकसान होते हैं कि बच्चा तो एक कच्ची मिट्टी की तरह उसको जैसे आप कहोगे जैसे आपको खाते से बच्चों को साथ में खाना खाने के लिए हमें क्या करना चाहिए खाना हमारे शरीर को भी नष्ट कर रहा है जिससे कि बहुत ज्यादा गलत तो नहीं आनी चाहिए

mere mutabik sabse pehle bacche ke andar acche vicharon ka utpann hona bada zaroori hai baccho ko sabse pehle morning walk usi dainik dainik dincharya aur baccho ko hamein bataana chahiye saath mein khane ki khane ke kya fayde hote hain aur rashi ko kaam se khane ke kya nuksan hote hain ki baccha toh ek kachhi mitti ki tarah usko jaise aap kahoge jaise aapko khate se baccho ko saath mein khana khane ke liye hamein kya karna chahiye khana hamare sharir ko bhi nasht kar raha hai jisse ki bahut zyada galat toh nahi aani chahiye

मेरे मुताबिक सबसे पहले बच्चे के अंदर अच्छे विचारों का उत्पन्न होना बड़ा जरूरी है बच्चों को

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  315
WhatsApp_icon
user

Dr. Uma shankar Chaturvedi

Retired Professor (Ayurvedic)

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी मामलों जैसे खाना खिलाती थी शुरू सेवादल डाली बच्चा बचपन में है इसी के लिए 3:00 बजे सवेरे थोड़ा सा दूध की बनेगी के मांस खिला देती थी और दो रोटी उसे खूब चकाचक थोड़ी सी सब्जी पसंद की एक मिठाई 5:00 बजे कर देती थी थोड़ा खा लेता हूं

meri mamlon jaise khana khilati thi shuru sevadal dali baccha bachpan mein hai isi ke liye 3 00 baje savere thoda sa doodh ki banegi ke maas khila deti thi aur do roti use khoob chakachak thodi si sabzi pasand ki ek mithai 5 00 baje kar deti thi thoda kha leta hoon

मेरी मामलों जैसे खाना खिलाती थी शुरू सेवादल डाली बच्चा बचपन में है इसी के लिए 3:00 बजे सवे

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  288
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!